उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, April 1, 2013

बिमारि छुट्टी लीणों ब्यूंत


गढ़वाली हास्य -व्यंग्य 
सौज सौज मा मजाक मसखरी 
हौंस,चबोड़,चखन्यौ 
 
                                      बिमारि  छुट्टी लीणों ब्यूंत 
                                      चबोड़्या - चखन्यौर्याभीष्म कुकरेती
(s = आधी अ )

  कैजुअल या बिमारी लीण एक कौंळ च, कला च, तकनीक च, ब्यूंत च।
अब द्याखो ना आजक दिन भौत गरम  च पण मी तै जड्डू लगणु च। अर आज ऑफिस  जाणो ज्यू बि नी बुल्याणु च अर ना ही तबियत जाण लैक च।  त इन मा बिमारी छुट्टी लीण जरूरी च।
मीन घरवळि  बोलि," सूण ! तू जरा बौसs कुण फोन करी दे बल मी बीमार छौं।"
  घरवळि न उत्तर दे," तुम जाणदा छां बल तुमर  बौस बडो उन च। वो मी फर विश्वास नि करदो।"
मीन बोलि," और बि बिजोग पड्यु च। बौस में फर त रती भर बि विश्वास नि करदो। त्वै तैं फोन करण पोड़ल।"
"ह्यां! बौस तुमार च तुम फोन कारो।"घरवळिक खरखरो  जबाब छौ।
मीन बोलि,"  देख मि बिमार छौं तू इ फोन कौर। हां! जरा नम्रता से , सौजमा फोन कौर।"
वींन चिरड़ेक ब्वाल," द्याखो तुमार बौसक दगड़ विनम्रता से बात ह्वे इ नि सकदी। तुमर बौस बड़ो खड़खड़ो (कठोर)  च। "
मीन बिंगाइ," ह्या बौस इथगा खराब नी च। वो क्या च अचकाल जु चावो वो ही वाइरल फीवर, सोर थ्रोट का नाम से रोज सिक लीव लीणों च। अर कबि कबि यि हाल छन कि बौस तैं अपण बाथरुमौ दरवज अफिक खुलण पोड़द। दिल से बौस बड़ो मयळ मनिख च। "
घरवळि न बौस जन टोनम ब्वाल," जब वो इथगा इ मयळ च तो तुमि फोन कारो ना अर तुमि सूणों सुबेर सुबेर वैकि फटकार  । में से नि होंद यु ऊटपटांगो काम।"
मीन जबाब दे ," ह्यां फोन करण क्वी ऊटपटांगो काम नि हूंद। मि जादा नि बोल सकणु छौ तो जरा त्वीइ फोन कर। मि जू काम पर ग्याइ तो समजि ले मीन मोरि जाण।"
वींको जबाब छौ," अर ऑफिस नि जैल्या तो बौसन तुम अछेकि मार दीण। यां फोन करण मा तुम इथगा किलै डरणा छंवां ? "
मीन बोल," मि छौं डरणु कि तु छे डरणि?"
वीन ब्वाल," अरे क्या गुरा लग्युं च? बीमार तुम ! बौस तुमर  अर बुलणा छा कि मि डरणु छौं।"
मीन बोल," ह्यां पत्नी धर्म बि क्वी बात होंदी।"
वींन पूछ," जरा बथावदी कि पत्नी धर्म क्या हूंद?"
मीन बिंगाइ," जब बि पति बीमार ह्वावो तो  घरवळि तैं कड़क बौसौ कुण फोन करण चयेंद अर पति की जगा पत्नी तैं बौस की डांट फटकार सुणण  चयेंद।"
पत्नी न बोलि," द्याखो ! ब्यौ बगत सात फेरा लींद दें पंडित जीन बौस कुण फोन करणै बात नि कौरि छे हां!"
मीन पुऴयाणो भौणम ब्वाल," ह्यां जरा बौसौ खुण फोन कौरि दे।"
वींन ब्वाल," सीधा खड़ा ह्वावो अर अफिक फोन कारो अर बौसकी झिड़कि अफिक खावो। अपण काम अफिक करण चयेंद।"
मीन ब्वाल, "ठीक च। मि ही फोन करदो अर जु ह्वाल मी ही भुगतुल।"
मीन बौसौ कुण फोन नि कार किलैकि भोळ मीन बौसौ  कुण बुलण बल फोन अर मोबाइल सबि जाम छ्या।              
  
 
Copyright @ Bhishma Kukreti   2 /4/2013