उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Wednesday, January 21, 2015

ऋग्वेदकालीन अनार्यों या दास भूमि की समृद्धि

  Prosperity of Anarya or Das in Rigvedic Period in context Haridwar, Bijnor and Saharanpur History 

                              हरिद्वार , बिजनौर और सहारनपुर इतिहास संदर्भ मेंऋग्वेदकालीन अनार्यों या दास भूमि की समृद्धि 

                                                                       History of Haridwar Part  --49   

                                                         हरिद्वार का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास -भाग -49                                                                                      
                           
                                                   इतिहास विद्यार्थी ::: भीष्म कुकरेती   
  ऋग्वेद अनुसार उस काल में अनार्य या दास जन समृद्ध थे। आर्यों ने पंजाब की पहाड़ियों के अनार्य नरेशों से उलझना स्वीकार किया किन्तु यमुना पूर्व मैदानी हिस्सों पर आक्रमण नही किया और ऋग्वेद इस विषय में मौन है।  इसका एक अर्थ यह भी निकलता है कि यमुना पूर्व के अनार्य शक्तिशाली थे। 
 आर्यों को अपने बढ़ते पशुधन हेतु चारागाहों की आवश्यकता थी।  और पहाड़ों की घास अधिक रसीली थी  /गर्मियों में भी हरी घास की प्रचुरता थी।  अतः आर्यों ने पहाड़ी किरातों याने शंबर के क्षेत्र पर अधिकार किया। 
 शंबर के अधिकार क्षेत्र में धन सम्पनता ,, पुष्ट जानवर , अश्व , भेड़ बकरी , आदि की प्रचुरता थी और आर्य इन्हे छीनने के लिए आतुर रहते थे। 
पर्वतीय प्रदेशों में खनिज -ताम्र , बहुमूल्य पत्थर , स्फटिक , जड़ी बूटियाँ प्रचुर मात्रा में थीं। 
आर्य पर्वतीय प्रदेशों से बहुमूल्य सम्पति छें कर ऋषियों में भी उत्साह से वितरित करते थे। (ऋग्वेद - ६ /४७ /२२ ) 


**संदर्भ - ---
वैदिक इंडेक्स
डा शिव प्रसाद डबराल , उत्तराखंड  इतिहास - भाग -२
राहुल -ऋग्वेदिक आर्य
मजूमदार , पुसलकर , वैदिक एज 
Copyright@
 Bhishma Kukreti  Mumbai, India 21 /1/2015 

Contact--- bckukreti@gmail.com  
History of Haridwar to be continued in  हरिद्वार का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास; बिजनौर इतिहास, सहारनपुर इतिहास  -भाग 50
History of Kankhal, Haridwar, Uttarakhand ; History of Har ki Paidi Haridwar, Uttarakhand ; History of Jwalapur Haridwar, Uttarakhand ; History of Telpura Haridwar, Uttarakhand ; History of Sakrauda Haridwar, Uttarakhand ; History of Bhagwanpur Haridwar, Uttarakhand ; History of Roorkee, Haridwar, Uttarakhand ; History of Jhabarera Haridwar, Uttarakhand ; History of Manglaur Haridwar, Uttarakhand ; History of Laksar; Haridwar, Uttarakhand ; History of Sultanpur,  Haridwar, Uttarakhand ; History of Pathri Haridwar, Uttarakhand ; History of Landhaur Haridwar, Uttarakhand ; History of Bahdarabad, Uttarakhand ; Haridwar; History of Narsan Haridwar, Uttarakhand ;History of Bijnor; History of Nazibabad Bijnor ; History of Saharanpur 
कनखल , हरिद्वार का इतिहास ; तेलपुरा , हरिद्वार का इतिहास ; सकरौदा ,  हरिद्वार का इतिहास ; भगवानपुर , हरिद्वार का इतिहास ;रुड़की ,हरिद्वार का इतिहास ; झाब्रेरा हरिद्वार का इतिहास ; मंगलौर हरिद्वार का इतिहास ;लक्सर हरिद्वार का इतिहास ;सुल्तानपुर ,हरिद्वार का इतिहास ;पाथरी , हरिद्वार का इतिहास ; बहदराबाद , हरिद्वार का इतिहास ; लंढौर , हरिद्वार का इतिहास ;बिजनौर इतिहास; नगीना ,  बिजनौर इतिहास; नजीबाबाद , नूरपुर , बिजनौर इतिहास;सहारनपुर इतिहास

