उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Tuesday, November 5, 2013

गींठी /गेंठी /वराही की सब्जी , औषधीय उपयोग

उत्तराखंड  परिपेक्ष में  गींठी /गेंठी /वराही  की सब्जी , औषधीय उपयोग व अन्य  उपयोग और   इतिहास 


                            History /Origin /introduction, Food uses , Economic Uses of Airial Potato (Dioscorea bulbifera)  in Uttarakhand context 
                                           उत्तराखंड  परिपेक्ष  में  जंगल से उपलब्ध सब्जियों  का  इतिहास -11

                                     History of Wild Plant Vegetables ,  Agriculture and Food in Uttarakhand -11                        
         
                                              उत्तराखंड में कृषि व खान -पान -भोजन का इतिहास --51  
                                        History of Agriculture , Culinary , Gastronomy, Food, Recipes  in Uttarakhand -51

                                                                आलेख :  भीष्म कुकरेती

संस्कृत  नाम -वराही कंद ,गृष्टि , वनालू 
हिंदी नाम - रतालू , कंद आदि 
 उत्तराखंडी नाम -  गींठी /गेंठी    
गींठी /गेंठी  का जन्मस्थल दक्षिण पूर्व एसिया और अफ्रिका माना जाता है .
चरक संहिता और सुश्रुवा संहिता में वराही को दिव्य अट्टारह पौधों में स्थान दिया गया है और वराही के औषधि उपयोग का उल्लेख मिलता है।
गींठी /गेंठी  उत्तराखंड में 3000 BC साल से भी पहले उपयोग होता रहा होगा। 
गींठी /गेंठी की लता 60 -70 फीट लम्बी तक जाती है और गींठी /गेंठी की लता  एक दिन में आठ फीट तक बढ़ जाती है .
जंगली गींठी /गेंठी जंगल में होता है किन्तु कम कडुआ गींठी /गेंठी को  कुछ जगहों में घरों के  उगाया जाता है।
गींठी /गेंठी के दाने आलू जैसे बेल की तने पर उगते हैं और जड़ों में भी उगते हैं 

                      गींठी /गेंठी का और्वेदिक औषधीय उपयोग 
च्यवनप्राश में वैकल्पिक कच्चा माल। 
अल्सर , बबासीर , दस्त , पेट की बीमारियों में औषधीय उपयोग होता है ।

                                 गींठी /गेंठी का सलाद व सब्जी 

गींठी /गेंठी के दानो को राख के साथ उबाला जाता है। 
या गींठी /गेंठी को आलू जैसे गोल काटकर राख के साथ उबाला जाता है . कुछ लोग बिना राख के भी उबालते हैं। 
दोनों स्थिति में उबले चिप्स या दानों को छीला जाता है। 
फिर चिप्स में नमक , मिर्च मिलाकर सलाद जैसे खाया जाता है। 
गींठी /गेंठी के उबले दानो को छीलकर उबले आलू जैसे सब्जी भी बनाई जाती है।  गींठी /गेंठी के चिप्स को तेल में जख्या के साथ तलकर मसाले मिलाकर सब्जी बनाई जाती है। 

                 

Copyright Bhishma  Kukreti  6 /11/2013 

Notes on History of Culinary, Gastronomy in Uttarakhand; History ofCulinary,Gastronomy in Pithoragarh Uttarakhand; History of Culinary,Gastronomy in Doti Uttarakhand; History of Culinary,Gastronomy in Dwarhat, Uttarakhand;History of Culinary,Gastronomy in Pithoragarh Uttarakhand; History ofCulinary,Gastronomy in Champawat Uttarakhand; History of Culinary,Gastronomy in Nainital Uttarakhand;History of Culinary,Gastronomy in Almora, Uttarakhand;History of Culinary,Gastronomy in Bageshwar Uttarakhand; History ofCulinary,Gastronomy in Udham Singh Nagar Uttarakhand; History ofCulinary,Gastronomy in Chamoli Garhwal Uttarakhand; History ofCulinary,Gastronomy in Rudraprayag, Garhwal Uttarakhand; History ofCulinary,Gastronomy in Pauri Garhwal, Uttarakhand; History ofCulinary,Gastronomy in Dehradun Uttarakhand; History of Culinary,Gastronomy in Tehri Garhwal  Uttarakhand; History of Culinary,Gastronomy in Uttarakhand Uttarakhand; History of Culinary,Gastronomy in Haridwar Uttarakhand; 

