उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Tuesday, April 23, 2013

भारतीय चीयर गर्ल्स बाजार

गढ़वाली हास्य -व्यंग्य 
सौज सौज मा मजाक मसखरी 
हौंस,चबोड़,चखन्यौ  
सौज सौज मा गंभीर छ्वीं
                           भारतीय चीयर गर्ल्स  बाजार                  

                         चबोड़्या - चखन्यौर्या: भीष्म कुकरेती (s = आधी अ )
                  वैदिन चीयर गर्ल्स   क्या ल्याख अर नेट साइटों मा छाप कि दुसर दिन बिटेन साइटों  मौडिरेटरों फोन आण बिसे गेन।
अब सि ब्याळि दिन मा मेरापहाड़ का माहि मेहता जीक फोन  आयि," भीष्म जी ! चीएर गर्ल लेख तो गढ़वाली मा छौ पण व्यूवर अंग्रेजी से  जादा ह्वे गेन । जरा एक लेख भारतम  चीयर लीडर  बजार का बारा मा  लेख  भ्याजो।"
ब्यखुन दें छुंयाळ का जय बिष्ट जी फोन आयि  चीयर गर्ल लेखौ  मांग बढ़ी गे जरा पता तो लगावो बल चीयर गर्ल मार्केट कथगा बड़ो च।
वेबरि  इ- उत्तराखंड पत्रिका क विपिन पंवार जीक फोन आई बल दाना  -बुड्या रीडर्स  चीयर गर्ल उद्योग का बारा मा प्रश्न पुछणा छन।
रत्यां जयपुर बिटेन निराला उत्तराखंड का नारायण सिंह रावत जीक फोन आई बल निराला उत्तराखंड का चीयर लीडर्स  का बारा मा विशेषांक प्रकाशित होलु त जरा चीयर लीडरूं  बारा मा जादा जानकारी भ्याजो।
अदा राति , अमेरिका बिटेन बेडुपाको का  शैलेश उप्रेती जीक फोन आयि बल गाऊं मा लोगुं तैं चीयर गर्ल्स  की जादा जानकारी चयेणि च तों कुछ चीयर लीडर्स  मुतालिक  लाइव इंटरव्यू भ्याजो।
    लेखक क्या मांगे ? दर्शकों की रूचि, और क्या ! बस त  मि सुबेरि बिटेन चीयर गर्ल सप्लाई मार्केट चलि ग्यों। उख मीन खुट धार नी कि एजेंटों एजेंट चिलंग बरोबर म्यार पैथर पोड़ी गेन। क्वी म्यार दें खुट खैंचणु त क्वी बैं, कवी इ हाथ तो क्वी वै हथ , क्वी हथकुळि खैंचुणु, क्वी अंगुळी , क्वी म्यार कन्दूड़, कैको हथ म्यार नाक पर एकान तो म्यार बाळ पकड़िक बोलि बल भौं भौं   किस्माक चीयर गर्ल दिखौल मि। हरेक यु बुलणु छौ बल वो ही चीयर गर्लूं बडो व्यापारी च।
  मीन जब ब्वाल बल मि चीयर गर्ल लीणों नि अयुं छौं बलकणम भारतम चीयर गर्ल डिमाण्ड पता लगाणो अयुं छौ त सब्युंन इकछुटि गाळि  दीन्द बोलि बल फोकटम टैम खराब ह्वे गे। एकान गाळि  दीन्द ब्वाल बल जा समणि हमर असोसिएसन कु जन सम्पर्क ऑफिस च उख मोर। जु पुछण़ाइ उख पूछ।
मीन इन ऑफिस सुपिन मा बि नि देखि छौ। मै नि लगद इथगा बढ़िया ऑफिस इंडिया मा कै ललित मोदीक बि  होलु धौं ! सैत च ए राजा या कलमाड़ीक इन ऑफिस होलु त होलु। सब जगा भग्वानुं , देवी -दिवतौं फोटो जगा भारतीय क्रिकेट बोर्ड का अधिकार्युं फोटो टंग्या छा। अर गणेश जी जगा सब जगा ललित मोदी मूर्ति धरीं छे।  
मि तैं अप्सरौं से बि बिंडी बिगरैलि बांद मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी मा लीगि।  सरा रस्ता  चीयर गर्ल मी मा चंवर डुलाणि रायि।
जनसम्पर्क अधिकारींन मेरो स्वागतमा पाइवो (यूक्रेनी बियर ) कि गिलासडि दे अर पाइवो तै मुख तलक लिजाणो चीयर गर्ल   छे . वीन  बोलि," ना जदोरोव, बुडमों"
मी तैं  अधिकारि बथाई कि वा उक्रेनी भाषा मा चीयर बुलणी च। मीन चीयर  कार। 
मीन पूछ ," मि इंडिया मा चीयर गर्ल मार्केट का बारा मा जानकारी लीणों अयुं छौं।"
अधिकारिन  बोलि," अचकाल भारत का हरेक समाचार पत्र , पत्रिका ,  इख तलक कि  धार्मिक पत्रिका बि चीयर गर्ल्स का बारा मा म्यार इंटरव्यू लीणा छ्न।
