उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Friday, December 13, 2013

उत्तराखंड पर्यटन हेतु इंफ्रास्ट्रक्चर, साधन विकास

Requirement of Infrastructure for Tourism development in Uttarakhand 

(Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series--15  )

                                    उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन -भाग 15 
                                                    लेखक : भीष्म कुकरेती                              
                                                 (विपणन व विक्री प्रबंधन विशेषज्ञ )

 उत्तराखंड ही नही किसी भी पर्यटक क्षेत्र हेतु निम्न मुख्य साधन या इंफ्रास्ट्रक्चर (भौतिक व मानसिक ) आवश्यक होते हैं -
 १-परिवहन व यातायात के साधन 
२- पर्यटकों हेतु ठहरने के साधन 
३- पर्यटकों हेतु खान पान की व्यवस्था 
४-जल व्यवस्था , 
५- ऊर्जा व प्रकाश व्यवस्था 
६-संचार -प्रसार , सूचना आदान प्रदान की व्यवस्थायें   
६अ - स्थल के बारे में सूचना हेतु व्यवस्थाएं 
७- विभिन्न प्रकार की सफाई व्यवस्था 
८- स्वास्थ्य  व्यवस्था , अस्वास्थ्य कारकों को हटाने की व्यवस्था ,गंदगी निवारण  , कचरा हटाने , विषैले तत्व हटाने , गंदा जल निकास आदि की व्यवस्थाएं 
९-आपदा प्रबंधन व्यवस्था 
१०- पर्यटक स्थलों की  देखरेख व नये स्थलों, टूरिज्म प्रोडक्ट आदि की रचना व देखरेख 
११ - पर्यावरण, भौगोलिक ,  व सामजिक -धार्मिक - सांस्कृतिक मूल्यों की रक्षा 
१२-बैंकिंग व्यवस्थाएं 
१३-मनोरंजन, आनंद प्राप्ति व्यवस्थाएं 
१४- क़ानून व्यवस्था , सरकारी कर व्यवस्था 
१५- विभिन्न अधिकारों की रक्षा हेतु व्यवस्थाएं 
१६- आव्रजन -परिव्राजन (पासपोर्ट , वीसा ) आदि व्यवस्थाएं 
१७- विपणन , प्रचार व्यवस्थाएं 
१८- धन निवेश की व्यवस्थाएं 
१९- नागरिकों की रक्षा , सुरक्षा व्यवस्था 
२०- हैपीइकोनोमिक्स की और बढ़ने के साधन
२१- जब  भी नये साधन अन्वेषित हों उन्हें समय पर पर्यटक स्थलों में उपलब्ध कराना 
२२ - अन्य सकारत्मक  साधन 



Copyright @ Bhishma Kukreti 13 /12/2013

Contact ID bckukreti@gmail.com

Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series to be continued ...

उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन श्रृंखला जारी …

                                    References

1 -भीष्म कुकरेती, 2006  -2007  , उत्तरांचल में  पर्यटन विपणन परिकल्पना , शैलवाणी (150  अंकों में ) , कोटद्वारा , गढ़वाल