 ( उत्तराखंड में कृषि व भोजन का इतिहास ; पिथोरागढ़ , कुमाऊं  उत्तराखंड में कृषि व भोजन का इतिहास ; कुमाऊं  उत्तराखंड में कृषि व भोजन का इतिहास ;चम्पावत कुमाऊं  उत्तराखंड में कृषि व भोजन का इतिहास ; बागेश्वर कुमाऊं  उत्तराखंड में कृषि व भोजन का इतिहास ; नैनीताल कुमाऊं  उत्तराखंड में कृषि व भोजन का इतिहास ;उधम सिंह नगर कुमाऊं  उत्तराखंड में कृषि व भोजन का इतिहास ;अल्मोड़ा कुमाऊं  उत्तराखंड में कृषि व भोजन का इतिहास ; हरिद्वार , उत्तराखंड में कृषि व भोजन का इतिहास ;पौड़ी गढ़वाल   उत्तराखंड में कृषि व भोजन का इतिहास ;चमोली गढ़वाल   उत्तराखंड में कृषि व भोजन का इतिहास ; रुद्रप्रयाग गढ़वाल   उत्तराखंड में कृषि व भोजन का इतिहास ; देहरादून गढ़वाल   उत्तराखंड में कृषि व भोजन का इतिहास ; टिहरी गढ़वाल   उत्तराखंड में कृषि व भोजन का इतिहास ; उत्तरकाशी गढ़वाल   उत्तराखंड में कृषि व भोजन का इतिहास ; हिमालय  में कृषि व भोजन का इतिहास ;     उत्तर भारत में कृषि व भोजन का इतिहास ; उत्तराखंड , दक्षिण एसिया में कृषि व भोजन का इतिहास लेखमाला श्रृंखला ) 
Notes on History /Origin /introduction of  wild edible vegetables Airial Potato (Dioscorea bulbifera) in Uttarakhand, Middle Himalaya , North India, South Asia  context; History /Origin /introduction of wild edible vegetables Airial Potato (Dioscorea bulbifera) in Pauri Garhwal, Uttarakhand, Middle Himalaya , North India, South Asia  context; History /Origin /introduction of wild edible vegetablesAirial Potato (Dioscorea bulbifera) in Chamoli Garhwal Uttarakhand, Middle Himalaya , North India, South Asia  context; History /Origin /introduction of wildedible vegetables  Airial Potato (Dioscorea bulbifera)  in Rudraprayag Garhwal Uttarakhand, Middle Himalaya , North India, South Asia  context; History /Origin /introduction of wild edible vegetables Airial Potato (Dioscorea bulbifera) in Tehri Garhwal Uttarakhand, Middle Himalaya , North India, South Asia  context; History /Origin /introduction of wild edible  vegetables Airial Potato (Dioscorea bulbifera) in Uttarkashi, Uttarakhand, Middle Himalaya , North India, South Asia  context;History /Origin /introduction of wild edible vegetables Airial Potato (Dioscorea bulbifera) in Pithoragarh,Uttarakhand, Middle Himalaya , North India, South Asia  context; History /Origin /introduction of wild edible vegetables Airial Potato (Dioscorea bulbifera) in Almora, Uttarakhand, Middle Himalaya , North India, South Asia  context; History /Origin /introduction of wild edible vegetables in Bageshwar Uttarakhand, Middle Himalaya , North India, South Asia  context; History /Origin /introduction of wild edible vegetables in Nainital, Uttarakhand, Middle Himalaya , North India, South Asia  context; History /Origin /introduction of wild ediblevegetables Airial Potato (Dioscorea bulbifera) in Champawat , Uttarakhand, Middle Himalaya , North India, South Asia  context; Notes on History /Origin /introduction of  wild edible vegetables Airial Potato (Dioscorea bulbifera)  in Haridwar Uttarakhand, Middle Himalaya , North India, South Asia  context;Notes on History /Origin /introduction of  wild edible vegetables Airial Potato (Dioscorea bulbifera) in Dehradun Uttarakhand, Middle Himalaya , North India, South Asia  context;Notes on History /Origin /introduction of  wild edible vegetables Airial Potato (Dioscorea bulbifera) in Udham Singh Nagar Uttarakhand, Middle Himalaya , North India, South Asia  context;