उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Friday, December 13, 2013

प्रधानमंत्री पद की दावेदारी ठोक द्यूं ?

चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती 

     
(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )
घरवळि - कनि बि छौ पर तुम से बढ़िया  तो वी छौ जु कखिम बि , कै बि पदौ बान दावा ठोकि दींदु छौ। 
मि - नाती -नतणा समाळणो उमर मा कैकि याद आयि जु में से बढ़िया छौ ?
म्यार  बडु नौनु -पापा ! ममी के मुहल्ले में , देहरादून में जो धरतीपकड़ के भानजे नही  हैं ?
मि - अरे वु जु ग्राम प्रधान से लेकि रास्ट्रपति पद की दावेदारी ठुकणु रौंद।  वैन एक दैं जल्लाद की दावेदारी बि ठोक दे छे। 
नौनु - हाँ ! ममी उसी की बात कर रही है। 
मि -तेरी ममी अर वैक क्या संबंध ?
नौनु -अरे ममी की शादी की बात उन्ही अंकल से भी चली थी। 
मि - तो फिर  शादी किलै नि ह्वै ?
नौनु -देहरादून के धरतीपकड़ अंकल ने ममी के ससुर पद की  दावेदारी ठोक दी थी।  नानी को खल गयी और बात आगे नही बढ़ी। 
मि -अब क्या ह्वै गे जु देहरादून का धरतीपकड़ की याद ऐ गे ?
घरवळि -तुमर ले क्या ? उख प्रधानमंत्री पद खाली हूणु च अर तुम सीणा छंवां 
मि - अबि बि मनमोहन जी प्रधानमंत्री पद पर छन। 
घरवळि -हाँ पण सोनिया जिठाणिन घोषणा नि कार कि समय आण पर कॉंग्रेसी प्रधानमंत्री क नामो घोषणा ह्वे जालि 
मि - तो ?
घरवळि -सि दिखणा नि छंवां , नीलकणी  नाम बि उछाळे गे।  
मि - तो ?
घरवळि -त तुम अचकाल खाली बि छंवां अर कॉंग्रेस मा प्रधान पद का उम्मीदवार को पद बि खाली च। 
मि - तो ?
घरवळि -त क्या ! एक सुन्दर सि बायो डाटा अपण भतिजु राहुल गांधी कुण भेजि द्यावो। 
मि - तु त इन बुलणि छे जन बुल्यां  बिरला कम्पनी का सीइओ (चीफ एक्जीक्यूटिव ऑफिसर ) का पद का वास्ता अर्जी भेजि दे। 
घरवळि -हाँ पण , गांधी परिवार का वास्ता भारत का प्रधानमंत्री पद सीइओ  पद जन ही तो च। 
मि -अरे भारत का प्रधान मंत्री पद बड़ो सम्मान का पद च। 
घरवळि -हां पण गांधी परिवार का वास्ता प्रदेस का मुख्यमंत्री पद ह्वावो या प्रधान मंत्री पद ह्वावो केवल सीइओ जन ही च। 
मि - मतबल ?
घरवळि -द्याख नी तुमन ! महाराष्ट्र मा पृथ्वी  चौहाण तैं कन मुख्यमंत्री बणये गयाइ जन बुल्यां मैनेजर की पोस्ट ह्वावो 
मि - हाँ पर ?
घरवळि -फिर द्याख नी तुमन विजय बहुगुणा तैं उत्तराखंड का चीफ मिनिस्टर इन बणये गे जन बुल्यां कमीसन क की पोस्ट खाली ह्वावो अर कै माननीय भूतपूर्व जज तै कमीसन का हेड बणै द्यावो। 
मि - मुख्यमंत्री की बात अलग च।  इंदिरा गांधी जी अर संजय गांधी बि अपण मुख्यमंत्र्युं तैं मुगलकालीन सूबेदार ही समझदा छा। 
घरवळि -वी त बुलणु छौं मि कि गांधी परिवार का वास्ता  एक सीइओ जन ही पद च। तुम ,  अबि अपण भतीजो राहुल गांधी कुण प्रधान मंत्री पद का वास्ता अर्जी भेजि द्यावो। 
मि - पण कखि सोनिया बौ जी अर भतीजो राहुल गांधी मानी ग्यायी तो ?
घरवळि -तो क्या मजे से प्रधान मंत्री बौण जावो। 
मि - पण इन मा प्रधान मंत्री बणे जावो तो रोज सोनिया जी, राहुल जी की चमचागिरी त कारो ही दगड़म सोनिया जी, राहुल जी का चार पांच चमचों की चमचागिरी बि करण पोड़ल।   
घरवळि -पर तुम तैं नौकरी मा सेठ , सेठाणी , सेठौ नौनु अर ऊंक चमचों की चमचागिरी करणो तीस सालो अनुभव त छैं च कि ना ?
मि - हाँ चमचागिरी को अनुभव तो बहुत च पर    …। 
घरवळि -पर क्या ?
मि - अरे प्रधान मंत्री पद एक राजनैतिक अर संवैधानिक पद च।  प्रधान मंत्री पद की अपण गरिमा च। जनता से मशवरा , जनता की आवाज से ही प्रधान मंत्री को चुनाव हूण चयेंद 
घरवळि -तो इखमा क्या च।  गांधी परिवार तैं कै बि पद से क्वी लीण दीण नी  च।   उ त हरेक रानैतिक पद तैं मैनेजर का पद समझदन।  
मि - दिल त नी मानणु च पर यदि कॉंग्रेस का वास्ता प्रधान मंत्री पद या मुख्यमंत्री पद सीईओ या मैनेजर जन पद च त मि राहुल जी कुण अर्जी भेज इ  दींदु।  
घरवळि -अर अर्जी की नकल मीडिया मा बि भेजी द्याओ। 
मि - ठीक च . 
घरवळि -इन कारो आम आदमी पार्टी मा बि त प्रधान मंत्री उमीदवार पद खाली होलु। मीम बि कुछ खास काम नी  च तो मेरी तरफ बिटेन आम आदमी पार्टी कुण बि अर्जी ठोक द्यावो। 


Copyright@ Bhishma Kukreti  12  /12/2013 


[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक मसखरी  दृष्टि से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  के  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वाले के  पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले के  भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले के  धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले के वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  के पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक के विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक के पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक के सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखक का सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक के राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य;सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनीति में परिवार वाद -वंशवाद   पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ग्रामीण सिंचाई   विषयक  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, विज्ञान की अवहेलना संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य  ; ढोंगी धर्म निरपरेक्ष राजनेताओं पर आक्षेप , व्यंग्य , अन्धविश्वास  पर चोट करते गढ़वाली हास्य व्यंग्य    श्रृंखला जारी  ]