उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Thursday, March 23, 2017

चिन्मय सायर की पुण्यतिथि स्मरण

Chinmay Sayar : The poet of philosophy and tenderness

Bhishma kukreti
Surendra Singh Chauhan alias cinmay sayar was born in a remote village Andarsaun, Dabari, Bichhala Badalpur, Pauri garhwal on 17 January 1948.
His father name was late Shri Khushhal Singh Chauhan.

He is M.A . in history and diploma in education

His younger life have been very struggle some . He worked as worker in factories of Mumbai (he used to live in menhaden, Jogeshwari east), Faridabad, Delhi and Bokaro for many years. He was not made for urban and non-emotional life . By nature he is simple, rough, straightforward, rural bias, wish to live near nature and rebellion too. This author is witness about his straightforwardness. Once this author had sever conflict with famous and the only one Garhwali language critic Bhagwati Prasad Nautiyal . Theauthor said that Bhagawti Prasad Nautiyal does not know Garhwali at all, he is copycat of Hindi ‘samlochana’ concept and Nautiyal should leave writing in Garhwali. This author provided proof of each word used by B P Nautiyal in eight nine of articles . The author wrote letters about his thinking that Bhagwati Prasad is diluting Garhwali by using Hindi words though for those words Garhwali words were available. The author sent letter to Sayar too. Sayar answered in straight language that “ You Brahmins will make fool of Rajput like and I am not interested in conflict of you both (Brahmins)”. This is the proof of his simplicity and straightforwardness.

He is not afraid of conflict with his fellow. The author had good relation with Chinmaya Sayar through letter communication. Once this author wrote him in satirist mood about using titli (butterfly) instead of potal (butterfly). He criticized the author left and right about author’s ignorance for meaning of potal and titli. For Surendra chauhan alias Chinmay truth is more important than friendship or permanent relationship. Sayar does not believe in mincing the words.

He has very significant place in Garhwali poetry of eighties till date. Sayar might have written more than thousand poems in Garhwali language but financial situation of Garhwali creative does not permit to publish the literature in book forms.

We find two Garhwali language poetry collections of chinmay sayar . Paseen ki Khusboo and ‘Timala Phool’. most of his poems are having complete philosophical touch . Hispoems are combination of ‘udaseenata’ moksha, nirvan and inner energy. This inner energy with indifference, neutrality, dejection is a speciality of Sayar’s poetryChinmaya is only one Garhwali language poet who could create such type of poetry and Bhagawati Prasad Nautiyal rightly says that Chinmaya is one and only one to create such poems and he got specific recognition among all Garhwali language poets of past and present.

timala phhol has 62 poems and all are representative of Chinmay sayar 

He uses symbols and images of Garhwal for spreading his wing and uses many proverb in his poems too. Sayar also craetes many his won words to complete his verse as “ darudya, ajkyun, sonaali, hladyan, Nidaleen, rastagir ( Bhagwati prasad Nautiyal, Chitthi patri, July, 1999) 

On the whole, the poems of Chinmaya Sayar are full of philosophy, dejection with inner energy, inspirational, many poems create hopelessness too, shows light to thesociety and individuals .
Sayar Expired on 10th March 2016 
Those interested in his poems
Mrs Khushal SIngh Rawat 
Village -Andarsaun 
P.O -Dabari
Bichhala badalpur
Pauri garhwal 

@ Copyright Bhishma Kukreti, Mumbai/May.2009

डा जगदम्बा प्रसाद कोटनाला (कुट्ज भारती ) का अभिनन्दन आवश्यक है

डा जगदम्बा प्रसाद कोटनाला गढ़वाली में कविता ही नही लिखते अपितु एल विद्व समीक्षक भी हैं।  उन्होंने गहन यात्राओं द्वारा गढ़वाली कवियों के बारे  की और गढ़वाली कविता विकास पर DPhil   डिग्री हासिल की और 2011 में 'गढ़वाली काव्य का उद्भव , विकास एवं वैशिष्ठ्य' पुस्तक प्रकाशित की। 
470  पृष्ठ की पुस्तक में गढ़वाली भाषा का वैशिष्ठ्य -चरित्र, काव्य इतिहास व प्रत्येक युग के कवियों के काव्य शिल्प, रस विधान, प्रतीक व बिम्ब विधान का सांगोपांग विवरण मिलता है।  
विद्वान अन्वेषक ने गढ़वाली काव्य पर हिंदी काव्य का प्रभाव पर एक अध्याय लिखा है जो अपने आप में विशिष्ठ है। 
हाँ कुछ विशिष्ठ कवि जैसे मदन डुकलाण  आदि के बारे में क्यों नही लिखा गया यह एक प्रश्न अवश्य है और मुझे भी प्रश्न करने का साहस नही हो सका है । 
सभी गढ़वाली कवियों को यह ग्रन्थ अपने पुस्तकालय में रखना ही चाहिए। 
पुस्तक प्राप्ति स्थान -
निर्मलायन , लालपुर, घराट रोड , कोटद्वार , पौड़ी गढ़वाल 
मोबाइल -9411745260 , 8057018327 

Garhwali Kavya ka Udbhav, Vikash evam Vaishishthya: Critical History of Garhwali poetry
(Review of Garhwal Kavya ka Udbhav, Vikash evam Vaishishthya book )

