उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, August 16, 2015

सौणा का मैना ( नरेन्द्र सिंह नेगी ka ek गीत )

गीत : नरेन्द्र सिंह नेगी
सौणा का मैना ,ब्वे कनुके रैणा कुयेड़ी लौकअली |
अँधेरी रात ,बर्खाकि झमणाट ,खुद तेरी लागअली ||
चौडांडूयूँ पोर सर्ग गगणाद आँद
हिरिरिरि पापी बर्खा झुकी आँद
बडूली लागअली |
सौणा का मैना..........||
गाड-गदन्यो स्वीस्याट घनाघोर 
तुम परदेश मी यखुली घौर 
जिकुड़ी डौरअली |
सौणा का मैना ...............||
डेरा नौन्याल अर् पुंगड्यू धाण
रूण झुण बरखा घासअकु भी जाण 
झुलि मेरी रुझअली |
सौणा का मैना ...............||
सौण भादों बरखी कि चली गैनी 
ऋतू गैनी मेरी आंखी नी उबेनी 
झणी कब उबाली |
सौणा का मैना ...............||
गीत : गढ़रत्न श्री नरेन्द्र सिंह नेगी 
पुस्तक : खुचकंडी 
© सर्वाधिकार सुरक्षित