उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Wednesday, May 10, 2017

गढ़वाली कुण्डलियाँ {गढ़वलिम}

    {** On : उत्तराखंड  **}
.
उत्तर दिशम च देश का   
तभि ता उत्तराखंड ।
बंणाद बंणाद ये थईं   
कतगौंन फ्वड़नी मुन्न्ड ॥
.
कतगौंन फ्वड़नी मुन्न्ड 
राज्य त बंणि ही ग्याया ।
फरक द्यखीणू कुछ नी 
जन की तन च काया ॥
.
ब्वल्द कृष्ण ममगाईं  
हूंन्दु क्वी इन्नू पुत्तर ।
कैकी काया पलट   
दींदु कुछ सुन्दर उत्तर  ॥  {9}
(08.05.2017)                                        .



गढ़वाली कुण्डलियाँ {गढ़वलिम}
{On : भदैली गौ माता }
.
गौ माता की सेवा त 
पुण्य कु काम च भाई । 
भदैला गौड़ौ फिर किलै 
 
त्यगदन हमरी माई ॥ 
 .
त्यगदन हमरी माई 
 
वे गौड़ौ चा क्या दोष । 
 
भदौम बियेकि चुचों 
 
वे फर क्यांकु रोष ॥ 
 .
ब्वल्द कृष्ण ममगाईं 
 
छोड़ा बेकारै बार्ता । 
अब न छ्वड्यां कब्बी 
 
कै भदैली गौ माता ॥ {*8*} 
(07.05.2017)                                        .






गढ़वाली कुण्डलियाँ {गढ़वलिम}
{On : पाड़न कन्नि द्वी भौ }
.
डांडा कांठा हमरा छन 
वादी छन कश्मीर । 
कुलैं कु लीसु हम खुणे 
ऊँ कू केसर खीर ॥ 
 .
ऊँ कू केसर खीर 
 
बिगाड़ी क्या जी हमना । 
 
वख ता सेब बदाम 
 
यख त दलम्या भी नीना ॥ 
 .
ब्वल्द कृष्ण ममगाईं 
 
लगनि ई कन्ना कांडा ।
पाड़न कन्नि द्वी भौ 
 
हम्म थैं पोड़ी डांड ॥ {०७} 
(06.05.2017)                                        .



गढ़वाली कुण्डलियाँ {गढ़वलिम}
.
{On : जै गढ़वालौ स्वर्ग ब्वदाँ }
.
जै गढ़वालौ स्वर्ग ब्वदाँ
वख देखा त खंद्वार ।
मन कुंदिल ह्वे जांदु च
कै की इना दीदार ॥
 
कै की इना दीदार
धुरप्वला पठला नीना ।
 
बांझा प्वाड़ीं छन सार
शिकैत भी करना कैमा ॥

ब्वल्द कृष्ण ममगाईं
रुख करा थोड़ा घौरौ ।
अपड़ी कूड़ि कर ठीक
चाए छै जै गढ़वालौ ॥ {}
.
(04.05.2017)                                        .


गढ़वाली कुण्डलियाँ {गढ़वलिम}
.
{ On : गढ़वाली घट्ट }
.
घट मा म्यारा बैठी की
दलनू राया मूंग ।
भारि थक्यूं छौ दिन भरौ
वै थैं ऐ गी निन्द ॥
 
.
वै थैं ऐ गी निन्द
घट्ट खाली रिंगणू छौ ।
बिजली की कख डौर
घट्ट पांणिन चलनू छौ ॥
 
.
ब्वल्द कृष्ण ममगाईं
घट्ट अब कख छन गौं मा ।
चकक्यू पिस्यूं खावा
राखा म्यारा भैरौं घट मा ॥ {5/5}
.
(02.05.2017)                                         .                    



गढ़वाली कुण्डलियाँ {गढ़वलिम}
.
{On : गढ़वाली लोक - नृत्य }
.
पंडौं नचणू जणन कू
अर ख्यन्नू झुमैलु ।
चौफल आदि सीखणा कू
कोरीग्राफर रै होलु ॥ 
.
कोरीग्राफर रै होलु
तभी ता नचणू सीखी ।
कन बिध्या रै होलि
सीख कन रै ह्वलि तीखी ॥
.
ब्वल्द कृष्ण ममगाईं
हम त बस इतगै जंणदौं ।
बदलि नि साक़ी आज
तलक क्वी नचणू पंडौं ॥         
 (01.05.2017)                                         .                    



