उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Friday, November 21, 2014

टूर ऑपरेटरों द्वारा ग्राहक प्रालेख / वर्गीकरण का विश्लेषण

Analyzing Consumer Profiles by Tour Operators  

                         टूर ऑपरेटरों द्वारा ग्राहक प्रालेख / वर्गीकरण का विश्लेषण 

                     (Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series--111   
                                  उत्तराखंड में पर्यटन  आतिथ्य विपणन प्रबंधन-भाग 111   

                                                              लेखक ::: भीष्म कुकरेती  (विपणन  विक्रीप्रबंधन विशेषज्ञ )


 बजार चुनाव में टूर ऑपरेटर द्वारा ग्राहक प्रालेख या ग्राहक वर्गीकरण का विश्लेषण आवश्यक है।  निम्न प्रालेखों का विश्लेषण आवश्यक हैं -
१- एकला चलो , लिंग (स्त्री /पुरुष ) , युवा 18 -40 वय 
२- समृद्धि अनुसार वर्गीकरण अति समृद्ध।  मध्यम समृद्ध , साधारण समृद्ध
 ३-अपना घर है कि नही 
४-क्या ग्राहक विकसित देशों की और आकर्षित होते हैं 
 ५-भारत में उन्हें क्या आकर्षित करता है 
६- पहाड़ों के प्रति अनुराग 
७-उत्तराखंड के प्रति अनुराग 
८- उन्हें क्या भाता है ?
९- टूर ऑपरेटर सेवा से क्या चाहत है ? 

Copyright @ Bhishma Kukreti  21/11//2014  

Contact ID bckukreti@gmail.com
Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series to be continued ...

उत्तराखंड में पर्यटन  आतिथ्य विपणन प्रबंधन श्रृंखला जारी 

                                   
 References

1 -
भीष्म कुकरेती, 2006  -2007  , उत्तरांचल में  पर्यटन विपणन परिकल्पना शैलवाणी (150  अंकोंमें ) कोटद्वार गढ़वाल


Analyzing Consumer Profiles by Tour Operators in  Marketing of Travel, Tourism and  Hospitality Industry Development  in Uttarakhand; Analyzing Consumer Profiles by Tour Operators in  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Haridwar Garhwal, Uttarakhand;Analyzing Consumer Profiles by Tour Operators in  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pauri Garhwal, Uttarakhand; Analyzing Consumer Profiles by Tour Operators in  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Dehradun Garhwal, Uttarakhand; Analyzing Consumer Profiles by Tour Operators in Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Uttarkashi Garhwal, Uttarakhand; Analyzing Consumer Profiles by Tour Operators in  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Tehri Garhwal, Uttarakhand; Analyzing Consumer Profiles by Tour Operators in  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Rudraprayag Garhwal, Uttarakhand; Analyzing Consumer Profiles by Tour Operators in  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Chamoli Garhwal, Uttarakhand; Analyzing Consumer Profiles by Tour Operators in  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Udham Singh Nagar Kumaon, Uttarakhand; Analyzing Consumer Profiles by Tour Operators in  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Nainital Kumaon, Uttarakhand; Analyzing Consumer Profiles by Tour Operators in Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Almora Kumaon, Uttarakhand; Analyzing Consumer Profiles by Tour Operators in  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Champawat Kumaon, Uttarakhand; Analyzing Consumer Profiles by Tour Operators in  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Bageshwar Kumaon, Uttarakhand; Analyzing Consumer Profiles by Tour Operators in  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pithoragarh Kumaon, Uttarakhand

History aspects Animal Husbandry in Garhwal in Shah /Pal Period

Administration, Social and Cultural Characteristics History of Garhwal in Shah Dynasty -52 

   History of Garhwal including Haridwar (1223- 1804 AD) –part -241     
   History of Uttarakhand (Garhwal, Kumaon and Haridwar) -489 
                        By: Bhishma Kukreti (A History Research Student)

              Garhwali village means human society and domestic animals. In animals cow, buffalo, goats, sheep, were common. Chicken poultry paltry was limited to Shilpkar. Garhwalis did not /do not breed Pigs.
 In Haridwar, Bijnor and Bhabhar Garhwal, a community used to breed pigs.
           Domestic animals were kept on ground floor of houses and people live on upper floor.  There used to be herds of cow dung and attracting flies, insects.
               In summer and rainy season people used to take animals to filed away from village Goth. Goth used to satisfy two needs – maneuvering on the fields so no problem of carrying organic fertilizer and animals could not be effected by hot season while tug in the Gaushala (cowshed).
           Animals were sign of prosperity as animals satisfy the need of milk, maneuvering, mutton, woolen clothing, etc.

