उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, August 30, 2015

क्षत्रपों द्वारा स्वंत्रता घोषित करना

 Freedom by Kshatrapas from Vim Kingdom
                                क्षत्रपों द्वारा स्वंत्रता घोषित करना 

               Ancient  History of Haridwar, History Bijnor,   Saharanpur History  Part  -
 
168
                     
                                                हरिद्वार इतिहास ,  बिजनौर  इतिहास , सहारनपुर   इतिहास  -आदिकाल से सन 1947 तक-भाग -   168               

                                               इतिहास विद्यार्थी ::: भीष्म कुकरेती  


         अनुमान किया जाता है कि विम का कोई पुत्र न था।  उसकी मृत्यु होते ही उसके क्षत्रपों ने स्वतंत्रता घोषित कर दी।  इनमे से निम्न क्षत्रपों  मुद्राएं मिलीं हैं (पुरी , इण्डिया अंडर कुषाणाज )-
तक्षशिला - जिओनिसेस 
अभिसार - शिवसेन 
उज्जैन - चष्टन व रुद्रदामन 
मथुरा - सोतर मेगस 
उज्जैन - विम राजयकाल में विम के क्षत्रपों -चष्टन व नहपान की मुद्राएं
मथुरा के सोतर मेगसको उपाधि माना जा सकता है।  उसकी मुद्राओं पर राजा नाम नही अंकित है। इस अज्ञात नाम नरेश का प्रभाव क्षेत्र कुरु , पंचाल और उत्तराखंड तक माना जा सकता है। 
विम की मृत्यु पश्चात 20 -25 साल तक क्षेत्रीय सत्ता का शासन रहा होगा।  इस अवधि में उत्तराखंड , बिजनौर , सहारनपुर की राजनैतिक स्थिति जानने के लिए कोई सामग्री नही मिली है। 



Copyright@
 Bhishma Kukreti  Mumbai, India  31/8 /2015 
   History of Haridwar, Bijnor, Saharanpur  to be continued Part  --169

 हरिद्वार,  बिजनौर , सहारनपुर का आदिकाल से सन 1947 तक इतिहास  to be continued -भाग -
169


      Ancient History of Kankhal, Haridwar, Uttarakhand ;   Ancient History of Har ki Paidi Haridwar, Uttarakhand ;   Ancient History of Jwalapur Haridwar, Uttarakhand ;  Ancient  History of Telpura Haridwar, Uttarakhand  ;   Ancient  History of Sakrauda Haridwar, Uttarakhand ;   Ancient  History of Bhagwanpur Haridwar, Uttarakhand ;  Ancient   History of Roorkee, Haridwar, Uttarakhand  ;  Ancient  History of Jhabarera Haridwar, Uttarakhand  ;   Ancient History of Manglaur Haridwar, Uttarakhand ;  Ancient  History of Laksar; Haridwar, Uttarakhand ;     Ancient History of Sultanpur,  Haridwar, Uttarakhand ;     Ancient  History of Pathri Haridwar, Uttarakhand ;    AncientHistory of Landhaur Haridwar, Uttarakhand ;   Ancient History of Bahdarabad, Uttarakhand ; Haridwar;      History of Narsan Haridwar, Uttarakhand ;    AncientHistory of Bijnor;    Ancient  History of Nazibabad Bijnor ;    Ancient History of Saharanpur;   Ancient  History of Nakur , Saharanpur;    Ancient   History of Deoband, Saharanpur;     Ancient  History of Badhsharbaugh , Saharanpur;   Ancient Saharanpur History,     Ancient Bijnor History;
कनखल , हरिद्वार का इतिहास ; तेलपुरा , हरिद्वार का इतिहास ; सकरौदा ,  हरिद्वार का इतिहास ; भगवानपुर , हरिद्वार का इतिहास ;रुड़की ,हरिद्वार का इतिहास ; झाब्रेरा हरिद्वार का इतिहास ; मंगलौर हरिद्वार का इतिहास ;लक्सर हरिद्वार का इतिहास ;सुल्तानपुर ,हरिद्वार का इतिहास ;पाथरी , हरिद्वार का इतिहास ; बहदराबाद , हरिद्वार का इतिहास ; लंढौर , हरिद्वार का इतिहास ;बिजनौर इतिहास; नगीना ,  बिजनौर इतिहास; नजीबाबाद , नूरपुर , बिजनौर इतिहास;सहारनपुर इतिहास;  Haridwar Itihas, Bijnor Itihas, Saharanpur Itihas