उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, January 8, 2012

Do You Have RETIREMENT PLAN ? If NOT Pl...


Satirical Artical
चबोड़ इ चबोड़ मा 
                     म्यारो नातिक रिटायरमेंट प्लानिंग
                             भीष्म कुकरेती
            हम सबी ड्रवाइंग कम डाईनिंग रूम, म्यार बेडरूम जादा मा बैठयाँ छया कि
अपण बेडरूम कम स्टडी रूम कम भौं भौं रूम बिटेन म्यारो दस सालौ नाती खुसी मा
चिल्लान्द चिल्लान्द आई . अर बुलण बिस्याई , " आइ गौट इट .आई फिनिश्ड इट.."
मीन पूछ , ' छौनु! क्या ह्व़े ? तीन क्वी कठण सवाल पूरो कौरी दे क्या?"
छौनु (प्यारो नाम) न झिड़काई," कमौन ग्रैंड पा ! आप बि उनीसवीं सेंचुरी मा छंवां क्या ! जब
विद्यार्थी अपण सवाल खुद करदा छया . अब त ड्यारम, पैरेंट्स होम वर्क करदन
ना कि स्टुडेंट्स."
" ये छौनु ! त फिर, तू ख़ुशी मा इथगा किलै कुतकुणु छे रे?"मेरी ब्व़े न पूछ
छौनु न जबाब दे , " ग्रेट ग्रैंड मौम ! आप यीं बात तैं नि बींगी सकदवां. यू कांट जस्ट
अंडरस्टैंड ग्रेट ग्रैंड मौम. इट्स जस्ट फंटास्टिक, इट्स जस्ट ग्रेट ! अहा मजा आई गे ."
" ह्यां ! बिजोग पोड़ीन ये जमानो पर. अरे ! बिंगैल त किलै नि बिंगुल मि .." मेरी ब्व़े
क बुलण छौ.
मीन बि ब्व़े क बुल्यां पर हाँ हाँ मिलाई,' अरे फैंटास्टिक क्या ह्व़े? ग्रेट क्या ह्व़े ?"
छौनु न अति उलार/उत्साह मा जबाब दे , " मि सुबेर बिटेन दिमाग खपाणु छौ अर
अब जैक मेरो रिटायरमेंट प्लान पूरो ह्व़े . "
छौनु क जबाब सुणिक हम सबि अचिते सी गेवां .
मीन पूछ , " रिटायर्मेंट प्लान?"
छौनु न जबाब दे , ' एस! ग्रांड पा ! आई हैव कम्पलीटेड माई रिटायरमेंट प्लान."
मेरी ब्व़ेन पूछ, " ये क्या बुलणो छे रे ? क्या च रै वै प्लान मा ?"
म्यार दस सालौ नाती न जबाब दे , ' ओह! ग्रेट ग्रैंड मौम ! यू पक्को प्लान च.
रिटायरमेंट क बाद म्यार द्वी घौर याने फ़ार्म हाउस ह्वाल . एक मैदानी गाँव मा .इख सब कुछ ह्वालू
जडडू मा मि मैदानी गौं क फ़ार्म हॉउस मा रौलू. आराम से . म्यार हिसाब से
गोआ क गाँव ठीक रालों . उख ना त जादा गर्मी होंद अर ना ही जादा जडडू.
नेट मा मीन पौड़ बल गोवा क गाँव बि शहरूं बराबरी करदन.टु स्पेंड लाइफ इन
अर्बन विलेज वाह ! मजा इ कुछ हौर ह्वालू . सुबेर बिजलू उठिक बस ..अपण जिमनास्ट हॉउस मा कुछ बर्जिस....
नास्ता मा कोंटीनेंटल नास्ता करलू , फिर मि समोदर मा स्विमिंग को जौंलू . एक ठंडी बियर मारलू .
या कबि कबि गोवा की लोकल फेनी प्योलू .हमेसा इ नौन वेजिटेरियन लंच खौंलू .
फिर फकोरिक से जौंलू .स्याम दें समोदरौ छाल पर घुमणो जौलू . घुमणो परांत क्लब मा जौलू .
उख द्वी चार पैग मारलु अर फिर डयार एका पक्को वेजिटेरियन डिनर ल्योलू, नेट मा
लिख्युं च बल डिनर वेजिटेरियन इ ठीक होंद. फिर फकोरिक से जौलू . मजेदार
गोवा मा जिंदगी ... अर गर्म्युं खुणि कै पहाड़ी गाँव मा फार्म हॉउस ..."
छौनु कुछ बोल्दु कि मीन पूछी दे, " ओ ! त अपण गां जसपुर मा फार्म हॉउस बणेल हैं? वेरी गुड
छौनु , जु काम मीन नि कौर साक ओ म्यार नाती पुरो कारल . इट्स वेरी गुड़ एंड नोबल आइडिया
तो हैव रिटायर्मेंट हॉउस इन नेटिव विलेज . वाह! .."
झट से बिच इ मा मेरी ब्व़े न बोली, " नागर्जा सुफल ह्वेन. भुम्या सुफल ह्वेन. पितर कुड़ी
सैकीं (संभाली हुयी) राली. त्यरा ददा अर बुबा न त पितर कुड़ी बचाणो कुछ नि कार पण त्वी ल़े सै ..! "
छौनु न चिरडेक ब्वाल, " ग्रैंड पा ! आप बि ना ! चलो बूड दादी की बात तो ठीक है, जसपुर,ढान्गु या
अपण पितर कुड़ी की बात करना . पण आप बी नही सुधरे . पैंतालीस साल ह्व़े गेन आप तैं मुंबई मा
पण अबि बी जसपुर, ढान्गु , गाँव, पितर कुड़ी, कंडाळी , फाणु -बाड़ी से बाहर नही आये. ..