Copyright@ Bhishma Kukreti Mumbai, India, bckukreti@gmail.com21/11/2014
History of Garhwal – Kumaon-Haridwar (Uttarakhand, India) to be continued… Part -490 
(The History of Garhwal, Kumaon, Haridwar write up is aimed for general readers)
History of Garhwal from 1223-1804 to be continued in next chapter ….
History of Characteristics of Garhwal Kings Shah dynasty, to be continued


XX                     
Notes on South Asian Modern Period  History of Garhwal;  South Asian Modern Period   History of Pauri Garhwal; South Asian  Modern Period  History of Chamoli Garhwal;  South Asian Modern Period   History of Rudraprayag Garhwal;  South Asian Modern  History of Tehri Garhwal; South Asian Modern  History of Uttarkashi Garhwal;  South Asian Modern Period   History of Dehradun, Garhwal;  Modern  History of Haridwar ; South Asian Modern Period   History of Manglaur, Haridwar;  South Asian Modern Period   History of Rurkee Haridwar ;  South Asian Modern Period   History of Bahadarpur Haridwar ; South Asian Modern Period History of Haridwar district, South Asian History of Bijnor old Garhwal
Xx
History aspects Animal Husbandry in Garhwal in Shah /Pal Period; History aspects Animal Husbandry in Bijnor in Shah /Pal Period; History aspects Animal Husbandry in Haridwar Garhwal in Shah /Pal Period; History aspects Animal Husbandry in Dehradun Garhwal in Shah /Pal Period; History aspects Animal Husbandry in Uttarkashi Garhwal in Shah /Pal Period; History aspects Animal Husbandry in Tehri Garhwal in Shah /Pal Period; History aspects Animal Husbandry in Rudraprayag Garhwal in Shah /Pal Period; History aspects Animal Husbandry in Chamoli Garhwal in Shah /Pal Period; History aspects Animal Husbandry in Pauri Garhwal in Shah /Pal Period;

हमर गां पिट्यांद च , पित्यान्द च , गां मा प्रधान जि च!