Rise of Brave Gorkha Commander Amar Singh Thapa

History of Gorkha /Nepal Rule over Kumaun, Garhwal and Himachal (1790-1815) -20
  
   History of Uttarakhand (Garhwal, Kumaon and Haridwar) -539

                        By: Bhishma Kukreti (A History Research Student)
  Mother Queen and Care Taker (Nayab) Rajya Lakshi sent an army led by 31 year old commander Amar Singh Thapa for defusing the combined attack of Chaubisi Kings. Amar Singh Thapa was son of Bhim Sen Thapa who was effective commander of Prithvi Narayan Shah. Prithvi Narayan Shah appointed Bhim Sen as ruler of Nichauk under Gorkha Kingdom. Amar Singh Thapa was brave, courageous and war expert as his brave father. Amar Singh participated in many wars led by Prithvi Narayan Shah.
        Chaubisi Kings fought battles at Chinnauti, Sriha, Nichauk and Jyamruk to stop Amar Singh Thapa. However, Amar Singh Thapa won the Jyamruk territory. After winning Jyamruk, Amar Singh Thapa army won the battle of Tarkughat and captured Balibhanjan the army commander of Parvat Raj Kingdom and Bhakti Thapa the army commander of Lumjung Kingdom in the battle. Bali Bhajan died in prison. Bhakti Thapa accepted Gorkha command and he was offered a nominal position in Gorkha army. Later on, on west Campaign,  Bhakti Thapa was right hand of Amar Singh Thapa. In 1782, Tinhu and Lumjung Kingdoms were included into Gorkha Kingdom.
   In 1785, Amar Singh Thapa captured   Nuwakot West, Dhunvakot and Paiyun Kingdoms. Another commander Abhiyan Singh captured Palpa , Tanhu, Bhirkot and Rising regions.
 Rajya Lakshmi died in 1786. Her brother in law Bahadur Shah never gave chance her to be in peace. However, the Iron Lady Rajya Lakshmi saw that Gorkha Kingdom continued to expand its Kingdom. She has respectable name in Gorkha History. Rajya Lakshmi was so busy in day to day interference of Bahadur Shah that she could not pay attention in educating her son Ran Bahadur Shah. Therefore, Ran Bahadur Shah could not become a strong ruler. After death of Rajya Lakshmi, Bahadur Shah returned to Kathmandu and became again the Nayab or Care Taker King.


** Read more about Gorkha King Ran Bahadur in next chapter….
Copyright@ Bhishma Kukreti Mumbai, India, bckukreti@gmail.com21/1/2015
History of Garhwal – Kumaon-Haridwar (Uttarakhand, India) to be continued… Part -540
(The History of Garhwal, Kumaon, Haridwar write up is aimed for general readers)
XX

                    Reference
Hamilton F.B. 1819, An Account of Kingdom of Nepal and the territories
Colnol Kirkpatrik 1811, An Account of Kingdom of Nepal
Dr S.P Dabral, Uttarakhand ka Itihas part 5, Veer Gatha Press, Dogadda
Bandana Rai, 2009 Gorkhas,: The Warrior Race
Krishna Rai Aryal, 1975, Monarchy in Making Nepal, Shanti Sadan, Giridhara, Nepal
I.R.Aryan and T.P. Dhungyal, 1975, A New History of Nepal , Voice of Nepal
L.K Pradhan, Thapa Politics:
Gorkhavansavali, Kashi, Bikram Samvat 2021 
Derek J. Waller, The Pundits: British Exploration of Tibet and Central Asia page 172-173
XX
History of Gorkha Rule in Uttarakhand, Himachal Pradesh; History of Gorkha Rule in Pauri Garhwal, Udham Singh Nagar Kumaon, Uttarakhand, Himachal Pradesh; History of Gorkha Rule in Chamoli Garhwal, Nainital Kumaon, Uttarakhand, Himachal Pradesh; History of Gorkha Rule in Rudraprayag Garhwal, Almora Kumaon, Uttarakhand, Himachal Pradesh; History of Gorkha Rule in Tehri Garhwal, Champawat Kumaon, Uttarakhand, Himachal Pradesh; History of Gorkha Rule in Uttarkashi Garhwal, Bageshwar Kumaon, Uttarakhand, Himachal Pradesh; History of Gorkha Rule in Dehradun Garhwal, Pithoragarh Kumaon, Uttarakhand, Himachal Pradesh;

कॉंग्रेसी नेता अजय माकन बेगाना शादी में अब्दुला दीवाना

Best  Harmless Garhwali Humor  , Satire, Wit, Sarcasm Garhwali Vyangya , Garhwali Hasya on Irrelevancy of Congress /Political Party 

