उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Friday, November 28, 2014

हरिद्वार , बिजनौर , सहारनपुर इतिहास संदर्भ में पौराणिक कथाओं का जन्म

 Imagination  of   Puran Stories by Proto- Australoid Race in context History of Haridwar, Bijnor and Saharanpur
                                हरिद्वार , बिजनौर , सहारनपुर इतिहास संदर्भ में पौराणिक कथाओं का जन्म 

                               Proto- Australoid Race in Context History of Haridwar -4
                                          कोल , मुंड , शवर जाति और हरिद्वार का इतिहास -4 
                                    
                                Racial Elements in Haridwar Population of Prehistoric Period 7  

                                  हरिद्वार,  बिजनौर , सहारनपुर की नृशस शाखाएं -एक ऐतिहासिक विवेचन -7  

                                       हरिद्वार का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास -भाग -16    

                                                      History of Haridwar Part  --16   

                              
                           
                                                   इतिहास विद्यार्थी ::: भीष्म कुकरेती

            पुराणो में संग्रहित एवं भारत , उत्तराखंड , हरिद्वार , बिजनौर व सहारनपुर में आज भी प्रचलित अनेक पुराकथाओं की कल्पनाओं का श्रेय कोल , मुंड , शवर जाति को जाता है। अंड से मनु , ब्रह्माण्ड , सृष्टि का जन्म जैसे सिद्धांत , विष्णु के नवावतार; मत्स्य -गंध , मत्स्य -गंधा स्त्री ; जल , पातळ , नागलोक , नागों को देवलोक समक्ष ले जाने वाली कई कथाओं की कल्पना का श्रेय कोल , मुंड , शवर जाति को ही जाता है (मजूमदार , पुसलकर ).
       कोल , मुंड , शवर जाति ने पेड़ -पौधों , नक्षत्रों , जंतुओं से अपनी जाति  का जन्म व इनका जाति विशेष पर अनुग्रह की भी कल्पना की और ये  कल्पनायें अभी भी लोककथाओं में भारत , उत्तराखंड , हरिद्वार , बिजनौर व सहारनपुर में जीवित हैं।  
 महाभारत में कौरवों का जन्म मांस पिंड से होना , रामायण , महाभारत की अन्य कथाएँ , धूमकारी जातक कथाओं की सर्वप्रथम कल्पना कोल , मुंड , शवर जाति ने की थी। रामायण में ककड़ी से सूर्यवंश की कल्पना , भी कोल , मुंड , शवर जाति की ही देन है। 
 रामायण की कथा की कल्पना भी कोल , मुंड , शवर जाति ने शुरू की थी।  इसी तरह कृष्ण ,  व्यास , विदुर , अनार्य कोल या द्रविड़ माताओं से जन्म लेने जैसी कथाओं का श्रेय भी कोल , मुंड , शवर जाति को जाता है।  

Copyright@ Bhishma Kukreti  Mumbai, India 28  /11/2014


History of Haridwar to be continued in  हरिद्वार का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास -भाग 17          

(The History of Garhwal, Kumaon, Haridwar write up is aimed for general readers) 

  Imagination of Puran Stories by Proto- Australoid Race in context History of Kankhal, Haridwar, Uttarakhand ; Imagination of Puran Stories by Proto- Australoid Race in context History of Har ki Paidi Haridwar, Uttarakhand ; Imagination of Puran Stories by Proto- Australoid Race in context History of Jwalapur Haridwar, Uttarakhand ; Imagination of Puran Stories by Proto- Australoid Race in context History of Telpura Haridwar, Uttarakhand ; Imagination of Puran Stories by Proto- Australoid Race in context History of Sakrauda Haridwar, Uttarakhand ; Imagination of Puran Stories by Proto- Australoid Race in context History of Bhagwanpur Haridwar, Uttarakhand ; Imagination of Puran Stories by Proto- Australoid Race in context History of Roorkee, Haridwar, Uttarakhand ; Imagination of Puran Stories by Proto- Australoid Race in context History of Jhabarera Haridwar, Uttarakhand ; Imagination of Puran Stories by Proto- Australoid Race in context History of Manglaur Haridwar, Uttarakhand ; Imagination of Puran Stories by Proto- Australoid Race in context History of Laksar, Haridwar, Uttarakhand ; Imagination of Puran Stories by Proto- Australoid Race in context History of Sultanpur,  Haridwar, Uttarakhand ; Imagination of Puran Stories by Proto- Australoid Race in context History of Pathri Haridwar, Uttarakhand ; Imagination of Puran Stories by Proto- Australoid Race in context History of Landhaur Haridwar, Uttarakhand ; Imagination of Puran Stories by Proto- Australoid Race in context History of Bahdarabad, Uttarakhand ; Haridwar; Imagination of Puran Stories by Proto- Australoid Race in context History of Narsan Haridwar, Uttarakhand ; Imagination of Puran Stories by Proto- Australoid Race in contextHistory of Bijnor; Imagination of Puran Stories by Proto- Australoid Race in context History of Nazibabad , History of Imagination of Puran Stories by Proto- Australoid Race in context Saharanpur