चखन्यौर्या , चबोड़्या , गंवड्या ::: भीष्म कुकरेती 
भारत की आत्मा गांवुं मा बसदि , हमर बि गाँव च , हमर गांवक नाम जिन्दानगर च । 
अब स्मार्ट सिटीज की छ्वीं लगणा छन , स्मार्ट टाउनशिप  कु बोलबाला च , हम तैं कत्तै  बि घमंड नी च बल हमर गाँ स्मार्ट विलेज नी च
हमर गां की हद्द च ,  हद्द या च  कि हम हद्द पर नि रौण चांदा , हम शहरूं मा रौण चांदा। 
हमर गां मा डाळ बूट छन , थोड़ा भौत सग्वड़म  फसल च , हमर इख क्वी पर्यावरणवादी नी च पर लैन्टीना घास खूब च। 
हमर इख कुछ गौड़ छन , द्वी चार बाछी छन , हमर इख हळया  क्वी नी च इलै बौड़ एक बि नी च । गौंकि जवान ब्वारी बच्चा पढ़ाणो कोटद्वार -ऋषिकेश रौंदन तो हमर गाँवन बीस साल से भैस नि देखि। 
हिमालयी गाँ हूण से  हमर इख सब्युँमा कंबळ  छन , सब्युंमा ऊनि कपड़ा छन , हमर गां मा ढिबर -बखर क्वी नि पाळदु। 
हमर गां से भैर जंगळ छन , जंगळु मा जंगळी जानवर रौंदन , गूणी , बांदर अर सुंगर हमर गाँ मा रौंदन।  
हमर खेतुं मा दार लैक डाळ छन , हम अपण डाळ नि काट सकदा , जंगल माफिया का का आशीर्वाद से हम तैं सरकारी जंगळ से जथगा चाहो तथगा इमारती लकड़ी मिल जांद। 
हमर गाड -गदनो मा रेत च , हम अपर कूड़ो चिणै वास्ता खनन नियमुं कारण अपड़ गाड -गदन से रेत नि खोदी सकदा पर हम तैं कोटद्वार -ऋषिकेश से भरपूर रेत मिल जांद। 
हमर गांमा पाणी छोया च , नळ छन अर हर रोज नळका पर पाणि  बंद हूंद इ   हम सरकार तैं गाळी दींदा। 
हमर गां मा सरकारी गल्ला  दुकान च , प्राइवेट दुकान च , रिटायर्ड हवलदार जी से दारु मिल जांद। 
हमर इख कृषि ही मुख्य रोजगार ह्वे सकद  , हमर इख क्वी खेती नि करद, हमर इख मनरेगा  से ही रोजगार मिलद। 
हमर इख सरकारी अस्पताल च , सरकारी अस्पतालम  त दवा नि हूंदन या चिकित्सक नि रौंद , उन हम तै सरकारी अस्पताल  पर भरोसा बि नि हूंद इलै छुटि  मुटि  बीमारी निवारण हेतु हम बक्कीम ही जांदवां। 
हमर गांमा जब कै तै क्वी नौकरी नि मिलदी तो वु डीएड , बीएड कर लींदु , हमर गांव मा पैदा हुयां मास्टरू पढ़ाई की सबि लोग प्रशंसा करदन , ब्यौ बंद ह्वेक बि मास्टर बिचारा बैचलर की जिंदगी बितांदन किलैकि हमर गांवक सबि मास्टरुं बच्चा ऋषिकेश  या कोटद्वार पढ़द
 हम संस्कृति प्रेमी छंवां।  हमर गांमा ब्यौ बि हूंदन , तिरैं बरखि  बि हूंदन अर जीमण  मा प्लास्टिकौ गिलसड़ी पर दारु बांटे जााँद।  दर्यौ ड्या कांचक गिलास फोड़ि दींदन।   
हमर प्रदेश एक ऊर्जा प्रदेश च।  हमर गांवक प्रधानक पुरण फाइलुं मा राजीव गांधी बिजली योजना की चिट्ठी बि च , अब दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति  योजना की चिट्ठी बि ऐ गे कि राजीव गांधी बिजली योजना उपाध्याय ज्योति योजना मा समाहित ह्वे ग्यायि,  अबि बि गां वळु इ ना प्रधान जी तैं बि पक्को विश्वास च कि हमर गाँ मा बिजली आण मा दस साल त लग इ जाल। 
हमर गांका प्रवासी हर तिसाला नागर्जा पूजै मा गाँव आंदन , अपण उजड्यां कूड़ हूण से दूसरों ड्यार रौंदन , शहरूं मा ड्यार खरीदणो चक्कर घिनी कारण अपण कूड नि रिपेयर कर सकदन। किन्तु हमर प्रवासी बड़ा ग्रामप्रेमी छन , फेसबुक मा अपण कुड़ौ फोटो , उजड्यां घटूँ फोटो शेयर करदन अर सरकार पर जोरों से प्रहार करदन कि गाँव उजड़ना छन अर सरकार कुछ नी करणी च। हम तैं यूं ग्राम प्रेमी , फोटो प्रेमी , रुंदा प्रवास्युं पर गर्व च। 
मी बि एक प्रवासी लेखक छौं , पिछ्ला बीस  सालों से गांव नि ग्यों पर अपण गांवक समस्याओं समाधान का वास्ता मि विशेषज्ञ मने जांद। 



Copyright@  Bhishma Kukreti 21  /11 /2014    
   *लेख की   घटनाएँ ,  स्थान व नाम काल्पनिक हैं । लेख में  कथाएँ चरित्र , स्थान केवल व्यंग्य रचने  हेतु उपयोग किये गए हैं। 