                            कॉंग्रेसी नेता अजय माकन बेगाना शादी में अब्दुला दीवाना 
                                    चबोड़्या : भीष्म कुकरेती 
               दिल्ली का चुनाव बथाणा छन बल भाग्य कब बदल्द क्वी नि जाणि सकुद , कब भाग्य उदित हूंद क्वी नि जाणि सकुद अर क्वी नि बथै सकुद कि कब क्वा राजनीतिक पार्टी औचित्यविहीन ह्वे जाली ! 
         ब्याळि अपण औचित्य साबित करणो विशेषज्ञ कजीरवालन भाजपा की नेत्यांणि किरण बेदी तैं एक मंच पर बहस करणो चुनौती ज्यादा - न्यूत कम , न्यूज मा रौणो बान आमंत्रण दे।  किरण बेदिन त  बोलि दे बल मीन  दिल्ली घुमण , दिल्ली की हरेक गली मा लोगुं से मिलण , दिल्ली मा मोफत मा आश्वासन बंटणन तो मीम क्या म्यार कुत्ता मा बि टैम नी च।  कजीरवालम बि कख बगत च फोकट की बहस करणो पर न्यूज मेकिंग रणनीति का तहत केजरीवालन अपण पैल पत्ता फेंक अर ब्याळि टीवी चैनलों मा यू इ घ्याळ  हूणु रै।  अर कॉंग्रेस का भावी मुख्यमंत्री अजय माकनन जोरक धै लगै बल मि केजरीवाल से बहस करणो तैयार छौं। पत्रकार , नेतौं अर लोगुं पर त कुछ फरक नि पोड़ पर दिल्ली की सडकुं पर पड्यां पंदरा -बीस सालक गड्ढा , पचास साल पुरण कूड़ा का ढेर अर गंदगी से भरीं यमुना नदी का कीड़ा , बैक्टीरिया -वाइरस बि हँसण मिसे गेन।  एक यमुना कु भयंकर बीमारी फैलाण वळ कीड़ान त बोलि बि दे - अरे जब नरेंद्र मोदी लोकसभा चुनाव मा मनमोहन सिंग जी अर राहुल गांधी तैं अमिण -समिण  बहस करणो चुनौती दीणु छौ त कॉंग्रेसी नेता कपिल सिब्बल पत्रकार सम्मेलन मा जंगड़ ठोकिक बुलणु छौ कि नरेंद्र मोदीक औकात क्या च ,  यदि बहस इ करणाइ त म्यार दगड़ कारो।   खैर तब बि अमेरिकन स्टाइल मा नरेंद्र मोदी अर राहुल गांधी की बहस नि ह्वे अर अब बि कजीरवाल अर किरण बेदी मा बहस नि हूण।  पर बिचारो  अजय माकन ही ना हरेक कॉंग्रेसी प्रवक्ता किराणा छन कि टीवी चैनेल हम कॉंग्रेस्यूं तैं औचित्यबिहीन बथै द्यावो किन्तु राहुल गांधी तो अब बि रेलीवेंट च (कॉंग्रेस्यूं कुण ) । अजय माकन की यीं इन हिकमत तैं हिराकत की नजर से दिखे गे अर बुले गे बल मान ना माँ मै तेरा मेहमान या बेगानी शादी में अब्दुला दीवाना। 
मि तैं एक ब्यावो समळौण अबि बि च।  एक बरात धार पोर जाणि छे।  रस्ता मा ब्यौला बुबा तैं एक जाण पछ्याणक बुड्या मिल ग्याइ।  ब्यौलाक बुबान गिच्च खतणो बान बुड्या तैं बरात मा चलणो न्यूत दे द्याई।  बुड्या तयार ह्वे गे। बरात ब्योलि गाँव पौंछ , बरातखाना मा जनि बरात पौंछ कि बुड्या पर पौणाट ( मेहमान का चरित्र ) लग गे अर घरात्यूं तैं उचकाण -दनकाण लग गे  - दर्री ठीक नी च , चा मा चिन्नी नी च , पाणि पिलाणो सवर नी च , तमाखु खिरकण्या च।  ब्योला पर पिठै ठीक से नि लग।  घराती बुड्या से परेशान ह्वे गे छा।  अंत मा ब्योलिक ददान ब्योलाक बुबा तैं पूछ - समदी जी ! यू पौण छ को च ? क्या तुमर रिस्तेदार च ?
ब्योलाक बुबाक उत्तर छौ - वैपर ध्यान नि द्याओ , उ म्यार दूरक बि रिस्तेदार नी च , बुड्या तो खामखाँ कु पौण च। 
असल मा बरात रूपी दिल्ली चुनाव मा कॉंग्रेसी खामखाँ का बराती मालुम पड़ना छन। 
 अचकाल कॉंग्रेस का, कॉंग्रेसी नेताओं अर कॉंग्रेस समर्थक पत्रकार बिनोद शर्मा या कुमार केतकर का बुरा हाल छन कि लोग कॉंग्रेस का औचित्य किलै स्वीकार नि करणा छन ? 
यदि कॉंग्रेस आज इर्रेलेवेंट या औचित्यहीन , प्रसांगिकहीन या बेमतलब ह्वे गे तो उखमा कॉंग्रेस ही जुम्मेवार च। 
लोकसभा चुनावुं  मा तो आप पार्टी बि हार किन्तु आप पार्टिन दिल्ली मा जोर से जनसम्पर्क बढ़ाण शुरू कार , आप नेताओंन अपण कार्यकर्ताओं दगड़ सम्पर्क बढ़ाण बंद नि कार अर भाजपा की कमजोर जगा पर हमला कार , तीर चलैन तो कॉंग्रेस का नेता राज्यसभा माँ धर्मांतर पर संसद नि चलण पर राहुल गांधी अर सोनिया गांधी तैं वधाई दीण मा व्यस्त रैन।  दिल्ली कॉंग्रेस अध्यक्ष लवली भाजपा का विरोध वूं मुद्दों पर करणु छौं जौं मुद्दों पर कॉंग्रेस अभियुक्त छे। आप पार्टी दिल्ली  विधानसभा भंग करणो आंदोलन मा अग्ल्यारी लीणी छे त कॉंग्रेसी आप पार्टी की पिछलग्गू बणन माँ अग्वाड़ी छे. आप पार्टी जनसम्पर्क मा व्यस्त छे तो कॉंग्रेसी जनसम्पर्क से भागणी छे। 
आप पार्टी अधिक प्रमाणिक बणनो बान कार्यरत छे, प्रमाणिकता कु ढोल बजाणी छे तो कॉंग्रेस सेक्युलर कु राग बजाणि छे।  आज जब  सेक्युलर राग से अल्पसंख्यक बि बितकणा छन , दूर भगणा छन तो सेक्युलर राग गाणो क्या आवश्यकता ? औचित्यबिहीन दुशाला पैरिक कॉंग्रेस हौर बि औचित्यबिहीन ह्वे गे। 
आप पार्टी चुनावी विशेषग्यता हासिल करणो बान हाथ पैर मारणी छे तो कॉंग्रेस मा अनावश्यक गुटबाजी अग्वाड़ी दिखेणि छे।  आप पार्टी लोकसभा चुनाव हारणो बाद दिल्ली चुनाव जितणो रणनीति मा व्यस्त छे तो कॉंग्रेस मा चुनावी तयारी कखि नि दिखेणि छे। 
आप पार्टी दिल्ली की जन समस्याओं बान खटकर्मुं मा व्यस्त छे तो कॉंग्रेसी  राहुल गांधी तैं खुश करणो खटकर्मों मा व्यस्त छया। 
आप पार्टी लोकसभा चुनाव हारणो बाद अधिक दुःसाहसी कार्यों मा संलग्न दिखेणि छे तो कॉंग्रेस कु साहस ही खतम दिख्याणु छौ। 
आप पार्टी अपण शत्रुओं पर अधिक तेज़ाब फेंकणी छे तो कॉंग्रेस का पास क्वी तेज़ाब इ नि छौ। 
लोकसभा चुनावुं बाद आप पार्टी की दिल्ली चुनाव संबंधी गति मा तेजी ही आई तो जनता तैं कॉंग्रेस गतिविहीन ही ना प्राणविहीन दिखे। 
जब हारणो बाद धर्मांतर सरीखा औचित्यबिहीन हथियार से लड़े जावो , विशेष्यग्ता छुड़े जाव , जनसमस्या संबंधित षट्कर्म या खटकर्म छुड़े जावन, साहस छुड़े जावो , शत्रु दंश का तेज़ाब खतम ह्वे जावो , जनसम्पर्क ही नि ह्वावो तो 130 साल पुराणी पार्टी औचित्यबिहीन अवश्य ही होली।  आज टीवी चैनेलुं बहस मा कॉंग्रेसी प्रवक्ताओं तैं टीवी ऐंकर से प्रार्थना करण पोड़द कि हम से बि सवाल पूछो , हम तैं बि मेहमान मानो।  असल मा भारतीय प्रजातंत्र का वास्ता 130 साल पुराणि पार्टी को इन कुहाल ठीक नी च। 
इनि  लोकसभा चुनावुं से एक साल पैल भाजपा बि तो उत्तर प्रदेश मा औचित्यबिहीन ही छे कि ना ? 



