उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Wednesday, November 13, 2013

थुकाथुकी पुराण

चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती 

     
(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )


थुकण हमर राष्ट्रीय धर्म च। 
थुकण हमर परम कर्त्वय च। 
बेतरदीदि से कखिम बि थुकण सभी धर्मियूंक  सांस्कृतिक कर्मकांड च। 
जखम चावो ऊखम थक्क  थूक दीण हमर सनातनी विरासत च। 
हम सबि भारतीय जाणदा छंवाँ कि रस्ता मा , चौबट मा, बसुँ मा , रेलुं डब्बों  मा , लिफ्टूं मा , सिनेमा हाल मा , सरकारी कार्यालयुंम खुलेआम बेशर्मी से थुकण हमर मूलभूत अधिकार च, सार्वजनिक जगाऊं तैं थूकिक , खंकारिक  गंदा करण हमारो प्रजातांत्रिक अधिकार च । 
पान खाइ , पान चबाइ अर कैक पीठ  झुलाउंद थुकण   विशिष्ठ भारतीय  अमूल्य परम्परा च। 
थुकण एक भारतीय वैशिष्ठ्य च। 
कखिम बि , कैबरि बि , कैक बि समणि या कैक बि पैथर थुकण हमर एक धर्मनिरपेक्ष आचरण च। 
अपण चौक साफ़ सवच्छ रखण अर दूसरौ चौकम थुकण हमर राष्ट्रीय चरित्र च। 
सार्वजनिक स्थलों मा थुकण अर थुकिक  जगा गंदी करण   हिंदू -मुसलमान -सिख -इसाइयुं   मा एकता को परिचायक च। 
 चूंकि हम सभी जीव जंतुउं प्रति  ही ना यूं जीव जंतुओं विकास का प्रति संवेदनशील छंवां त संजैत  जगाऊंम थुकण से जोरों से बैक्टीरिया , वाइरस फैलदन अर यांसे सिद्ध हूंद कि हमर संस्कृति मा अबि बि जीव -जंतु प्रेम  बच्युं च। 
थूकीक चटण एक स्वच्छ भारतीय परम्परा र च तबि त सीबीआईs  डायरेक्टर राजीव सिन्हान  पैल ब्वाल  बल   यदि  बलात्कार नि रोक सकदा त बलात्कार का आनंद ल्यावो।  फिर स्याम दै थुकिक चाटि बि दे कि मि अपण बयान वापस लींदु। 
थुकथुकी निखालिस भारतीय आचरण च। 
एक -दुसर पर थुकण हमर एक विशिष्ठ हिन्दुस्तानी आचरण च।  इलै अचकाल राजनीतिक नेता विरोध्युं पर रोज थुकणा ना खंखार फेंकणा  रौंदन। राजनेताओं द्वारा विरोध्युं पर थुकण अर खंखार चुलाण बतांदु कि दूसरों पर थुकण -खंकार फिंकण  हमारो पुराणो संस्कार च। 
'थूक उछालना' एक अखिल भारतीय संस्कृति की ख़ास पहचान च अर हमर राजनैतिक नेता हर समय , हर क्षण 'थूक उछालणा' रौंदन जो यीं बातौ द्योत्तक  च कि 'थूक उछालना'  भारतीय संस्कृति की पछ्याणक , आइडेन्टिटी च। 
थूक लगाण बि हमर विशेष गुण च अर हमर नेता जनता पर रोज थूक लगाणा रौंदन जु  एक उत्साहवर्धक बात च। 
थूक बिलौना (अनुचित प्रलाप ) बि भारतीय  सभ्यता की पछ्याणक च अर लोकसभा , राज्य सभा , विधान सभा , विधान सभा, अर  आम सभाओं मा सांसदुं -विधायकुं भाषण अर करतब   यांक गवाह च कि थूक बिलौना (अनुचित प्रलाप ) बि भारतीय  सभ्यता की पछ्याणक च।  
जखिम ज्यू बुल्यावु उखम वमन करण , उल्टी  करण हमर प्राचीन सांस्कृतिक कर्मकांड च।  अर  यीं जखिम ज्यू बुल्यावु उखम वमन करण , उल्टी  करण जन प्राचीन सभ्यता, पुरण सांस्कृतिक  कर्मकांड , पुराणि थात तै नई पीढ़ी मा प्रचार -प्रसार करण हमर जुमेवारी च। 
हमर भावी प्रधान मंत्री राहुल गांधी - नरेंद्र मोदी अर यूंका चमचा एक हैंक पर रोज भयानक , भयंकर ढंग से, बेशर्मी से , विष वमन करणा रौंदन जो परिचायक च कि हमारा शीर्षथ नेता थुकाथुकी की भारतीय परम्परा का प्रति संवेदनशील छन।  शीर्षथ नेताओं द्वारा एक हैंक पर विष वमन  एक ढाढस की बात च कि भारत मा सार्वजनिक स्थलुं मा थुकाथुकी , विष -वमन , खंकार करण बच्युं राल।  बड़ा बड़ा नेताओं द्वारा एक हैंक पर खुलेआम थुकण  , एक दुसर पर खंकार, वमन  चुलाण हमारो वास्ता एक गर्व की बात च। 



Copyright@ Bhishma Kukreti  14 /11/2013 

[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक मसखरी  दृष्टि से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  के  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वाले के  पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले के  भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले के  धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले के वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  के पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक के विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक के पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक के सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखक का सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक के राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य;सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य श्रृंखला जारी ...]