Best of Garhwali Humor in Garhwali Language about Model Village; Best of Himalayan Satire in Garhwali Language about Model Village ; Best of  Uttarakhandi Wit in Garhwali Language about Model Village; Best of  North Indian Spoof in Garhwali Language about Model Village; Best of  Regional Language Lampoon in Garhwali Language about Model Village; Best of  Ridicule in Garhwali Language about Model Village; Best of  Mockery in Garhwali Language about Model Village; Best of  Send-up in Garhwali Language about Model Village; Best of  Disdain in Garhwali Language; Best of  Hilarity in Garhwali Language about Model Village; Best of  Cheerfulness in Garhwali Language about Model Village;  Best of Garhwali Humor in Garhwali Language from Pauri Garhwal about Model Village; Best of Himalayan Satire in Garhwali Language from Rudraprayag Garhwal about Model Village; Best of Uttarakhandi Wit in Garhwali Language from Chamoli Garhwal about Model Village; Best of North Indian Spoof in Garhwali Language from Tehri Garhwal about Model Village; Best of Regional Language Lampoon in Garhwali Language from Uttarkashi Garhwal about Model Village; Best of Ridicule in Garhwali Language from Bhabhar Garhwal about Model Village; Best of Mockery  in Garhwali Language from Lansdowne Garhwal about Model Village; Best of Hilarity in Garhwali Language from Kotdwara Garhwal about Model Village; Best of Cheerfulness in Garhwali Language from Haridwar about Model Village;

हरिद्वार में ताम्र- कांस्य उपकरण संस्कृति

Copper -Bronze Age in Haridwar , Bijnor and other parts of Uttarakhand

                                           हरिद्वार में ताम्र- कांस्य  उपकरण संस्कृति 


                                             Haridwar  in  Metal Age -3
                              
                                                      धातु युग  में हरिद्वार -3  

                                  हरिद्वार का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास -भाग -8   

                                                      History of Haridwar Part  --8 

                                                           
                                                   इतिहास विद्यार्थी ::: भीष्म कुकरेती
 हरिद्वार से बारह किलोमीटर दूर बहादराबाद में नहर खोदते हुए जो ताम्र उपकरण मिले थे वे ताम्र उपकरण उत्तर प्रदेश के अन्य ताम्र उपकरण संस्कृति के उपकरण सामान हैं। 
अम्लानन्द द्वारा संपादित ऐन इनसाइक्लोपीडिया ऑफ इंडियन आर्कियोलॉजी , पृष्ठ 37 में बहादराबाद के बारे में  लिखा है -
इस स्थान से रेड वेयर और बाद में ताम्र उपकरणो के  ढेर मिले । इन ताम्र उपकरणों में छल्ले , व अन्य उपकरण मिले जो सोन घाटी की संस्कृति द्योतक थे। 
घोष व बी बी लाल ने भी बहदराबाद में खोज की। अम्लानन्द के अनुसार बहादराबाद में जार ( घड़ा )भी मिला। 
डॉ डबराल ने डा लाल व डा घोष की खोजों और दलीलों के आधार पर लिखा है की गंगाद्वार (बहादराबाद , हरिद्वार ) से ताम्र परशु , छुर्रिकाएँ , कुल्हाड़ी , भाले , बरछे व हारपून्स मिले . 
इतिहासकार मानते हैं की इन ताम्र उपकरणों के बनाने के लिए ताम्बा राजपुताना , छोटा नागपुर , सिंघभूमि और उड़ीसा से आता था। 
किन्तु डा डबराल सिद्ध करते हैं कि गंगाद्वार (हरिद्वार )  ताम्र उपकरण निर्माण हेतु ताम्बा गढ़वाल के धनपुर , डोबरी , पोखरी (हरिद्वार से 70 मील दूर ) से ही आता होगा।  
हरिद्वार से सटे जिला बिजनौर (उत्तर प्रदेश ) के राजपुर परसु में धातु युगीन कुल्हाड़ियों , छड़ें , हारपून्स ,आदि मिले हैं (पॉल यूल , मेटल वर्क ऑफ ब्रॉन्ज एज इन इण्डिया , पृष्ठ 41 -42 ) । 
इसी तरह , हरिद्वार से सटे सहारनपुर जिले के नसीरपुर में भी धातु युगीन उपकरण मिले है ( पॉल यूल , मेटल वर्क ऑफ ब्रॉन्ज एज इन इण्डिया , पृष्ठ 40 -41 )। 
 बहादराबाद में ताम्र उपकरण मिलने से व मृतका घड़ा मिलने, बिजनौर के राजपुर परसु में मिले धातु  उपकरण (पॉल यूल ) से सिद्ध होता है कि हरिद्वार , बिजनौर व उत्तराखंड की पहाड़ियों में ताम्र संस्कृति भी फली- फूली।   यद्यपि इस युग में कौन सी मानव नृशाखा  के बारे में विद्वानो में कोई सहमति नही है। पहाड़ों में भी मलारी निवासी ताम्र उपकरण निर्माण करते थे या प्रयोग करते थे। 