21/1/15 ,  Bhishma Kukreti , Mumbai India 
   *लेख की   घटनाएँ ,  स्थान व नाम काल्पनिक हैं । लेख में  कथाएँ चरित्र , स्थान केवल व्यंग्य रचने  हेतु उपयोग किये गए हैं।
Best of Garhwali Humor in Garhwali Language on Irrelevancy of Congress /Political Party ; Best of Himalayan Satire in Garhwali Language on Irrelevancy of Congress /Political Party; Best of  Uttarakhandi Wit in Garhwali Language on Irrelevancy of Congress /Political Party; Best of  North Indian Spoof in Garhwali Language on Irrelevancy of Congress /Political Party; Best of  Regional Language Lampoon in Garhwali Language on Irrelevancy of Congress /Political Party; Best of  Ridicule in Garhwali Language on Irrelevancy of Congress /Political Party ; Best of  Mockery in Garhwali Language  on Irrelevancy of Congress /Political Party; Best of  Send-up in Garhwali Language on Irrelevancy of Congress /Political Party ; Best of  Disdain in Garhwali Language on Irrelevancy of Congress /Political Party; Best of  Hilarity in Garhwali Language  ; Best of  Cheerfulness in Garhwali Language on Irrelevancy of Congress /Political Party ;  Best of Garhwali Humor in Garhwali Language from Pauri Garhwal on Irrelevancy of Congress /Political Party ; Best of Himalayan Satire in Garhwali Language from Rudraprayag Garhwal on Irrelevancy of Congress /Political Party ; Best of Uttarakhandi Wit in Garhwali Language from Chamoli Garhwal on Irrelevancy of Congress /Political Party ; Best of North Indian Spoof in Garhwali Language from Tehri Garhwal on Irrelevancy of Congress /Political Party ; Best of Regional Language Lampoon in Garhwali Language from Uttarkashi Garhwal on Irrelevancy of Congress /Political Party ; Best of Ridicule in Garhwali Language from Bhabhar Garhwal on Irrelevancy of Congress /Political Party ; Best of Mockery  in Garhwali Language from Lansdowne Garhwal  on Irrelevancy of Congress /Political Party; Best of Hilarity in Garhwali Language from Kotdwara Garhwal on Irrelevancy of Congress /Political Party ; Best of Cheerfulness in Garhwali Language from Haridwar on Irrelevancy of Congress /Political Party ;
Garhwali Vyangya , Garhwali Hasya, 

ऋग्वेदीय समय में दास भूमि विस्तार

Das Bhumi in Rigveidic Period in contaxt Haridwar, Bijnor and Saharanpur History
                                        ऋग्वेदीय समय में दास भूमि विस्तार 
                                                        History of Haridwar Part  --48   