गढ़वाली कुण्डलियाँ {गढ़वलिम}
.
{On: नौना, नौनी & ब्वारी }
.
नौना कदन मां बाप कू
पितृ ऋण से उद्धार ।
आखरी क्रिया कैरि की
भ्यजदन स्वर्ग का द्वार ॥
.
भ्यजदन स्वर्ग का द्वार
नौनी भी कम नी हूंदी ।
 
उ आंदै अपड़ा दगड़ी
स्वर्ग दगड़ा ही लांदी ॥ 
.
ब्वल्द कृष्ण ममगाईं
ब्वार्रियूँ भी कम नी समझा ।
ब्वारी बंणी जख जांद
स्वर्ग कै दींद घर वे नौनौ  
(28.04.2017)                                         . 





अध्याय 3 : श्लोक  33 :   (श्लोक गढ़वलिभि)
.
सदृशं चेष्टते स्वस्याः प्रकृतेर्ज्ञानवानपि ।
प्रकृतिं यान्ति भूतानि निग्रहः किं करिष्यति ॥
.
श्लोक गढ़वाली म :
.   
चेस्टा करदा ज्ञान वान भि 
अपणिं प्रकृत्यानुसार
प्राणि सब छन प्रकृति आश्रित
कैकु हठ क्या कैरलू ॥  [३ : ३३] 
.
(08.05.2017)                                        .



श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
अध्याय 3 : श्लोक 32 : (श्लोक गढ़वलिम भि)
.
ये त्वेतदभ्यसूयन्तो नानुतिष्ठन्ति मे मतम्‌ ।
सर्वज्ञानविमूढांस्तान्विद्धि नष्टानचेतसः ॥
.
श्लोक गढ़वाली म : 
. 
किन्तु म्यारा मत कु पालन 
ईर्शा बस जू मनिख 
करदा नीना ऊं समझ तू 
 
मूढ़ मोहित और नष्ट ॥ [: ३२] 
(07.05.2017)                                        .
श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
अध्याय 3 : श्लोक 31 : (श्लोक गढ़वलिम भि)
.
ये मे मतमिदं नित्यमनुतिष्ठन्ति मानवाः ।
श्रद्धावन्तोऽनसूयन्तो मुच्यन्ते तेऽति कर्मभिः ॥
.
श्लोक गढ़वाली म : 
. 
दोष द्रिष्टि से परे अर 
 
श्रधा युक्त भाव से 
करद पालन म्यारा मत कू 
हून्द कर्म मुक्त वो ॥ [: ३१] 
(06.05.2017)                                        .
श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
अध्याय 3 : श्लोक 29 : (श्लोक गढ़वलिम भि)
.
प्रकृतेर्गुणसम्मूढ़ाः सज्जन्ते गुणकर्मसु ।
तानकृत्स्नविदो मन्दान्कृत्स्नविन्न विचालयेत्‌ ॥
.
श्लोक गढ़वाली म : 
. 
प्रकृति गुण से मोहित मनिख 
रांद आसक्त कर्म गुण मां 
इना अज्ञानी मनिखुं थैं 
भ्रमित न कैरन ज्ञानि जन ॥ [3: २९] 
(05.05.2017)                                        .
श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
अध्याय 3 : श्लोक 26 : (श्लोक गढ़वलिम भि)
.
न बुद्धिभेदं जनयेदज्ञानां कर्मसङि्गनाम्‌ ।
जोषयेत्सर्वकर्माणि विद्वान्युक्तः समाचरन्‌ ॥
.
श्लोक गढ़वाली म : 
. 
कन नि चैंदा ज्ञान्युं थैं 
अज्ञान्युं मा बुद्धी भरम 
बल्कि कै की आचरण 
ऊंसे भी करवा उन्न ही ॥ [3: २६] 
(04.05.2017)                                        .
श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
अध्याय 3 : श्लोक 21 : (श्लोक गढ़वलिम भि)
.
यद्यदाचरति श्रेष्ठस्तत्तदेवेतरो जनः ।
स यत्प्रमाणं कुरुते लोकस्तदनुवर्तते ॥
.
श्लोक गढ़वाली म : 
. 
श्रेष्ठ करदन आचरण जू 
बक्कि लोग करदन उन्न।
प्रमाणित कद श्रेष्ठ जै थैं 
आचरण उनि कद जगत ॥[3: २१] 
(03.05.2017)                                        .
श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
अध्याय 3 : श्लोक 15 : (श्लोक गढ़वलिम भि)
.
कर्म ब्रह्मोद्भवं विद्धि ब्रह्माक्षरसमुद्भवम्‌ ।
तस्मात्सर्वगतं ब्रह्म नित्यं यज्ञे प्रतिष्ठितम्‌ ॥
.
श्लोक गढ़वाली म : 
. 
कर्म पैदा बेदु से 
 
