उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, December 16, 2013

भू संरक्षण मंत्रालय शिक्षा मंत्रालय की लाल बत्ती ली गे !

चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती 

(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )
 ( पहले खंडों में आपने जाना कि किस तरह घ्याळ दा विधायक बने , कैसे शिक्षा मंत्री बनाए गए और फिर कल आपने पढ़ा कि मंत्री मंडल शपथ ग्रहण में किस तरह शिक्षा मंत्रालय कि बेइज्जती होती गयी। आगे …। )

जनि शपथ ग्रहण ख़तम ह्वे तनि नया नया बण्या मंत्री अपण मंत्रालय जिना भगणा छा जन बुल्यां सब्युं तैं झाड़ा लगीं हो।  थोड़ा देर मा ग्रहण जि लगण वाळ छौ अर फिर एक मैना तक मळमॉस  तो सबि  मंत्री आज अपण कामक शुरुवात करण चाणा छा। 
शपथ ग्रहण हाल का भैर  तक जूनियर अधिकारी घ्याळ दा तैं छुड़णो आयि अर  इथगा मा एक मनिखन अपण परिचय दयाइ , " सर माइसेल्फ माणावाल।  शिक्षा मंत्री कु  प्राइवेट सेक्रेटरी।  ग्लैड टु रिसीव यु !"
राजभवन का अधिकारींन ब्वाल ," माणावाल जी माइ ड्यूटी ऐंड्स हियर , नाउ ,युवर ड्यूटी स्टार्ट्स ."
शिक्षा मंत्री घ्याळ दा तैं इन लग जन बुल्यां वो कैदी ह्वावन अर एक जवान कैदी तैं हैंक जवान तैं सौंपणु ह्वावो। 
राजभवन का अधिकारिन गुड लक , गुड बाइ ब्वाल अर भितर चली गे। 
माणावाल जी उत्तरप्रदेश से उत्तराखंड तैं हौर अधिकार्युं तरां दहेज़ मा मिल्यां छन।  प्रादेशिक सेवा का काडर छन। 
घ्याळ दान ब्वाल ," चलो माणावाल जी ! मंत्रालय चले जावो !"
माणावाल जीन ब्वाल ," जी मंत्री जी ! पण मंत्री ह्वेक आप अब बगैर सरकारी सहायता का ना त खुट  अळगै सकदां अर ना इ पैदल जै सकदा। आपा कुण सरकारी कार आणि च " 
घ्याळ दान द्याख कि एक समयबद्ध अर क्रमवार तरीका से कार आणि छे अर अपण अपण सवारी याने मंत्री तैं लेकि जाणि छे।   सवारी उठाणो कंडक्टर बि छौ याने मंत्री दगड़ मा मंत्रीक सेक्रेट्री बि छौ। 
घ्याळ दाकु नंबर आखिरैं आइ। 
ड्राइवरन पैल अंग्रेजी शब्दों मा खड़ा खड़ी सिवा लगाइ अर कारौ पैथराक दरवाजा ख्वाल। 
शिक्षा मंत्री घ्याळ दा गाड़ी मा पैथर बैठिन अर ड्राइवरों बगल मा माणावाल जी बैठि गेन। गाड़ी चलण लगी गे। 
कुछ समय बाद माणावाल जीन चलदी गाडी मा ड्राइवर जी से पूछ," ये भै ख्यातवाल जी ! कार का मथ्याकि लाल बत्ती कख चलि गे ?"
ड्राइवर ख्यातवाल जीन जबाब दे ," वू क्या च ! भू संरक्षण मंत्रालय की कार की लाल बत्ती खराब ह्वे गे छे त भू संरक्षण मंत्रालयो ड्राइवर लाल बत्ती ली ग्याई। अर ऊनि बि शिक्षा मंत्रालय कु क्वी रौब दाब हूंद नी च तो मीन बि लाल बत्ती भू संरक्षण मंत्रालय तैं दे दयाइ। "
घ्याळ दान गाड़ी रुकवाइ , गाड़ी से भैर ऐन , माणावाल जी बि भैर ऐन.
घ्याळ दान ड्राइवरों कुण बरफ जन ठंडा शब्दों मा ब्वाल ," ड्राइवर जी ! जावो अर भू संरक्षण विभाग की कार से लाल बत्ती वापस लावो। इनी अपण चीज दुसर मंत्रालय तै दीणा रैल्या तो रौब दब अफिक खतम हूंद। "
घ्याळ दान माणावाल जी से ब्वाल," चलो जी पैदल ही शिक्षा मंत्रालय चले जावो। " 
माणावाल ," जी उन बि सि अपण मंत्रालय आइ गे।  बस एक  द्वी फलांग ."
इना सबी मंत्रालय छा।  सबि मंत्रालयों समिण नै मंत्री तैं वधाई दीण वाळु पिपडकारो लग्युं छौ। 
वित्त मंत्रालयक समीण भीड़ से एक अदबुडेड़ आदिमन हाथ हिलाइ , माणावाल जीन बि  उत्साह दिखैक हाथ हिलाइ। 

