उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, November 17, 2013

विधानसभा टिकेट दिलै द्यावो प्लीज !

चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती 

     
(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )

                 अजकाल नयो फैसन ऐ ग्यायि सेना या कोर्ट का बड़ा बड़ा अधिकारी  सेवा निवृत या रिटायर हूँदन त मुख्यमंत्री बणदन जन कि खंडूरी जी या विजय बहुगुणा जी या विधयक -मंत्री बणदन जन टीपीएस रावत जी आदि।  फिर बड़ गोर घास खांदन त छुट गोर थुंथर चाटदन।  जब कुछ नि ह्वावो त रिटायर ह्वेक ग्राम प्रधान बौण जावो।  दिल बि बौग्युं  रौंद अर पैसा पाणि बि बौण जांदन।  अजकाल इन लगणु च हमर जिनां ग्राम प्रधान की पोस्ट रिटायर लोगुं कुण रिजर्व हुईं हो धौं !
  मीन एक कंसल्टटैंट  तैं कंसल्ट कार कि मि तैं रिटायरमेंट का बाद क्या करण चयेंद त वैन सलाह दे बल कुछ ना त ग्राम प्रधान बौणि जा !
 अब  उमर का तकाजा अर इथगा अनुभव का बाद केवल ग्राम प्रधान बणे जावो तो मेरी बीस पचीस डिग्र्युं  अर हजारों मील लम्बी यात्रा तैं पसंद नि आयी। मेरी डिग्री अर यात्रा अनुभवन बोलि बल रिटायरमेंट का बाद विधायक बणण जादा फायदामंद च। 
 मी दिल्ली एक राजनैतिक पार्टीs ऑफिसम  विधायक बणणो टिकटों बान ग्यों।  
कै  बि तरां से मि टिकेट  कमेटी चेयरमैन तक पौंचु, चेयरमैनन म्यार इंटरव्यू  ले याने म्यार अंतर्मन को व्यू /दर्शन ल्याइ।
इना उना छ्वीं लगणो बादौ  वार्तालाप का मुख्य भाग इन च।
टिकेट  कमेटी चेयरमैन- तो तुम तैं चकु -छुर्रा चलाण बि आंद ? 
मि -जी मीन कबि भुजि नि काट ! पैल ब्वे खाणा बणान्दि छे अब घरवळि  .... 
टिकेट  कमेटी चेयरमैन-मि भुज्जी कटणो बात नि करणु छौं।  कैक पुटुक पर छुर्रा बि भोंक?  किलैकि विधायक का वास्ता  चाकु -छुरा चलाणो  अनुभव जरूरी च।
मि -पर विधान सभा मा त वाक् -युद्ध हूंद ?
टिकेट  कमेटी चेयरमैन- अच्छा चलो जाण द्यावो।  स्कूल कॉलेजुं जमानो  मा सरकारी बस या सरकारी इमारत जळाणो क्वी अनुभव ? 
मि -जी हमर कॉलेजौ टैम पर द्वी चार बस इ  हूंदी छे।  वूं तैं इ जळै दींदा त लोग हम छवारों तैं ज़िंदा नि जळै दींदा ! 
टिकेट  कमेटी चेयरमैन- चलो ! त स्कूल कॉलेज तै जळाणो अनुभव ?
मि - दर्जा आठ तक हमन मैदान मा पौड़ , बरखा टैम पर बि इनि पौड़ त उख जळाणो कुछ नि  छौ। फिर देहरादून मा महंत इंद्रेश चरण दास जीक कॉलेज छा।  मुफ्त मा पढ़दा छा   त स्कूल -कॉलेज जळाणो ज्यू कबि नि बुल्याइ।  
टिकेट  कमेटी चेयरमैन- वो हो तो विधायक बणणो बेसिक ट्रेनिंग बि तुमम नी च ?
मि -जी हमर जवानी  टैम पर भक्त दर्शन जी  , महावीर त्यागी जी , भैरव दत्त धुलिया जी सरीखा नेता हूंद छा जौन अंग्रेज सरकारौ  विरोध जरुर कार पण अंग्रेजूं खोलीं स्कूल कॉलेज तैं बि सरस्वती मंदिर समझदा छा अर मंदिर जळाण पाप माने जांद छौ।   
टिकेट  कमेटी चेयरमैन-तो प्रिंसिपल या मास्टरों पिटाई या मास्टरुं पर जुत चलाणो  क्वी ख़ास अनुभव ?
मि -क्या  विधायक बणणो बान प्रिंसिपल या मास्टरों पिटाई करणो या अध्यापको तै जुत्याणो अनुभव जरुरी च ?
टिकेट  कमेटी चेयरमैन- हां ! जु तुम तैं अध्यापकुं तै जुत्याणो अनुभव नि ह्वालो त विधान सभा मा तुम विरोधी दल का सदस्यों पर जूता  कनकै चलैल्या ? विधान सभा मा जूतम पैजार कनकै करिल्या ?
मि -जी हमर टैम का विधायक ही ना छात्र नेता जन कि आजौ कॉंग्रेसी नेता हीरा सिंह बिष्ट बि मॉस्टरुं तै गुरु ही मानदा छा।   
