उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Thursday, December 26, 2013

जब शिक्षा मंत्रीन बारा मिनट मा अठाणबे शिक्षा योजना बंद करिन

चुगनेर,चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती 

(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )


                  ब्याळि घ्याळ दान कैबिनेट मीटिंग मा हिस्सा ले।  ब्याळि एजेंडा मा कुछ ख़ास नि छौ।  शिक्षा विभागक चीफ सेक्रेटरी करम सिंग जीन पैलि बोल याल छौ कि चुनाव जितणो  तलक सरकारी राजनीतिज्ञ दल जश्न मनाण मा अधिक व्यस्त रौंदी या  पुरण सरकार की नीति से बणी योजनाओ तैं संवैधानिक तरीका से रुकण मा बहुत ही व्यस्त रौंद।  ब्याळि मुख्य ऐजेंडा छौ पिछली सरकार द्वारा बणयुं भ्रस्टाचार विरोधी नियम मा जु खामी छन वूं तैं कनकैक दूर करे जावो।  सबी जाणदन कि खामियों को दूर करणो अर्थ च कि कड़क नियमुं तैं डाइल्यूट करण। फिर मुख्यमंत्री दगड़ घ्याळ दाक क्षेत्र मा स्याळ दा, कुरस्यळ काका अर गूणि बाडा का बारा मा चर्चा ह्वे। मुख्यमंत्री अर घ्याळ दा बि  चांदा छा  कि घ्याळ दा चैन से रावो तो स्याळ दा तैं टोन्स नदी प्राधिकरण को मानद सदस्य , कुरस्यळ काका तैं मुनस्यारी पर्यटन विकास कु सदस्य अर   गूणी बाडा तैं तुंगनाथ पर्यावरण रक्षा समीति क सदस्य मनोनीत करे गे कि जां से यि तिनि या तो दूर दराज जगाऊँ मा पड्यां रावन या देहरादून का विभागीय गेस्ट हाउसुं मा सियां रावन । 
आज बि घ्याळ दा  पैदल ही कार्यालय पौंछ। 
आज बि माणावाळ जी सौएक फ़ाइल लेक ऐन। 
फाइल जमीन मा महत्व का हिसाब से रखे गए छा। 
घ्याळ दान जनि एक फ़ाइल उठाइ कि करम सिंह रावत जी ऐन। वूंन गुड मॉर्निंग कार। 
रावत जी - मिनिस्टर जी ! महत्वपूर्ण  काम  पैल हूण चयेंद। 
घ्याळ दा - फ़ाइल निबटाण   …… 
रावत -मिस्टर माणांवाल शो द ऑनरेबल मिनिस्टर हिज डेली बिजिनेस डायरी। 
माणावाल जीन अपण दगड़ लई डायरी मंत्री जीक समिण मा धार। 
घ्याळ दान द्याख कि आज ही ना अग्वाड़ी का एक साल का सैकड़ों अप्वाइंटमेंट छा। 
घ्याळ दान खौंळेक पूछ - आश्चर्य ! कनकै यु सम्भव च ? तुम तैं क्या मी तैं बि नि पता छौ कि मि चुनाव जितलु अर फिर शिक्षा मंत्री बणलु फिर यि अप्वाइंटमेंट ?  
 माणावाल - मंत्री जी ! हम इथगा त जाणदा छा कि क्वी ना क्वी त  शिक्षा मंत्री  बौणल ही । 
रावत - महामहिम राष्ट्रपति जी अर महामहिम राज्यपाल जी की संवैधानिक जुमेवारी च कि चाहे राजनीतिज्ञ ह्वावन या नि ह्वावन सरकारी काम निरंतर हूण चएंदन।
घ्याळ दा - बगैर राजनीतिज्ञों का काम करण कठिन होलु हैं ?
रावत - हाँ जी मंत्री जी ! नही मंत्री जी। 
घ्याळ दा - क्या ?
माणावाल - हाँ जी मंत्री जी केवल संबोधन च अर नहीं  मंत्री जी उत्तर च। 
घ्याळ दा कुछ कनफ्यूजे सि गेन अर डायरी दिखण बिसे गेन। 
डायरी मा आज कम से कम दस काम छा।  ये हफ्ता आठ कैबिनेट स्तर मींटिंगों मा शामिल हूण छौ। तीन महाविद्यालयों मा भाषण छा।  उगांडा से उत्तराखंड मा कक्षा आठ की शिक्षा स्तर दिखणो आयुं डेलीगेशन  का साथ रात्रि भोज. आधारिक विद्यालयों मा कम्प्यूटर शिक्षा अभियान की दसवीं दैं नई शुरुवात पर मंत्रीय आशीर्वचन।  विभिन्न शिक्षक यूनियनु दगड़ मीटिंग , उपकुलपतियों अर शिक्षा बोर्ड निदेशकों दगड़ मीटिंग आदि आदि।  गढ़वाल सभा देहरादून की जयंती का अवसर पर टेक्नीकल शिक्षा महत्व पर भाषण , रुड़की माँ किसान मेला मा कृषि मा बैलगाड़ी का महत्व पर भासण आदि आदि। 
घ्याळ दाक मुखं शब्द आयि -ये मेरी ब्वे इथगा काम !
घ्याळ दान देखि कि डायरी पेन्सिल से लिखीं छे। 
घ्याळ दा - ब्याळि  पार्टी अध्यक्ष जीन अर मुख्यमंत्री जीन मि तैं चार पार्टी कमीटी कु सदस्य बि मनोनीत कार अर मीन वूं मीटिंगु मा बि शिरकत करण 
रावत - जी मंत्री जी ! पर राज्य हित बड़ो कि पार्टी हित बड़ो ?
घ्याळ दा ये प्रश्न को उत्तर दे ही नि सकुद छौ। जु बी उत्तर होलु वु उत्तर  परेशानी मा डाळण वाळ होलु। 
घ्याळ दा की समज मा थोड़ा थोड़ा आण बिसे गे  कि ब्यूरोक्रेसी को मकड़जाळ  क्या हूंद 