                                             Bhishma Kukreti

                    There had been literature critic writing about critical history of modern Garhwali poetry. ‘Garhwali Kavitavali’ (1932) edited by Tara Datt Gairola and published by Vishwamabar Datt Chandola is first book which supplies the details ofGarhwali poets and their poetic caliber of Garhwali poetry world.  ‘Shailvani’ (1981) edited by Abodh Bandhu Bahuguna is another attempt to provide historical and critical aspects of development of modern Garhwali poetry. Abodh Bandhu Bahuguna wrote brief history about Garhwali literature in ‘Mukandi lal barrister Smriti ‘, Dr.Nand Kishor Dhoundiyal briefed about Garhwali literature history in an article in ‘Garhwal ki Jeevit Vibhutiyan and uska Vaishishthy’ (1990). Bhishma Kukreti detailed about social structure of Garhwal and in its role development of characteristics of Garhwalipoetry ‘Garhwali Kavita ka Itihas ‘in ‘Sankalp’( edited by Dr,B.L.Jalandhari 2011). In following publication,  a milestone book ‘Angwal’ under edited by Madan Duklan and published by Samay Sakshy, Dehradun, Bhishma Kukreti details about social and political history of Garhwal affecting the characteristics of Garhwali poetry from 1850. Bhishma Kukreti wrote criticism of more than 300 Garhwali language poets in the Angwal (under print). Bhishma Kukreti published life sketches of more than 300 Garhwali language poets and their poetic characteristics on Internet media as Meraphad .comhttp://www.merapahadforum.com/articles-by-esteemed-guests-of-uttarakhand/articles-by-bhisma-kukreti/new/) and E-Mmagazineofuttarakhand -  http://e-magazineofuttarakhand.blogspot.in/2009_06_01_archive.html.  Bhishma Kukreti also published criticism of more than 100 Garhwali poetry collections in the above Internet medium.
             Dr. Jagdamba Prasad Kotnala (Kutj Bharati) published a well researched book’ Garhwal Kavya ka Udbhav, Vikash evam Vaishishthya’ (2011, pages-470).  The book is a milestone in the history of Garhwali literature.
  The book has fallowing chapters:
1-Garhwali Bhasha ka Tatvik Parichay (page1-56): In this chapter the poetry historian deals with the Garhwali language and its characteristics, position of Garhwali among other Aryan languages, dialects of Garhwali language, relationship ofGarhwali with Hindi language, grammar of Garhwali language, the exclusivity of Garhwali language, general introduction of modern Garhwali literature.
2-Gadhwali Kavya:Udhbhav evam vikash (page 57-104): in this chapter , the poetry historian divides the Garhwali poetry as per age and briefs about characteristics of era wise Garhwali poetry. The researcher Kotnala also divides the poetry as per structure and provides detailing of Garhwali poetry books published so far.
3-Garhwali Kavya ki samvedana ka Vaishishthya (page105-270) : In this chapter, the critical history writer of Garhwalipoetry Kotnala describes about various emotions and raptures found in Garhwali poetry.
4-Garhwali Kavya ka Shilp Vaishishthya (page 271-406) in this chapter brilliantly, Jagdamba Prasad Kotnala discusses about forms and structure of Garhwali poetry world from beginning till date.
5- Gahwali Kavya par Hindi Kavya ka Prabhav: in this important chapter, the historian finds the reasons and effects of Hindi poetry on Garhwali poetry from various angles of poetic aspects.
6- In the last chapter, the critical poetry historian concludes his research on Garhwali poetry.
                 The book reveals many aspects of Garhwali poetry and is very important for readers to know about history ofGarhwali poetry and characteristics of Garhwali poetry. The critic and researcher Dr.Jagdamba Prasad Kotnala effective describes about sound, intension, structure, types, emotions, experiencing aspects and other important and critical literary aspects of Garhwali poetry.
                The Hindi Book ‘Garhwal Kavya ka Udbhav, Vikash evam Vaishishthya’ examines all major aspects of Garhwalipoetry. The language of Dr.Jagdamba Prasad Kotnala is simple for understanding the insight of Garhwali poetry and its history.
  The contribution of Dr. Jagdamba Prasad Kotnala is as important for Himalayan languages Literature as the works of Robert Fraser   for critical history of West African poetry literature; Ram Chandra Shukla for critical history of Hindi poetry literature ; David Daiches for critical history of English poetry literature; Grierson et all for critical history of English poetry literature ; Mure for critical history of Greek poetry literature ; Greenfield et all for critical history of old English poetry literature; Bercovitch and Patell for critical history of American  poetry literature; J.G.Robertson for critical history of German poetry literature; H.W. Longfellow for critical history of  European poetry literature; Coward for critical history of French poetry literature; M.L. Shaw for critical history of  French poetry literature; G. Ticknor for critical history of Spanish poetry literature; Echvarria and Pupo-Walker for critical history of  Latin American poetry literature; Boutrwek for critical history of Spanish and Portuguese  poetry literature; Bristol for critical history of Russian  poetry literature; Whitefield and woodhouse for critical history of Italian  poetry literature; for critical history of  poetry literature; Charlemont and Talbot for critical history of  Italian poetry literature; Howells for critical history of modern  Italian poetry literature; Yip, Wai-Lim for critical history of Chinese  poetry literature; Stephene for critical history of  Chinese poetry literature; Liu, J.J.Y , for critical history of Chinese  poetry literature; McCannfor critical history of Korean  poetry literature; Meijer for critical history of  Dutch poetry literature; Reich for critical history of Hungarian  poetry literature; Reidle and Wright et all for critical history of  Hungarian Australian poetry literature; Pierce for critical history of  Australian poetry literature; Rose for critical history of  Australian poetry literature; Badwai  for critical history of  Modern Arabic poetry literature; Raipka and Jahn for critical history of Iranian  poetry literature; Morrison for critical history of  Persian poetry literature; Altoma  for critical history of  Iraq’s poetry literature;  Abodh Bandhu Bahuguna for critical history of  poetry literature are valuable and important for poetry world.
1-Robert Fraser, 1986, West African Poetry: A Critical History
2- Ram Chandra Shukla, Hindi ka Itihas
3-David Daiches, 1979, A Critical History of English literature in 5 volumes
4- H.Grierson, H.J. C. Grierson, J.Smith, 1965, A Critical History of English Poetry
5-William Mure, 1850, A Critical History of language and Literature of ancient Greece in 3 volumes
6- S.B. Greenfield, Gillmore Calder, Lapidge, 1986, A New critical history of Old English Literature
7- Bercovitch, Patell, 2003, A Cambridge History of American literature
8- J.G. Robertson, 1902, A History of German Literature (included history of German poetry)
9- H.W. Longfellow, 1871, The poets and Poetry of Europe
10- David Coward, 2008, A History of French literature
11- M.L. Shaw, 2003, Cambridge Introduction to French poetry (as reference for Critical history of French poetry)
12-George Ticknor, 1849, History of Spanish Literature in three volumes
13- R.G. Echevarria, E. Pupo-Walker, 1996, The Cambridge history of Latin American literature
14-F. Bouterwek, 1823, History of Spanish and Portuguese Literature,
14-Evelyne Bristol, 1991, History of Russian poetry
15- Whitfield, Woodhouse, 1980, Short History of Italian literature
16- L.J.C, Charlemont , G.Talbot, 2000, Lord Charlemont’s History of Italian poetry from Dante to ..
17-W.D.Howells. 1866, Modern Italian poets
18-Yip, Wai-Lim, 1997, Chinese poetry
19-O.Stephene, 1996, An Anthology of Chinese Literature
20-Liu,J.J.Y , 1966,  The art of Chinese Poetry
21-D.R. McCann, 2004, The Columbia anthology of modern Korean Poetry
22- R.P. Meijer, 1971, literature of Low Countries: A short History of Dutch Literature
23-Emile Reich, 1972, Hungarian Literature: Historical and critical survey
24- F. Reidle, C.T.H. Wright et all History of Hungarian literature
25- Peter Pierce, 2009, The Cambridge History of Australian Literature
26-Peter Rose, 2008, The Best Australian Poems
27- M.M .Badwai, 1992, Modern Arabic Literature
28-J.Raipka, K.Jahn, 1968, History of Iranian Literature
29-G.Morrison, 1981, History of Persian literature …
30-Salih, Altoma, 2010, Iraq’s modern literature 

CopyrightBhishma Kukreti, 10/5/2012

श्री सत्यनारायण व्रत कथा” (गढ़वाली म)”

