उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, December 16, 2013

क्या शिक्षा मंत्री की पोष्ट स्योड़ या भैड़ा जन पोस्ट च?

चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती 

(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )
 मुख्यमंत्री की इच्छा त या  ही छे कि ऊंक शपथ ग्रहण समारोह बड़ो मैदान मा हो अर दगडम मंत्री मंडल शपथ ग्रहण समारोह बि ह्वावो पण सटकपाल  रावत 'महाराज' , खड़क सिंग रावत अर हरषु रावत की आपसी राजनैतिक बैमनसी इथगा जोर की छे कि रत्यां मुख्यमंत्री जीन शपथ ले जन बुल्यां क्वी चोरी करणु ह्वावो। 
मंत्रीमंडल शपथ ग्रहण बि ग्रहण लगण से तीन  घंटा पैल करण पोड़ किलैकि वैका बाद मळमॉस लगणु छौ।  
शपथ ग्रहण से पैल घ्याळ दा तैं द्वी ऑफिसरुंन ट्रेनिंग दे कि कन महामहिम राज्यपाल कु सम्मान हूण चयेंद , कन शपथ लीण। 
घ्याळ दान ब्वाल बल मीन त गढ़वाळि मा सौं घटण।  अर यांसे संवैधानिक संकट खड़ो ह्वै गे। गढ़वाळी भाषा संविधान की आठवीं अनुसूची मा नी च अर घ्याळ दान शपथ लेकि बतै कि शपथ तो मीन गढ़वाळि मा ही लीण। बात गम्भीर अर संवेदन शील छे तो बात मुख्यमंत्री मा पौंछी गे।  मुख्यमंत्री ऊनि बि तनाव मा छा तो ऊन घ्याळ दा तैं हड़कै दे कि क्या च या बेकार सि भाषा मा शपथ लीणै बात हूणी   ।  
घ्याळ दान बि धीरे किन्तु ठोस अर  अडिग भौण मा बोल बल म्यार जनम इलहाबाद मा नी हुयुं च कि मि अपण ब्वे बदल द्यूं। 
मुख्यमंत्री घ्याळ दाक शब्द सूणि डौर गेन।  मुख्यमंत्री जी तैं पूरो भरवस ह्वे गे कि निर्गुट घ्याळ दा सटकपाल  रावत 'महाराज' , खड़क सिंग रावत अर हरषु रावत मादे कै ना कै पाळी /ग्रुप मा चली गे। फिर निर्णय ह्वाइ कि मंत्री जी तैं जैं बि भाषा मा शपथ लीणाइ लीण द्यावा। 
 शपथ ग्रहण से पैल घ्याळ दा अग्वाड़ी की पंक्ति मा बैठ्याँ धाकड़ -बड़ा नेताओं से मिलणा गेन। दगड़ मा एक जूनियर अधिकारी बि पूछ बौणि छौ।
घ्याळ दान सटकपाल  रावत 'महाराज' जी क खुट मा मुंड धार त सटकपाल  रावत 'महाराज' जीन  ब्वाल ," म्यार ग्रुप मा ऐ जांदि त यु जयुं बित्युं , फंडधुऴया , बेकार सि मंत्रालय नि मिल्दो।" घ्याळ दाक समज मा नि आयि कि 'महाराज' जीन श्राप दे कि आशीर्वाद ?
खटक सिंग रावत अर हरषु रावत गुस्सा मा नि अयां छा पण ऊंका प्रतिनिधि अयां छा। 
खटक सिंग रावत कु प्रतिनिधिन मिल्दो ही ब्वाल, छि मंत्रालय बि मील त क्या मील ?"
हरषु रावत कु प्रतिनिधिन ब्वाल ," क्या जरूरत छे ये उयाद, रद्दी  मंत्रालय तै स्वीकार करणै ? अति दक्षिण गढ़वाल  मा तू ही पार्टी को विधायक चुनिक ऐ  तो मुख्यमंत्री बुबा बोलिक क्वी बि मलाईदार अर इज्जतदार  मंत्रालय बुबा बोलिक दे दींदा। "
 घ्याळ दा कि समज मा नि आयि कि यी लोग कै तरां से बधाई दीणा छन.
पैल लाइन मा दिल्ली बिटेन  धाकड़ नेता कपिल खुब्य़ा बि ऐक  बैठ्युं छौ।  कपिल खुब्य़ा पैल त खुस ह्वे कि अति दक्षिण गढ़वाल मा घ्याळ दान जीतिक पार्टीक इज्ज्त बचाइ।  पण जनि जूनियर अधिकारिन बताइ कि घ्याळ दान शिक्षा मंत्री की शपथ लीण तो कपिल खुब्यान हिराकत भर्यां शब्दुं मा अधिकारी कुण ब्वाल ," ठीक है ठीक है ! इन्हे छोटे मोटे नेताओं को मिलने दो। "