                                                         हरिद्वार का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास -भाग -48                                                                                      
                           
                                                   इतिहास विद्यार्थी ::: भीष्म कुकरेती   
 
   ऋग्वेद अनुसार वैदिक राजाओं ने कई युद्ध किये और चालीस वर्षों तक अनार्य /दास नरेशों से युद्ध करते रहे।  इसका अर्थ है कि दास भूमि पंजाब के नजदीक , कांगड़ा तक ही सीमित नही रही होगी।  दास भूमि का विस्तार अवश्य ही उत्तराखंड , हिमाचल , सहारनपुर , हरिद्वार , बिजनौर तक फैला था। 
  दिवोदास ने दास नरेश शंबर के सौ शिला दुर्गों तथा पुरकुत्स ने सात दुर्ग ध्वस्त किये।  देवदास ने साठ हजार सैनिकों की हत्या की।  वशिष्ठ ने तीन हजार दासों को आहत किया।  तो वामदेव ने पचास हजार कृष्ण रंगी दासों  मारा। 
       दास हत्त्या युद्ध में एक लाख वीरों के मरने का उल्लेख मिलता है।  ऋग्वेद में अपार दासों को मरने का उल्लेख है। 
इन आंकड़ों से विदित होता है कि दास भूमि सप्तसिंधु से काफी दूर   तक पंहुची थी और शायद सहारनपुर , उत्तराखंड , बिजनौर तक दास भूमि का विस्तार था। 

**संदर्भ - ---
वैदिक इंडेक्स
डा शिव प्रसाद डबराल , उत्तराखंड  इतिहास - भाग -२
राहुल -ऋग्वेदिक आर्य
मजूमदार , पुसलकर , वैदिक एज 
Copyright@
 Bhishma Kukreti  Mumbai, India 20 /1/2015 

Contact--- bckukreti@gmail.com  
History of Haridwar to be continued in  हरिद्वार का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास; बिजनौर इतिहास, सहारनपुर इतिहास  -भाग 49  
 

History of Kankhal, Haridwar, Uttarakhand ; History of Har ki Paidi Haridwar, Uttarakhand ; History of Jwalapur Haridwar, Uttarakhand ; History of Telpura Haridwar, Uttarakhand ; History of Sakrauda Haridwar, Uttarakhand ; History of Bhagwanpur Haridwar, Uttarakhand ; History of Roorkee, Haridwar, Uttarakhand ; History of Jhabarera Haridwar, Uttarakhand ; History of Manglaur Haridwar, Uttarakhand ; History of Laksar; Haridwar, Uttarakhand ; History of Sultanpur,  Haridwar, Uttarakhand ; History of Pathri Haridwar, Uttarakhand ; History of Landhaur Haridwar, Uttarakhand ; History of Bahdarabad, Uttarakhand ; Haridwar; History of Narsan Haridwar, Uttarakhand ;History of Bijnor; History of Nazibabad Bijnor ; History of Saharanpur
कनखल , हरिद्वार का इतिहास ; तेलपुरा , हरिद्वार का इतिहास ; सकरौदा ,  हरिद्वार का इतिहास ; भगवानपुर , हरिद्वार का इतिहास ;रुड़की ,हरिद्वार का इतिहास ; झाब्रेरा हरिद्वार का इतिहास ; मंगलौर हरिद्वार का इतिहास ;लक्सर हरिद्वार का इतिहास ;सुल्तानपुर ,हरिद्वार का इतिहास ;पाथरी , हरिद्वार का इतिहास ; बहदराबाद , हरिद्वार का इतिहास ; लंढौर , हरिद्वार का इतिहास ;बिजनौर इतिहास; नगीना ,  बिजनौर इतिहास; नजीबाबाद , नूरपुर , बिजनौर इतिहास;सहारनपुर इतिहास 

Chaubisi Campaign in Gorkha King Ran Bahadur Period

History of Gorkha /Nepal Rule over Kumaun, Garhwal and Himachal (1790-1815) -19
  
   History of Uttarakhand (Garhwal, Kumaon and Haridwar) -538

                        By: Bhishma Kukreti (A History Research Student)

                 It was important for both Rajya Lakshmi and Bahadur Shah that they continued the Gorkha Kingdom expansion as initiated by Prithvi Narayan Shah.  It was also essential that to minimize conspiracies and tussles among court elites that the Kingdom kept busy in wars and battles.  Encouraged by tussles between Rajya Lakshmi and Bahadur Shah, Chaubisi Region Kings started attacking on Gorkha Kingdom. When Bahadur Shah got Care Taker (Nayab) position, he sent an army to suppress Chaubisi Region Kingdoms. When Gorkha army reached to Tanhun in Jnuary 1778, the Tanhun King ran away and took asylum I Palpa.  Later on the combined forces of Tanhun, Palpa and Parvatraj captured back the hill regions of Tanhun and Chitaun from Gorkha Army. Now, the Chaubisi combined force reached to Urdang Gadhi. Bahadur Shah sent another army to tackle the situation. The new force defeated Chaubisi combine force. In 1779, Tahun King had to flee towards plains.
 In the mean time, Rajya Lakshmi got again the position of Nayab and Bahadur Shah had to flee to Patna. Tanhun army again got back the Tanhun hill territory from Gorkha. In December January 1781, Caubisi combined force attacked on Gorkha region.
** Read more about Gorkha King Ran Bahadur in next chapter….
Copyright@ Bhishma Kukreti Mumbai, India, bckukreti@gmail.com20/1/2015
History of Garhwal – Kumaon-Haridwar (Uttarakhand, India) to be continued… Part -539
(The History of Garhwal, Kumaon, Haridwar write up is aimed for general readers)
XX

