उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, November 17, 2013

सन 2114 मा परिवारवादी -वंशवादी प्रजातंत्र बचाणो खटकर्म

 चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती 

     
(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )
 समाजवादी पार्टीक एक सदस्य - सदर ए आल पार्टी मीटिंग ! शुक्रिया आपन मै तैं  संजीदा मसला पर बुलणो मौक़ा दे ! मी   लोक सभा अर विधान सभा का हरेक रुकनियतों याने मेंबरानु से दरख्वास्त करणु छौं कि मेरी बात मुक्क्मल  ढंग से सूणो अर वै पर अमल कारो।। आज सन 2114 मा जम्हूरियत पर गैरखानदानी तस्स्वर (विचार ) वाळ जोरो से हमला करणा छन अर जम्हूरियत का पैरादार -चौकीदार कुछ नि करणवां छंवां।  जु इनि 'जम्हूरियत मा गैरखानदानी राज का जहरीला विचार' जनता मा चली गे त ना केवल खानदानी सियासतदां ( खानदानी राजनैतिक ) वाळु कुण, खानदानी सियासत का वास्ता ख़तरा च बल्कणमा दुनिया मा एक अलहदा , मखसूस , अनोखी हिंदवी जम्हूरियत का वास्ता बि खतरा   ह्वे ग्याइ। 
एक भाजापा पार्टी सदस्य - तुम लोग मुसलमानो तैं उर्दू नाम पर बेवकूफ बणादां।
 समाजवादी पार्टीक सबि  सदस्य  - हमर  देवता मुलायम सिंह जी की कसम च, उप दिवता अखिलेश यादव की कसम , देवी डिंपल यादव की कसम च मुसलमानु तैं वेवकूफ बणाण हमारो खानदानी पेशा च, मुर्ख बणाण राजनैतिक धंधाच, एकाधिकार च ।  जो भी  हमर पेशा तै गाळि द्याल हम वैकि त हम …। सभी राजनैतिक दल याद रखां यदि हमर  एकाधिकार पर खतरा आल त हम क्या कौर सकदां यु सौब तैं पता च। हम तैं बि धार्मिक उन्माद फैलाण आंद च। 
भाजपा - तो हमन बि हिंदूवादी देवी-दिवतौं   कसम खायीं च  कि अयोध्या मा ही मंदिर बौणल , वांक बान चाहे हर मैना लोग भेड़ -बकरी जन कटे जैन धौं। 
सभा अध्यक्ष -  द्याखो हम एक गम्भीर विषय पर चर्चा वास्ता कट्ठा हुयां छंवां।  यी सभा को क्वी लाइव टीवी कवरेज नी  च कि तुम जनता तैं मुर्ख बणाणो बान एक हैंक पर हौग -मूत चुलाओ।
समाजवादी पार्टीक सदस्य -भइ अयोध्या मा राम मंदिर बाद मा बणे लेन।  अबि त असली मसला अनाप -सनाप पार्टी वाळ जनता मा जो जम्हूरियत याने प्रजातंत्र मा वंशवाद -परिवारवाद का विरुद्ध को जहर फैलाणा छन वै तै रुकणै जरूरत च।  राम मंदिर पर तुम तबि नाटक कौर सकदां जब तुम अनाप -सनाप पार्टी का जहरीला जहर से बचिल्या !
 शिव सेना - समाजवादी पार्टी सदस्य ठीक बुलणा छन।  कसम भगवान श्री बाल ठाकरे की ! हम अनाप -सनाप पार्टी वाळु पिच उखाड़ द्योलां।  प्रजातंत्र मा यदि वंशवाद -परिवारवाद ही नि राल तो वो क्यांक प्रजातंत्र ?
कॉंग्रेस सदस्य - ओम नमो श्री नेहरू जी , ओम नमो श्रीमती गांधी परिवार याने हमर दिवता ! 
भाजपा नेता -खबरदार ! तुम  नमो शब्द उच्चारण नि कौर सकदां !
कॉंग्रेसी नेता - अरे ओम नमो पर  .... 
भाजपा नेता -नमो माने माननीय भगवान नरेंद्र मोदी … 
कॉंग्रेसी -सॉरी ! मीन मौत का दिवताक  नाम ले ल्याइ। हाँ तो मि अपण कुलदिवता नेहरू अर कुलदेवी इंदिरा तैं दंडवत प्रणाम करदो अर कसम खांदो कि हम राजनीति मा परिवार वाद अर वंशवाद खतम नि हूण द्योला।  प्रजातंत्र मा वंशवाद -परिवारवाद ज़िंदा रौणो  बान हमन द्वी सौ साल से इथगा तिकड़म लगैन।  इख तलक कि हमर देवी दिवतौंन  इमेरजेंसी -आपातकाल भि लगैन।  आज कॉंग्रेस ही इन पार्टी च जो ग्राम पंचायत का चुनाव मा बि टिकेट वै तै दींदी जैक पुरखा पंच -प्रधान रै होला।  हमर कॉंग्रेस मा क्वी बि ग्राम प्रधान या पंच,  सेवक , विधायक , लोक सभा सदस्य गैरखानदानी नी  च।  जै वंशवाद की ! 
