उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Wednesday, April 17, 2013

जरा चार पांच चियर गर्ल्स बि लै जै !

गढ़वाली हास्य -व्यंग्य 
सौज सौज मा मजाक मसखरी 
हौंस,चबोड़,चखन्यौ   पूजा 
सौज सौज मा गंभीर छ्वीं

                        जरा चार पांच चियर गर्ल्स बि लै जै ! 
                                चबोड़्या - चखन्यौर्या: भीष्म कुकरेती (s = आधी अ )
फोन पर एक आवाज  - हेलो भीषम  मि गांवो पंच नथु बुलणु छौं।
भीष्म -ओ भैजि नमस्कार ! ब्वालो क्या हाल छन  ?
नथु दा - बस ठीक छन। यां   गांवक संजैत  नागरजा पूजा बान  लोगुंन प्रेजिडेंट बणै आल तो मीन स्वाच सब्युं  तैं रैबार दे द्यूं।
भीषम - भैजि या त बढ़िया बात च।
नथु दा - हां बढ़िया बात छ पण आफत बड़ी च भै।
भीषम - आफत क्यांकि। सरा गां , सबि प्रवासी सहयोग द्याला अर नागराजा त दगड़म छैंइ छन।
नथु दा - हाँ सि त छैं   च। पण गांवक अर कोटद्वरक लोगुं इच्छा च बल जरा प्रोग्राम झसकेदार हूण चयेंद।
भीषम - कन झसकेदार?
नथु दा - वु क्या च  जरा आस पास का गावुं मा प्रतियोगिता चलणि च कि कै गांवक नागराजा पूजा जादा झसकेदार होंदि।
भीष्म - भैजि ! यि त लग्युं इ रौंद हम जब  छ्वटा छा तो रामलीला करणम बि प्रतियोगिता होंदि छे।
नथु दा  - हां पण तबो जमानो अर आजौ जमानो मा  भौत अंतर च। अचकाल  तो नागराजा पूजा प्रोग्रैमै  दगड़ कल्चरल प्रोग्रैम बि करण पोड़दन   
भीषम - अछा क्या क्या प्रोग्रैम छन ?
नथु दा  -प्रोग्रैम त भौत छन जन कि कब्बडी , खो खो, अर शेक्सपियरक  द्वी नाटक बि खिले जाल।
भीषम - अरे शेक्सपियर का नाटक ?
नथु दा  - हां वो अचकाल प्रवास्युं बच्चौं तैं गढ़वाली त छ्वाड़ो हिंदी प्रोग्रैमों मा बि मजा नि आंदो तो ऊंक  बान शेक्सपियरक  द्वी नाटक रखण पडिन 
भीषम - पण नाटक कु कारल?
नथु दा- ड्याराडूणम एक रमेश डोबरियाल च। पैल गढ़वळी थियेटर करदो छौ। गढ़वळि थियटर नि चौल तो हिंदी थियेटर मा आइ। जब हिंदी थियेटर बि नि चलिन तो अंग्रेजी थियेटर करण बिसे गे।  अब परिवार पळण जोग ह्वे गे।
भीषम - वो त ड्रामा पार्टी  देहरादून बिटेन आलि। तो बस प्रोग्रैम पूरा ह्वे गेन।
नथु दा- अरे न्है भै ! क्रिकेट टूर्नामेंट बि छन अर मुख्य प्रोग्रैम ..सुणिल तो मजा ऐ जालो 
भीषम - अछा ! क्या प्रोग्रैम छन? 
नथु  दा - द्वी रात द्वी दिन गजेन्द्र राणा गीतुं प्रोग्रैम बि उरायुं च।
भीषम -   गजेन्द्र राणा गीतुं प्रोग्रैम?
नथु दा - हां लोग सभा  सोसाइटयु मा गजेन्द्र राणा तैं गाळी जरुर दींदन पण मजा लेक गीत बि सुणदन 
भीषम -वो। वो त प्रोग्रैम वास्तव मा झलसेदार छन!
नथु दा -हां ! पण एक बात त बताण रयीं च कि तीन,  चार पांच चियर गर्लूं इंतजाम बि करण ?
भीषम - चियर  गर्ल्स ?
नथु दा - हां अब बादि-बादणु नाच दिखणो क्वी तयार नी  च तो सब्युं राय च कि पूजा मा बाद्युं तै नि बुलाये जालो बल्कणम चियर  गर्ल्स बुलाये जाला।
भीषम -बादणों जगा पर चियर गर्ल्स ?
नथु दा - हां अर चार पांच रूसी चियर गर्ल्स लाणों जिमा त्यार च . सूण ! चियर गर्ल्स रूसी ही हूण चयेंदन हा! अचकाल बड़ी धोकाबाजी हुणी च। एजेंट रूसी  चियर गर्लूं जगा यूक्रेनी या चेक चियर गर्ल्स भेजि दीन्दन। जरा देखि भाळिक चियर गर्ल छांटी हां, छड़छड़ी बिगरैलि। नवा गलत चियर गर्ल लै जै हां।
भीषम - दादा ! यि चियर गर्ल्स कारल क्या ?
नथु दा - कनु ? अरे जो  बादण करदी छे वो काम अब चियर गर्ल्स कारलि। पूजा टैम पर मन्दिरौ चौकंम वेस्टर्न डांस अर जखम जरूरत होलु उखम बि डांस। फिर गजेन्द्र राणा गीतुं पर बि चियर गर्ल्स ही डांस कारल।।
भीषम -पण गजेन्द्र राणा को गीत ?
नथु दा- नै नै गजेन्द्र राणान बोलि आल कि चियर गर्ल्स जथगा   बिचक्यां डांस कारल वो बि  उथगा बिचक्यां गाना गालो।
भीषम - मतलब अब गजेन्द्र राणा क गीतुं हिसाब से डांस नि होलु?
नथु दा  - ना ना अब डांस को हिसाब से गजेन्द्र राणा गाणा बणालु अर वैइ हिसाब से धुन बि बणालु 
भीषम - पण भैजि ?
नथु दा - पण उण कुछ ना. ले एजेंट को नाम अर फोन नम्बर फिर चियर गर्ल्स छांटी ले . फिर एजेंट को नम्बर  गजेन्द्र राणा तै दे दे . गजेन्द्र राणा चियर  गर्लूं दगड़ बात कौरिक  अफिक गीत अर धुन  तयार करी ल्यालो। पण सूण चियर गर्ल्स नौ रसी हूण चयेंदन हां। गांवक इज्जत को सवाल च। अब मि फोन कटणु छौं। मि तैं एक डी . जे . को दगड़  फोन करण  ....                  

(नाम काल्पनिक छन )
Copyright @ Bhishma Kukreti  18 /4/2013