                    Reference
Hamilton F.B. 1819, An Account of Kingdom of Nepal and the territories
Colnol Kirkpatrik 1811, An Account of Kingdom of Nepal
Dr S.P Dabral, Uttarakhand ka Itihas part 5, Veer Gatha Press, Dogadda
Bandana Rai, 2009 Gorkhas,: The Warrior Race
Krishna Rai Aryal, 1975, Monarchy in Making Nepal, Shanti Sadan, Giridhara, Nepal
I.R.Aryan and T.P. Dhungyal, 1975, A New History of Nepal , Voice of Nepal
L.K Pradhan, Thapa Politics:
Gorkhavansavali, Kashi, Bikram Samvat 2021 
Derek J. Waller, The Pundits: British Exploration of Tibet and Central Asia page 172-173
XX
History of Gorkha Rule in Uttarakhand, Himachal Pradesh; History of Gorkha Rule in Pauri Garhwal, Udham Singh Nagar Kumaon, Uttarakhand, Himachal Pradesh; History of Gorkha Rule in Chamoli Garhwal, Nainital Kumaon, Uttarakhand, Himachal Pradesh; History of Gorkha Rule in Rudraprayag Garhwal, Almora Kumaon, Uttarakhand, Himachal Pradesh; History of Gorkha Rule in Tehri Garhwal, Champawat Kumaon, Uttarakhand, Himachal Pradesh; History of Gorkha Rule in Uttarkashi Garhwal, Bageshwar Kumaon, Uttarakhand, Himachal Pradesh; History of Gorkha Rule in Dehradun Garhwal, Pithoragarh Kumaon, Uttarakhand, Himachal Pradesh;

ओपिनियन पोल से हौर बि कनफ्युजाण सरणि च

Best  Harmless Garhwali Humor  , Satire, Wit, Sarcasm Garhwali Vyangya , Garhwali Hasya 

                                       ओपिनियन पोल से हौर बि कनफ्युजाण  सरणि च 
                                               कनफ्यूजन  मा : भीष्म कुकरेती 
राजनैतिक पार्टी रणनीतिकार - देख उप रणनीतिकार ! आज श्याम छै हरेक टीवी चैनेल  मा दिल्ली चुनावुं पर ओपनियन पोल की झड़ी लगण   वाळ च उन तो हम तैं ओपिनियन पोलुँ सर्वे से अपण रणनीति बणाणम  मदत नि मिलदी ।  तो चलो जरा ओपिनियन पोल देखिक हँसे ही जावो।  तो चलो दिखे जाव कि ओपिनियन पोल क्या पोल खुल्दन धौं। 
राजनैतिक पार्टी उप रणनीतिकार- हाँ अच्काल बड़ी परेशानी च। अपण भावी मुख्यमंत्री कण्डिडेटों क्या अपण ब्लॉक प्रमुखों  जमीनी पड़ताल पर विश्वास करण इनि च जन मूसु अपण ख़ास दुसमन सांप- गुरा पर विश्वास करण मिसे जाव। राजनैतिक पार्टी रणनीतिकार-पार्टी ब्लॉक प्रमुख जमीनी हकीकत तब बतालो जब वैक खुट  जमीन मा ह्वावन।  यी त प्रदेश राजधानी या दिल्ली मा इ पड्यां रौंदन तो यूंक अवलोकन पर क्या विश्वास करण ?                       
पार्टी उप रणनीतिकार- हाँ अच्काल दुसर पार्टयुं कार्यकर्ता का ओपिनियन पर भरोसा करण सही च बजाय अपण कार्यकर्ता पर भरवस करण !
पार्टी रणनीतिकार-अच्छा ! ले सि शुरू ह्वे गे एब्वे तू बि पी कु ओपिनियन पोल। एब्वे तू बि पी टीवी चैनेल - अब द्याखो सबसे सही ओपिनयन पोल।  हमर सर्वे मुताबिक़ दिल्ली मा  आम आदमी पार्टी तैं 46  प्रतिशत , भाजपा तैं 45. 89 प्रतिशत अर बाकी वोट फंडधुळी पार्टी अर अन्यों तैं मीलल।  हम उन त गारंटी दींदा कि हमर ओपिनियन पोल सटीक च किन्तु दस प्रतिशत प्लस माइनस की पूरी गुंजाइस च।  
पार्टी उप रणनीतिकार-एक मिनट सर !  सांख्यकी कु सिद्धांत से तो तीन प्रतिशत  स्विंग से दस बीस सीटूँ का वारा -न्यारा ह्वे जाल तो दस प्रतिशत इना उना हूण से तो फंडधुळी पार्टी बि जीत सकदी। एब्वे तू बि पी टीवी चैनेलौ सर्वे पर विश्वास कनै करे जै सक्यांद ?
पार्टी रणनीतिकार-चल रण दे।  अब परसि -नितरसिक खबर आज टीवी चैनलों सर्वे दिखला। 
परसि -नितरसिक खबर आज - अब द्याखो हमर दिल्ली चुनावी सर्वे।  यु सर्वे सबसे प्रमाणिक सर्वे च।  हमर हिसाब से भाजपा तैं 39 प्रतिशत , आम आदमी पार्टी तैं 35 प्रतिशत , फंडधुळी पार्टी तैं 19 प्रतिशत , पिटीं पार्टी तैं 3 प्रतिशत अर बकै अन्य का खाता माँ वोट जाल।  पार्टी उप रणनीतिकार- पर ! पिटीं पार्टी कु विलय तो लोकसभा चुनाव मा हमर पार्टी मा ह्वे गे छौ तो फिर पिटीं पार्टी का नाम सर्वे मा कखन आयि ?
पार्टी रणनीतिकार-अरे ! मि तैं लगणु च कि ये चैनलन पांच साल पैल जु सर्वे कौर छौ वै सर्वे तैं उलटु करिक दिखाई। पार्टी उप रणनीतिकार-मतबल फंडधुळी पार्टी जगा आम आदमी पार्टी बदल अर   बकै उनि रण दे।
पार्टी रणनीतिकार-हाँ। पार्टी उप रणनीतिकार-अब बताओ मीडिया तो झूट बुलण मा हम राजनीतिज्ञों से बि अग्नै बढ़ गे।
पार्टी रणनीतिकार-अच्छा चल।  वैन तैन क्या ब्वाल टीवी चैनेलो सर्वे बि आण वाळ च।  टीवी चैनेल बदल।
 
