उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Tuesday, September 24, 2013

ह्यां ! बुर्का अर गोळ टुपला मंगै द्यावो !

  चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती  


घरवळि - छि ! तुम से तो वी भलो छौ पण मीनि  बोलि दे छौ।
मि -अरे कु ?
घरवळि - बुबाजी अर ब्वे त तयार छा … 
मि -तेरी ममी कैकि बात करणि च ?
नौनु -डैडी ! ममी के मायके के बगल वाले मुहल्ले में नहीं है वो पागल अंकल ?
मि -हाँ जु वु दिन मा छै सात दैं झुल्ला बदल्दो !
नौनु -हाँ 
मि -त क्या ह्वे ग्यायि वै तैं ?
नौनु -उसको कुछ नही हुआ।  ममी की शादी की बात उन अंकल से भी चली थी 
मि -त फिर ब्यौ किलै नि ह्वै ?
नौनु -ममी को ओ अंकल पसंद नही आये।   
घरवळि - पण अब सुचणु छौं वी ठीक छौ।  जरा झलक्या (अर्ध पागल ) छौ पण मौक़ा देखिक झुल्ला त बदल्दो छौ।  अब तक हमर ड्यार द्वी  बुरखा अर द्वी चार गोळ टुपलौंन ऐ जाण छौ। 
मि -ह्यां ! क्या बुलणि छे ! हमर ड्यार बुर्का अर गोळ टुपला ? क्यांकुण ?
घरवळि - तुमन त खाली सवाल ही करण।  तुम तैं क्या पता मुहल्ला सोसाइटी मा हमर क्या बेज्जती हूणि  च ! 
मि -बेज्जती हूणि च ? हमर त बेटि बि नी च कि ज्वा कैक दगड़ भाजि जावो त बेज्जती ह्वे जावो।   
घरवळि - अब बेटि दस दैं बि भाजि जावो त बेज्जती नि होन्दि।  अब त जैं बेटिक ब्याय फ्रेंड नि ह्वावन वूं ब्वे -बुबा क बेज्जती हूंदी !
मि -त फिर क्यांक बेज्जती ?
घरवळि - अबि तलक हमर इख बुर्खा अर गोळ टुपला नि ऐन।  
मि -अरे पण बुर्खा अर गोळ टुपला नि आण से क्यांक बेज्जती ?
घरवळि - सरा मुहल्ला मा अर सोसाइटी मा बात फैलि ग्यायि कि हम धर्म निरपेक्ष नि छंवां अर लोग बुलण बिसे गेन कि हम नॉन -सेक्युलर छंवां।   
मि -अरे हम सेक्युलर नि छंवाँ से क्या मतबल ? मीन आज तलक सुपिन मा बि दुसर धर्मौ काट नि कार , आलोचना नि कार। 
घरवळि - हाँ पण हमर ड्यार बुरखा अर गोळ टुपला त नी च ना ?
मि -ठीक से त बिंगा कि बुरखा अर गोळ टुपलौ चक्कर क्या च ?
घरवळि - उ नीं अपण विनय भटियार ?
मि -हां जु हमर मुहल्ला का आल इंडिया विश्व हिन्दू वर्ल्ड का अध्यक्ष छन। जु भाषण दीणु रौंद कि इंडिया तैं हिन्दू नेसन डिक्लेयर कारो। अर सन तिराणबे माँ हिन्दू -मुस्लिम दंगा मा यूँ पर कोर्ट मा केश चलणु च।   
घरवळि - वू बि अब सेक्युलर ह्वे गेन। 
मि -क्या विनय भटियार बि अब धर्म निरपरेक्ष ह्वे ग्यायी , जु कबि सेक्युलर हूण मा बेज्जती समझदो छौ वू  dharm निरपरेक्ष ह्वे ग्यायि ?
घरवळि - हाँ नितरसि मिसेज विनय भटियार खुले आम बुरखा पैरिक भुजि लीणो जि ग्यायि अर सरा मुहल्ला वाळुन विनय भटियार तै सेक्युलर घोषित करी दे।   
मि -क्या ?
घरवळि - हां अर परसि विनय भटियार गोळ टुपला पैरिक मन्दिर गेन त मुहल्ला मुस्लिम मजलिसन उर्दू अर हिंदी मा पर्चा बांटिन कि विनय भटियार सेक्युलर छन। 
मि -हैं ? मुस्लिम मजलिस अब सेक्युलर अर नॉन सेक्युलर को सर्टिफिकेट दीण बिसे गे ? 
घरवळि - अर वू नीन  अपण सुंगर कट्वा मिस्टर खटिक लाल चौधरी ?
मि -हाँ !
घरवळि - वूं तैं बि मुहल्ला इस्लामिक ब्रदर हुडन सेक्युलर घोषित कौरि आल।  मुहल्ला मा मुहल्ला इस्लामिक ब्रदर हुड का चार बैनर लग्यां छन कि सुंगर कट्वा मिस्टर खटिक लाल सेक्युलर छन।  