मीन पूछ - भारतम अचकाल चीयर गर्ल्स को बिजिनेस कथगा हूंद ?
इथगा मा  चीयर गर्ल मिनी गिलासडि मा जिन लेकि आई अर चेक  मा वीन चीयर बोलि -ना जद्रावी ( तुमर सेहत  का वास्ता ).
अधिकारिन जबाब दे - महान ईश्वर ललित मोदी की मेहरबानी से पोरु साल तलक  चीयर गर्ल को बिजिनेस पचास करोड़ तलक पौंछि गे छौ अर हमर सर्वेश्वर बोर्ड ऑफ क्रिकेट कंट्रोल ऑफ इंडिया का बदौलत  ये साल सौ करोड़ तक पौंछि जालो 
म्यरो सवाल छौ - अचाणचक इथगा बढ़ोतरी किलै?  
  एक  हंगरीयन चीयर गर्ल एक पेय मिनी गिलासडि मा  लेकि आयि  अर वींन  चीयर करदा  ब्वाल -केडवेस इगेसजसेगेरे (तुमर स्वास्थ्यौ बान)        
 अधिकारिन उत्तर दे - वु क्या च अचकाल हेरक स्कूलम  अर कोचिंग क्लासम चीयर गर्लूँ  बड़ी जरूरत च मास्टरों जगा शाबाशी शब्द अब चीयर गर्ल्स बुल्दन अर यां से विद्यार्थी अति उत्साहित ह्वेका पाठ याद करदन। हमर अनुमान  च कि एकाद द्वी सालुम स्कूल , कॉलेजों, कोचिंग क्लासोंम विद्यार्थ्युं तैं पाठ याद करण अर खेल मा चीयर करणों बान हजारों चीयर गर्लूं  आवश्यकता होलि। हमन यांकुणि  एक अलग से स्टूडेंट चियरिंग विंग   खोलिं च।
मेरो हैंकु सवाल छौ - स्कूल कौलेजों अलावा आपका ग्राहक कख छन?
एक रूसी चीयर गर्ल मिनी कप मा बोद्का लेकि आयि अर वीं चीयर कार -बडेम जडोरोवी (हम सौब स्वस्थ रौंवां). 
अधिकारी को जबाब छौ - अब  भारतीय चांदो कि वैका हरेक संस्कार का कर्म काण्ड मा चीयर गर्ल्स  चीयर कारन, इनि लोक मेलों क बान चीयर लीडरों  बड़ी मांग बढ़ी गे  अर हमर अनुमान च कि एकाद सालम भारत का हरेक  ब्लौकम सैकड़ाक चीयर गर्लूं हरदम आवश्यकता होलि।
 मीन बात अग्वाडी बढ़ाइ - अर व्यापारिक संस्थानोंम चीयर लीडरों  डिमांड कथगा च?
इथगा मा एक स्लोविकियाई चीयर गर्ल सिल्वोविका ड्रिंक लेकि आई अर स्टोलिक्का शब्दों से वीन चीयर कार     
  अधिकारींन बथाई -  अब हरेक ऑफिसम हरेक अधिकारी तैं स्वप्रेरणा वास्ता  कम से कम एक चीयर लीडर  चयाणि च ,माल्स अर छ्वट  दुकानदारों तै ग्राहकों अर अपण  मुलाजिमों तैं चीयर करणों बाण चीयर लीडरूं  बड़ी भारी जरूरत महसूस होणि च। अर शायद एकाद सालम रिटेल सेक्टरम  एक लाख चीयर लीडरों  आवश्यकता पोड़लि 
मेरो  अगलों प्रश्न छौ - अर धार्मिक अर राजनैतिक क्षेत्रों मा चीयर लीडर  डिमांड को क्या हाल च ?
इथगा मा एक चीयर लीडर बुल्गारियन पेय रिको लेकि आई अर नाजद्रेव नाजद्रेव बोलिक  चीयर करण मिसे गे।
अधिकारिको उत्साही उत्तर छौ - चुनाव आणा छन तो हरेक राजनीतिक पार्टी तैं हरेक चुनाव क्षेत्र का वास्ता चीयर लीडर चयाणा छन अर यी चीयर लीडर अपण अपण देसुंक  आदि वास्युं ड्रेस पैरिक भाषणों बीचम चीयर कारल जां से इन लग कि अधनंगी जनानी चुनाव प्रचार नि करणा छन बलकणम संस्कृति, सभ्यता  अर  धर्म को आदान प्रदान होणु च।  जख तलक धार्मिक  स्थानों मा चीयर लीडरूं  सवाल च तो अब दुबर देवदासी संस्कृतिन जनम ले आल। हां !  मन्दिरोंम अब भारतीय देव दासी नि नाचल बलकणम विदेसी चीयर लीडर नाच कारल। हमर अनुमान च कि सन द्वी हजार बीस तलक चीयर लीडर को छै हजार करोड़ को मार्किट ह्वे जालो। ल्या यी बुकलेट तैं ली जावो इखमा  भारतीय चीयर लीडर मार्किट संभावनाओं अर मार्किट दोहन का बारा मा सब कुछ समजायुं च।
मीम अब पुछण लैक कुछ नी छौ मि तैं भैर छुड़णो पांच छै चीयर लीडर ऐन।       
                    


Copyright @ Bhishma Kukreti  23 /4/2013            
(लेख सर्वथा काल्पनिक  है )