उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, May 28, 2017

क्य अर किलैई कना छी ?

छ्वीं •••••=66.
◆क्य अर किलैई कना छी ?-
Garhwali Poem by Virendra Juyal 
-
उक्टेणु खुणि सगोर ब्वना छी।
सटूलों खुणि चकोर ब्वना छी।।
म्येरि त समझम पतै नि आणी
यो इन क्य अर किलैई कना छी ?
सिकासैरियों खुणि अक्ल ब्वना छी।
माटा क हटगों खुणि शक्ल ब्वना छी।।
म्येरि त समझम पतै नि आणी
यो इन क्य अर किलैई कना छी ?
दौंरेट खुणि चखल पखल ब्वना छी।
कुंमस्यों खुणि उकल तकल ब्वना छी।।
म्येरि त समझम पतै नि आणी
यो इन क्य अर किलैई कना छी ?
अनड्या अपडा खीसा भ्वना छी।
पढया ल्यख्यां यख माखा मना छी।।
म्येरि त समझम पतै नि आणी
यो इन क्य अर किलैई कना छी ?
जो प्रेमी बणिक सौं करार कना छी।
वो ब्यौ का बाद हैंकी धना छी।।
म्येरि त समझम पतै नि आणी
यो इन क्य अर किलैई कना छी ?
चुनौ बगत नेता राम राम ब्वना छी।
जीतीकै हमसे नि हूण काम ब्वना छी।।
म्येरि त समझम पतै नि आणी
यो इन क्य अर किलैई कना छी ?
इस्कोलम पढाण वोला नोट छपणा छी।
जौंल पढणु छो वो घाम तपणा छी।।
म्येरि त समझम पतै नि आणी
यो इन क्य अर किलैई कना छी ?
सरकरि बाबू दफ्तरौं मा उंगणा छी।
जनसेवा क बदल दान मंगणा छी।।
म्येरि त समझम पतै नि आणी
यो इन क्य अर किलैई कना छी ?
-
Copyright@ Virendra Juyal 
-
Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Garhwal, Uttarakhand; Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Pauri Garhwal, UttarakhandGarhwali Poems, Folk Songs , verses from Chamoli Garhwal, UttarakhandGarhwali Poems, Folk Songs , verses from Rudraprayag Garhwal, UttarakhandGarhwali Poems, Folk Songs , verses from Tehri Garhwal, UttarakhandGarhwali Poems, Folk Songs , verses from Uttarkashi Garhwal, UttarakhandGarhwali Poems, Folk Songs , verses from Dehradun Garhwal, UttarakhandGarhwali Poems, Folk Songs , verses from Haridwar Garhwal, Uttarakhand; Himalayan Poetries, North Indian Poetries , Indian Poems, SAARC countries poems, Asian Poems 
 गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; पौड़ी  गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; चमोली  गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; रुद्रप्रयाग  गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ;  टिहरी गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; उत्तरकाशी गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; देहरादून   गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ;  हरिद्वार गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; Ghazals from Garhwal, Ghazals from Uttarakhand; Ghazals from Himalaya; Ghazals from North India; Ghazals from South Asia, Couplets in Garhwali, Couplets in Himalayan languages , Couplets from north India