उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, December 3, 2017

Symbols and Imagery in Birani Chhweyunma (A Garhwali Poetry Collection) -

 (गढ़वालउत्तराखंड,हिमालय से गढ़वाली कविता  क्रमगत इतिहास  भाग – 207 )
-
 (Critical and Chronological History of Garhwali Poetry, part -207)
 (Review of a Garhwali poetry Collection Birani Chhweyunma versed by Suresh Snehi)
  By: Bhishma Kukreti    
    Birani Chhweyunma is a Garhwali poetry collection by Suresh Snehi that having many types of poems as Va Suber (hard Work by daughter in law in hill villages), Bhinchal (earth quake); Mai ta Hisab gandu rau is about life cycle of a woman; Chitthi (effects of Migration within family and village); Maulyar is about spring but is satirical and humorous poem; ‘Raibar is philosophical poem; the poem Papi paran’ is philosophical poem and has many emotions within a poem.  Birani Chhweeyunma is inspirational poem
    Meru Uttarakhand is a patriotic or inspirational poem with lot of spiritual images by common symbols as
वैदिक भूमि या देवतौं कु घौर  (Spiritual imagery)
दूर दूर बटीलोग दर्शनुकु औंदिन जख    (Kinesthetic imagery)
   Visual Imageries
 Snehi has uses effectively the symbols for creating visual imageries specially hills of Garhwal as
रुमझुम -रूमझुम बरखी बरखा , बढ़गे गाड गदेरौं मा पाणी 
कैकी डोखरी , कैकी पुंगड़ी बगगे , पाणी मा आस पुराणी 
हाय रे बरखा नी औण पै तू फेर। 

चौतरफी हिमालय बरफ लेकि इन पड्यूचा (Visual imagery)
  The poet also shows concern over cultural changes as theft and looting in peaceful, crimeless hills
सैरु बजारु  मा चोर उच्चक्का कनक्वैकि रैली वख
  In Bhyunchal poem, Suresh Snehi creates images of fear by earth quake and readers feel  earth quake as it is reality.
  In Girasti  poem, Suresh creates the pain or pathos raptures करूण  रस ) after marriage that the readers feel indifference and following lines by Snehi are of emotional imageries and philosophical imagery too-
 ब्यौ का बाद देखि मन वेकि
लबड्यान्द धौण , अर टोटगी मौण
खुरसी कपाळी  अर सिल्लि गिच्ची
किलैकि अब वेकु ब्यौ ह्वे गे छौ
   Phrases as लबड्यान्द धौणटोटगी मौण खुरसी कपाळी  अर सिल्लि गिच्ची are typical common phrases and show that something unwanted is happened there. Suresh uses common phrases for creating pathos image effectively.
 Same way, in Girasti poem, Suresh is successful in creating agile imagery and youth imagery very neatly as –
चंट छौ , चालाक छौ
बच्यांदु बि बिंडी छौ
हंसांदु छौ
रुवांदु छौ
कुजाणी क्या क्या करदू छौ
     Auditory Imagery
    There are many symbols or phrases in Garhwali that one symbol satisfies two purposes as in following line of Va Suber , Suresh uses a phrase सासुकु भभड़ाट for creating auditory imagery and for pathos rapture too.) 
सासुकु भभड़ाट चुपचाप  सुणदि रै (Auditory Imagery and pathos rapture together )
     Gustatory Imagery
 Food is important aspect of human beings and Suresh knows the importance and purposely he used many times the ethnic food for creating memorable imagery –
   कंडाळि कि  भुज्जि अर गथ्वणि कु साग सब्युं तै खलैगे
खटै मिठै देखिक रंगसळे जांद in the poem ‘Papi paran’is also good example of gustatory imagery creation.
 Thungar poem is specially created for creating gustatory imagery as the poet uses many food articles that create various food taste images in the reader’s mind

      Olfactory Imagery
  Suresh Snehi uses words as भम्माणभितरि सब्युंकि सौड़ी गेन  (from Chitthi poem) for creating olfactory imagery.
  As far as emotions in the poetry collection is concern, there are various types of emotions as envy खटै मिठै देखिक रंगसळे जांद  and humor and satire as in Sarad, Kya Jamanu aige poems. Dhai poem has emotion of pain of separation.   
  Editors as Madan Duklan, Girish Sundriyal and poetry critics Dr. Manju Dhoundiyal praised the uses of symbols by Suresh Snehi in creating desired imageries. Dr. Manju Dhoundiyal stated that Suresh uses common symbols effectively and he is successful in getting right results too.

