उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, November 24, 2014

पहाड़ी बच्चौं नजर मा स्मार्ट सिटी

Best  Garhwali Humor  , Satire on  Smart Cities in India


                                                                पहाड़ी बच्चौं  नजर मा स्मार्ट सिटी 
      
                                                      चबोड़्या , चखन्यौर्या , शहर्या ::: भीष्म कुकरेती

मास्टरजी - अच्छा बच्चों पिछ्ला तीन मैना बिटेन मि तुम तैं क्या पढ़ाणु छौ ?
एक छात्र (अपण बौंळ पर सींप पुंजद -पुंजद )- हम बच्चों तैं सफाई कन करण चयेंद। 
हैंक छात्र (थक थुकिक ) - हम तैं अपण आस पास सफै रखण चयेंद। 
एक छात्रा (कन्ना गू साफ़ करद -करद ) - हम तैं केवल अर केवल शौचालय मा शौच करण चयेंद।
मास्टर - बिलकुल सही !
मास्टर - अब इन बताओ कि प्रधान मंत्री पर क्या रबत -खबत लगीं छन ?
एक छात्रा - गंदगी मुक्त भारत !
हैंक छात्र - भ्रष्टाचार  मुक्त भारत !
एक छात्र - कॉंग्रेस मुक्त भारत !
मास्टर -अबे हराम का जयां ! ब्याळि बतै त छौ कि माननीय प्रधान मंत्री की इच्छा च कि 
एक छात्र - भारत अमेरिका जन ह्वे जा !
दुसर छात्र - इंडिया जापान से अग्नै बढ़ जा !
तिसर - भारतम सब स्मार्ट ह्वे जावन !
मास्टर जी-  सब स्मार्ट ना ! भारत मा सौ स्मार्ट सिटी बण जावन !
सबि - हाँ हमन टीवी मा देखि छौ कि मोदी जी बुलणा छा कि भारत तैं स्मार्ट सिट्यूं भारी आवश्यकता च। 
मास्टर जी - ब्याळि मीन तुम तैं स्मार्ट सिटी कु निबंध पढ़ैक सुणै छौ कि ना ?
सबि - हाँ 
मास्टर जी - अब मि स्मार्ट सिटी बाबत  प्रश्न पुछल।  एकक कौरिक जबाब देन हाँ ! आज सिरफ़ स्मार्ट सिटी की परिभाषा पर विचार विचार होलु। 
सबि -जी !
मास्टर जी- हे घ्याळु  ! स्मार्ट सिटी क्यांकुण बुल्दन ?
गिंदा - मासाब ! घ्याळुन त गुमखाल बजार बि नि द्याख तो स्मार्ट सिटी बाराम क्या बथाल ?
मास्टर जी -जीब निकाळ द्योल मि हाँ ! मीन पाणी जाज नि द्याख , मीन हवै जाज नि द्याख अर मीन  शतुरमुर्ग बि  नि द्याख तो मि तुम तैं यूँ बथुं बाराम नि पढ़ांदु  ? चल बोल बै घ्याळु स्मार्ट सिटी क्या हूंद।
घ्याळु- यूँ तो भारत एक कृषि प्रधान देस है और भारत में महानगर पाये जाते हैं , भारत में कस्बे पाये जाते  हैं और अब भारत में स्मार्ट सिटियों की भी बिज्वाड़ लगेगी। मि तैं इथगा इ आंद। 
मास्टर जी- ठीक च।  ये मस्ता अब तू बोल , स्मार्ट सिटी क्या हूंद ?
मस्ता - यूँ तो भारत एक कृषि प्रधान देस है किन्तु स्मार्ट सिटियों मा स्मार्ट मरद , स्मार्ट जनानी  अर स्मार्ट कुत्ता पाये जांदन। 
मास्टर जी -अबै स्मार्ट मरद अर स्मार्ट जनानी त ठीक च पर कुत्तोंक स्मार्ट सिटी मा क्या काम ?
मस्ता - अब जब हमर गां मा कुत्ता ह्वे सकदन तो स्मार्ट सिट्युं मा कुत्ता तो होला ही ? 
मास्टर जी- बैठ जा ! हे स्वांरी ! तू बता कि स्मार्ट सिटी मा कूड़ कन होला ?
स्वांरी - यूँ तो भारत एक कृषि प्रधान देस है।  स्मार्ट सिट्युं मा बड़ा बड़ा बंगला हूंदन , ऊँची ऊँची अट्टालिका हूंदन अर हर जगा ऊंचा -ऊंचा शानदार शौचालय हूंदन। 
मास्टर जी -बंगला , अट्टालिका तो ठीक च पर ऊंचा ऊंचा , शानदार शौचालय ?
स्वांरी - मास्टर जी ! मीन सूण बल सिट्युं मा पुंगड़  नि हूंदन त इथगा लोग झाड़ा (पाखाना ) कख जाला ?
मास्टर जी- ओहो मीन बोली छौ कि ना कि स्मार्ट सिट्युं मा फ़्लैट का  रसोई का समिण शौचालय हूंदन।
स्वाँरा - रुस्वड़क समिण शौचालय ? बेशरम , बिलंचुं तैं शौचालयक समिण खांद दैं घीण नि लगद ह्वेलि ? 
मास्टर जी -  अच्छा अच्छा बैठ जा।  तू बता रै ग्वारा ! स्मार्ट सिट्युं मा रस्ता कन हूंदन ?लोग कन हिटदन ?
ग्वारा - पर मास्टर जी आपन त बतै छौ कि स्मार्ट सिट्युं मा रोड हूंदन फिर रस्ता ?
मास्टर जी - अरे रस्ता कुण ही रोड बुल्दन। 
ग्वारा -यूँ तो भारत एक कृषि प्रधान देस है।  स्मार्ट सिट्युं मा रोड लम्बा हूंदन , रोड चौड़ा हूंदन अर हेमामालिनी का गल्वड़  जन चिपुळ हूंदन। 
मास्टर जी - हेमामालिनी जन चिपुळ ?
 ग्वारा - हाँ म्यार ददा जीन बतै छौ कि लालू प्रसाद जीन बतै छौ कि सबसे सुंदर, बिगरैल  अर टिकाऊ रोड वी हूंदन जु रोड हेमामालिनी का गल्वड़ जन चिपुळ हूंदन।
मास्टर जी - अच्छा स्मार्ट सिट्युं बणन से गढ़वळयूँ तैं क्या फायदा होलु ? तू बोल रै  ज्ञानदाता  !
ज्ञानदाता-  यूँ तो भारत एक कृषि प्रधान देस है। स्मार्ट सिट्युं बणन से गढ़वळयूँ तैं होटलम , ढाबों मा अर घौरम खानसामा की नौकरी मीललि।  द्वी टैम खाणक मीलल , लत्ता कपड़ा मीलल अर बार बार झिड़की बि मीलली। 