ताम्र उपकरणों  हत्या उपयुक्त हथियार सिद्ध करते हैं कि अवश्य ही युद्ध होते रहे हैं और जनता त्रास में अवश्य रही होगी। 
सहारनपुर आदि में हड़पा संस्कृति के अवशेस  भी सिद्ध करते हैं कि हरिद्वार , बिजनौर और पहाड़ों में ताम्र संस्कृति परिस्कृत हो चुकी थी। 
ताम्र युगांत में उत्तर भारत में अवश्य ही उथल -पुथल मची थी और हरिद्वार में भी उथल -पुथल मची होगी। 



Copyright@ Bhishma Kukreti  Mumbai, India 20/11/2014 
History of Haridwar to be continued in  हरिद्वार का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास -भाग 8        

(The History of Garhwal, Kumaon, Haridwar write up is aimed for general readers) 
                   संदर्भ 
१- डा शिव प्रसाद डबराल , उत्तराखंड का राजनीतिक और सांस्कृतिक इतिहास भाग - 2 
२- पिगॉट - प्री हिस्टोरिक इंडिया पृष्ठ - 22 
३- नेविल , 1909 सहारनपुर गजेटियर 
४- अम्लानन्द घोष , 1990 ऐन इनसाइक्लोपीडिया ऑफ इंडियन आर्कियोलॉजी , पृष्ठ 37 , 
५  -पॉल यूल , मेटल वर्क ऑफ ब्रॉन्ज एज इन इण्डिया , पृष्ठ 41 -42 

Copper -Bronze Age in Haridwar , Bijnor and other parts of Uttarakhand in context History of Kankhal, Haridwar; History of Har ki Paidi Haridwar; Copper -Bronze Age in Haridwar , Bijnor and other parts of Uttarakhand in contextHistory of Jwalapur Haridwar; History of Telpura Haridwar; Copper -Bronze Age in Haridwar , Bijnor and other parts of Uttarakhand in context History of Sakrauda Haridwar; Copper -Bronze Age in Haridwar , Bijnor and other parts of Uttarakhand in context History of Bhagwanpur Haridwar; Copper -Bronze Age in Haridwar , Bijnor and other parts of Uttarakhand in context History of Roorkee, Haridwar; Copper -Bronze Age in Haridwar , Bijnor and other parts of Uttarakhand in context History of Jhabarera Haridwar; Copper -Bronze Age in Haridwar , Bijnor and other parts of Uttarakhand in context History of Manglaur Haridwar; Copper -Bronze Age in Haridwar , Bijnor and other parts of Uttarakhand in context History of Laksar, Haridwar; History of Sultanpur, Haridwar; Copper -Bronze Age in Haridwar , Bijnor and other parts of Uttarakhand in context History of Pathri Haridwar; History of Landhaur Haridwar;Copper -Bronze Age in Haridwar , Bijnor and other parts of Uttarakhand in context History of Bahdarabad, Haridwar; History of Narsan Haridwar;

Thursday, November 20, 2014

टूर ऑपरेटर द्वारा कुछ मुख्य बाजारों का चुनाव

 टूर ऑपरेटर द्वारा कुछ मुख्य  बाजारों का चुनाव 

                       (Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series--110   
                                  उत्तराखंड में पर्यटन  आतिथ्य विपणन प्रबंधन-भाग 110   

                                                              लेखक ::: भीष्म कुकरेती  (विपणन  विक्रीप्रबंधन विशेषज्ञ )