अर बेद पैदा ब्रह्म से ।
ये वजह यू परब्रह्म ही 
रांद स्थित यज्ञ मां ॥ [: १५ ]   (02.05.2017)        .
श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
अध्याय 2 : श्लोक 61 : (श्लोक गढ़वलिम भि)
.
तानि सर्वाणि संयम्य युक्त आसीत मत्परः ।
वशे हि यस्येन्द्रियाणि तस्य प्रज्ञा प्रतिष्ठिता ॥
.
श्लोक गढ़वाली म : 
. 
इंद्रि हुंदना बशम जैकी 
 
बुद्दि स्थिर हूंद तैकी ।
कर्मयोगी करद बशमां 
 
इंद्रियूं थैंकी ध्ये कि मीं ॥ [: ६१] 
(01.05.2017)                                        .
श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
अध्याय 2 : श्लोक 59 : (श्लोक गढ़वलिम भि)
.
विषया विनिवर्तन्ते निराहारस्य देहिनः ।
रसवर्जं रसोऽप्यस्य परं दृष्टवा निवर्तते ॥
.
श्लोक गढ़वाली म : 
. 
निराहारी मनिख का त 
 
निब्रित हुंदना विषय ही ।
रस भी निब्रित ह्वै जंदन 
 
बुद्दि स्थिर पुरुष का ॥ [:५९] 
30.04.2017                                      ..



श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
अध्याय 2 : श्लोक 72 : (श्लोक गढ़वलिम भि)
.
एषा ब्राह्मी स्थितिः पार्थ नैनां प्राप्य विमुह्यति ।
स्थित्वास्यामन्तकालेऽपि ब्रह्मनिर्वाणमृच्छति ॥
.
श्लोक गढ़वाली म : 
. 
ब्रह्मप्राप्ति कि स्थिति च या 
 
जै थैं पै की अर्जुन ।
मोह नि हूंदू योग्युं थैं 
ब्रह्मलीन हुंदना अंत मा ॥ [: ७२] 
29.04.2017                                      ..


श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
अध्याय 2 : श्लोक 54 : (श्लोक गढ़वलिम भि)
.
स्थितप्रज्ञस्य का भाषा समाधिस्थस्य केशव ।
स्थितधीः किं प्रभाषेत किमासीत व्रजेत किम्‌ ॥
.
श्लोक गढ़वाली म : 
. 
समाधिस्त स्थिर पुरुष का 
 
पुछद लक्षण अर्जुन ।
ब्वल्दु, बैठदु, चलदु कन चा 
समाधिस्त स्थिर पुरुष ॥ [:५४] 
28.04.2017                                      ..
श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
अध्याय 2 : श्लोक 53 : (श्लोक गढ़वलिम भि)
.
श्रुतिविप्रतिपन्ना ते यदा स्थास्यति निश्चला ।
समाधावचला बुद्धिस्तदा योगमवाप्स्यसि ॥
.
श्लोक गढ़वाली म : 
. 
बनि बनी का बचनौ सूंणीं 
बिचिलित बुद्दि तेरि जब ।
ह्वैलि स्थिर परमात्मा मा 
 
योग प्राप्त कैल्यू तब ॥ [:५३] 
27.04.2017                                      ..


श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
अध्याय 2 : श्लोक 52 : (श्लोक गढ़वलिम भि)
.

