उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Friday, June 9, 2017

बग्दी जांदी छे न्यार अ

Poem by Balkrishna Dhyani 

-
अल्या डण्डा पल्या डण्डा
बिच कबि बग्दी जांदी छे न्यार अ
वख देखा अब सूना हुंयाँ 
पड्युं अब अपडो गौं गोठ्यार

कन बिन्सरी सुबेर ऐई
अब की बारी ऐ मेरु पहाड़ा
१७ बरस ह्वैगे राज्य बणिक
पलायन परी अब बी चिंता बिचार अ

कख देखन हुमन भगी
अब रौला ,थौला वो गौला
कख ग्युं हुला मेरु ढूँगा गारों
मां हरयूं बलपन कु बौला

अल्या डण्डा पल्या डण्डा
बिच कबि जांदा छ टिपण हिंसोला
वख देखा अब सुखंण गलण लग्युं
काफल आरु औरृ कीनमोडा