उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Thursday, March 23, 2017

सभी को फूलदेई की शुभकामनायें।

फूल देई-छम्मा देई, दैंणि द्वार- भर भकार,
यौ देळी  कैं बार-बार नमस्कार।
      एक लोक गीत         
           फूलदेई -फूलदेई -फूल                 संग्रान्द   
           सुफल करी नयो साल तुमको श्रीभगवान
            रंगीला सजीला फूल फूल ऐगी , डाल़ा बोटाल़ा  हर्या ह्व़ेगीं
              पौन पन्छ , दौड़ी गेन, डाल्युं फूल हंसदा ऐन ,
                तुमारा भण्डार भर्यान, अन्न  धन बरकत ह्वेन 
               औंद राउ ऋतू मॉस , होंद राउ सबकू संगरांद 
               बच्यां रौला तुम हम त फिर होली फूल संगरांद 
               फूलदेई -फूलदेई -फूल                 संग्रान्द   
फूल संगरांद का यह दिन आज उत्तराखंड में कन्याओं द्वारा प्रसन्नता के साथ मान्या जाता है कन्याएं बैसाखी तक रोज सुबह सुबह देहरी में फूल डालती हैं 
-
 आभार स्व श्री शिवा नन्द नौटियाल (लोकगीत )
        एवम श्री कैलाश पांडे