कृष्ण कुमार ममगाईं 
( श्रीमान भीष्म कुकरेती जी का ईं कथा थैं publish करना का सुझाव (face book comment in Group - उदयपुर-ढांगू " मेरी जन्मस्थली" ) का संदर्भ मा पूरी कथा गढ़वाली छंद म फेस बुक पटल पर प्रस्तुत कन्नु छौं । प्रस्तुति थैं फ़ेसबुक पर संकलन करना हेतु मेरी बिटिया रेणुका मैठानी (ग्राम झैड़) कू स्प्रेम आभार। )
श्री सत्यनारायण व्रत कथा (संक्षिप्त गढ़वाली अंक)
ध्यान एवं पूजा :
ॐ श्री गणेशायः नमः ।
 श्री नादबुद भैरवायः नमः ॥
ॐ ब्रह्मा मुरारिस्त्रिपुरान्तकारी
 भानुः शशी भूमिसुतो बुधश्च,
गुरुश्च शुक्र: शनिराहुकेतव:
 सर्वे ग्रहाः शान्तिकरा भवन्तुः ।।
ॐ अखण्डमण्डलाकारं व्याप्तम् येन चराचरम
यत्पदं दर्शितं येन तस्मै श्री गुरुवे नमः ।
श्री सत्यनारायण व्रत कथा - गढ़वाली म
प्रथम अध्याय:
शुभ घड़ी एक दिन नैमिशारण्य मां
पुछदना शौनकादिक ऋषी सूत मां ॥
क्या कथा वरत क्या नेम धर्म ह्वलो
पाप संसार को जां से कुछ कम ह्वलो ॥
बोलि सूतन कथा जो कही विष्णु ना
घूमि नारद गई छौ जबरि धाम मां ॥
होया खुश विष्णु नारद से सब सूंणि की
अर बता सब कथा सत्य–नारैंण की ॥
जू करलु ईं कथा छल कपट छोड़ि की
पालु सुख शांति ये लोक परलोक की ॥
पुछद नारद कि कनु वरत, क्या रीत चा
कैन कैरी किलै वरत, क्या मीलि चा ॥
ब्वल्द भगवान यां से खतम हूँद सब
सोक संताप, हर डौर हर रोग चा ॥
पूरि हूंदा सभी इच्छा सौभाग्य की
चाहे सन्तान, धन धान्य कल्याण की ॥
हूंद पूरी जबरि जै कि मनकामना
वरत भक्ती से कैरा तई साम मां ॥
पिंजरि सवया चढ़ै घौर बांमण बुलै
सूंणा सुन्दर कथा सत्यनारैण की ॥
कैरा कीर्तन भजन सब्बी भै-बन्ध गण
सुमिरा भगवान थैं कैरा सब शांत मन ॥
इति श्री स्कन्द पुराणे रेवा खण्डे
श्री सत्यनारायण ब्रत कथा प्रथमोध्याय समाप्त ॥
अच्युतम् केशवम् नाम नारायणम्
जानकी नायकम् रामचन्द्रम् भजे ।
श्री धरम् माधवम् गोपिका बल्लभम्
कृष्ण दामोदरम् वासुदेवं हरे ॥
दूसरा अध्याय:
कैरि कैना कथा पैलि सुण आज यो
काशिपुर मां छौ बांमण स्यु निरधन बड़ो ॥
देखि नी साक्यो दुख तैकु भगवानना
बुढ्या बांमण बणीं बोलि नारैणना ॥
घुमदि दुख मां किलै सुद्दि गंगजांणु छै
कत्था नारैण की क्यों तु करदू नि छै ॥
फिर बता सब नियम फल धरम बरत का
अर बतै सब मेरू द्यबता ह्वा लापता ॥
फिकर से उंणदो पापी रहे रात भर
किरपा नारैण की भीख चौगुणि मगर ॥
फिर कथा कैरि अर सदनि करदू रया
अर कथा कैरि कैरि कि बैकुन्ठ गा ॥
पूछि सौनक ऋष्युन फेर श्री सूत मां
कैरि कै कैन यो बरत संसार मां ॥
सूंणा विष्णु का मुख की कहीं सूत की
अर रचीं कृष्ण की च फलीं दूब सी ॥
एकदां जब स्यु बांमण घणां ऐश मां
छौ कनू कत्था भै बन्धु का बीच मां ॥
प्यासु आया लकड़हारु तै द्वार पर
लेकि आनन्द परसाद गा घार पर ॥
भोल करना कथा तैन प्रण यो करे
बिठगि लखड़ौं कि ब्यचणां कु सिर मां धरे ॥
किरपा नारैण की ह्वा कमाई डबल
भोग परसाद ले की कथा का सकल ॥
यां का परताप से पुत्र सन्तान पा
ख्याति बैभव करी ऐश बैकुन्ठ गा ॥
इति श्री स्कन्द पुराणे रेवा खण्डे
श्री सत्यनारायण ब्रत कथा द्वितीयोध्याय समाप्त ॥
अच्युतम् केशवम् नाम नारायणम्
जानकी नायकम् रामचन्द्रम् भजे ।
श्री धरम् माधवम् गोपिका बल्लभम्
कृष्ण दामोदरम् वासुदेवं हरे ॥
तीसरा अध्याय:
भद्रशीला नदी को किनारो छयो
राजा राणी दगड़ि उल्लकामुख छयो ॥
छा कना कत्था सी सत्यनारैण की
आया लाला तबरि एक कक्खी बटी ॥
तैन सूंणी कथा पाय परसाद चा
पूछि क्या वरत अर यांकु क्या अर्थ चा ॥
पुत्र पांणू कनू छौं बता राजना
ईं कथा से उ मिलदा जु नी भागमां ॥
पकड़ि नौका अपड़ि लाला गा घार कू
जिकुड़ि अकतांणि छै जननि मां ब्वनु कू ॥
छै नि सन्तान तैकी न आशा रती
नाम छौ तैकि पत्नी को लीलावती ॥
ब्वल्द सैरी कथा करद उचणो भलो
ह्वैलि सन्तान फिर मी भि कत्था कलो ॥
सूंणि भगवानना आश बच्चा कि ह्वा
माह दस बाद इक नौनि ना जन्म पा ॥
नौनि कल्लावती छै बढ़दि रात दिन
ब्वलद मां नामकरणा कि पूजा का दिन ॥
उचणो धरयूं छयो कामना पूर्ण ह्वा
सत्यनारैण को बरत अब कैरि द्या ॥
लाला लाला छयो खर्च कनमा कदो
ब्वलद ब्यो का समय ईं का कत्था कलो ॥
बीत्या दिन नौनि होया जवान जबा
भेजि इक दूत ब्यो खोजणा को तबा ॥
लाला कंचनपुरा को मिली एक गा
फिर दमोदांणि ब्यो की भि झट बाजि गा ॥
सौदाबाजी से भगवान नाराज छा
पूजा करना कु ये वक्त स्यू बिसिरी गा ॥
लालाजी अर जवांई चल्या तब खुशिम
कैरि ब्यापार इक नगरि रत्नापुरिम ॥
राजा तैकू छयो चन्द्रकेतू भलो
दैव परकोप राजा को डाका पड़्यो ॥
चोर सब राज को धन उठाई लया
रांदु जख लाला तख छोड़ि सब भागि ग्या ॥
लीग्या पकड़ी सिपै राजा का तौं दुयुं
अर उठै लाया सामान तौंकू ज्वड़यूँ
यख त रुंदन दुई जेलु की सीख मां
वख त घौरम डकैती पड़ी बीच मां ॥
घर मां लीलावती नौनि बुक्की रया
भीख मंगदा भिखारी उ दर दर गया ॥
एक दिन जब कला भीख कू जांणि छै
रस्ता बामण का घर मां कथा हूंणि छै ॥
पंहुचि घर देर से वा कथा सूंणि की
पूछि मांन किलै देर मूं आंणि छै ॥
सुणद ही वरत की बात आ होश मा
छौ धरयूं हमना उचणों कभी जोश मा ॥
हैंका दिन स्वारा भार्यूं सहित स्या दुखी
करद नारैण को वरत हूंणूं सुखी ॥
मंगद अपणों पती अर पती बेटि कू