मि -मिस्टर र खटिक लाल अब सुंगरू शिकार नि बिचदन ?
घरवळि - नै नै ! उंकी वाइफ़ अब सुबेर श्याम बुरखा मा बजार जांदी अर मिस्टर खटिक लाल गोळ टुपला पैरिक सुंगर कटदन अर बिचदन। 
मि -बुरखा अर गोळ टुपला ?
घरवळि - हां अजकाल मुहल्ला मा सब तै सेक्युलर हूणों दौंरा पड़्यु च। 
मि -पण सेक्युलर हूणों बान बुरखा अर गोळ टुपला ?
घरवळि - सूणों तुम मेखुण  द्वी बुरखा अर अफकुण द्वी गोळ टुपला लया बस ! 
मि -अरे पण !
घरवळि - मि नि जाणदो बस।  हम तैं बि अब सेक्युलर बणण।  अर सेक्युलर बणण कुण बुरखा अर गोळ टुपला पैरण जरूरी च।  
मि -मतबल सरा मुहल्ला मा सेक्युलर बणणो फैसन चलणु च। 
घरवळि - हाँ ! जा तुम अबि बजार जावो अर मेखुण  द्वी बुरखा अर अफकुण द्वी गोळ टुपला लया। 
मि -ठीक च बजार जांदु अर बुर्का अर गोळ टुपला लै आंदु।
घरवळि - अच्छा सूणो रस्ता मा कॉंग्रेसी नेता दिगविजय सिंह फैन्स क्लब च ना !
मि -हां 
घरवळि - उख बुर्का अर टुपला दिखैन अर द्वी सौ रूप्या देक एक बडो सेक्युलर हूणों सर्टिफिकेट बि लयेन जै तैं हम अपण ड्रवाइंग  टांगी द्योला। 
मि -ठीक च।  अजकाल दिग्विजय सिंह जी को सेक्युलर हूणों सर्टिफिकेट ही वैलिड सर्टिफिकेट च।  
घरवळि - अर बगल हि मा  नीतेश कुमार फैन्स क्लब च उख द्वी सौ रूप्या करै दें देन। नीतेश कुमार फैन्स क्लब मुहल्ला मा उर्दू मा पर्चा बांटी द्याला कि हम सेक्युलर परिवार छंवां। अर वांक बगल मा अखिलेश फैन्स क्लब च उख तीन सौ रूप्या दे देन वो मुहल्ला मा चार बैनर लगै द्याला कि हम धर्म निर्परेक्ष छंवाँ।  
मि -और कुछ ?
घरवळि - हाँ यी द्वी नमकीन का पैकेट छन यूं तैं कचरा पेटी मा फेंकि देन 
मि -नमकीन ! अर कचरा पेटी मा फिंकण ?
घरवळि - हाँ वो मिसेज अनवर अलीन अपण ड्यार नमकीन बणैन अर मी तै देक चलि ग्यायि।  
मि - पण नमकीन कचरा पेटी मा फिंकण  ?
घरवळि -   सेक्युलर बणणो मतबल यु त नी च  जु मि मुसलमानौ घौरौ बण्यु नमकीन खौलु  ? 

Copyright@ Bhishma Kukreti  25 /9/2013 



[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक मसखरी  दृष्टि से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  के  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वाले के  पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले के  भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले के  धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले के वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  के पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक के विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक के पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक के सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखक का सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक के राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य;सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य श्रृंखला जारी ...]