यदा ते मोहकलिलं बुद्धिर्व्यतितरिष्यति ।
तदा गन्तासि निर्वेदं श्रोतव्यस्य श्रुतस्य च ॥
.
श्लोक गढ़वाली म : 
. 
बुद्दि तेरी पार कलि 
 
जब मोह रूपी दलदल ।
सुण्यां सण्यां भोगौं से 
 
वैराग्य पै जैली तभी ॥[:५२] 
26.04.2017                                      ..
श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
अध्याय 2 : श्लोक 51 : (श्लोक गढ़वलिम भि)
.
कर्मजं बुद्धियुक्ता हि फलं त्यक्त्वा मनीषिणः ।
जन्मबन्धविनिर्मुक्ताः पदं गच्छन्त्यनामयम्‌ ॥ 
.
श्लोक गढ़वाली म : 
. 
समत्व बुद्धि युक्त ज्ञानी 
 
कर्म फल थैं त्यागि की ॥
मुक्त बंधन ह्वै जंदन 
अर पंदन ऊ परम पद ॥ [:५१] 
25.04.2017                                      ..

श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
अध्याय 2 : श्लोक 50 : (श्लोक गढ़वलिम भि)
.
बुद्धियुक्तो जहातीह उभे सुकृतदुष्कृते ।
तस्माद्योगाय युज्यस्व योगः कर्मसु कौशलम्‌ ॥ 
.
श्लोक गढ़वाली म : 
. 
मुक्त रंदन पाप पुण्य से 
 
समत्व बुद्दि वला मनिख । 
 
समत्व बुद्दि कि कैर चेष्ठा 
सब्बि कार्य-कौसल योग ही त च ॥ [२:५०] 
24.04.2017                                      ..
श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
अध्याय 2 : श्लोक 49 : (श्लोक गढ़वलिम भि)
.
दूरेण ह्यवरं कर्म बुद्धियोगाद्धनंजय ।
बुद्धौ शरणमन्विच्छ कृपणाः फलहेतवः ॥
.
श्लोक गढ़वाली म : 
. 
दूर रांद समत्व बुद्धि से 
 
सकाम कर्म धनंजय ।
ये वजह समत्व बुद्धि से 
 
उपाय देख रक्षा कू ॥ [:४९]
23.04.2017                                      ..


श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
अध्याय 2 : श्लोक 45 : (श्लोक गढ़वलिम भि)
.
त्रैगुण्यविषया वेदा निस्त्रैगुण्यो भवार्जुन ।
निर्द्वन्द्वो नित्यसत्वस्थो निर्योगक्षेम आत्मवान्‌ ॥
.
श्लोक गढ़वाली म : 
. 
तीनौ गुणौं का भोग साधन 
बेदु मां च उजागर ।
योग छेम से ऐंच उट्ठी 
 
अंतःकरण हो अर्जुन ॥ [:४५]
22.04.2017                                      ..
श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
अध्याय 2 : श्लोक 48 : (श्लोक गढ़वलिम भि)
.
योगस्थः कुरु कर्माणि संग त्यक्त्वा धनंजय ।
सिद्धयसिद्धयोः समो भूत्वा समत्वं योग उच्यते ॥॥ 
.
श्लोक गढ़वाली म : 
. 
योग स्थित बण समत्व 
 
संगदोष थैं त्यागि दी । 
 
सिद्ध असिद्ध म सम ह्वे अर्जुन 
कर्म कैर ई समत्वभाव योग च ॥ [:४८]
21.04.2017                                      ..


श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
अध्याय 2 : श्लोक 41 : (श्लोक गढ़वलिम भि)
.
व्यवसायात्मिका बुद्धिरेकेह कुरुनन्दन ।
बहुशाका ह्यनन्ताश्च बुद्धयोऽव्यवसायिनाम्‌ ॥ 
.
श्लोक गढ़वाली म : 
. 
एक हि हून्दा निश्चय बुद्धि 
 
कर्मयोग मा हे अर्जुन ।
अनेक प्रकारै बुद्धि हूंदा 
 
अस्थिर बिचारा कामी मानिखम ॥ [: ४१]
20.04.2017                                      ..