करलु फिर वरत मेरा मिली जाला जू ॥
सत्यनारैण इतगा मां ही खुश होया
चन्द्रकेतू उ राजा का सुपन्या गया ॥
राजा थैं अपड़ि गलती कु अहसास ह्वा
वैन धन धान्य देकी सि द्वी छोड़ि द्या ॥
खुलनि बेड़ी मिल्यो माल मय सूद का
छन इ किस्सा वे नारैण का रूप का ॥
इति श्री स्कन्द पुराणे रेवा खण्डे
श्री सत्यनारायण ब्रत कथा तृतीयोध्याय समाप्त: ॥
अच्युतम् केशवम् नाम नारायणम्
जानकी नायकम् रामचन्द्रम् भजे ।
श्री धरम् माधवम् गोपिका बल्लभम्
कृष्ण दामोदरम् वासुदेवं हरे ॥
चौथा अध्याय:
ह्वैकि खुश द्वी का द्वी जब चल्या घौर कू
साथ मां छै टनाटन भ्वरीं नाव जू ॥
फिर परीक्षा हे नारैण तू धन्य छै
रूप मां जोगि का इबरि पुछणू कु ऐ ॥
त्यारा पुछदा हि ब्वलदन उ अभिमान मा
घास पत्ता भ्वर्यां छन हमरि नाव मा ॥
बोलि इन होलु अर जोगि रस्ता लगे
तैका जाँदा हि गरि नाव हलि हवे गये ॥
घास पत्ता भ्वर्यां जब द्यखिनि नाव मा
चौरु चलि गे झटगि देनि फिर भाग ना ॥
भगनि अकतैकि वे जोगि का पैथर
धन्नि बरमन्ड तौना खुटौं ऐथर ॥
माफ़ि मांगी त भगवान ना बोलि दे
मेरि पूजा बिमुख ह्वे तु इन कैरि दे ॥
अब तु रूंणु छै फिर करदु मी माफ त्वे
मेरि पूजा करी की तु फिर घौर जै ॥
जांद वापस त फिर नाव देखी भ्वरीं
करद तन मन से पूजा छै हालत डरीं ॥
एकदां फिर दशा तैकि ह्वा टपटपी
पौंचि ग्या अब गवां पास बिन्डि दिन बटी ॥
भेजि रैबार एक दूत का हाथ मां
किरपा नारैण की लीला छै पूजा मां ॥
छोड़ि तैन कथा सत्यनारैण की
पाय जब सूचना अपड़ा पति आंण की ॥
ब्वल्द बेटिम तु परसाद थैं खैकि ऐ
जांदु मी द्यखणुकू त्यारा बाबू जवैं ॥
भागि ब्वै ऐथर नौनि पैथर बटी
छोड़ि परसाद स्या भी कथा से उठी ॥
कोप भगवान कू इक दफा फेर हवा
तैंकु बाबू उतरि अर पती डूबि ग्या ॥
छौयु मातम फकत रूंण कू ही अबा
डूबि गै छौ जंवै, नाव, कमयूं सबा ॥
नौनि कल्ला त रुवे रुवे कि बेहोश हवा
हूंदु छौं मी सती ब्वल्द जब होश आ ॥
लाला अर लीला म्योली लगाणा छया
माया भगवान की छै ऐड़ाणा छया ॥
अंत मां सोचि किरपा च नारैण की
माफि मांगी कि तौना स्यु उचणो करी ॥
देखि नी साक्यु फिर दुख यु भगवान ना
कैनि आकाशवाणी सि असमान मां ॥
तां थैं सूणी कलाबेटि फिर घौर गा
खैकि परसाद तैंना पती अपणो पा ॥
लाला इक बार फिर हवा अमन चैनमा
अर प्रभू प्यार का आंसु छा नैन मा ॥
करद रैनी कथा तब सि तै दिन बटी
आंद छै जब भि संगरांद, पूरण-मासी ॥
पांदा रैनी सभी सुख कथा करदा छा
सब कथा कैरि सूंणिं कि बैकुन्ठ गा ॥
इति श्री स्कन्द पुराणे रेवा खण्डे
श्री सत्यनारायण ब्रत कथा चतुर्थोध्याय समाप्त: ॥
अच्युतम् केशवम् नाम नारायणम्
जानकी नायकम् रामचन्द्रम् भजे ।
श्री धरम् माधवम् गोपिका बल्लभम्
कृष्ण दामोदरम् वासुदेवं हरे ॥
पांचवां अध्याय:
फिर बता सूतना त्वंगध्वज की कथा
पाय वेना भि दुख जब नि परसाद खा ॥
करदा छा ग्वेर छोरा कथा बोण मा
द्याय परसाद तै थैं भि तख औंण मा ॥
खाय नी तैन परसाद अपमान का
घरमा सौ नौना अर धन खतम होई गा ॥
ऐकि फिर तैन ग्वैरुम करैकी कथा
खैकि परसाद पैनी जु कुछ खोइ छा ॥
फिर नियम से कथा सदनि करदू रया
अर कथा कैरि का वो भि बैकुन्ठ गा ॥
बोलि सूतन हे सौनक रिष्यूं सूंण अब
जन्म अगल्यो कथा कैरि छै जौन तब ॥
आया बामण सतानन्द सुदामा बणीं
पाय मुक्ती कृष्ण की दगड़ि छै घणीं ॥
भील गुहराज बणिं स्यू लकड़हारु छौ
सेवा रामै करी तैन भी मोक्ष पौ ॥
उल्लकामुख जनमि राजा दशरथ छयो
रंगनाथै दया से छौ स्यो भी तरयो ॥
बणद मोरध्वज साधु लाला छौ जू
नौना थैं काटि भगवान थैं दींद ऊ ॥
आरि ना काटि इक फाँक द्यबता चढ़ा
कैरि इनु त्याग वैना भि खुद मोक्ष पा ॥
पैदा होया मनू छौयु त्वंगध्वज्ज जू
भगति भारी करी गाय बैकुण्ठ स्यू ॥
ईं तरह या कथा चा सकल रूप मा
ह्वैलि जै बिरधि कैरलु जु जै रूप मा ॥
इति श्री स्कन्द पुराणे रेवा खण्डे
श्री सत्यनारायण ब्रत कथा पंचमोध्याय समाप्त: ॥
अच्युतम् केशवम् नाम नारायणम्
जानकी नायकम् रामचन्द्रम् भजे ।
श्री धरम् माधवम् गोपिका बल्लभम्
कृष्ण दामोदरम् वासुदेवं हरे ॥
स्तुति एवं आरती – श्री सत्यनारायण ब्रत कथा (गढ़वाली)
आदिदेव जै श्रीधरम् हरि विष्णु रूप जै माधवम्
सत्य नारायण जै तेरी रूप शंकर व्यापकम् ॥
सर्वदा कल्याण करदा विप्र देव गौ रक्षकम्
सत्य आश्रय दीन हीन कु जगत्कारण सुन्दरम् ॥
भाग दक्षिण गंगा छविमय बाम भाग च प्रिय रमा
जैंकि सुन्दरता से सुन्दर, स्याम सुन्दर तक छन॥
नाम सत्य कु संकटों मा मधुर भाव से जो भजे
लोक नायक मुक्ति दायक कस्ट संकट सब हरे ॥
निराश्रय हो इच्छा दुरलभ कर मनन सकलाश्रयम्
सहज मन जन सकल सुणदा भक्ति प्रिय विश्वाम्भरम् ॥
बेद, ब्राह्मण, वैश्य, साधू, तुंगध्वज भक्ती करे
लोकनायक की कृपा से अमर सब अब तक रहे ॥
सृष्टि सृजन, सृष्टि पालन, सृष्टि भारम् वाहनम्
भक्त अर भक्ती के प्रिय प्रभु जयति जय गुणसागरम् ॥
देव मुनि सास्वत बोलें अकंटक सत्यहि प्रियम्
पुत्र पौत्र च भक्ति मुक्ती पूर्ण दे नारायणम् ॥
सत्य नारायण कथाष्टक शब्द सुरसरि मंगलम्
सुमिरि कर ही पाप नाशै दींद फल हरि वांछितम् ॥
[{(.....महा शिवरात्रि पर्व की बहुत बहुत शुभ कामनाएं).....}]
Of and By कृष्ण कुमार ममगांई
ग्राम मोल्ठी, पट्टी पैडुल स्यूं, पौड़ी गढ़वाल
[फिलहाल दिल्लि म]