भाजपा - द्याखो ! तुमन खानदानवाद की शुरुवात सन सैंतालीस से पैलि कौरि आल छौ   त तुम तैं बड़ो ऐडवेंटेज छ ।  हमन सन नब्बे से राजनीति मा खानदानवाद -परिवारवाद शुरू कार त हम थोड़ा पैथर रै गेवां।  पण अब हमन बि पिछ्ला बीस सालों से वूं तैं चुनावी टिकेट दीण बंद कौरि आल जौंक पड़दादा आदि प्रधान , विधायक , नगर सेवक नि छया।  आज हमर जु बि अलाइज पार्टनर छन सौब वंशवाद -परिवारवाद का पुजारी छन।  
द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीमके ) सदस्य - ये भाई ! इखमा बखान दीणै जरूरत क्या च कि हम वंशवाद -परिवारवाद का चौकीदार छंवां , सिपाही छंवां।  आज क्वी बि राजनैतिक दल इक तक कि साम्यवादी दल बि डेमोक्रेसी बचाणो बान परिवारवाद को पोषक च।  
सबि क्षेत्रीय दल एक स्वर मा - हाँ आज हम सबि परिवार वाद का ही खंबा छंवां।  
बीजू जनता दल का सदस्य - हमर कुल दिवता श्री बीजू पटनायक अर श्री नवीन पटनायक की जय हो ! आज हमर समिण  बिलकुल नई अनाप -सनाप पार्टी एक बडु  खतरा च या पार्टी जनता तैं गुमराह करणी च कि भ्रस्टाचार , देस लूटो जन अपराध उथगा खतरनाक नी छन  जथगा राजनीति मा वंशवाद -परिवारवाद च।  या अनाप -सनाप  पार्टी वंशवाद -परिवारवाद प्रजातंत्र तै खतरा बताणी च।  
आम आदमी पार्टी क सदस्य - हमर कुलदिवता श्री केजरीवाल की जय हो ! इखमा डरणै बात क्या च।  हम बि राजनीति मा परिवारवाद -वंशवाद तै गाळि देकि ही पहला पहल  चुनाव जीती छा अर आज हम बि चुनाव टिकेट वूं तैं ही दींदा जौं तैं राजनीति विरासत मा मिलीं ह्वावो।  हम तो झूठ बुलणम  तुम सब लोगों से बि बड़ा खिलाड़ी छंवां। 
कॉंग्रेसी सदस्य - द्याखो ! हमर काम च कि अनाप -सनाप पार्टी तै जनम लीण से पैल ही ख़तम करी द्यावा। 
सबि एकस्वर मा -हाँ जो भी परिवारवाद -वंशवाद का विरुद्ध च वीं विचारधारा  तै ऊखमि खतम करे जावो। 
भाजापा - तो अनाप -सनाप पार्टी का मुख्य नेताओं पर इनकम टैक्स , सेल्स टैक्स, झुटा  प्रचार, देस द्रोह आदि की धाड़ मारे जा अर यूं नेताओं तैं इन जंजाळ मा फँसावो कि यीं पार्टी का नेता रोज  कोर्ट मा चक्कर लगाणा रावन। यूंका चरित्र हनन कारो , यूंका सभा नि हूंण दयावो। 
सबि - हाँ पुलिस हमम च , सीबीआई हमम च तो हम कुछ बि कौर सकदां।  प्रजातंत्र मा परिवारवाद -वंशवाद बचाणो बान जो भि कुकर्म करण पोड़ल हम करला ! 
सभापति -श्री जगजीवन राम दिवता जी की जय हो।  तो हम सबि राजनीतिक दलों की पैली प्रायरिटी च कि राजनीति मा वंशवाद -परिवारवाद का विरोध्युं वंशमूल ही नाश  करे जावो।  जय परिवार वाद।  वंशवाद  जिन्दावाद  ! 

Copyright@ Bhishma Kukreti  16/11/2013 



[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक मसखरी  दृष्टि से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  के  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वाले के  पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले के  भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले के  धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले के वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  के पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक के विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक के पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक के सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखक का सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक के राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य;सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनीति में परिवार वाद -वंशवाद   पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ग्रामीण सिंचाई   विषयक  गढ़वाली हास्य व्यंग्य  श्रृंखला जारी ...]