Copyright@ Bhishma Kukreti, 2017
-
चमोली गढ़वाल , उत्तराखंड , उत्तरी भारत कविता , लोकगीत  इतिहास ; रुद्रप्रयाग गढ़वाल , उत्तराखंड , उत्तरी भारत कविता , लोकगीत  इतिहास ; टिहरी गढ़वाल , उत्तराखंड ,उत्तरी भारत कविता , लोकगीत  इतिहास ; उत्तरकाशी गढ़वाल , उत्तराखंड , उत्तरी भारत कविता , लोकगीत  इतिहास ; देहरादून गढ़वाल , उत्तराखंड , उत्तरी भारत कविता ,लोकगीत  इतिहास ; हरिद्वार गढ़वाल , उत्तराखंड , उत्तरी भारत कविता , लोकगीत  इतिहास ; 
-
History and review of Garhwali Poems, Folk Song from Uttarkashi Garhwal, Uttarakhand, South Asia; History and review of Garhwali Poems, Folk Song from Tehri Garhwal, Uttarakhand, South Asia; History and review of Garhwali Poems, Folk Song from Dehradun Garhwal, Uttarakhand, South Asia; History and review of Garhwali Poems, Folk Song from Rudraprayag Garhwal, Uttarakhand, South Asia; History and review of Garhwali Poems, Folk Song from Chamoli Garhwal, Uttarakhand, South Asia; History and review of Garhwali Poems, Folk Song from Pauri Garhwal, Uttarakhand, South Asia; History  Garhwali poems from Haridwar 

How did Kukretis of Dyusi Migrate from Barsuri/ Barsudi?

Bhishma Kukreti from Jaspur


Migration is a way of human life. When Kukretis settled in Jaspur the migration also started after some years. Two Kukreti brothers migrated from Jaspur (Malla Dhangu) to Barsudi (Langoor, near Bhairongarh). One night Kukreti of Barsuri took Devi’s idol from original Devi temple of Jaspur.

Kukreti prosperous in Barsudr and Kukretis got respects and honor in region. Kukretis of Barsduri got fame becoming Pundits and Tantric in the region. There are two stories about migration of Kukretis from Barsuri to Dyusi (Patti- Maniyarsyun).

Folk Story about Migration of Kukretis from Barsuri to Dyusi

Uday Ram Kukreti (now, residing in Mumbai) of Barsudi told the following folk story about migration of Kukretis from Barsduri to Dyusi.

There is a place Dhandal on top of Barsuri village. The air flow near Dhandal is very high. Once Gauri Datt Kukreti was going there taking pall for Goth. The air flow was so high that Gauri Datt Kukreti flew to Dyusi village crossing Nayar River from Dhandal along with Pall. Gauri Datt Kukreti liked Dyusi region. When Gauri Datt Kukreti returned to his village he desired to settle in Dyusi. Parents and family members agreed and Gauri Datt Kukreti and his younger brother migrated to Dyusi from Barsuri. Alomh with Gauri Datt Kukreti a couple of Negi families also migrated to Jakhnoli (Maniyarsyun) a nearby village of Dyusi.
-
Another Story about Migration of Kukretis from Barsuri to Dyusi
-



Pundit Rameshwar Kukreti (now, resides in Mumbai) of Dyusi told a story behind migration of a family of Kukretis from Barsuri to Dyusi.

Kukretis of Barsudi were famous Pundits and Tantric of Langur Patti and their fame was also there in Maniyarsyun which is another side of Nayar River. It is said that there was no any Pundit and Tantric family near Dyusi, Manyarsyun Patti. The people of Dyusi region requested Kukretis of Barsudi to send a couple of Kukreti Pundits and Tantric to Dysui-Patti Maniyarsyun. The people of Dyusi region agreed to offer desired land and Padhanchari to Kukreti after he settled in Dyusi. Kukretis of Barsuri sent Pundits and tantric Gauri Datt and his younger brother. Negis from Barsduri region were also sent with them and Negis were settled in Jakhnoli. Gauri Datt Kukreti of Barsuri settled in Dyusi. Younger brother of Gauri Datt Kukreti did not marry and became sansyasi.


Copyright@ Bhishma Kukreti

सामान्य जल मुर्गी

Samanya Jal Murgi, Common Moorhen (Gallinula chloropus )

 गढ़वाल की चिड़ियायें - भाग -24

( Birds of  Garhwal; Birding and Birds of Garhwal, Uttarakhand, Himalaya -----24 ) 
-
आलेख : भीष्म कुकरेती , M.Sc.  
जलमुर्गी शीत  ऋतू का प्रवाशी पक्षी है जो सब जगह दिखाई देता है। यह ब्रीडिंग /प्रजनन समय में अपने  लाल चोंच व पीले चोंच की नोक के कारण पहचानी जाती है। प्रजननहीन  काल में  अवस्था में इनकी चंच मटमैली हो जाती हैं। इनके पैर  भी पीले होते हैं। 
  जल मुर्ग पानी के पास वाली जगहों , दलदली  स्थान में ही वास करते हैं और घास फूस व जल कीड़े इनके भोजन हैं।  
 जल मुर्ग भूमि पर ही घोसला बनाते हैं।  मादा जलमुर्ग एक बार में आठ अंडे देती है । मादा व नर दोनों साथ साथ अण्डों को सकते हैं और बच्चों की परवरिश करते हैं। 
जल मुर्ग 32 से 35 सेंटीमीटर लम्बे होते हैं  और पंख मिलाकर चौड़ाई  50  से 60  सेंटीमीटर तक जाती है।  जलमुर्ग का भार 192 से 500 ग्राम तक होता है। 


