उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Tuesday, November 4, 2014

हँसुड़ि , हँसिकाएँ ,Jokes

संकलन - भीष्म कुकरेती 

         हे भगवान !
हे भगवान सब्युं भलो करी।  
पण शुरुवात में से हाँ।  

         हरिद्वार मा त मिलला ही 

ज्यूंद रौला त बार बार मिलला 
निथर हरिद्वार मा त मिलला

            कूड़ माँ जैक भूक 
- ये ब्वे ! भूक लगीं च.
-त जा कूड़ों मुंडळ माँ जैक भूक 

              गाळी 
- ये ब्वे मीन गाळि  नि खै 
-जा बुबा बीच बाट मा हौग आदि।  त्यार पड़ददा जी बि गाळि खाला 

                   जनानीक  तीन रूप 
एक शादी शुदा औरत का जिन्दगी माँ तीन पड़ाव  हूंदन 
पैल रूप -चन्द्र मुखी 
दुसर रूप -  सूरज मुखी 
तिसर  रूप -ज्वाला मुखी 
  
      पारस्युं माँ प्रसिद्ध चबोड़ 
सवाल -दारू पेक मर्युं मनिख तैं क्या बुल्दन ?
जबाब - बेजान दारूवाला 
सवाल -पारसी लोग वैश्याक  दलालौ  कुणि क्या बुल्दन ?
जबाब - नारी कौंट्क्टर 
सवाल -पारसी समाज माँ टेस्ट ट्यूब बेबी कुण क्या बुल्दन ?
जबाब - बाटलीबॉय