Copyright@  Bhishma Kukreti 22 /11 /2014    
   *लेख की   घटनाएँ ,  स्थान व नाम काल्पनिक हैं । लेख में  कथाएँ चरित्र , स्थान केवल व्यंग्य रचने  हेतु उपयोग किये गए हैं। 
Best of Garhwali Humor in Garhwali Language on Smart Cities in India; Best of Himalayan Satire in Garhwali Language on Smart Cities in India ; Best of  Uttarakhandi Wit in Garhwali Language on Smart Cities in India ; Best of  North Indian Spoof in Garhwali Language on Smart Cities in India; Best of  Regional Language Lampoon in Garhwali Language on Smart Cities in India; Best of  Ridicule in Garhwali Language ; Best of  Mockery in Garhwali Language on Smart Cities in India; Best of  Send-up in Garhwali Language on Smart Cities in India; Best of  Disdain in Garhwali Language on Smart Cities in India; Best of  Hilarity in Garhwali Language on Smart Cities in India; Best of  Cheerfulness in Garhwali Language on Smart Cities in India;  Best of Garhwali Humor in Garhwali Language from Pauri Garhwal on Smart Cities in India; Best of Himalayan Satire in Garhwali Language from Rudraprayag Garhwal on Smart Cities in India; Best of Uttarakhandi Wit in Garhwali Language from Chamoli Garhwal on Smart Cities in India; Best of North Indian Spoof in Garhwali Language from Tehri Garhwal on Smart Cities in India; Best of Regional Language Lampoon in Garhwali Language from Uttarkashi Garhwal on Smart Cities in India; Best of Ridicule in Garhwali Language from Bhabhar Garhwal on Smart Cities in India; Best of Mockery  in Garhwali Language from Lansdowne Garhwal on Smart Cities in India; Best of Hilarity in Garhwali Language from Kotdwara Garhwal on Smart Cities in India; Best of Cheerfulness in Garhwali Language from Haridwar on Smart Cities in India;