उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Tuesday, September 3, 2013

Imagination of Silver, Gold and Gems in Rajasthani, Garhwali and Kumaoni Folk Songs -Part 2

गढ़वाली-कुमाउंनी,  राजस्थानी,   लोकगीतों में कल्पनायुक्त सोना चांदी -2 

                                           Comparison between Rajasthani Folk Songs, Garhwali, Kumaoni Folk Songs-18 

                                        राजस्थानी, गढ़वाली-कुमाउंनी  लोकगीतों का तुलनात्मक अध्ययन:भाग-18      



                                                                भीष्म कुकरेती 


                                              राजस्थानी,   लोकगीतों में कल्पनायुक्त  सोना चांदी -2 

 लोक गीतों में कल्पना में प्रत्येक रस में पाई  है।  निम्न राजस्थानी 'झूँझार जी' लोक गीत में झूंझार जी का घोड़ा नौ लाख का बताया गया है और घोड़े की जीन मोतियों की है -
झूंझार जी घोड़ो तो सोवें नौ लखो 
मोत्यां जडियो पलाण 
झूंझार जी बाग़ पकड़ घोड़े चढ़िया 
 राजस्थानी लोक गीतों में  चांदी मोतियों का बाहुल्य है।



                              कुमाउंनी व  गढ़वाली   लोकगीतों में कल्पनायुक्त सोना चांदी -2

  कुमाउंनी -गढ़वाली लोक कथाओं , गीतों में  भी कल्पना का अति सुन्दर है 
निम्न लोक गीत में सुनारों से सोने हिंडोला व चौकी गढ़ने की बात की है और लोक रचनाकार अपनी कल्पनाशक्ति का परिचय देता है देता  है 

                              सूजू की सुनारी 
                     (सन्दर्भ: डा गोविन्द चातक )
 तै सोवन द्वारिका रंद होला कृष्ण भगवान 
राणियो को रौन्सिया छया फुलूँ का हौंसिया 
रातरू होंदि थोड़ा , सुपिना होंदा भौति 
भगवानन सुपिना मा देखे सूजू की सुनारी 
नौ गज धौमेली देखि , चूड़ियों भरी हाती 
आज जसि आंखी देखी , धौळी जसी माँग 
रंग की रावली सुनारी विरह वावली।

कनकैक जि  सुनारी , द्वारिका बुलौलो 
तब भगवान मंनसूबा ठाणदा , मंत्र  गंठ्योदा 
बीती गै रैणि कांठ्यो आई गै घाम -
तै द्वारिका वो धावड़ी लगौंद -
तब द्वारिका बैठी गे घणी सभा 
कबीर कमाल बैठिन सुखीर दाद 
पंचनाम दिवतौं से कृष्णा बोल्दा 
सुणीयाला देवताओ, सुपिना की बात -
मैन गुजराती हिंडोला देखी , फटिंगू का खंब 
सबी कुछ पैदा होंदी सोनू कखन आलो?
नाथ की लगदी ये ठाकुर मा बोली -
हे भगवान जन्देऊ मान्यन गर्दनी मालीक 
फटिंगू का खंब बणौला चांदी की चौकी 
पर सोनो कखन आलौ ?


Copyright@ Bhishma  Kukreti 3 /9 /2013 


सन्दर्भ 
 
डा जगमल सिंह , 1987 ,राजस्थानी लोक गीतों के विविध रूप , विनसर प्रकाशन , दिल्ली 
डा दाधीच , (सम्पादन )  राजस्थानी लोक गीत 
रानी लक्ष्मी कुमारी चूंड़ावत  , (सम्पादन ) राजस्थानी लोक गीत 
डा जगदीश नौडियाल उत्तराखंड की सांस्कृतिक धरोहर:रवाँई क्षेत्र का लोक साहित्य का सांस्कृतिक अध्ययन   
लीलावती बंसल , 2007 , लोक गीत :पंजाबी , मारवाड़ी और हिंदी के त्यौहारों पर गाये जाने वाले लोक प्रिय गीत 
डा नन्द किशोर हटवाल , 2009 उत्तराखंड हिमालय के चांचड़ी  लोक गीत एवं नृत्य ,विनसर पब क. देहरादून(अनुवाद सहित )
अबोध बंधू बहुगुणा , धुयांळ , दिल्ली 
महाबीर रंवाल्टा , उत्तराखंड में रवाँई क्षेत्र  के लोक साहित्य की मौखिक परम्परा, उद्गाता   
 
[Comparison between Rajasthani Folk Songs and Garhwali-Kumaoni Folk Songs; Exclusive features of Rajasthani Folk Songs and Garhwali-Kumaoni Folk Songs; Different Style and Mood of Rajasthani Traditional Songs and Garhwali-Kumaoni Folk Songs; Differentiation between Rajasthani Customary  Songs and Garhwali-Kumaoni long-established  Songs; Assessment of Rajasthani Folk Songs and Garhwali-Kumaoni Folk Songs; Appraisal of Rajasthani Folk Songs and Garhwali-Kumaoni Folk Songs; Review of Rajasthani Folk Songs and Garhwali-Kumaoni Folk Songs; Analytical review of Rajasthani Folk Songs and Garhwali-Kumaoni Folk Songs; Analysis of Rajasthani Folk Songs and Garhwali-Kumaoni Traditional  Songs;Comparison and Analysis of Traditional Songs; assessment and Analysis of Rajasthani –Kumaoni –Garhwali Traditional Songs; study of Rajasthani –Kumaoni –Garhwali conventional Songs; Comparison and investigation of Rajasthani –Kumaoni –Garhwali Traditional Songs; evaluation and Analysis of Folk  Songs; similarity, dissimilarity  and examination of Rajasthani –Kumaoni –Garhwali Traditional Songs; Finding contrast and investigation of Folk  Songs;Imagination in Rajasthani Folk Songs; Imagination in Rajasthani Folk Songs from; Imagination in Rajasthani Folk Songs from Jaipur Division; Imagination in Rajasthani Folk Songs from Bikaner Division; Imagination in Rajasthani Folk Songs from Udaipur Division; Imagination in Rajasthani Folk Songs from Ajmer Division; Imagination in Rajasthani Folk Songs from Bikaner Division; Imagination in Rajasthani Folk Songs from Kota Division; Imagination in Rajasthani Folk Songs from Bharatpur Division; Imagination in Garhwali  Songs from Garhwal ; Imagination in Kumaoni Folk Songs