-
सर्वाधिकार @सुरक्षित , लेखक व भौगोलिक अन्वेषक  



Birds of Pauri Garhwal, Birds of  block, Pauri Garhwal , Uttarakhand Himalaya; Birds of  Kot block, Pauri Garhwal Uttarakhand Himalaya; Birds of  Kaljikhal block, Pauri Garhwal ; Birds of Dhangu (Dwarikhal)  block, Pauri Garhwal Uttarakhand Himalaya; Birds of  Jahrikhal block, Pauri Garhwal Uttarakhand Himalaya  ;Birds of  Ekeshwar block, Pauri Garhwal ;  Birds of  Pauri block, Pauri Garhwal Uttarakhand Himalaya; Birds of Pabau , Pabo  block, Pauri Garhwal Uttarakhand Himalaya; Birds of Rikhanikhal  block, Pauri Garhwal Uttarakhand Himalaya; Birds of  Bironkhal block, Pauri Garhwal Uttarakhand Himalaya  ; Birds of Yamkeshwar  block, Pauri Garhwal Uttarakhand Himalaya; Birds of Naninidanda  block, Pauri Garhwal Uttarakhand Himalaya; Birds of  Dugadda block, Pauri Garhwal Uttarakhand Himalaya; Birds of  Pokhara block, Pauri Garhwal Uttarakhand Himalaya; Birds of Khirsu  block, Pauri Garhwal Uttarakhand Himalaya; Bird watchers Guide Uttarakhand , Himalaya; Bird watchers Guide Garhwal, Uttarakhand , Himalaya ; Bird watching Places in Pauri Garhwal, Himalaya, Uttarakhand  , Birding  Garhwal, Uttarakhand Himalaya , Birding  Garhwal, Uttarakhand Himalaya ,Birding Dehradun garhwal, Birding Dehradun Shivalik, Himaalya 
गढ़वाल ,  चिड़ियाएं , उत्तराखंड , चिड़ियाएं , हिमालय  चिड़ियाएं , पौड़ी गढ़वाल चिड़ियाएं  , उत्तराखंड चिड़ियाएं  , हिमालय चिड़ियाएं , उत्तर भारतीय चिड़ियाएं , दक्षिण एशिया चिड़ियाएं

उत्तराखंड में भांग की खेती पर नाजायज व अज्ञानता भरा हमला

आलेख -भीष्म कुकरेती 
  उत्तराखंड में पिछली सरकार ने औद्योगिक भांग कृषि हेतु कदम उठाये ही थे कि भद्रजनों व नारकोटिक्स सरीखे विभागों ने कदम उठाने से पहले ही कदम के आगे रोड़े  नही एसिड बिखेर दिया।
   भांग जैसे लाभकारी पौधे को राक्षस नाम दिया जा रहा है।  किसी की समझ में नहीं आ रहा है कि जिनको नशा ही करना है उन्हें खेत के भांग की आवश्यकता नहीं होती है।  जूं के डर से कपड़े पहनना बंद नहीं किया जाता वैसे ही नशा व्यापार के डर  से औद्योगिक भांग उगाने की नीति बंद नहीं की जानी चाहिए। 
    मनुष्य सभ्यता में भांग की खेती पुरानतम खेतियों में से एक है। 
 भांग के निम्न लाभ हैं -
-
          भांग के पर्यावरण संबंधी लाभ 
-
१- भांग कोयला का सर्वोत्तम पर्याय है और भांग की  जैविक ईंधन क्षमता कोयले से कहीं अधिक है। 
२- उत्तराखंड में अंग्रेजों से आने से पहले भांग उत्तम रेशों के लिए बोया जाता था 
३- भांग से उत्तम कागज बनता था और आज भी कागज उद्योग को संबल दे सकता है 
४- 1 एकड़ में बोये जाना वाला भांग  20 सालों में उतना पेपर पल्प दे सकता है जितना 4.1 एकड़ के पेड़ 
५- भांग से बनने वाले कागज में डॉक्सिन युक्त क्लोरीन ब्लीच और वृक्ष पल्प के मुकाबले भांग कागज निर्माण में 75 % कम सल्फ्यूरिक ऐसिड की आवश्यकता होती है 
६- भांग कागज 7 -8  बार रिसायकल हो सकता है जब कि वृक्ष पल्प से बनाया जाने वाले कागज को केवल 3 बार तक रिसायकल किया जा सकता है 
७- भांग से कागज बनाने से जंगल कटान में कमी लायी जा सकती है 
८- भांग के रेशे किसी भी प्राकृतिक रेशों में तागतवर व कोमल रेशे हैं 
९- भांग की उत्पादन शक्ति रुई से अधिक है।  एक एकड़ में भांग के रेशे रुई से दो से तीन गुना अधिक रेशे पैदा होते हैं , 
१० - वैसे भांग के कपड़े रुई से अधिक गर्म व अधिक समय तक  कपड़े होते हैं।  
११- भांग की रस्से नायलोन की  रस्सी के मुकाबले अधिक लाभकारी व उपयुक्त होती हैं 
१२-भांग कृषि में कीटाणुनाशक दवाईओं की आवश्यकता नहीं पड़ती है 
१३- भांग के लिए अनुपजाऊ भूमि भी काम आ सकती है 
-
         भांग के बीजों के लाभ 
-
१- भांग के बीजों में अन्य तैल बीजों की तुलना में 34 % अधिक तेल होता है। 
२- अन्य तेलों के मुकाबले , भांग तेल व्हेल तेल के बाद सबसे अधिक लाभकारी होता है 
३- भांग के तेल में सल्फर नहीं होता है 
४- भांग के बीजों निटारने के बाद जो खली  बचता है उसमे सोयाबीन से अधिक प्रोटीन होता है और मसाले व अन्य भोज्य के रूप में प्रयोग किया जा सकता है। 
५- पिंडी जानवरों के लिए भी हितकारी है जैसे तिल, सरसों  आदि  की खली
-
         भांग का कृषि में उपयोग 
-