टिकेट  कमेटी चेयरमैन- यार तुमम त नेता बणणो आधारभूत प्रशिक्षण ही नी  च ?
मि -जी ! मीन इथगा साल नौकरी कार वो कम   च क्या ?
टिकेट  कमेटी चेयरमैन- तुम पर कबि बलात्कार का आरोप या चोरी जारी का आरोप बि लगिन ?
मि -ना कबि ना.
टिकेट  कमेटी चेयरमैन-ओ माइ  गॉड ! तुम दुसरुं मा -बैण्यूं  तैं अपण मा -बैणी समजदवां क्या ?
मि -हां
टिकेट  कमेटी चेयरमैन-ना तो बलात्कार का एक्सपीरियंस  , ना ही चोरी जारी का अनुभव ! अर फिर बि विधायक बणनो ख्वाब दिखणा  छंवां ?
मि -जी हाँ !
टिकेट  कमेटी चेयरमैन-अच्छा घूस लीणो क्वी अनुभव ?
मि -ना ! मि सेल्स लाइन मा छौ त घूस लीणो क्वी अवसर ही पैदा नि ह्वेन। 
टिकेट  कमेटी चेयरमैन-तो फिर तुम जन सेवा कनकै करिल्या ?
मि -जी जन कि क्वी ब्वालल कि म्यार राशन कार्ड बणै द्यावो या ट्रांसफर करै द्यावो तो फटाक से प्रशासनिक अधिकारी तै बोलिक काम करै द्योलु !
टिकेट  कमेटी चेयरमैन- विधयाक बणिक बि बगैर पैसा खयां ट्रांसफर करै देल्या ?
मि -हां ! जन सेवा ही तो विधायक को असली कर्म च।
 टिकेट  कमेटी चेयरमैन- अच्छा धार्मिक विद्वेष फैलाणो या जातीय दंगा फैलाणो क्वी प्रैक्टिकल एक्सपीरियंस ?
मि -ना ! हम तैं सिखाये जांद छौ बसुँधैव कुटुंबकम अर विश्व कल्याण ही मानव जीवन को असली उद्येश्य च।     
टिकेट  कमेटी चेयरमैन-एक सलाह द्यूं ?
मि -जी द्यावो ! 
टिकेट  कमेटी चेयरमैन-तुमर चरित्र अर अनुभव त धर्म गुरु का छन।  धार्मिक  टीवी चैनेलों मा प्रवचन किलै नि दींदा।
मि -जी धार्मिक टीवी चैनेलों मा गे छौ पण ऊन बि यी अनुभवुं मांग कार जु तुम करणा छंवां। 
टिकेट  कमेटी चेयरमैन-हाँ उख बि त हमर सरीखा आशा राम बैठ्यां छन। 
मि -तो ?
टिकेट  कमेटी चेयरमैन- सॉरी ! हम तुम तैं टिकेट नि दे सकदां।  तुमम एक बि चरित्र या गुण विधायक बणणा नि छन ना ही तुम तै विधायक बणणो क्वी बेसिक  ट्रेनिंग मिलीं च। 


Copyright@ Bhishma Kukreti  18/11/2013 


[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक मसखरी  दृष्टि से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  के  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वाले के  पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले के  भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले के  धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले के वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  के पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक के विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक के पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक के सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखक का सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक के राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य;सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनीति में परिवार वाद -वंशवाद   पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ग्रामीण सिंचाई   विषयक  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, विज्ञान की अवहेलना संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य  ; अन्धविश्वास  पर चोट करते गढ़वाली हास्य व्यंग्य    श्रृंखला जारी