उत्साहवर्धक रूप से गढ़वाली गजलें आनी शुरू हो गयी हैं

मुझे आप सभी को सूचित करते अति प्रसन्नता हो रही है कि भावी गढ़वाली गजल संग्रह हेतु गजलें आणि शुरू हो गयी हैं।  सबसे पहले शुरुवात श्री अतुल गुसाईं ने की -
निम्न गजलकारों की गजलें भी पँहुच चुकी हैं। 
श्री देवेश जोशी 
श्री जयवर्धन कांडपाल 
श्री दिनेश कुकरेती 
श्री सतीश रावत 
श्री उमेश चमोला 
श्री नरेश उनियाल   
श्री राकेश खंतवाल 
श्री मदन डुकलाण जी को फोन भी आएं  हैं। 
यह गढ़वाली साहित्य हेतु एक विशेष प्रशंशनीय सूचना है। 
आप देर क्यों कर रहे हैं ? शीघ्र अपनी ताजा तरीन गढ़वाली गजल, शेर , कब्बाली भेजिए =

गढ़वाली गजल संग्रह हेतु रचनाएं चाहिए 

गढ़वाली के प्रसिद्ध सम्पादक , कवि , फ़िल्मी हस्ती मदन डुकलाण ने सूचित किया कि निकट भविष्य में वे 'गढ़वाली गजल संग्रह' प्रकाशित करने की योजना में कार्य कर रहे हैं। इस ग्रन्थ में विभिन्न गढ़वाली गजलकारों की गजलें संकलित की जाएंगी। 
कुछ गजलों का गढ़वाली अनुवाद भी संकलन की योजना है 
इसके अतिरिक्त गढ़वाली में  गजल इतिहास  , समीक्षा आदि भी संकलित किये जाएंगे। 
आप सभी गजलकारों से निवेदन है कि अपनी सर्वश्रेष्ठ गजलें श्री मदन डुकलाण व मुझे (bckukreti @gmail .com ) को शीघ्र प्रेषित कीजियेगा। 
साथ में अपना जीवन परिचय , जन्म गाँव , पट्टी , जिला व वर्तमान पता 
शिक्षा , व्यवसाय 
रचनात्मक कार्य /प्रकाशित /अप्रकाशित 
विवरण भी  भेजियेगा 
श्री मदन डुकलाण 
सम्पादक -चिट्ठी पत्री 
A 16 रक्षापुरम -लाडपुर 
Pin 248008 
मोबाइल 9412993417 

राजस्थानी, गढ़वाली-कुमाउंनी लोकगीतों का तुलनात्मक अध्ययन

राजस्थानी, गढ़वाली-कुमाउंनी  लोकगीतों  स्त्रैण्य शहर भ्रमण  इच्छा 

                          राजस्थानी, गढ़वाली-कुमाउंनी  लोकगीतों का तुलनात्मक अध्ययन:भाग- 4  

                                           भीष्म कुकरेती 
                      गाँव सुंदर होते हैं । गाँव का हवा पानी साफ़ कहा जाता है । शहर  रहस्यमय  करता है । तकरीबन हरेक ग्रामवासी शहर देखने की इच्छा रखता ही है । एक स्त्री की भी इच्छा शहर घुमने की इच्छा होती ही है । राजस्थानी और गढ़वाली-कुमाउंनी ग्रामीण समाज में भी शहर भ्रमण  की इच्छा अवश्य रहती है । लोक साहित्य रचयिता तो समाज को देखता रहता है । लोक गीत रचयिता की नजरें हर समय समाज की आकांक्षाओं , , इच्छाओं , दमित इच्छाओं , प्रेम , क्रोध , आदि पर हर समय आँखें लगाये होता है और लिक गीत रचयिता की नजरों से कोई भी इच्छा छुप नही सकती हैं ।
                                 राजस्थानी, गढ़वाली-कुमाउंनी  लोकगीतों में स्त्रियों की शहर भ्रमण इच्छाओं का सुन्दर वर्णन हुआ है ।

                              राजस्थानी   लोकगीतों में स्त्रैण्य  शहर भ्रमण इच्छा गीत 
           घर के काम काज से विवाहिता स्त्री के हाथों पर छाले पड़  गए हैं और वह अपने पति से शहर घुमने की इच्छा  व्यक्त करती है । निम्न गीत में नारी मानसिकता का पक्ष उभर कर आया है -

म्हारे हाथड़िया रे बीच,
छाला पड़ गया म्हारे जी ।
मैं पालो कईयां काटूँगी ?
राखडी तो म्हारे बाप के सूंआई 
तो जुठणारी गाड़ी   आवे म्हारा मारू जी । मैं पालो कईयां काटूँगी ?
जयपुर भी दिखायियो मैंने दिल्ली भी दिखायियो,
म्हाने आगरे की सैर करायियो म्हारा महारु जी । मैं … 
लाडू नही भावे , मैंने बरफी नहीं भावे,
घेवरिया रे गेरी मन में आवे म्हारा मारू जी । मैं पालो कईयां काटूँगी ?
गाडी नही बैठूं मै तो मोटर नहीं बैठूं ,
मैंने फिटफिटया की सैर करायियो । मैं पालो कईयां काटूँगी ? 
(पाल = खेतों में खडी  फसल या पुआल ; मारू =पति )
इस प्रचलित  राजस्थानी लोक गीत में नायिका द्वारा पाल काटने से हाथों पर छाले पड़ गए हैं और वह अपने पति से जयपुर, दिल्ली , आगरा घुमने की इच्छा व्यक्त करती है साथ में घेवरिया खाने की इच्छा व्यक्त करती है । साथ में आग्रह करती है कि उसे मोटर या गाडी से भ्रमण नही करना है अपितु फिटफिटया से शहर घूमना है । इस राजस्थानी लोक गीत में स्त्री इच्छा का सामयिक वर्णन हुआ है ।

                         गढ़वाली-कुमाउंनी  लोकगीतों  स्त्रैण्य शहर भ्रमण  इच्छा 
 गढवाली -कुमाऊंनी समाज में भी कृषि कार्य स्त्रियों के हाथ में ही होता है । मंगसिर और पूष महीने ही  स्त्रियों के लिए थोड़ा राहत के महीने होते हैं और इस किंचित विश्राम के समय में स्त्री अपने दिल्ली में रह रहे पति के साथ घूमना चाहती और अपना निर्णय सभी रिश्ते के सासुओं को इस प्रकार सुनाती है 
कब आलो ह्यूंद  मंगसिर मैना , 
हे ज्योरू ! हे ज्योरू घुमणा कु  मीन दिल्ली जाण ।
प्यायी सिगरेट फींकि चिल्ला, घुमणा कु जाण मीन  लाल किल्ला 
हे बड्या सासू , हे कक्या सासू ! घुमणा कु  मिन दिल्ली जाण ।
आलु प्याजो कु बणा इ साग आलु प्याजो कु बणाइ साग
घुमणा कु जाण मीन करोल बाग़ घुमणा कु जाण मीन करोल बाग़ ।
हे ज्योरू ! हे ज्योरू घुमणा कु  मीन दिल्ली जाण 
होटल की रुटि खाण , होटल की रुटि खाण।
हे ज्योरू घुमणा कु  मीन दिल्ली जाण ।

 इस गीत में भी मंगसिर  महीने में फुर्सत के दिनों चर्चा है   और दिल्ली शहर का चित्र उभारा गया है साथ में होटल में खाना खाने की बात बड़े आनन्द के साथ कही गयी है ।
वास्तव में दोनों भाषाओं के इन लोक गीतों में मानवीय मनोविज्ञान का परिपूर्ण चित्रं मिलता है । किसी भी उस ग्रामीण जिसने शहर नही देखा हो उस ग्रामीण के मन में शहर के प्रति मन में जो चित्र उभरते हैं उन चित्रों और मुख्य बिम्बों को इन लोक गीतों में उभारा गया है ।