बाजार विभाजित करने के पश्चात टूर ऑपरेटर को कुछ विशेष टूर व्यापरों को ही अपनाना चाहिए ना कि सभी बाजारों को। 
बजार चुनाव में निम्न वातों का ध्यान रखा जाता है , संज्ञान लिया जाता है -
१- किन किन बाजारों से अधिक फायदा होगा ?
२- किन किन बाजारों  प्रतिस्पर्धा को जीता जा सकता है 
३- टूर ऑपरेटर किन किन बजारों के  लायक है
४  -टूर ऑपरटर किन किन बजारों के बिलकुल भी लायक नही है 
५- किन किन बाजारों को अभी तक दोहन नही हुआ है 
६- टूर ऑपरेटर ध्येयित बजार को नया क्या दे सकता है की प्रतियोगिता में अब्बल रहे। 


Copyright @ Bhishma Kukreti  20/11//2014  

Contact ID bckukreti@gmail.com
Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series to be continued ...

उत्तराखंड में पर्यटन  आतिथ्य विपणन प्रबंधन श्रृंखला जारी 

                                   
 References

1 -
भीष्म कुकरेती, 2006  -2007  , उत्तरांचल में  पर्यटन विपणन परिकल्पना शैलवाणी (150  अंकोंमें ) कोटद्वार गढ़वाल

Selecting Major Market  Segments by  Tour Operators in  Marketing of Travel, Tourism and  Hospitality Industry Development  in Uttarakhand;Selecting Major Market  Segments by  Tour Operators in    Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Haridwar Garhwal, Uttarakhand; Selecting Major Market  Segments by  Tour Operators in   Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pauri Garhwal, Uttarakhand; Selecting Major Market  Segments by  Tour Operators in    Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Dehradun Garhwal, Uttarakhand; Selecting Major Market Segments by  Tour Operators in    Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Uttarkashi Garhwal, Uttarakhand;Selecting Major Market  Segments by  Tour Operators in    Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Tehri Garhwal, Uttarakhand; Selecting Major Market  Segments by  Tour Operators in   Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Rudraprayag Garhwal, Uttarakhand; Selecting Major Market  Segments by  Tour Operators in    Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Chamoli Garhwal, Uttarakhand; Selecting Major Market Segments by  Tour Operators in    Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Udham Singh Nagar Kumaon, Uttarakhand; Selecting Major Market  Segments by  Tour Operators in   Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Nainital Kumaon, Uttarakhand; Selecting Major Market  Segments by  Tour Operators in    Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Almora Kumaon, Uttarakhand; Selecting Major Market Segments by  Tour Operators in    Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Champawat Kumaon, Uttarakhand;Selecting Major Market  Segments by  Tour Operators in    Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Bageshwar Kumaon, Uttarakhand; Selecting Major Market  Segments by  Tour Operators in    Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pithoragarh Kumaon, Uttarakhand;

