उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Wednesday, November 12, 2014

भू.पू. स्वास्थ्य मंत्री डा हर्षवर्धन कु हुक्का पाणि बंद किलै ह्वे ?

घपरोळया ::: भीष्म कुकरेती 

                          नरेंद्र मोदीक मंत्री मंडल विस्तार मा स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन कु डिमोसन करवै गे , पदावनति करे गे , हर्षवर्धन का फंकर काटे गेन।  उन त "अच्छे दिन"  का समर्थक , सपोर्टर्स अर ठेकेदार बुल्दन बल नरेंद्र मोदी सद्यनि कुशल , प्रभावकारी अर मानव प्रेमी मंत्री अर संत्र्युं तैं प्रमोट करदन।  किंतु जब "अच्छे दिन आला " का समर्थकों से पूछे गए बल कुशल , प्रभावकारी अर मानवप्रेमी हर्षबर्धन कु डिमोसन किलै ह्वै तो इ लज्जाहीन  समर्थक बेशरमी से जबाब दीणा छा कि यु त प्रधानमंत्री को अधिकार च।  
     अखबार अर मीडिया का भीतरी सूत्र बताणा छया कि चूँकि दिल्ली का चुनाव अग्वाड़ी छन अर शायद डा हर्षवर्धन तैं मुख्यमंत्री बणये जाव तो डा साब तैं स्वास्थ्य जन महत्वपूर्ण महकमा  से हटैक  बेकारौ  विभाग विज्ञानं अर तकनीक मा धुळे , चुलये , फिंके गे बल। 
       कुछ अखबारों , मीडिया तैं सूत्र बताणा छन कि चूँकि हर्षवर्धन कु काम प्रभावकारी नि  छौ च तो इफेक्टिव मैनेजमंट का धड्वै, प्रभावकारी प्रबंधन का प्रबल समर्थक , घ्वाड़ा तैं घ्वाड़ा अर गधा तैं गधा बुलण वाळ नरेंद्र मोदीन हर्षवर्धन की पदोवनती कार।  ऊँ तैं , मि तैं अर तुम तैं विश्वास नी च कि हर्षवर्धन नाकामयाबी से हर्षवर्धन की  पदोवनती   से कुछ लीण दीण च। 
 कुछ पत्रकारुं सोर्स , म्यार सूत्र अर ख़ास तुम्हारी छठी इंद्री बताणी च कि डा हर्षवर्धन की पदोवनती  पैथर कुछ हौरि राज च।  सत्ता का गलियारुं  , पावर कोरिडोरुं , कन्स्टीट्यूसन क्लब मा त कानाफूसी हूणि च बल चूँकि डा हर्षवर्धन भारत से हुक्का -सजला -तमाखु  तैं अरब सागर जोग करणै फिराक मा छया तो शैतान का मुंहलगा  टोबेको लॉबीन डा हर्षवर्धनौ हुक्का पाणि ही बंद करै दे। 
        जी हाँ असलियत या च की टोबेको लॉबी तैं डा हर्षवर्धन की स्वस्थ्य संबंधी सोच पसंद नि आई तो डा हर्षवर्धन तैं ऊंकी जगा बताये गए। 
       डा हर्षवर्धन तैं पता छौ , ज्ञान छौ अर ऊंमा रिकॉर्ड छौ कि भारत माँ तमाखु सेवन से 10 लाख से अधिक लोग मोरदन अर 50 लाख लोग आर्थिक , सामाजिक, सोसल  रूप कमजोर हूंदन। 
        डा हर्षवर्धन तैं जाणदा छा , पछ्याणदा  छा अर ऊँ तैं पक्को विश्वास बि छौ कि भारत मा ही ना सरा दुन्या मा चरस -गांजा सेवन से उथगा लोग नि मरदन जथगा तमाखु सेवन से मरदन। 
           सूत्र बतांदन कि डा हर्षवर्धन भारत से सन 2020 तक तमाखु सेवन निर्मूलन की योजना पर काम करणा छया।  डा हर्षवर्धन भारत मा तम्बाकू पीणो वास्ता तम्बाकू की खेती पर एकदम रोक लगाणो फिराक मा छया।  डा हर्षवर्धन की दिल्ली इच्छा छे कि साल चार साल मा भारत मा बीड़ी -सिगरेट निर्माण बंद ह्वे जाव अर फिर सिगरेट आयत बि बिलकुल बंद ह्वे जाव। 
           असल मा डा हर्षवर्धन भारत तैं टोबेको फ्री करणै फिराक मा छया। 
  किन्तु दस्यु वर्ग , रागस वर्, शैतान  का बेटा  याने सिगरेट लॉबीन हर्षवर्धन तैं इन पछाड़ कि भारतवासी सुचणा छन कि डा हर्षवर्धन नकज्जा मंत्री छया।  शैतान की औलाद  सिगरेट लॉबी मनुष्यों कत्लेआम करणो वास्ता अपण दुस्मनो इज्जत पर हमला करद , मानव भक्षी शैतान की औलाद सिगरेट लॉबी मानव जाती तैं खतम करणो वास्ता  अपण विरोध्युं मान सम्मान पर खुले आम आक्रमण करद अर मृत्यु पुजारी शैतान की औलाद सिगरेट लॉबी अंदादुंद पैसा कमाणो वास्ता अपण गैरसमर्थकों की पदावनति करांद। 
शैतान की औलाद सिगरेट लॉबी सभी राजनीतिक पार्टयूं तैं चंदा दींदी तो सरकारी दल हो या विरोधी दल हो यी सभी मानव हत्यारा शैतान का बेटा याने सिगरेट लॉबी का गुलाम हुंदन अर तभी तो कॉंग्रेस , समाजवादी पार्टी , बसपा , तृणमूल कॉग्रेस , एडीमके , डीएमके , बीजेडी , अकाली , एनसीपी कै बि पार्टिन भाजपा या नरेंद्र मोदी से यु सवाल नि कार कि डा हर्षवर्धन तैं स्वास्थ्य मंत्रालय से किलै हटाये गे।  प्रधान मंत्री को अधिकार अवश्य च कि वो अपण मंत्री नियुक्त कारो किंतु प्रधान मंत्री तो प्रधान सेवक च तो वै प्रधान मंत्री तैं सब्युं तैं पुछण चयांद कि आपका मंत्रिमंडल गठन माँ यमराज का भाई शैतान की औलाद टोबेको लॉबी  कथगा हाथ च ? 
शैतान का बेटा याने टोबेको लॉबी भौत ही खतरनाक हूंद वैक विरोध क्वी बि डा हर्षवर्धन कारल तो वैकि बेज्जती खुले आम करे जांद कि भविष्य मा क्वी बि स्वास्थ्य मंत्री शैतान की औलाद का विरोध की ना सोचे। 
शैतान अपण शैतानियत भौत ढंग से निभांद अर वैक शैतानी कारनामा एक च कि जु बि मंत्री शैतान का विरुद्ध हो ना कि वै मंत्री तैं संत्री बणाये जाव।  

