उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, January 15, 2012

Garhwali Words those are now being extinct Part-6


विलुप्त होते गढ़वाली शब्द 
                         Internet Presentation by Bhishm Kukreti
Source : Shri Ramakant Benjwal and Shrimati Vina Benjwal , Garhwali - Hindi Shabdkosh
चंक/चंख = सतर्क
चंगचंगु = जो आसानी से न चबाया जा सके
चन्दोया = वितान
चकचिमैडु = चमगादड़
चकना/चकंदर = छिछोरा , अश्लील हंसी करने वाला
चकन्वाति = छिछोरापन, हल्की हंसी
चग्टा/चकता = शारीर पर चोट आदि के निशान
चटपट्याल़ू =फुर्तीला, क्रियाशील
चड्ला= मूर्छा.बेहोशी के दौरे
चढ़गट्युअं = बदमिजाज, चढ़े दिमाग का
चणक -क्षणिक उत्तेजना
चणकणु =उत्तेजित होना
चन्नार =पूर्वाभास, चेष्टाओं से पूर्वाभास होना
चरखदु =सतर्क
चळका = मुतणि अत्यंत भयभीत होने की दशा
चलणपात =काम धंधा, हाल छाल . कारोबार
चलुणिया =सेवक,
चाचरी =बिखेरना
चाड़ा =ढलान , चट्टान
चाफरा /चाफरु =बड़ा टुकडा
चिंग = क्रोधित होने की आदत
चिंडू =परोठी
चिंडळ =चिंथड़ा
चिंदरिया =जूतों वाला
चिड़ो =अजगर
चिमरताण्या = दुबला पतला
चिल्सणु =क्रोधित होना
चिसकौण =जलाना
चिलान्खी =पेड या पर्वत का सर्वोच्च शिखर, शिखर
चोमक्या= काम पानी का स्रोत्र
चोमा -सपोड़ण , सुडकना
चौंळआ =नखरे
चौणदु =पहाड़ी धर के ऊपर का चय्रस स्थान
चौभांण = बिलकुल खुला हुआ
च्यूंरा = झुर्री , शिकन
चौरासी बीती = दारूण कष्ट सम्वत चौरासी (सन सत्ताईस में ) गढ़वाल में घोर बिप्पती पड़ी थी.)
चौसेरू = चार  लड़ियों वाला चन्द्रहार
Garhwali Words are now being extinct, to be continued in Part-7
Courtesy : Shri Ramakant Benjwal and Shrimati Vina Benjwal , Garhwali - Hindi Shabdkosh