धातु युग में हरिद्वार -1

 धातु युग  में हरिद्वार -1  

                                  हरिद्वार का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास -भाग 6   

                                                      History of Haridwar Part -6  

                              
                                                  इतिहास विद्यार्थी ::: भीष्म कुकरेती

  उत्तर प्रस्तर और खनिज पदार्थों के धातु युग को सीधा बांटना कठिन है क्योंकि आज भी प्रस्तर युगीन उपकरण मनुष्य प्रयोग करता है। धातु उपकरण संस्कृति भी अन्य संस्कृतियों की तरह धीरे धीरे प्रसारित हुयी। धातु युग को  प्राचीन युग समाप्ति नाम भी दिया जाता है। 
धातु युग का प्रारंभ 5000 -4500 BC माना जाता है। 
 मिश्र और मेसोपोटामिया में  धातु उपकरण युग शुरू  होकर एक हजार सालों में यूरोप के एजियन सागर -अनटोलिया तक व पूर्व में ईरान के पठारों तक प्रसारित हो गया।  
 धातु युग को दो मुख्य भागों में विभाजित किया जाता यही 
१- ताम्र -कांस्य उपकरण युग 
२- लौह युग
                                                ताम्र -कांस्य युग 
     इतिहासकार ताम्र और कांस्य युग को अलग अलग युगों में बांटते 
 युग व कांस्य युग के ठठेरों का सम्मान भगवान के बराबर था। धातुकारों को शक्तिसमपन माना जाता था कि कांस्य निर्माता इस तरह बर्बर मानव समाज में भी बस गए। प्रत्येक गाँव में तमोटे (ताम्रकार ) को बसाना आवश्यक हो गया था। 
 उत्तर प्रस्तर युग कृषि  पशुपालन से जो समृद्धि आई उसका उपयोग धातु उपकरण अन्वेषण में सही प्रकार से होने से और भी  समृद्धि आई।  मानव नदी घाटियों व कृषि योग्य जमीन बसने लगा और कुछ कुछ जंगल से बाहर बसने लगा। अभ्यता का विकास याने जंगल पर निर्भरता कम होना। 
इस युग की प्रमुख विशेषताए -
आवास 
भोजन सामग्री की प्रचुरता और भोजन सामग्री में शाकाहारी भोजन की अधिकता 
  इस युग में नदी किनारे नगर बस्ने लगे और वित्शालकाय भवनो व मंदिरों का निर्माण शुरू हो गया। विशालकाय भवनों , मंदिरों को बनाने हितु मजदूर, दास , कारीगर , शिल्पकार जंगलों या गाँवों से नगरों की ओर आने लगे और इस तरह गांवों से शहरों की ओर पलायन का प्रारम्भ भी इसी काल में हुआ। 
दक्षिण -पश्चिम एशिया , उत्तर पश्चिम एशिया में कई सभ्यताओं ने जन्म लिया जिनमें भारत व मिश्र  प्रमुख क्षेत्र हैं। 
पश्चिम में शक्तिशाली राज्यों की स्थापना हुयी और व्यापार को प्रसर मिला।  कई व्यापारिक केंद्र खुले।  कई परिवहन माध्यमों ने जन्म लिया। साहसी व्यापारी समुद्र से भी व्यापार संलग्न हो गए। स्थलीय , समुद्री मार्गों से अफ्रीका , एशिया यूरोप के मध्य संचार शुरू  हो गया। एक क्षेत्र के निवासी दूसरे क्षेत्र पर निर्भर होने लगे। 
  नगरों की समृद्धि एवं व्यापार वृद्धि संग्रह जनित अहम को साथ में लायी और लूटपाट , छापे , डाकजनि , युद्ध आम हो गए।  दासव्यापार ने अति  विकास किया। 
मध्य ताम्र युग  मनुष्य ने अश्व को परिपूर्ण ढंग से साध लिया और घोड़ा परिवहन साधन  मुख्य अंग बना गया और कई क्षेत्रों में मनुष्य का घोड़े पर निर्भरता आज भी कम नही हुयी। परिवहन में वेग आ गया। 
अश्वरोहण से युद्ध में तीब्रता ,  एक सभ्यता द्वारा दूसरी  सभ्यता को रौंदना भी प्रारम्भ हुआ।  
अश्वारोहियों द्वारा मेसोपोटामिसा को उजाड़ा गया।  हिक्सो सभ्यता ने मिश्र को और नासिली भाषियों ने अन्तोलिया सभ्यता का नाश किया।  इसी युग में ईरान से घुमन्तु अश्वारोही लोग भारत की और बढ़े। 
 ताम्र कल्प में नगर -गाँव बसने लगे थे और नियम भी बनने लगे थे व प्रशासनिक प्रबंध शास्त्र की नींव भी इसी युग में सही माने में नींव पड़ी। नगर प्रशासन के कारण सामंतशाही की भी नींव ताम्रयुग में पड़ी। दासता सभ्यताओं का अंग बन गया था। दास प्रथा व भाड़े के सैनिकों का प्रयोग सामान्य संस्कृति बन चला था।  अट्टालिकाओं को बनाने के लिए दास प्रयोग होने लगे।  कला पक्ष व वैज्ञानिक अन्वेषण भी विकसित होने लगा था।  कलाकार व वैज्ञानिकों की समाज में समान बढ़ गया था। 
  ताम्र उपकरण युग में धार्मिक , सामाजिक , सांस्कृतिक परम्पराओं की नींव पड़ी और कई परम्पराएँ तो बहुत से क्षेत्र में आज भी विद्यमान हैं. भारत में शवदाह परम्परा इसी युग की देन है। 


           
Copyright@ Bhishma Kukreti  Mumbai, India 18 /11/2014 
History of Haridwar to be continued in  हरिद्वार का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास -भाग 7        