इथगा मा चार चतुर्थ श्रेणी का कार्मिक सौ  फ़ाइल लेकि भितर ऐन दगड़म एक सेक्सन ऑफिसर बि छौ। 
रावत - सर इ फ़ाइल अत्यंत महत्वपूर्ण अर मोस्ट अर्जेंट फ़ाइल छन।  पंदरा मिनट मा यूंक निपटारा आवश्यक छन। 
घ्याळ दा - क्या च यूं फैलूं मा ?
माणावाल - सर पिछ्ला द्वी सालुं मा पिछली सरकारन जू बि योजना स्वीकार करीन वूं योजनाउं का  निरस्तीकरण।
घ्याळ दा -क्या ?
माणावाल -जी मंत्री जी ! चूँकि यि  सब  योजना राजनीति प्रेरित छा इलै मुख्यमंत्रीन यूं सब योजनाउं तैं निरस्त करणो आदेस दे आल। ब्याळि कैबिनेट मीटिंग मा यु आदेस स्वीकृत ह्वे। 
घ्याळ दा -रावत जी ! पण ब्याळि त कैबिनेट मीटिंग मा ये विषय पर क्वी चर्चा नि ह्वे छौ। 
रावत - जी मंत्री जी ! अंत मा मंत्र्युंन मुख्य्मंत्री तैं अधिकार दे छौ कि जनहित मा जु बि मुख्यमंत्री कारल  वो कैबिनेट तैं स्वीकृत च। ल्या कैबिनेट सेक्रेटरी को बि ऐ गे। 
कैबिनेट सेक्रेटरी (फोन पर ) -गुड मॉर्निंग मिस्टर मिनिस्टर ! पिछली सरकार की पिछ्ला द्वी साल मा शुरू करीं योजना आज ही निरस्तर हूण जरुरी च।  सॉरी टु ट्रबल यु सर ! आइ हैव टु इन्फोर्म ईच ऐंड एवरी मिनिस्टर।  
घ्याळ दा - पर मीन बगैर अध्ययन का कनकै फैसला लिखण यूं योजनाओं तैं निरस्तर करे जावो।
रावत - जी ! आपका आधीन नॉलेजेबल, अनुभवी अधिकारियुन सब अध्ययन करी आल।  
घ्याळ दा - इथगा कम समय मा ?
रावत -एस मिनिस्टर !
घ्याळ डा -मीन क्या करण ?
माणावाल - हरेक फ़ाइल का  पृष्ठ मा हासिया  पर आपन केवल अपण इनिशियल करण बस।  मथिन हमन पैलि लेखी याल कि इस योजना को जनहित और पर्यावरण हित में तुरंत निरस्तर  किया जाय। सेक्सन ऑफिसर जन्दरियाल जी इनिशियल करण मा आपकी सहायता कारल।
रावत जी अर माणावाल जी कैबिन से भैर गेन। 
वर्तमान शिक्षा मंत्री घ्याळ दान पिछली सरकार की अठाणबे शिक्षा योजनाओं तैं बारह मिनट बाइस सेकंड मा निरस्त करि देन । यु शिक्षा मंत्री घ्याळ दाको बतौर शिक्षा मंत्री पैलो क्रांतिकारी कार्य छौ । 
निनाणवीं फाइल छे स्युंसी -बैजरों  मा आइटीआइ स्कूल की।   यद्यपि स्युंसी -बैजरों घ्याळ दाक क्षेत्र से दूर राठ जीना छौ किन्तु एक  दगड्याक बुलण पर एक बार भौत साल पैल घ्याळ दान धुमाकोट मा आइटीआइ स्कुल खुलणो आंदोलन मा हिस्सा ले छौ। 
सौवीं फ़ाइल घ्याळ दाक क्षेत्र मा विज्ञान कॉलेज योजना की फ़ाइल छे जैं योजना से भूतपूर्व विधयाक 'विज्ञान पुरुष ' नाम से प्रसिद्ध ह्वे छा।  
घ्याळ दान माणावाल जी तैं बुलाइ। 



***भोळ बाँचो -क्या घ्याळ दा स्युंसी -बैजरों अर अपण क्षेत्र की शिक्षा योजना निरस्त कारल ? अर नि कारल तो रावत जी अर माणावाल जीकी क्या प्रतिक्रिया होलि ? 


Copyright@ Bhishma Kukreti  25/12/2013 


[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक  से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  के  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वाले के  पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले के  भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले के  धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले के वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  के पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक के विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक के पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक के सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखक का सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक के राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य;सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनीति में परिवार वाद -वंशवाद   पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ग्रामीण सिंचाई   विषयक  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, विज्ञान की अवहेलना संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य  ; ढोंगी धर्म निरपरेक्ष राजनेताओं पर आक्षेप , व्यंग्य , अन्धविश्वास  पर चोट करते गढ़वाली हास्य व्यंग्य    श्रृंखला जारी  ]