माणावाल जीन घ्याळ दा तै बताइ ," यी गढ़वाल  विश्वविद्यालय का उपकुलपति डा नटवर लाल छन। "
घ्याळ दान पूछ ," नटवर लाल जी वित्त मंत्री जीक रिस्तेदार छन ?"
माणावाल जीन जबाब मा ब्वाल ," नै नै ! विश्व विद्यालय तैं समय पर वित्तीय सहायता पौंछणी रावो यांक बान उपकुलपति वित्त मंत्री दगड़ अच्छा संबंध बणैक रखदन . "
उद्योग मंत्रालय समिण भीड़ से एक प्रौढ़ आदिमन माणावाल जीक तरफ जोर का हाथ हिलाइ अर माणावाल जीन बि जोर कैक हाथ हिलाइ। 
माणावाल जीन ब्वाल ," सर ! यी कुमाऊं विषयवविद्यालय का उपकुलपति डा उफंदरी सिंग छन। "
घ्याळ दान पूछ ," डा उफंदरी सिंग उद्योग मंत्री का बालमित्र  छन ?"
माणावाल जीन बोलि ," नै नै ! विश्व विद्यालय तैं उद्योग पतियों से स्पोंसरशिप मिलदा रावो यांक वास्ता उपकुलपति उद्योग मंत्री दगड़ शुरू से ही रिलेसन बणान्दन। "
गृह मंत्रालय क समिण की भीड़ से बि एक आदिमन   माणावाल जीकुण हाथ हिलाइ अर माणावाल जीन बि हाथ हिलाइ। 
माणावाल जीन ब्वाल ," यी हरिद्वार विश्वविद्यालय का कुलपति डा भजराम हवलदार छन।  यूं तैं राज्य मंत्री जन सुरक्षा मिलणी रावो यांक बान यी सदा गृह मंत्रालय का चक्कर लगाणा रौंदन . "
 इथगा मा शिक्षा मंत्रालय की बिल्डिंग ऐ ग्याइ। 
जख गृह मंत्रालय , उद्योग मंत्रालय , वित्त मंत्रालय , वन  मंत्रालय का भवन चकाचक चमकणि छया , उख शिक्षा मंत्रालय कु भवन इन छौ जन बुल्यां कैं विधवा क मांग अर अन्वार ह्वावो।  शिक्षा मंत्रालय का भवन कांतिहीन , चमकहीन छौ। 
शिक्षा मंत्री तैं वधाई दीणो कवा तक बि नि अयां छा। वीरान , जन बुल्यां शिक्षा मंत्रालय बंजर धरती ह्वावो। 
गेट टूट्यूं छौ।  
घ्याळ दान पूछ ," गेट रिपेयर नि करांदा आप लोग ?"
माणावाल जीन उत्तर दे ," मंत्री जी ! द्वी साल बिटेन पीडब्ल्यूडी मंत्रालय कुण रिमाइंडर पर रिमाइंडर भिजणा छंवां पण क्वी सुणवाइ नी हूणि च। "
इथगा मा भितर बिटेन एक अधिकारी ऐन ," शिक्षा मंत्री जी आपकु स्वागत ! वधाई ! मि शिक्षा मंत्रालय कु चीफ सेक्रेटरी करम सिंह रावत !"
घ्याळ दान उत्साह से हाथ मिलांद ब्वाल ," आप कखि प्रिसद्ध इमानदार अधिकारी धर्म सिंह जीक रिस्तेदार त नि छंवां ?"
करम सिंह जीन जबाब दे ," जी मि ऊंक दुरौ रिस्तेदार छौं ."
घ्याळ दान ब्वाल ," चलो ऑफिस भितर चले जावो ?"
करम सिंह जीन ब्वाल ," सर जरा रुक जावो। राष्ट्रीय अर राज्य स्तर का टीवी चैनेल त हौर मंत्र्युं का मलाईदार मंत्रालय संम्बांलणम व्यस्त छन तो मीन एक लोकल केबल ऑपरेटर बुलायुं च।  बस आदि ह्वाल।  ल्या सि लोकल केबल चैनेल वाळ ऐ गेन। "
  
 *** कल पढ़े शिक्षा मंत्री का कक्ष कैसा है ?

Copyright@ Bhishma Kukreti  17/12/2013 


[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक मसखरी  दृष्टि से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  के  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वाले के  पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले के  भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले के  धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले के वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  के पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक के विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक के पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक के सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखक का सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक के राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य;सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनीति में परिवार वाद -वंशवाद   पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ग्रामीण सिंचाई   विषयक  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, विज्ञान की अवहेलना संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य  ; ढोंगी धर्म निरपरेक्ष राजनेताओं पर आक्षेप , व्यंग्य , अन्धविश्वास  पर चोट करते गढ़वाली हास्य व्यंग्य    श्रृंखला जारी  ]