उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, January 8, 2012

कनि कनि कुगति (चबोड़ इ चबोड़ मा हाँ!)

Satirical Article
चबोड़ इ चबोड़ मा हाँ!
               कनि कनि कुगति
                    भीष्म कुकरेती
परसी सुपिन मँ क्या दिखुद बल बशिष्ठ तैं बी.ऐड. मँ एड्मिसन नी मील ता कोचिंग क्लास का बड़ा मास्टर बौणिक छकिक रुपया कमाणा छन इ
          दशरथ को नौनु भरत ब्रदरहुड का नाम फर एन जी ओ चलैका सौकार बण्या छन
मेनका कू फिलम इंस्टिटट्युट भौत मजा से चलणु च किलैकि वुक गर्ल नाच सिखए जांद
            उरबसी सरोज खान का इक भांड मंजांदी , झाड़ू पुत्या करदी .
आचार्य रामानुजम रास्ता मां बैठिक कल़ू/तोता क मौ मदद से ज्योत्षी का काम करणा छन .
          इन्टरनेट आण से नारद जी मां क्व्वी काम नि रै ग्याई ता रेलवे स्टेसन का समणि दाद खाज खुजली की दवाई क पर्चा बंटाणा छन .
   सरकारी नौकरी मां लग्या हरिश्चंदर अर युधिष्ठर जख जान्दन सच बोलणा कारण उंकी दर तीन मैना मां बदली होणि रौंद .
भीम कुस्ती असोसिआसन मां चपड़ासी की नौकरी मां दिन काटणा छन ता अर्जुन दिली मा वी.के.मल्होत्रा का यख चिलम भरणा छन
            शंकर टीका कार का काम छोड़ीक का विद्यार्थ्युं खुनी Ph D की पोथी लेखिक अपन पुटुक भरणा छन
गांधारी वैबरी आख्युं फर पट्टी बांधदी जब द्रोपद्यूं फर अनाचार होणु हो . धृतराष्ट्र क आंखां त ठीक छन पण सम्विधान को छैल मा वै तैं कुछ नि दिख्यांद .
                    कंस अच्काल भ्रूण डाक्टर छ कथगा इ नर्सिंग होम का मालिक च अर भ्रूण टेस्ट कौरिक नौन्युं क भ्रूण हत्या से सौकार बणी गे .
इन सुणण मा आन्द बल सबि राजनैतिक दल वालुं तैं कंस चंदा दीन्दू , अखबार -टी,वी वालुं तैं खूब विज्ञापन दींदु त वैक इक सरकारी निरीक्षण कबि बि नी ह्व़े सकदो .
             दुर्योधन अर दुशाहसन भीक मग्दन किलैकि राजस्थान मा भंवरी केस से अंदाज  लगी सकदो बल अब नेता बणदी नेतौं तैं  अनाचार को ठेका  मिल जान्दो.   
  शुक्राचार्य न चीफ एक्जीक्यूटिवूं खुणि हिंदी मा अपनों शुक्रनीति क  अनुवाद कौरिक किताब छपाई
ल्याख त अमेरिका वालुंन कोपी राइट क नियम तहत शुक्राचार्य तैं जेल मा बन्द करे दे.
कारण 'शुक्रनीति' क रजिस्ट्रेसन अमेरिका मा चारेक साल पैल ह्व़े गे छौ . अब अपनों बणयाँ गडया सिद्धान्तुं
तैं शुक्राचार्य बि नि छापि सकदो
            भरत मुनि का बि कुहाल छन , अमेरिका वालुंन 'भारत नाट्य शाश्त्र' को रजिस्ट्रेसन करे याल त भारत मुनि अच्काल
मराठी नाट्य ग्रहूँ मा स्टेजो पर्दा इन उना करणों नौकरी पर लग्यां छन.
         गुरु धनवंतरी क त हौर बि बुरा हाल छन.परार औ साल धनवंतरी न अपण दवाई अज्वाणो बुरका ब्याच अर कोपीराईट
क हनन मा भारतीय जेल मा च . कै इन्डियन फार्मेस्युटिकल कम्पनी न अजवायन को कापीराईट लियुं च. 
चाणक्य की पोलिटिकल कंसळटेंसी की दुकान नि चौल ता पावर ब्रोकर /राजनीतिक बिचौलिया बौणिक रुप्या गटकणा छन I
               महात्मा बुद्ध तैं बुद्धू , बौल्या अर पागल समजी का पागलखाना भीजे गयी
अशोक की सबी राजनैतिक दल मुख ऐथर अर टी.वी. चैनलूं मा बडै करदन पण चुनाव टिकट क्वी नी दींद. सबी बुल्दन बल अच्काल चुनाव मा अहिन्सकुं क्या काम ? .
     गुरु गोरखनाथ "चौर्यां स्याळ " का नाम से राजनीतिक औघड़ बाबा बणयाँ छन
वात्सायन को सेक्स पर वेब पोर्टल धडेले से चलणु च. हुर्स्या हुर्सी मां सेक्स एक्सपर्ट कोका को भी सेक्स पोर्टल की दुकान खुली गे .
           मुंबई मा कपड़ो मिल बन्द होण से कबीर बिचारा बेरोजगार ह्व़े गेन अर अब राज्य परिहवन बसून मा काणु बौणिक सोनू निगम का गाणा सुणेक दिन काटणा छन .
          तुलसी दास अच्काल बी जे पी का वास्ता बैनर बणाना छन .
कालीदास फिल्मू मां गीत लिखणा छन पण कुगति च गीतूं का क्रेडिट मां ऊंको नाम नि आन्द .
अकबर को दीन इलाही धर्म तब नि चौल अर अब बि इन भलो धर्म की क्वी कदर नी होंद त अकबर अच्काल व्क्फ्फ़ बोर्ड की
सदस्यता बान पिछ्ला दस सालुं बिटेन कोशिश मा लग्युं च.
             शाह जंहा अच्काल सरकारी ठेकेदारूं इख मजदुरूं डेली प्रेजेंस को इंचार्ज च. उन पैल कुछ दिन ताजमहल मा चौकीदार बि छौ
औरंगजेब तैं बिन लादिन न 'इंसानियत ए आजम' को पुरुष्कार दीणे कोशिश कार पण औरंगजेब ना बोली दे बल मदरसों मा टुपल बिचण ठीक च .
                       बहादुर शाह अर ग़ालिब हिंदी फिल्मो का म्यूजिक डाईरेकटरूं क इख पान सप्लाई करदन .
           भीष्म , विदुर, द्रोणाचार्य कृपाचार्य आई ए एस औफ़िसर छन कैकी बि सरकार हो यून्का मजा इ मजा छन .
अच्काल अश्वथामा कु जन्म अमेरिका मा ही होणु रौंद . अमेरिका वी देस च जु स अफु हजारों न्यूकलियर बम बणान्दू अर हौरी देसूं तैं धमकांदु
, दनकांदु च, बल मन भलाई क बान बम्ब नि बणाण
Wait till tomorrow for new Garhwali Satire, New Garhwali irony , for latest Garhwali lampoon
Copyright@ Bhishm Kukreti