गढ़वाली दोहा ““पखणौं का बुखणां”” :  
.
ऊँका त सूना पर भि रै  
आंणी रांन्द सुगन्ध ।
बड़ा लोगू की बात चा   
चुप रांणू ही बंणद ॥ [१९७]   
 . (08.05.2017)                                        .
.
मनिख कमांणा जंणद जू 
 
नेक हूंद इन्सान ।
पैसा कमांणा वाला त 
 
कत्ति मिलला बेईमान ॥ (१९६) 
 . (07.05.2017)                                        .
.
आज गीजि कखड़ी अर 
 भोल बखरि की ओर ।
लगलि लगाम नि शुरूम जू 
 बंणि जालू ऊ चोर ॥ [१९५] 
  . (06.05.2017)                                        ..
.
गाली खै छै काकन 
 छुरक्युं कु ह्वाला ग्यूं ।
काक मोरि इंग्लैंड मां 
 कख छुरक्यूं की छूं ॥ (१९४) 
 . (05.05.2017)                                        ..
.एक हाथन कब्बि भी 
 बजदी नीना तालि 
झगड़ा कनकू चैंदना 
 हर दम ही द्वी पालि (१९३) 
. . (04.05.2017)                                        ..

अपड़ू मुन्ड मुंडींदु नी 
ब्वलदन अपना आप ।
कै भि काम कन्नौ चुचौं 
चईंद दुनियो साथ ॥ (१९२) 
. . (03.05.2017)                                        ..
.
आप भला त जग भलो 
 सोच च या साकार ।
भला कर्यां कू हूंद भलो 
 भलौं कु बेड़ा पार ॥ (१९१)
. . (02.05.2017)                                        ..
भारी भरोसू तुमरू रा 
 सोलह आना सच्च ।
निथर तरींणी छै कनै 
 ह्वेगे छौ मि थगड़च ॥ [१९०]
. . (01.05.2017)                                        ..

.नौनु त तापी यालि छयो 
 क्वी भी छौ नि सहारु ।
अदबौल्या सि बंणी कि तब 
 डबखुंणू राया बिचारु ॥ [१८९]
. . (30.04.2017)                                        ..

परमेश्वर का पूठा पर 
 दींदु च अब भी चुंगनि ।
ऊच्छेदी खरबग्नि च 
 मुंडरू हुयूं च छकणिं ॥ [१८८]
. . (29.04.2017)                                        ..

हौल जु लगदू मिंडखौं से 
 लोग बल्द क्यों पल्द ।
ट्रैक्टरौ युग चलनू चा 
 अब कख बात या चल्द ॥ [१८७] 
. . (28.04.2017)                                        ..
बथौं बण्यूं चा अब भि रै 
 चार बीसि कै पार ।
इनि फुरती देई सबूं 
 हे म्यारा दातार ॥ [१८६] 
. . (27.04.2017)                                        ..


खुट्ट कु हाथम लेकि जब 
 काकी करद बात ।
ब्वलदा जमनू इनु हि च 
 इन ही यूं कि औकात ॥ [१८५] 
. . (26.04.2017)                                        ..
देलि नि लांघि छै ब्वारि ना 
अपड़ू हिस्सा मांगि । 
दैज मंगदिदां यूँन भी 
 कोखि गाडि की मांगि ॥ [१८४] 
. . (25.04.2017)                                        ..
छ्वट्टु द्यखींदा सदनी ही 
 गूंणि थैं अपड़ू पूंछ ।
किलै बोलि ह्वलि बात या 
पता यु कै थैं नीच ॥ [१८३] 
. . (24.04.2017)                                        ..

भाबिन बोली भैजी मा 
 तुम थैं म्यारा सौं ।
तुम पच्छिन्डि कै द्या अब 
तै दारू का नौ ॥[१८२] 
. . (23.04.2017)                                        ..

छै मैना तक पालि दे 
 बिना दूधि कू तैन ।
बादम सब्बी राज खुनी 
 झांसा देनि जू बेन ॥ (१८१) 
. . (22.04.2017)                                        ..
कलम तेरी जबर्दस्त च 
 हे कलमा का सिपाहि
तेरी कलम कू पार त 
 विधि ना भी नी पाय ॥ [१८०] 
. (21.04.2017)                                        ..
रूत रूत ह्वै ग्या चुचौं 
 बांझा प्वणीं छन सार ।
कुदरत ना दे साथ नी 
 तां पर गरीब मार ॥ [१७९]
. (20.04.2017)                                        ..




