उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, August 16, 2015

शकों की धार्मिक मान्यताएं : हरिद्वार , बिजनौर , सहारनपुर इतिहास

  Religious beliefs of Saka/Shaka /Indo Scythian History of Haridwar,  Bijnor,   Saharanpur
                               शकों की धार्मिक मान्यताएं :  हरिद्वार ,  बिजनौर , सहारनपुर  इतिहास 
                     Ancient  History of Haridwar, History Bijnor,   Saharanpur History  Part  -  164                     
                                                हरिद्वार इतिहास ,  बिजनौर  इतिहास , सहारनपुर   इतिहास  -आदिकाल से सन 1947 तक-भाग -164                  

                                               इतिहास विद्यार्थी ::: भीष्म कुकरेती  
                शक जाति में दिउ (वैदिक द्यौ ) तथा पृथ्वी पूजा की मान्यता प्रचलित थी। . आकाश , माता पिता , पृथ्वी के अतरिक्त सूर्य की भी पूजा होती थी।  पुरानी सूर्यमूर्तियों की भेष भूषा बिलकुल शक भेषभूसा से मेल कहती थी (खाल का लम्बा चोगा , ऊँचे बूट आदि ) . 
 बूटधारी सत्य मूर्तियां कश्मीर , हिमाचल व उत्तराखंड में मिलीं हैं।  हो सकता है कि बिजनौर , हरिद्वार व सहारनपुर क्षेत्र में भी रही हों किन्तु मुस्लिम युग में मंदिरों की अति क्षति होने से बहुत से पूजास्थल उजाड़ दिए गए हों।  
                          खश  जाति में लोप 
        
  खश जाति व शक रूप रंग में मिलते जुलते थे।  और जब शक जाति के राज्यों का नाश होने लगा तो शक जाति में विलीन हो गयीं। 
   कहा जाता है कि हिंदी के छंद व दोहे भी शक जाति की देन है।  



Copyright@
 Bhishma Kukreti  Mumbai, India 15 /8 /2015 
   History of Haridwar, Bijnor, Saharanpur  to be continued Part  --165

 हरिद्वार,  बिजनौर , सहारनपुर का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास  to be continued -भाग -
165


      Ancient History of Kankhal, Haridwar, Uttarakhand ;   Ancient History of Har ki Paidi Haridwar, Uttarakhand ;   Ancient History of Jwalapur Haridwar, Uttarakhand ;  Ancient  History of Telpura Haridwar, Uttarakhand  ;   Ancient  History of Sakrauda Haridwar, Uttarakhand ;   Ancient  History of Bhagwanpur Haridwar, Uttarakhand ;  Ancient   History of Roorkee, Haridwar, Uttarakhand  ;  Ancient  History of Jhabarera Haridwar, Uttarakhand  ;   Ancient History of Manglaur Haridwar, Uttarakhand ;  Ancient  History of Laksar; Haridwar, Uttarakhand ;     Ancient History of Sultanpur,  Haridwar, Uttarakhand ;     Ancient  History of Pathri Haridwar, Uttarakhand ;    AncientHistory of Landhaur Haridwar, Uttarakhand ;   Ancient History of Bahdarabad, Uttarakhand ; Haridwar;      History of Narsan Haridwar, Uttarakhand ;    AncientHistory of Bijnor;    Ancient  History of Nazibabad Bijnor ;    Ancient History of Saharanpur;   Ancient  History of Nakur , Saharanpur;    Ancient   History of Deoband, Saharanpur;     Ancient  History of Badhsharbaugh , Saharanpur;   Ancient Saharanpur History,     Ancient Bijnor History;
कनखल , हरिद्वार का इतिहास ; तेलपुरा , हरिद्वार का इतिहास ; सकरौदा ,  हरिद्वार का इतिहास ; भगवानपुर , हरिद्वार का इतिहास ;रुड़की ,हरिद्वार का इतिहास ; झाब्रेरा हरिद्वार का इतिहास ; मंगलौर हरिद्वार का इतिहास ;लक्सर हरिद्वार का इतिहास ;सुल्तानपुर ,हरिद्वार का इतिहास ;पाथरी , हरिद्वार का इतिहास ; बहदराबाद , हरिद्वार का इतिहास ; लंढौर , हरिद्वार का इतिहास ;बिजनौर इतिहास; नगीना ,  बिजनौर इतिहास; नजीबाबाद , नूरपुर , बिजनौर इतिहास;सहारनपुर इतिहास;  Haridwar Itihas, Bijnor Itihas, Saharanpur Itihas