 महामहिम राज्यपाल का आण से पैल शपथ लीण वाळ विधायकों तैं एक जगा मा बैठये गे।  चूंकि सब तैं पता छौ कि घ्याळ दान शिक्षा मंत्री बणन तो ऊंकी सीट सबसे पैथर अर इन जगा मा छे कि हाल मा बैठ्या लोग देखि नि सकद छा कि घ्याळ दा कखम बैठ्युं च। 
शपथ ग्रहण समारोह का बाद मंत्र्युं मुख्यमंत्री दगड़ फोटो सेसन ह्वै तो फोटोग्राफरन अर अधिकार्युंन घ्याळ दा तैं सबसे पैथर खड़ो कार अर फोटोग्राफरन इन बि चिंता नि कार कि शिक्षा मन्त्री कु मुंड त वित्त मंत्री अर पीडब्ल्यूडी मंत्री क पैथर छुप्यूं च। दूसर दिन जब स्थानीय समाचार   पत्रों मा मंत्र्युं सामूहिक फोटो   छप त शिक्षा मंत्री क कंधा ही दिखेणा छा। 
घ्याळ दा तैं सब दक्षिण गढ़वाल का पार्टी कु एकमात्र बान सबि बधाई दीणा छा पण क्वी बि घ्याळ दा तैं शिक्षा मंत्री बणनो वधाई नि दीणा छा। 
मंत्रीमंडल शपथ ग्रहण समारोह मा घ्याळ दाक ब्वे , घरवळि अर नौनु बि अयां छा। 
घ्याळ दा तैं ग्रहण लगण से पैल मंत्रालय मा प्रवेश करण जरुरी छौ।
ब्वे , घरवळि अर नौनु ड्यार जाण से पैल घ्याळ दा से मिलेन।  कैक मुख पर पुऴयाट (खुसी ) नि छे।  उलटां सब्युं रंग बेरंग हुयुं  छौ।
ब्वेन पूछ - हे घ्याळु ! यु शिक्षा मंत्री पोस्ट मड़घट (श्मशान ) का स्योड़ (महाब्राह्मण ) जन पदवी   च ?
घ्याळ दा - कनो ?
ब्वे - सबि घिणैक अर   हिराकत से बुलणा छा , " अच्छा घ्याळ जी तैं शिक्षा मंत्रालय मील ?"
घरवळि - सूणो ! राजनीति मा शिक्षा मंत्री भैड़ा जन पदवी च ?
पुत्र -बाबा जी ! राजनीति माँ शिक्षा मंत्री की पोस्ट कोढ़ी जन पोस्ट च ?
घ्याळ दा तैं मंत्रालय मा प्रवेश आवश्यक छौ तो वो यूं सासत्व सवालुं जबाब नि दे साकु। 
         



Copyright@ Bhishma Kukreti  16/12/2013 


[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक मसखरी  दृष्टि से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  के  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वाले के  पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले के  भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले के  धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले के वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  के पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक के विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक के पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक के सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखक का सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक के राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य;सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनीति में परिवार वाद -वंशवाद   पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ग्रामीण सिंचाई   विषयक  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, विज्ञान की अवहेलना संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य  ; ढोंगी धर्म निरपरेक्ष राजनेताओं पर आक्षेप , व्यंग्य , अन्धविश्वास  पर चोट करते गढ़वाली हास्य व्यंग्य    श्रृंखला जारी  ]