उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Wednesday, May 10, 2017

"मेरी बेटुली" (Modern Garhwali Folk Songs)

 "मेरी बेटुली" (Modern Garhwali Folk Songs) 
--

बाबा जा जरा चा बणै दे,
लाड़ी जा तौं भांडौं मजै दे।
उठ छोरी तड़तड़ू घाम ऐ गेई, 
गौड़ी रामणी जरा पींडु खलै दे।।
तेरी ब्वैई मुंडारू, मुंडु दबै दे,
हे छोरी दादी कु, मुंडु कंघै दे।
पाणी कु बंठा, चम भ्वरी तैं घौर ऐई
पिस्यूँ निमड़ीगेई, तौ ग्यौं पिसै दे।।
जनि बोला टुप्प टुप्प लगीं रैंदी,
तेरी चिंता मेरी लाड़ी सुखी तू चैंदी।
घुट गौऽली लगनी मेरी बटुली,
सौरास मा झणी कनी तू ह्वोली।
मेरी बेटुली, मेरी लाडुली
मेरी लाडुली, मेरी बेटुली।।
स्वरचित/**सुनील भट्ट**
18/02/2017
आधुनिक लोकगीत/कविताएं , नज्म ;  , उत्तरकाशी गढ़वाल से आधुनिक लोकगीत कविताएं , नज्म;  टिहरी गढ़वाल से आधुनिक लोकगीत कविताएं , नज्म; रुद्रप्रयाग गढ़वाल से आधुनिक लोकगीत कविताएं , नज्म, चमोली गढ़वाल से आधुनिक लोकगीत कविताएं , नज्म, , सलाण से गढ़वाल से आधुनिक लोकगीत; पौड़ी तहसील से  गढ़वाल से आधुनिक लोकगीत कविताएं , नज्म, ; लैंसडौन तहसील  गढ़वाल से आधुनिक लोकगीत , कविताएं , नज्म
Garhwali verses, Garhwali Folk Songs, Garhwali Poems 
Garhwali Verses by Sunil Bhatt