उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Tuesday, November 11, 2014

खत खत हौंस बि आंद, ठट्टा लगाणो ज्यू बि बुल्यांद अर रुण बि आंद

चबोड़्या , चखन्यौर्या , घपरोळया ::: भीष्म कुकरेती  

                      अज्काल राजनैतिक थौळुम , गलियारों मा , प्रदेशुं राजधानियुं  मा जु बि हूणु च वांपर मुल मुल  मुस्कराट बि आंद , खत खत जोरकी हंसी बि आंद अर ज्यू खट्टू बि हूंद। अब जब इनमा रुणो , ऐड़ाट -भुभ्याट अर हंसणो अलावा क्वी विकल्प नि बच्युं   ह्वाऊ तो हंसण इ बेहतर च। 
          अब द्याखो ना नरेंद्र मोदीक स्वच्छ भारत अभियान से आसा बंधदि , ऊर्जा संचार हूंद पर सरा उत्साह तब भेळ जोग ह्वे जांद जब हम इस्लामिक सेंटर मा भाजपा का सतीश उपाध्याय का सफाई अभियान का स्वांग दिखदा। 
स्वच्छ भारत  अभियान  भारत की जरूरत च, हरेक भारतीय का वास्ता जरूरी च पर भाजपा मा ही रानी वसुंधरा राजे सिंधिया या भाजपा विरोध्युं कुण यु अभियान एक राजनैतिक चाल च। मि बुल्दु स्वच्छ भारत अभियान एक राजनैतिक चाल किलै नि हो , एक राजनैतिक छल -कपट ही किलै नि हो हम तैं ये पाप करण मा पुण्य अर आयुर्वृद्धि  हि मिलण तो इन पाप करण मा क्वी गुनाह नी च। 
       जम्मू -कश्मीर अर झारखंड मा चुनाव हूणों कारण भाजपा , कुछ द्वि चार पार्टयूं  मा जोश च , उत्साह च पर पता नि राहुल गांधी अणमण सि उदास किलै छन धौं । 
        कुछ दिन पैल आम आदमी पार्टी का बड़ा आम आदमी याने अरविन्द केजरीवाल सुबेर , श्याम अर सोसल मीडिया मा दिन रात किरांद छौ बल दिल्ली विधान सभा भंग कारो , चुनाव करवावो अर अब बैनर लगाणा  छन कि मोदी जी केंद्र मा पीएम अर मि दिल्ली मा सीएम । 
        कॉंग्रेसी कंटर बजाणा छया , ढोल बजाणा छया , जंघड़ बजाणा  छया बल राहुल गांधी का कुशल , सशक्त , दूरदर्शी नेतृत्व का कारण राजस्थान , गुजरात मा कॉंग्रेस मध्यविधि चुनाव  जीत अर अब बुलणा छन बल कॉंग्रेस  क्षेत्रीय नेताऊँ कमजोरी , संगठनात्मक कमजोरी अर नरेंद्र मोदीक झूठा आश्वासनुं  कारण महाराष्ट्र अर हरियाणा चुनाव हार। 
          कुछ दिन पैल परिवारवादी , जातिवादी, कर्सिवादी याने नामौक , बुलणोक , सुदि -सुद्याक समाजवादी मिलेन कि मोदी तैं हटाणो बान एक हूण जरूरी च।  अब कुछ दिन बाद यूंन शिव सेना का उद्धव ठाकरे तैं बि न्योता दीण कि आओ मोदी तैं हटैक भारत बचाये जावु ! कै तैं बि भारत कि चिंता नी च असलम परिवार की चिंता सब्युं तैं च।
          प्रकाश सिंग बादल खुस छन कि ब्वारी याने हरसिमरत कौर बादल अबि बि केंद्रीय मंत्रिमंडल मा च , भाजपा का यशवंत सिन्हा खुश छन कि नौनु मंत्री बण गे पर भूतपूर्व मुख्यमंत्री धुमाल अर वर्तमान मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे रूणा छन कि हमारा सुपुत्रों तैं गद्दी नि मील !
            जब बि मनमोहन सिंग जी मंत्रिमंडल विस्तार करांदा छा तो भाजपा का लोग भगार , लांछन , अभियोग लगांदा छा कि मंत्रिमंडल मा दागी मंत्री छन अर अब जब जनता भाजपा से पुछणी च कि गिरिराज सिंह  , राम शंकर कठेरिया ,  वाई येस चौधरी तैं मंत्री किलै बणाइ ? तो कुतर्की दिवता अरुण जेटली जनता तैं टेक्निकल बात समझाणो कोशिस करणा छन कि हमर लोगुं पर लग्युं अपराध नि हूंद पर यो ही अपराध कॉंग्रेस्यूं अर हौरि पार्ट्युं  वास्ता पापी अपराध च। जेटली जी ! जनता सब जानती है कि अपराध क्या होता है। 
       टेहरी रानी , खंडूरी , निशंक , कोशियारी  दुःख बर्दास्त करणा छन, दिल बौगाणा छन अपण चमचों तैं तस्सली दीणा छन बल   मि केंद्रीय मंत्री नि बौण साक पर खुस छन , आनंदित छन , प्रसन्न छन बल अजय टमटा बि  केंद्रीय मंत्री नि बौण।  राजनीति मा नेता अपण दिवाल गिरण से दुखी नि हून्दन पर दुसरौ कमर टुटण से पुळयांद छन ,   खुस हून्दन , वैक ठट्टा लगांदन।  हाँ !   बिचारा सतपाल महाराज जी पर क्या बितणि होलि कि जब बगैर कुर्सी को ही रौण छौ तो कॉंग्रेस बुरी क्या छे ? 
         

Copyright@  Bhishma Kukreti 11 /11 /2014       
*
लेख की   घटनाएँ ,  स्थान व नाम काल्पनिक हैं । लेख में  कथाएँ चरित्र , स्थान केवल व्यंग्य रचने  हेतु उपयोग किये गए हैं। 



Garhwali Humor in Garhwali Language, Himalayan Satire in Garhwali Language , Uttarakhandi Wit in Garhwali Language , North Indian Spoof in Garhwali Language , Regional Language Lampoon in Garhwali Language , Ridicule in Garhwali Language  , Mockery in Garhwali Language, Send-up in Garhwali Language, Disdain in Garhwali Language, Hilarity in Garhwali Language, Cheerfulness in Garhwali Language; Garhwali Humor in Garhwali Language from Pauri Garhwal; Himalayan Satire in Garhwali Language from Rudraprayag Garhwal; Uttarakhandi Wit in Garhwali Language from Chamoli Garhwal; North Indian Spoof in Garhwali Language from Tehri Garhwal; , Regional Language Lampoon in Garhwali Language from Uttarkashi Garhwal; Ridicule in Garhwali Language from Bhabhar Garhwal; Mockery  in Garhwali Language from Lansdowne Garhwal; Hilarity in Garhwali Language from Kotdwara Garhwal; Cheerfulness in Garhwali Language from Haridwar