वैन तैन क्या ब्वाल- हमर सर्वे ही विश्वासी सर्वे च।  हमर सर्वे पर हरेक राजनीतिक पार्टी बि विश्वास करदी। हमर सर्वे का हिसाब से भाजपा तैं 32 प्रतिशत , आम आदमी पार्टी तैं 32 प्रतिशत , फंडधुळी पार्टी तैं 30 प्रतिशत अर सियीं पार्टी तैं 2 प्रतिशत।   पार्टी रणनीतिकार-वैन तैन क्या ब्वाल चैनेल तैं हमन अपण फेवर मा सर्वे दिखाणो कथगा रुपया दे छौ ?
पार्टी उप रणनीतिकार-
आजि मि द्वी करोड़ रुप्या देक औं।
पार्टी रणनीतिकार-मतबल सबि पार्टयूंन ये चैनेल तैं दु दु करोड़ रुप्या पौंछे ऐन तो एन सब्युं तैं बरोबर वोट दिलै देन।  सूण सबि चैनेल वाळु तैं अब पैसा तबि दीण जब यी सर्वे बतै द्यावन।  पार्टी उप रणनीतिकार-सर ! यी माणदा इ नि छन।  जब तक पैसा पैल नि पौंछ जांद यी हमर वोट प्रतिशत अधिक नि
पार्टी रणनीतिकार- अरे पर हम तैं लोगुं ओपिनियन तो पता लगाण इ पोड़ल कि ना ?
पार्टी उप रणनीतिकार- अब अपण पार्टी कार्यकर्ताओं पर विश्वास हूंद नी च , अखबार अर टीवी चैनेल तो पेड सर्वे दिखाँदन तो रणनीति बणाणो बान सीधा वोटरूं से सम्पर्क करूद।
पार्टी उप रणनीतिकार (फोन पर ) - हेलो वोटर जी ! जरा इन त बताओ कि तुम कै तैं वोट दीणा छंवां ?
वोटर - अरे ! मि त टीवी अर अखबारुं सर्वे पर निर्भर छौ कि मि ओपिनियन पोल देखिक वोट देलु।  पर  ....
पार्टी उप रणनीतिकार- पर क्या ?
वोटर - पर टीवी अर अखबारुं ओपिनियन पोल से तो मि और बि कनफ्यूज ह्वे ग्यों।  मेरी समजम इ नि आणु च कि यदि ओपिनियन पोल वैज्ञानिक पद्धति से हून्दन त हरेक टीवी चैनेल का ओपिनियनुं मा जमीन असमानौ अंतर किलै ? मि त कनफ़्यूजे ग्यों। 


20/1/15 ,  Bhishma Kukreti , Mumbai India 
   *लेख की   घटनाएँ ,  स्थान व नाम काल्पनिक हैं । लेख में  कथाएँ चरित्र , स्थान केवल व्यंग्य रचने  हेतु उपयोग किये गए हैं।

Best of Garhwali Humor in Garhwali Language ; Best of Himalayan Satire in Garhwali Language ; Best of  Uttarakhandi Wit in Garhwali Language ; Best of  North Indian Spoof in Garhwali Language ; Best of  Regional Language Lampoon in Garhwali Language ; Best of  Ridicule in Garhwali Language  ; Best of  Mockery in Garhwali Language  ; Best of  Send-up in Garhwali Language  ; Best of  Disdain in Garhwali Language ; Best of  Hilarity in Garhwali Language  ; Best of  Cheerfulness in Garhwali Language  ;  Best of Garhwali Humor in Garhwali Language from Pauri Garhwal  ; Best ofHimalayan Satire in Garhwali Language from Rudraprayag Garhwal  ; Best ofUttarakhandi Wit in Garhwali Language from Chamoli Garhwal  ; Best of North Indian Spoof in Garhwali Language from Tehri Garhwal  ; Best of Regional Language Lampoon in Garhwali Language from Uttarkashi Garhwal  ; Best of Ridicule in Garhwali Language from Bhabhar Garhwal  ; Best of Mockery  in Garhwali Language from Lansdowne Garhwal  ; Best of Hilarity in Garhwali Language from Kotdwara Garhwal  ;Best of Cheerfulness in Garhwali Language from Haridwar  ;
Garhwali Vyangya , Garhwali Hasya, 

