उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Tuesday, August 11, 2015

सुबेर बटि कितलो च चढ्यों च (जन चेतना लोकनृत्य गीत )

इंटरनेट प्रस्तुति - भीष्म कुकरेती स्रोत्र -डा शिवानंद नौटियाल , श्याम गढ़वाली लोकगीत 


सुबेर बटि कितलो च चढ्यों च , सुबेर बटि कितलो च चढ्यों च
स्वामी जी छीं दसवीं पास , नौकरी नी च तौंकी ख़ास। 
इम्प्लोमेन्ट कार्ड तौंको  सिरवाणा धर्यों च।

    सुबेर बटि कितलो च चढ्यों च। 
ससुरा जी छीं हुक्का बाज , रोज चैंद नई साज। 
तमाखु पी पीकै तौंको कळेजो फुक्यों च।  
              सुबेर बटि कितलो च चढ्यों च।
द्यूर मेरो कछेड़ी बाज , पैसा नी च तैमू  आज।  
नौ दूण सटेड़ो तौंको गिरवी रख्यूं च।
                       सुबेर बटि कितलो च चढ्यों च।
नणद मी तै गाळी दींदा ,  सासु स्या तमाखु पींदा। 
 तमाखु पी पीकै तौंको धंगद्याट हुयों च।
                               सुबेर बटि कितलो च चढ्यों च।
जिठाण मेरी नखरेबाज , करदी नी च कामकाज। 
खंद्यरोळ देखा तौंको डिंडाळी मौर्यों च।
सुबेर बटि कितलो च चढ्यों च।