गढ़वाली मुंडरु - हाइकू - {गढ़वालिम}
.

.
बारा बरैली …..
भुकणम थौ नी च …….
बफ़दार च …..    {#:३५} 
(08.05.2017)                                        .
.
सुंदर सांड …..
महादेव मंदिर …….
नेक चढ़ावा ….. {#:३४}
(07.05.2017)                                        .
.
ठिंडेड़ गौडु .....
एक बेल्यू दूध .......
ऐथरै आश ..... {#:३३} 
(06.05.2017)                                        .

.
धूलि अरघ …..
पंडित जी क मंत्र …….
खुश महौल ….. {#:३२}
(04.05.2017)                                        .

बरखा ऐकि …..
गदनौं उफान आ …….
गोरु बगनि ….. {#:३१} 
03.05.2017)                                        .

ब्यो कु कार्ड …..
बैंड बाजौं कु शोर …….
दहेज कि बू ….. [#: ३०]
. 02.05.2017)                                        .

ऊ पदान छा ..... 
 अब प्रधान छन ....... 
राजनीति च ..... [#: २८] 
. 01.05.2017)                                        .

कुर्सी मीलि छै ….. 
कदर कख कैरि …….
थुंथरि फुटीं ….. {#: २७
30.04..2017)                                        .



गैबणी बाछी .....
ग्वसींण प्रसन्न .......
ऐथरै आस ..... {#: २६}
. 29.04..2017)                                        .

स्कूलौ टैम …..
बरखौ दबड़ाट …….
मां परेशान ….. {#:२५
. 28.04..2017)                                        .

हिन्दू धर्म …..
सोलह संसकार …….
कन्नू को च ….. {#:२४}
. 28.04..2017)                                        .

शाबास टप्पू .....
सिर म च गंठड़ी .......
घोड़म अप्फू ..... {#: २३} 
. 26.04..2017)                                        .
 जेठा मैनम .....
जननै न मर्द भी ....... 
सिर ढकदीं ..... {#: २२}     
    . 25.04..2017)                                        .

कैन पुछणै .....
तीन म न तेरम .......
खोटु सिक्का ..... {#:२१}    
    . 24.04..2017)                                        .

दानौ ब्वल्यूं ..... 
 अर औंलौ स्वाद .......
बादम आंद ..... {#:२०}
.    . 23.04..2017)                                        .

रुक्मण्यु ब्या .....
कृष्ण भगै कि ला .......
सब खौले गीं ..... {#:१९}
. .    . 22.04..2017)                                        .

बाछि पिजणीं …..
गौड़ि वीं थैं चटणीं …….
बाघ द्वबणूं ….. {#:१८} ...
. .    . 21.04..2017)                                        .


डोठ बखुरु .....
तैका जौंल्या चिनखा ....... 
 दुगुणु फैदा ..... [#:१७] 
. 20.04..2017)                                        .
.
Of and By :  कृष्ण कुमार ममगांई
ग्राम मोल्ठी, पट्टी पैडुल स्यूं, पौड़ी गढ़वाल
[फिलहाल दिल्लि म] :: {जै भैरव नाथ जी की}
.   
के  आधुनिक लोकगीत/कविताएं , नज्म ;  , उत्तरकाशी गढ़वाल से आधुनिक लोकगीत कविताएं , नज्मटिहरी गढ़वाल से आधुनिक लोकगीत कविताएं , नज्म; रुद्रप्रयाग गढ़वाल से आधुनिक लोकगीत कविताएं , नज्म, चमोली गढ़वाल से आधुनिक लोकगीत कविताएं , नज्म, , सलाण से गढ़वाल से आधुनिक लोकगीत; पौड़ी तहसील से  गढ़वाल से आधुनिक लोकगीत कविताएं , नज्म, ; लैंसडौन तहसील  गढ़वाल से आधुनिक लोकगीत , कविताएं , नज्म
.
Garhwali verses, Garhwali Folk Songs, Garhwali Poems

[#KGDH/20-08#05#17#]