आपने मेरा अच्छा खासा मूड खराब कर दिया . कथगा बढ़िया रिटायरमेंट प्लान बणे छौ ..सब ..बस ."
छौनु कि ददि याने मेरी घरवाळी न मेखुणि आँख घुरैक डांट , " तुमर ! सद्यनी यी हाल रैन. पैल बच्चों
कि बात पूरी नि सुणदा छया अर बिच इ मा जसपुर, ढान्गू .गाँ मा पितर कूड़ी, की बात कनि बी
लै आन्द छया. अर अब नाती तैं बी जसपुर, ढान्गु, गाँव क बातुं से बोर करणा रौंदा .. हाँ बोल म्यरो छौनु .
तेरो समर हॉउस कख होलू ?"
छौनु न बोली, " थैंक यू ग्रांड मौम ! यू ऑलवेज इनकरेज मी ..अदरवाइज .
.हाँ त ! मेरो रिटायर्मेंट कु दुसरो फ़ार्म हॉउस कै पहाड़ी गाँव मा होलू. वै फ़ार्म हॉउस मा सौब फैसीलिटि
होली . अब जन की जिम कु इंतजाम, मेडीटेसन रूम ,ड्रिंक बार , स्विमिंग पूल सबी कुछ ह्वालू.
पूरो समर का वास्ता व्हिस्की, वाइन, जिन , बियर को पुरो इंतजाम रालों. पण ग्रैंड मौम ..एक बात च मुंबई ..!"
" क्या मुंबई मा क्या ?' मेरी ब्व़े न पूछ
छौनु न बोली, " मी कबि कबि मुंबई बि आणु रौलू . बरसात क बान , मुंबई मा बि एक बड़ो फ़्लैट रालो."
मीन पूछ, " ये छौनु ! अरे रिटायरमेंट प्लान छोड़ अर अपण पड़णो अर अग्वाड़ी नौकरी , ब्यवसाय की सोच .
पैल वांक प्लान बणादी. "
छौनु कु जबाब थौ, " ओ ! डियर ग्रैंड पा ! मेरी पढ़ाई अर नौकरी की प्लानिंग त पैरेंट्स कारल.
मी त अपणो असली भविष्य की प्लानिंग करल़ू . ओल्ड एज इज रियल एज टु फौलो ."
मेरी ब्व़े की अबि बि ल्हाल्सा बचीं छे , त ब्व़े न पूछ ," ह्यां ! यि, पहाड़ी गां कख स्वाच तीन ?"
छौनु क जबाब छौ, " अं.अं.अं मेरी समज से मसूरी तौळ इ कें जगा मा फ़ार्म हॉउस ठीक रालो.
मीन नेट मा पौड़ बल द प्लेस बेलो मसूरी इज अर्बन एंड रुरल एज वेल ."
मीन बोल," मतबल जसपुर का फिर बि भाग नि खुलल. हैं ?"
यां मा मेरी घरवाळी पर डौंड्या नरसिंग चौढी गे. वींन डांटि क ब्वाल," तुम तैं कथगा दें
समजाण बल बच्चों न त तुमारि जसपुर, घर कूड़ी क बात सुणी याल, सुणी याल . पण अब
नात्युं तैं त चैन से रौणी द्याओ "
मेरी ब्व़े न पूछ , " ए छौनु ! त रुड़ी, बरखा , ह्यूंद , मा तू अपण ब्व़े बुबा तैं बि अटकाणु रैली हैं ?'
छौनु क जबाब छौ, " व्ह्ट परेंट्स! नो वे. मी कैक पैरेंट्स उरेंट्स क दगड रौण वाळ नि छौं. आई श्यल
लिव माई ओन लाइफ. नो डिस्टरबेन्स फ्रॉम पैरेंट्स ऐट ऑल."
अबे दै मेरी घरवाळी पर रैणी पोड़ अर वींन पूछ , " मतलब तू अपण ब्व़े बुबा क दगड नि रैली क्या ?'
छौनु क जबाब छौ, " ओ ग्रैंड मोंम ! ग्रेट ग्रैंड पा अर ग्रैंड पा न त अपण रिटायरमेंट प्लान नि
बणायि त हम सब्युं तैं दगड मा रौण पड़णु च. बट आई एम् स्योर कि ममी अर पापा न
अपणो रिटायर्मेंट प्लान बणे याल होलू. वो अपणी जिन्दगी जियेंगे मै अपनी जिंदगी का
लुत्फ़ उठाउंगा."
मेरी घर्वाळी न पूछ, " अर नौनि-नौन्यळ ?"
छौनु क जबाब छौ , " व्हट ! नौनी -नौन्याळ. दसवीं के बाद मै उनको बैक से एज्युकेसन लोन
दिलाई द्योलू . नौनी या नौनु नौकरी मिलदी लोन भरणा राल. हम द्वी झण त जिंदगी का मजा ल्योला !"
मेरी ब्वें से नि रये ग्याई, " ह्यां ! ए छौनु ! यीं उमर मा तीन इथगा कखन सीख ?"
छौनु न घमंड मा ब्वाल, ' ग्रैंड मौम ! मीन य़ी सौब इंटरनेट से सीख.'
मेरी ब्वें न ब्वाल," काण्ड लगल ईं सीख परे , बुरळ पोड़ल इन सीख पर जै सीख मा दूसरों जुमेवारी क
बात त भौत होंदी च पण अपण जुमेदारी क क्वी बात इ नि होंदी. कुजाण भै कुजाण "
Satire, Satirical articles to be continued......
Copyright@ Bhishm Kukreti