१- भांग खेती कम उपजाऊ भूमि में भी हो सकती है 
२- निम्न स्तर THC  (टैट्राहाइड्रोकैनाबि न्वाइड्स ) वाले भांग उत्पादन से हसीस /नशा पदार्थ नहीं बन सकता है 
३-फसल चक्र हेतु भांग बहुत ही प्रभावकारी फसल है (उत्तरखंड में मकई के साथ भांग का बोया जाना विज्ञान सम्मत विधि  है ) . लोबिया को  भी भांग से फसल चक्र लाभ मिलता है। 
४-भांग खेती हेतु 90 -110 दिन ही चाहिए 
५- भांग 16 फ़ीट की ऊंचाई तक जा सकता है और एक जड़ फ़ीट गहराई तक जाता है। और भूमि की गहराई से पोषक तत्व खींचने में कामयाब पौधा है।  फिर जब बांग के पत्ते भूमि में गिरते हैं व सड़ते हैं या जलाकर राख बनते हैं तो ये पत्ते बाद वाली फसल को पोषक तत्व देते हैं। भांग की जड़ें एक फ़ीट गहरे जाने से भांग भूमि के अंदर जुताई करने में सक्षम है 
६- भांग  एक ही खेत में सालों साल तक बोने की बाद भी उत्पानशीलता में कमी नहीं आती है 
७- भांग में अल्ट्रा व्वॉइलेट किरण प्रतिरोधक शक्ति सोयाबीन आदि से  शक्ति होती है 
8- भांग खर पतवार नही जमने देता है 
-
     भांग तेल के लाभ 
-
१- भांग तेल हारमोन संतुलन में सहायक होता है 
२-भांग तेल स्किन प्रोटेक्टिव लेयर को ऊर्जा देता है 
३- भांग तेल कोलेस्ट्रॉल कम करने में सहायक है 
४- भांग तेल डाइबिटीज में भी लाभकारी हो सकता है 
५- भांग तेल सोराइसिस में लाभकारी हो सकता है 
६- रोधक शक्ति वृद्धि में काम आता है 
-
 भांग के अन्य उपयोग 
-
१- ड्रेस मटिरियल्स , मैट्स आदि 
२- फैशनेबल थैले 
३-बोर्ड 
४- कई प्रकार के इंसुलेटर वस्तुएं 
५- कंक्रीट ब्लॉक्स 
६- फाइबर ग्लास में मिश्रण हेतु माध्यम 
7- गहने 
8- जानवरों के गद्दे /विस्तर
-
प्रश्न है कि किस तरह भांग  का औद्योगिक उत्पादन किया जाय कि आर्थिक क्रान्ति आ जाय।  एक समय अठारवीं सदी में काशीपुर में ईस्ट इण्डिया कम्पनी की एक फैक्ट्री के कारण पहाड़ों में भांग खेती में वृद्धि हुयी थी। 
भाग को निर्यात माध्यम समझकर ही इसे अपनाया जायेगा