Copyright@ Bhishma  Kukreti 20/8/2013 
सन्दर्भ - लीलावती बंसल , 2007 , लोक गीत :पंजाबी , मारवाड़ी और हिंदी के त्यौहारों पर गाये जाने वाले लोक प्रिय गीत 
गढवाली गीत संकलन - भीष्म कुकरेती 

( राजस्थानी, गढ़वाली-कुमाउंनी  लोकगीतों का तुलनात्मक अध्ययन; राजस्थानी, गढ़वाली-कुमाउंनी  लोकगीतों  स्त्रैण्य शहर भ्रमण  इच्छा; राजस्थानी लोकगीतों में स्त्री सुलभ इच्छाएं ;गढ़वाली-कुमाउंनी  लोकगीतों में स्त्री सुलभ इच्छाएं ; राजस्थानी  लोकगीतों में दिल्ली भ्रमण इच्छा ; गढ़वाली-कुमाउंनी  लोकगीतों में दिल्ली भ्रमण इच्छा )

                  राजस्थानी गढ़वाली-कुमाउंनी  लोकगीतोंमें पूर्बज पूजा लोक गीत 

                     राजस्थानी, गढ़वाली-कुमाउंनी  लोकगीतों का तुलनात्मक अध्ययन:भाग- 3 

                                           भीष्म कुकरेती 

                   राजस्थानी लोकगीतों में पूर्बज पूजा लोक गीत 

           राजस्थानी लोक गीत मर्मग्य डा जगमल सिंह लिखते हैं कि लोक जीवन में मृत व्यक्तियों की पूजा की जाती है ।  झुंझार जी की पूजा भी इसी परंपरा में आती है ।  राजस्थानी लोक गीतों के दूसरे  विद्वान व्याख्याकार मोहन लाल व्यास शास्त्री ने भी राह्स्थान में  पूर्वजों की पूजा संम्बन्धी लोक  गीतों का संकलन किया और इन लोक गीतों की व्याख्या व्याख्या भी की ।
 पूर्वजों की आत्मा का पूजन लोक परम्परा में रत जगा किया जाता है और रात्रि जागरण में पूर्वजों अथवा पितरों की गीत गाये जाते हैं ।

राजस्थानी जन मानस  विश्वास होता है कि पूर्वज पुन्ह उसी घर में जन्म लेते हैं । निम्न लोक गीत जो की पितृ  पूजा में गाया जाता है उस लोक गीत में में पूर्वज द्वारा पुनर्जनम लेने की बात की गयी है 
धरम दवारे ओ रूड़ी पीपला जी 
जठे पूरवज करे विचार 
    xxx                 xx
जास्यां -जास्यां शंकर  पेट 
तो वांरी बहु लाड्यां की खुंखां हुलस्यां जी
यह गीत रात्रि जागरण में गाया जाता है  ।
गीत का मंतव्य है कि पीपल वृक्ष के नीचे खड़े पूर्वज विचार विमर्श  करते हैं कि वे शंकर जी की पत्नी के गर्भ में जाने की बात करते हैं और कहते हैं कि उनकी पत्नी की कोख में जन्म लेकर हुलसेंगे ।
     पूर्वजों की पूजा हेतु राजस्थान या पौराणिक वीर पुरुषों या वीरांगनाओं के गीत भी गाये जाते हैं । इन्हें झुंझार जी गीत भी कहा जाता है (J . Kamphrst , 2008 )। पाबू जी झुंझार लोक गीतों में चौदहवीं सदी  के वीर नायक पाबू जी लक्ष्मण के अवतार माने गए हैं याने कि पाबू जी लोक कथाओं में भी पुनर्जन्म का समावेश है ।
मेवाड़ में झुंझार देवता उसे कहा जाता है जिसने गाँव की रक्षा या गाँव के पशु रक्षा हेतु बलिदान दिया हो और मृत्यु को प्राप्त हुआ हो । जैसलमेर में झुंझार देव्ताअप्ने समय में समाज हेतु संघर्ष करता है और संघर्ष रत मृत्यु प्राप्त होता है । राजस्थान में झुंझार , भूमियो , भूमिपाल और क्षेत्रपाल या खेत्रपाल एक ही श्रेणी के देवता हैं याने ये सभी ग्राम रक्षक देवता है ।
पाबू जी  लोक गाथा की  निम्न पंक्तियाँ दर्शाती हैं कि वीर पुरषों की याद में पूर्वज पूजा सम्पन होती है जैसे गढ़वाल -कुमाऊँ में 'हंत्या घडेला -  जागर' में समाज या उत्तराखंड के वीर पुरुषो को याद कर र पूजा अनुष्ठान सम्पन होता है ।

जिमदा पाला विमनाई जगजीती जुद्ध जैवमाता जगजीति 
याने कि तुम दोनों (जिमदा और पाबू जी ) वीर हो , नायक हो और युद्ध जीतने में माहिर हो ! 
राजस्थान में भी पूर्वज पूजा का एक उदेश्य पूर्वजों की भटकती आत्माओं या अतृप्त आत्माओं को परम स्थान हेतु अनुष्ठान किये जाते हैं और वे अनुष्ठान लोक गीत शैली में होते हैं ।

                      गढ़वाली -कुमाऊनी लोक गीतों में पूर्वज पूजा 

गढ़वाल -कुमाऊँ में पुव्जों का पूजन एक विशेष धार्मिक , अनुष्ठान और आयोजन होता है जिसे हंत्या घड्यळ कहते हैं। हंत्या घड़ेला अनुष्ठान  पूर्वज की भटकती आत्मा की शान्ति या अतृप्त आत्मा को यथोचित संतोष हेतु होता है । घडेला में जो लोक गीत गाये जाते हैं उन्हें जागर कहते हैं । घडेला का अर्थ है देवता को नचाना । जागरी डमरू और थाली बजाने के साथ जागर (धार्मिक लोक गीत ) गाते हैं और एक या कई मनुषों के शरीर पर मृतक की आत्मा घुस आती है और वह (पश्वा ) नाचता है 
इन जागरों में जागर किसी ख़ास पौराणिक व्यक्ति जैसे अभिमन्यु मरण जैसी लोक गाथाओं के गायन , संगीत व नृत्य होते हैं होता है ।
मृत पूर्वजों की आत्मा शान्ति हेतु   लोक गीत रणभुत भी होते हैं जैसे कि राजस्थानी मे पाबू गीत पूजा होती है । रणभुत लोक गीतों  में क्षेत्रीय वीर पुरषों का गान होता है जैसे जीतू बगड्वाल जागर या रणरौत अथवा कैंतुरा जागर  आदि ।