शैतान की औलाद सिगरेट लॉबी इथगा कुकर्मी , बदजात , हत्यारा च कि या लॉबी मृत्यु कारक सिगरेट तैं मृत्यदायक पदार्थ घोषित नि हूण दींद।  डा हर्षवर्धन भौत जल्दी एक नियम लाणा छया जै नियम का तहत सिगरेट का डब्बों पर 75 % जगा मा घोषित होलु कि सिगरेट यमराज च , तम्बाकू यमराज च अर सिगरेट स्मोकिंग ही मृत्यु दायक च यमराज च।  पर शैतान की औलाद सिगरेट लौबिन डा हर्षवर्धन ट्रांसफर ही नि करायी अपितु डिमोसन करायी जाँसे जगत प्रकाश  नड्डा सिगरेट स्मोकिंग तैं यमराज नि ब्वालो अपितु तम्बाकू सेवन तैं जीवन घुट्टी माने जाव। 
हिंदुओं तैं बिंगण चयेंद कि गौ हत्या पाप नी च बल्कि असली पाप तो तम्बाकू पीण च , मुसलमानो तैं बि मनण चयेंद यदि सुवर भक्षण हराम तो तम्बाकू पीण वांसे बि अधिक हराम च।  किन्तु ना तो मुसलमान ना ही हिन्दू यूँ बातों तैं मानल किलैकि यूँ पर बि शैतान की औलाद कु भूत लग्युं च। 
कख डा हर्षवर्धन भारत से हुक्का /तम्बाकू सेवन बंद करणो फिराक मा छया अर कख शैतानी खेल का वजह से बिचारा हर्षवर्धन अब डिमोसन का दंस झेलणा छन। 
क्या आपकी छठी इंद्री नि बताणी कि शैतान की औलाद टोबेको लॉबी कथगा शक्तिशाली च जु नरेंद्र मोदी का बि हाथ मरोड़ण माँ सक्षम च।   


Copyright@  Bhishma Kukreti 12 /11 /2014