उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Tuesday, July 14, 2015

सन 1892 ई के करीब की गढ़वाली कविता

सन 1892 ई  के करीब की गढ़वाली कविता
राजनीति

रचना -हर्षपुरी गुसाईं ( 1820 -1905 ) 

राजाऊ कु राज काज , जनु बागवानी साज 
फूलुं बगीचा मांज , बाड़ बांधी चाहेंद। 
नानाउ की गौर  कद , ठुलाऊँ मौळाइ देन्द 
छांटि  छांटि  चुंगी लेंद , घणोप उपाड़ेन्द। 
तांकी कद गेड़ गाँठ , खाणो लाणो राज फांट 
जडान उपाड़िक क्या ?येकि बेरि खायेंद। 
परजा कु पीड़ा देकि , बेकसूरो डाँड लोक 
चाहे कैकि मौ बीक , अपजस पायेंद   


इंटरनेट प्रस्तुति -भीष्म कुकरेती १३/७/२०१५