   रवाईं में हंत्या  जागर -भाग 

मामी तेरी छुटी पड़ी चाखोल्युं की टोल।
तेरो होलो केसों मामी इजा को पराण।
तेरो होलो केसों मामी इजा को पराण।
त्वेको आयो पड़ी मामी काल सी ओ बाण।
काल सी छिपदो मामी रीट दो सी ओ बाण।
सोची होलो मामी तै हरस देखऊं।
यख मं बैठी रो तेरो बांको माणिस।
के कालन डालि मामी जोड़ी मां बिछाऊँ।
भैर  भीतर मामी देखी ज तू अ क्वैक।
देखी भाळी जाई मामी आपड़ो बागीचा।
इस लोक गीत में एक औरत की अकाल मृत्यु  हुयी है और उस  मृतक आत्मा की शांति हेतु घड़ेला रखा जाता है । जागरी मृतक के बारे में हृदय विदारक  गाथा इस प्रकार सुनाता है -
हे प्रिय (मामी -प्रिय सूचक शब्द ) ! पक्षियों का झुण्ड अब तेरे से छूट  गया है । हे प्रिय ! तेरा माँ का ममत्व युक्त प्राण कैसा होगा  । तेरे लिए वह काल बाण कैसे आया  । यह काल छिपकर और घूम घूम कर कैसे आया होगा  । यह काल तुझे ढूंढता रहा  । तूने सोचा होगा मै अपने परिवार में सबका हर्ष देखूंगी  । यहाँ तेरा सुन्दर पति बैठा है  । किस काल ने तेरी जोड़ी में बिछोह डाला  । हे प्रिय ! तू बाहर भीतर सुदर तरह से सब जगह देख जा और भाव से अपने बगीचे (परिवार ) को देख जा  ।
इस तरह हम पाते हैं कि राजस्थानी , गढ़वाली-कुमाउंनी  लोकगीतों में पूर्वजों की पूजा के कई प्रकार के गीत हैं। कुछ गीत पौराणिक हैं , कुछ गीत लोक इतिहास पर आधारित है,कुछ गीत स्थानीय वीरों-नायक -नायिकाओं जो  देव तुल्य हो गये हैं या लोक देव बन गए हैं पर आधारित है और कुछ गीत अत्यंत स्थानीय  होते हैं। अतृप्त परियों आदि के गीत भी पूर्वज गीतों में आ जाते हैं ।

Copyright@ Bhishma  Kukreti 19/8/2013 

डा जगमल सिंह , 1987 ,राजस्थानी लोक गीतों के विविध रूप , विनसर प्रकाशन , दिल्ली 
डा शिवा नन्द नौटियाल , 1981 ,गढवाली लोकनृत्य -गीत , हिंदी साहित्य सम्मेलन , प्रयाग 
मोहन लाल व्यास 'शास्त्री '  (सम्पादन ) राजस्थानी लोक गीत 
डा जगदीश नौडियाल उत्तराखंड की सांस्कृतिक धरोहर

                         राजस्थानी और गढ़वाली-कुमाउंनी  लोकगीतों में नारी पीड़ा 

                  राजस्थानी, गढ़वाली-कुमाउंनी  लोकगीतों का तुलनात्मक अध्ययन:भाग- 2

                      भीष्म कुकरेती

  भारत  में तकरीबन सभी समाज में स्त्रियों को विशेष भौतिक और मानसिक कष्ट सहने पड़ते हैं । मानव जनित सामजिक कष्ट कहीं अधिक दुखदाई होते हैं ।  
 लोक गीत या लोक साहित्य रचयिता की आँखें सभी कुछ देखता है और उन घटनाओं को अनुभव करता है फिर वः यथार्थ चित्रित कर डालता है और अपने अनुभवों को लोक गीतों या लोक कथनों में ढाल देता है ।  
  राजस्थानी और 
            राजस्थानी और  गढ़वाली-कुमाउंनी लोक गीतों में बहुओं की विभिन्न पीडाएं ह्रदय विदारक ढंग से चित्रित गया है ।

                                               राजस्थानी  लोक गीत में बहू भेदभाव पीड़ा 
और सहेलिया माँ झूलण जाय, खेलण जाय । 
म्हने मण रो माँ पीसणो । 
पीसत -पीसत दुख्याँ मां मोर  ।  
पीवत दुखिया माँ पैरवा  । । 
औरों ने दिया माँ बुल्का च्यार 
म्हने बटल्यो मां एकलो 
औरों ने मां घप्सां घप्सां खांड 
म्हने घप्सों मां लूण रो  
औरों माँ  पली  पली घी 
मने मोरियों मां तेल रो 
औरों ने मां बाटकिया बाटकिया खीर , 
म्हने बाटकी मां राब की
(गीत संकलन - श्रीमती रानी लक्ष्मी कुमारी 'चूड़ावत ' राजस्थानी लोक गीत )

उपरोक्त राजस्थानी लोक गीत में एक लडकी अपनी माँ से अपने ससुराल में उस के साथ किये गये भेदभाव, दुराव छुपाव और अन्य कष्टों की कहानी बताती है कि 
हे मां ! अन्य सहेलियां तो झूलने जाती हैं , खेलने जाती हैं किन्तु मुझे मन भर अनाज पीसने और मन भर आता रोटी पकाने दिया जाता है । अनाज पीसते पीसते मेरा मोर (पृष्ठ भाग ) दर्द करने लगा है । रोटी पकाते पकाते मेरी अंगुलियाँ दर्द करने लगी हैं ।  हे मां ! ससुराल में औरों को चार चार फुल्के दिए जाते हैं जबकि मुझे छोटा फुल्का दिया जाता है । दूसरों को भर भर कर शक्कर  दिया जाता है तो मुझे केवल नमक । औरों को कटोरी भर कर घी दिया जाता है तो मुझे बूंद भर तेल । औरों को कटोरे भर भर कर खीर दी जाती है और मुझे केवल कटोरी में दलिया दिया जाता है ।
                          गढवाली -कुमाउंनी लोक गीतों में  बहू पीड़ा 

            गढ़वाली और कुमाउंनी लोक गीतों में भी नारी खाशकर बहू पीड़ा को दर्शाने वाले दर्जनों गीत हैं और कई क्षेत्रीय गीतों का संकलन अभी बाकी है । 
निम्न गढ़वाली लोक गीत में नारी पीड़ा के कई  पक्ष दर्शाए गए हैं ।
 केकु बाबाजीन मिडिल पढायो 
केकु बाबाजीन मिडिल पढायो
केकु बाबाजीन राठ  बिवायो 
बाबाजीन देनी सैंडल बूट 
भागन बोली झंगोरा कूट ।
बाबाजीन दे छई मखमली साड़ी 
सासू नी देंदी पेट भर बाड़ी ।
जौं बैण्योंन साड़ी रौल्यों क पाणी 
वा बैणि ह्वे गए राजों क राणी ।
जौं बैण्योंन काटे रौल्यों को घास 
वा भूली गै राजों का पास ।
मै छंऊ बाबा राजों का लेख 
तब मी पाए सौंजड्या बैख ।
दगड्या भग्यानो की जोड़ी सौंज्यड़ी
मेरी किस्मत मा बुड्या कोढ़ी ।
बांठा पुंगड़ा लड़बड़ी तोर 
नी जैन बुड्या संगरादी पोर ।
बाबाजीन दे छई सोना की कांघी 
सासू ना राखी छै मैना राखी ।
(गीत संकलन : डा कुसुम नौटियाल , गढ़वाली नारी : एक लोकगीतात्मक पहचान)