(The History of Garhwal, Kumaon, Haridwar write up is aimed for general readers) 
                   संदर्भ 
१- डा शिव प्रसाद डबराल , उत्तराखंड का राजनीतिक और सांस्कृतिक इतिहास भाग - 2 
२- पिगॉट - प्री हिस्टोरिक इंडिया पृष्ठ - २२
३- नेविल , 1909 सहारनपुर गजेटियर 
Metal Age History of Kankhal, Haridwar; Metal Age History of Har ki paidi Haridwar; Metal Age History of Jwalapur Haridwar; Metal Age History of Telpura Haridwar; Metal Age History of Sakrauda Haridwar; Metal Age History of Bhagwanpur Haridwar; Metal Age History of Roorkee; Metal Age Haridwar; Metal Age History of Jhabarera Haridwar; Metal Age History of Manglaur Haridwar; Metal Age History of Laksar, Haridwar; Metal Age History of Sultanpur; Haridwar; Metal Age History of Pathri Haridwar; Metal Age History of Landhaur Haridwar; Metal Age History of Bahdarabad;  Metal Age History of Narsan Haridwar;

स्थान विशेष आधार पर टूर ऑपरेटरों द्वारा बाजार विभाजन

स्थान विशेष आधार पर टूर ऑपरेटरों द्वारा बाजार विभाजन 

                               (Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series--108   
                                  उत्तराखंड में पर्यटन  आतिथ्य विपणन प्रबंधन-भाग 108   

                                                              लेखक :::: भीष्म कुकरेती  (विपणन  विक्रीप्रबंधन विशेषज्ञ )

स्थान विशेष, रहवासियों , रहने -ठहरने के गुण अनुसार भी टूर बाजार विभाजित किया जा सकता है -
१- किसी के घर पर ठहरने की सुविधा, अत्त्याधुनिक सुविधा , उच्च आय 
२- एस्टेट 
३- कृषि स्थान 
४- ठहरने हेतु उच्च श्रेणी की सुविधा 
५- सेवा निवृतीय स्थान 
६- वहु सासंकृतिक क्षेत्र 

Copyright @ Bhishma Kukreti  18 /11//2014  

Contact ID bckukreti@gmail.com
Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series to be continued ...

उत्तराखंड में पर्यटन  आतिथ्य विपणन प्रबंधन श्रृंखला जारी 

                                   
 References

1 -
भीष्म कुकरेती, 2006  -2007  , उत्तरांचल में  पर्यटन विपणन परिकल्पना शैलवाणी (150  अंकोंमें ) कोटद्वार गढ़वाल

Market Segmentation by Geo-Demographic Characteristics by Tour Operators for Marketing of Travel, Tourism and  Hospitality Industry Development  in Uttarakhand; Market Segmentation by Geo-Demographic Characteristics by Tour Operators for Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Haridwar Garhwal, Uttarakhand;Market Segmentation by Geo-Demographic Characteristics by Tour Operators for Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pauri Garhwal, Uttarakhand; Market Segmentation by Geo-Demographic Characteristics by Tour Operators for Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Dehradun Garhwal, Uttarakhand; Market Segmentation by Geo-Demographic Characteristics by Tour Operators for Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Uttarkashi Garhwal, Uttarakhand; Market Segmentation by Geo-Demographic Characteristics by Tour Operators for Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Tehri Garhwal, Uttarakhand; Market Segmentation by Geo-Demographic Characteristics by Tour Operators for Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Rudraprayag Garhwal, Uttarakhand; Market Segmentation by Geo-Demographic Characteristics by Tour Operators for Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Chamoli Garhwal, Uttarakhand; Market Segmentation by Geo-Demographic Characteristics by Tour Operators for Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Udham Singh Nagar Kumaon, Uttarakhand; Market Segmentation by Geo-Demographic Characteristics by Tour Operators forMarketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Nainital Kumaon, Uttarakhand; Market Segmentation by Geo-Demographic Characteristics by Tour Operators for Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Almora Kumaon, Uttarakhand; Market Segmentation by Geo-Demographic Characteristics by Tour Operators forMarketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Champawat Kumaon, Uttarakhand; Market Segmentation by Geo-Demographic Characteristics by Tour Operators for Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Bageshwar Kumaon, Uttarakhand; Market Segmentation by Geo-Demographic Characteristics by Tour Operators for Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pithoragarh Kumaon, Uttarakhand