उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Thursday, April 3, 2014

पर्यटन विपणन में नवां 'P' याने पॉलिटिक्स (राजनीती) का महत्व

Role  Ninth 'P'- Politics in Tourism and Hospitality Marketing Management
                    (Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series--47)
                                                                               उत्तराखंड में पर्यटन  आतिथ्य विपणनप्रबंधन -भाग 47  

                                                                               लेखक : भीष्म कुकरेती  (विपणन  विक्रीप्रबंधन विशेषज्ञ )   
राजनीति किसी भी स्थान के पर्यटन को प्रभावित करती है।  पॉलिटिक्स पर्यटन के विपणन पर बहुत तरह से असर डालती है।
जम्मू कश्मीर के पर्यटन को राजनीति ने ही तहस नहस किया। 
अंतर्राष्ट्रीय स्तर का दार्जिलिंग जैसे पर्यटक स्थल आज एक उजाड़ पर्यटक स्थल बना हुआ है और यह सब पॉलिटिक्स की वहज से हुआ। 
केरल को आधुनिक समय में भी पर्यटन द्वारा ऊंचाई देने में केरल की राज्य सरकार व वहाँ के पॉलिटिसियनों का योगदान सर्व विदित है। 
हॉंक कोंग को विश्व प्रसिद्ध पर्यटक स्थल बनाने में ब्रिटिश राजनीती का बड़ा योगदान है। 
हॉंक कॉन्ग के बगल में मकाओ को जुआ व वैश्या आधारित पर्यटन क्षेत्र विकसित करने में भी राजनैतिक व्यक्ति का हाथ है। 
थाई लैंड में वैश्या वृति आधारित पर्यटन राजनैतिक कारणो से विकसित हुआ। 
चीन का पर्यटन तो राजनीति प्रेरित ही है। 
अशोक होटल जैसा होटल विकसित करने के पीछे नेहरू जैसे राजनीतिज्ञ का हाथ है। 
यदि स्थानीय सरकार बदल जाय अवश्य ही यह राजनैतिक परिवर्तन पर्यटन योजना को प्रभावित कर सकता है। 
उत्तराखंड में सरकारें बदलने से पर्यटन विकास को गहरा धक्का लगा है क्योंकि दुसरी सरकार पहली सरकार के कई पुरानी योजनाओं को लागू ही नही करती। 
सरकारें ही पर्यटन विकास की रणनीति बनाती हैं जैसे नरेंद्र मोदी ने गुजरात पर्यटन के विज्ञापन को पूर्व मुख्यमंत्रियों से अधिक महत्व दिया। 
अंतरास्ट्रीय राजनीति हमेशा पर्यटन को प्रभावित करती है।  2014 में UNO में श्री लंका संबंधित नियम अवश्य ही श्रीलंका पर्यटन को प्रभावित करेगा। 
कहा जाता है कि भूतपूर्व केंद्रीय पर्यावरण  मंत्री श्रीमती नटराजन ने कई राज्यों के पर्यटन योजनाओं व्यक्तिगत स्तर पर प्रभावित किया। इसी तरह केंद्रीय मंत्री जय  रमेश ने भी कई पर्यटन योजनाओं को प्रभावित किया। 
भारत जैसे देस जहां केंद्र , राज्य व स्थानीय सरकारें अलग अलग विचारधाराओं वाली राजनीतिक दलों की होती हैं तो ऐसी स्थिति में  पर्यटन उद्यम प्रभावित होता है। 
कई तरह के पुराने नियम यदि नही बदले गए तो वे पर्यटन को प्रभावित करते हैं। 
कई नये नियम भी पर्यटन को प्रभावित करते हैं। 


Copyright @ Bhishma Kukreti  1 /4/2014 

Contact ID bckukreti@gmail.com

Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series to be continued ...

उत्तराखंड में पर्यटन  आतिथ्य विपणन प्रबंधन श्रृंखला जारी 

                                   
 References

1 -
भीष्म कुकरेती, 2006  -2007  , उत्तरांचल में  पर्यटन विपणन परिकल्पना शैलवाणी (150  अंकों मेंकोटद्वार गढ़वाल