उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Thursday, June 8, 2017

गौ सैर तै पूछणू च-

आश्विन गौड़ की गढ़वाली कविता 
Garhwali Poem by Ashwin Gaur 
-


यार तु हर घडि अपडेट च,
सुख-सुविधोन,  लकदक बण्यू च,
बिजली-पाणी, चखळ-पखळ च,

त सैर ब्वनू-

मै दिन-रात बिज्यू छूं-उनिंदू छूं,
मनख्यू भिभडाट मा,
गंदगी का क्वन्कुन,
कुरच्यू छू,
मैं निरग्वस्यूं सी पैणू हरच्यूं छू।

सजिला-धजिला लता कपडो का बीच,
रंगिळि-पिंगळि दुन्या मा,
रंग्या, लिप्याऽ-पुत्याऽ
मनख्यू का बीच,
मैं त कणांणू छू!
सभ्यता संस्कृति 
हरचाणू छू,
मनख्याळा, मनख्यूं कि, 
दुनिया से दूरऽ--
मनख्याता भौ, खुजाणू छू,
मैं सैर बणी, सैरि पछाण
लुकाणू छू,
न पूछ !
ये माटा दगडि,
अंट-संट, क्या-क्या खाणू छू,
दिन-रात कतिग्या पाप लुकाणू छू।
मैं सैर बणी छपतांणू छू
पछतांणू छू,
अपडि पछाण लुकांणू छू।

अश्विनी गौड दानकोट लोकभाषा आदोंलन रूद्रप्रयाग बिटि।
-
Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Garhwal, Uttarakhand; Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Pauri Garhwal, UttarakhandGarhwali Poems, Folk Songs , verses from Chamoli Garhwal, UttarakhandGarhwali Poems, Folk Songs , verses from Rudraprayag Garhwal, UttarakhandGarhwali Poems, Folk Songs , verses from Tehri Garhwal, UttarakhandGarhwali Poems, Folk Songs , verses from Uttarkashi Garhwal, UttarakhandGarhwali Poems, Folk Songs , verses from Dehradun Garhwal, UttarakhandGarhwali Poems, Folk Songs , verses from Haridwar Garhwal, Uttarakhand; Himalayan Poetries, North Indian Poetries , Indian Poems, SAARC countries poems, Asian Poems 
 गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; पौड़ी  गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; चमोली  गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; रुद्रप्रयाग  गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ;  टिहरी गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; उत्तरकाशी गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; देहरादून   गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ;  हरिद्वार गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; Ghazals from Garhwal, Ghazals from Uttarakhand; Ghazals from Himalaya; Ghazals from North India; Ghazals from South Asia, Couplets in Garhwali, Couplets in Himalayan languages , Couplets from north India