इस लोक गीत में दिखाया गया है कि एक आठवीं पास (जिस युग में  लडकियाँ स्कूल भी नही जाती थीं )लडकी की शादी उसके पिताजी ने लोभ में एक बुद्धे के साथ कर दी । फिर वह लडकी कह  रही है कि पिताजी ने भेंट में सैंडल दी हैं किन्तु उसके भाग्य में झंगोरा कूटना  लिखा है । द्यपि उसने आठ पास किया है किन्तु उसकी शादी अविकसित देस में हुआ है । उसके पिता  जी ने मखमली साडी दी किन्तु उसकी सास उसे पेट भर बाड़ी भी नही देती है ।
पिताजी ने भेंट में सैंडल दी हैं किन्तु उसके भाग्य में झंगोरा कुटना लिखा है । जो  बहिन दूर नदी से  पानी लाती थी उसे राजा दुल्हा मिला । जो बहिन घास लाती थी वह राजमहल में वास करती है । मेरे हाथ में राजयोग लिखा था तो मुझे बुड्ढा पति मिला । मेरी सहेलियों को जवान पति मिले तो मुझे कोढ़ी जैसा पति । मई चाहती हूँ यह बुड्ढा मर ही जाय । पिताजी ने मुझे सोने की कंघी दी किन्तु मेरी सास ने मुझे छह माह तक नंगा ही रखा 
 इस तरह हम पाते हैं की राजस्थानी व गढवाली  भाषाओं के लोक गीतों में स्त्री पीड़ा या नारी के साथ दुराव -भेदभाव एक समान दर्शाए गए हैं । ऐआ लगता है कि नारी पीड़ा सभी जगह एक जैसी ही है ।
दोनों लोक गीतों में करुण रस उभर कर आया है । दोनों ही भाषाओं के लोक गीत स्त्री विमर्श पर ह्रदय विदारक चित्र उभारने में सफल हैं ।राजस्थानी और गढ़वाली के लोक गीत नारी व्यथा चित्रित करने में यथार्थ को सामने लाते हैं और ये लोक गीत अपने युग का आयना सिद्ध होते हैं ।

Copyright@ Bhishma  Kukreti 16 /8/2013 

डा जगमल सिंह , 1987 ,राजस्थानी लोक गीतों के विविध रूप , विनसर प्रकाशन , दिल्ली 
डा शिवा नन्द नौटियाल , 1981 ,गढवाली लोकनृत्य -गीत , हिंदी साहित्य सम्मेलन , प्रयाग
डा नन्द किशोर हटवाल , 2009 उत्तराखंड हिमालय के चांचड़ी  गीत एवं नृत्य ,विनसर पब क. देहरादून
(राजस्थानी लोक गीतों में स्त्री पहचान ; गढ़वाली -कुमाऊंनी लोक गीतों में स्त्री पहचान ; राजस्थानी लोक गीतों में  बहू पीड़ा ; गढ़वाली -कुमाऊंनी लोक गीतों में बहू पीड़ा ;राजस्थानी लोक गीतों में करुण रस ; गढ़वाली -कुमाऊंनी लोक गीतों में करुण रस   ;राजस्थानी लोक गीतों में स्त्री दुःख ; गढ़वाली -कुमाऊंनी लोक गीतों में स्त्री दुःख ; राजस्थानी लोक गीतों में नारी पीड़ा ; गढ़वाली -कुमाऊंनी लोक गीतों में नारी पीड़ा ; राजस्थानी लोक गीतों में स्त्रियों के साथ दुराव ; गढ़वाली -कुमाऊंनी लोक गीतों में स्त्रियों के साथ दुराव ; राजस्थानी लोक गीतों में स्त्रियों के साथ भेदभाव ; गढ़वाली -कुमाऊंनी लोक गीतों में स्त्रियों के साथ भेदभाव ;राजस्थानी लोक गीतों में नारी वेदना ; गढ़वाली -कुमाऊंनी लोक गीतों में नारी बेदना ;राजस्थानी लोक गीतों में नारी कष्ट ; गढ़वाली -कुमाऊंनी लोक गीतों में नारी कष्ट ;राजस्थानी लोक गीतों में नारी विषयक हृदय विदारक चित्र ; गढ़वाली -कुमाऊंनी लोक गीतों में नारी विषयक ह्रदय विदारक चित्र - राजस्थानी, गढ़वाली-कुमाउंनी  लोकगीतों का तुलनात्मक अध्ययन श्रृखला भाग 3 में जारी … )

                 राजस्थानी और गढ़वाली-कुमाउंनी  लोकगीतों में  अंग्रेजी शासन के विरुद्ध आवाज 

               राजस्थानी, गढ़वाली-कुमाउंनी  लोकगीतों का तुलनात्मक अध्ययन:भाग- 1

                                       भीष्म कुकरेती 

लोक गीत लोकोन्मुखी होते हैं . लोक रचनाकार जो देखता उसे फोटोकॉपी जैसे चित्रित कर  देता है I हाँ रचना करते वक्त लोक धर्मी रचनाकार भौगोलिक , आर्थिक सामजिक व अपनी कल्पना और शब्द सामर्थ्य के हिसाब से रचना कर डालता है I 
अंग्रेजी शासन में भारत पर कई तरह के अत्याचार व अनाचार हुए I ब्रिटिश  अत्याचारों का प्रभाव भारत के सभी वर्गों पर कुछ हिसाब से तकरीबन एक सा ही रहा है I 
यही कारण है कि राजस्थानी और गढ़वाली लोक गीतों में अधिक साम्यता है I 
निम्न राजस्थानी गीत में अंग्रेजी राज्य की अव्यवस्था और जनविरोधी कार्य की निंदा की गयी है

         देश में अंग्रेज राज आयो
   देश में अंग्रेज राज आयो , काईं काईं लायो रे I 
  फूट नांकी भायाँ में , बेगार लायो रे 
काली टोपी रे , हाँ हाँ काली टोपी रे 
देश में घुत्यारो आयोरे भूरिया मुंडालो 
अबु न अजमेर बच में डोडी हडकाँ नांकी रे 
घोड़ी रोवे घास ने टावर रोवे दाणा ने 
महलां ठुकराण्या रोवे , जामण जाया ने 
इस राजस्थानी लोक गीत  में ब्रिटिश राज की बहाली की भर्त्सना की गयी है   की महगाई आदि व चीजों की कमी का रोना रोया गया है I घोड़े को घास नही दाणा नही मिलने की बात उठाई गयी है

ब्रिटिश राज में मंहगाई की मार 
निम्न गढवाली गीत भी ब्रिटिश राज में रचा गया है और जनता की बदहाली को सामने रखता है 


सूणा सूणा भाई बन्दों भारत को गीत जी 
कना कना हाल ह्वेन कन ऐन अंग्रेजी रीत जी 
हजार हजार का भैंसा ह्वेन दूध नी माणी जी 
हौर चीज फंड फूका अंग्रेजी चा जरुर पीणा जी 
डेरा मूं खंदेर आयूँ च खांद 
सौदा  खाणकू रूप्या  नी कन आयो अकरी जी
इस गढ़वाली लोक गीत में गीत में भैस के दाम बढ़ गये हैं किन्तु दूध कम होता जा रहा है . और नई नई व्यसन घर कर गये हैं कि जिन्दगी जीना दूभर हो गया है

दोनों भाषाओं की गीत यथार्थ का पोर वृतांत बताने प्यूरी तरह समर्थ हैं . 
दोनों भाषाओं के लोक गीत जन चेतना के लोक गीत हैं 
दोनों भाषाओं के ये लोक गीत जो देखा गया , जो अनुभव किया गया उसे साफ़ साफ़ दर्शाने में समर्थ हैं I 
दोनों लोक गीत दर्शाते हैं कि लोक रचनाकार को स्पस्ट कहने में कोई हिचकिचाहट बिलकुल भी नही है I 
राजस्थानी और उत्त्रख्न्दी लोक गीत के रचनाकार निडर हैं और उन्हें बादशाहत का  कोई भय नही है किन्तु जन मानस की चिंता सता रही है और लोक रचनाकार अन्याय व अत्याचार को मौन स्वीकार नही करता है बल्कि वः किसी भी तरह मुखर हो उठता है I

Copyright@ Bhishma  Kukreti 14/8/2013 

डा जगमल सिंह , 1987 ,राजस्थानी लोक गीतों के विविध रूप , विनसर प्रकाशन , दिल्ली 
डा शिवा नन्द नौटियाल , 1981 ,गढवाली लोकनृत्य -गीत , हिंदी साहित्य सम्मेलन , प्रयाग