हरिद्वार , बिजनौर और सहारनपुर इतिहास संदर्भ में अनार्य नरेश अथवा दास राजा

Non Aryan Kingdoms- Kings of Rigveda in context History of Haridwar ,Bijnor and Saharanpur
            

                                हरिद्वार , बिजनौर और सहारनपुर इतिहास संदर्भ मेंअनार्य नरेश अथवा दास राजा 

                                                              History of Haridwar Part  --47   

                                                         हरिद्वार का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास -भाग -47                                                                                      
                           
                                                   इतिहास विद्यार्थी ::: भीष्म कुकरेती   

                           किरात दुर्दांत जाति 

          ऋग्वेद अध्ययन से कई अनार्य जातियों व् नरेशों का पता चलता है।  इन्हे ऋग्वेद या वैदिक साहित्य में दास नाम दिया गया है। 
            ऋग्वेदिक किरात पड़ोसी पहाड़ियों में निवास करती थी और ऋग्वेद में बार बार एक ऐसी महान दास जाति का प्रयोग हुआ है जिसे हराने के लिए आर्यों को इन्द्रादि की आवश्यकता पड़ी थी।  यह महान जाति शक्तिशाली व दुर्जेय थी। 
                            ऋग्वेदिक दास नरेश 
शंबर - ऋग्वेदिक अनार्य नरेशों में शंबर सबसे अधिक शक्तिशाली नरेश था आर्य नरेश (परुष्णी -विपासा -शुतुद्रि क्षेत्र ) दिवोदास को चालीस वर्षों तक घोर युद्ध करना पड़ा था।  याने शंबर कांगड़ा का नरेश था। 
ऋग्वेद में निम्न अनार्य नरेशों या दास राजाओं का विवरण मिलता है -
चुमुरी 
धुनि 
शुष्ण 
बलबूत 
पिपरु 
कुयव 
वृत्र 
व्यन्स 
रुधिका 
नमुचि 
कुलितर 
भेद 
अज 
यक्ष 
शिग्रु
इलीविष 
वर्चिन 
इनमे से संभवतया कुलितर व नमुचि शंबर के पूर्वज थे। 
भेद ने शंबर की हत्या की थी और दिवोदास के पुत्र सुदास से दो भीषण युद्ध किये थे। 


**संदर्भ - ---
वैदिक इंडेक्स
डा शिव प्रसाद डबराल , उत्तराखंड  इतिहास - भाग -२
राहुल -ऋग्वेदिक आर्य
मजूमदार , पुसलकर , वैदिक एज 
Copyright@
 Bhishma Kukreti  Mumbai, India 19 /1/2015 

Contact--- bckukreti@gmail.com 
History of Haridwar to be continued in  हरिद्वार का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास; बिजनौर इतिहास, सहारनपुर इतिहास  -भाग 48 

History of Kankhal, Haridwar, Uttarakhand ; History of Har ki Paidi Haridwar, Uttarakhand ; History of Jwalapur Haridwar, Uttarakhand ; History of Telpura Haridwar, Uttarakhand ; History of Sakrauda Haridwar, Uttarakhand ; History of Bhagwanpur Haridwar, Uttarakhand ; History of Roorkee, Haridwar, Uttarakhand ; History of Jhabarera Haridwar, Uttarakhand ; History of Manglaur Haridwar, Uttarakhand ; History of Laksar; Haridwar, Uttarakhand ; History of Sultanpur,  Haridwar, Uttarakhand ; History of Pathri Haridwar, Uttarakhand ; History of Landhaur Haridwar, Uttarakhand ; History of Bahdarabad, Uttarakhand ; Haridwar; History of Narsan Haridwar, Uttarakhand ;History of Bijnor; History of Nazibabad Bijnor ; History of Saharanpur
कनखल , हरिद्वार का इतिहास ; तेलपुरा , हरिद्वार का इतिहास ; सकरौदा ,  हरिद्वार का इतिहास ; भगवानपुर , हरिद्वार का इतिहास ;रुड़की ,हरिद्वार का इतिहास ; झाब्रेरा हरिद्वार का इतिहास ; मंगलौर हरिद्वार का इतिहास ;लक्सर हरिद्वार का इतिहास ;सुल्तानपुर ,हरिद्वार का इतिहास ;पाथरी , हरिद्वार का इतिहास ; बहदराबाद , हरिद्वार का इतिहास ; लंढौर , हरिद्वार का इतिहास ;बिजनौर इतिहास; नगीना ,  बिजनौर इतिहास; नजीबाबाद , नूरपुर , बिजनौर इतिहास;सहारनपुर इतिहास