उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, April 14, 2014

टीम मा कुछ बि ठीक नी च

चुनगेर ,चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती        

(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )
  
वा (फोन मा र )- अबै दैं जितणौ पूरा चांस छन। 
वु (मन ही मन मा )- पता नि क्या बुलणि च धौं।  अबै दैं हम तैं हारण से भगवान बि नि बचै सकुद। 
वा (फोन मा  ) -सलेक्सन कमेटी चैन मा च। 
वु (मन ही मन मा ) -    सलेक्सन कमेटी चैन मा कख च ? सलेक्सन  कमेटी मेंबर तनाव मा छन।                  
वा  (फोन  मा )  -सलेक्सन कमेटी मेंबर बड़ा इतमिनान मा छन। 
वु (मन ही मन मा )- सलेक्सन कमेटी मेंबरुं समज मा नि आणु कि करण क्या च। 
वा (फोन मा  )-टीम मा आणो पिपड़कार लग्युं च।  एक प्लेस  का वास्ता सौ सौ तयार छन। 
वु(मन ही मन मा ) - इक जौं  तैं टिकेट द्याई वू टिकेट वापस करिक भाजपा मा जाणा छन। 
वा (फोन मा  )-हरेक टीम मेंबर फिनिश करणो तयार बैठ्याँ छन। 
वु (मन ही मन मा )-   हरेक मेंबर फिनिश हूणो तयार बैठ्याँ छन।                    
वा (फोन मा  ) -हरेक टीम मेंबर एक दुसरै सहायता करणा छन। टीम मा टीम स्प्रिट च। 
वु(मन ही मन मा ) -  हरेक टीम मेंबर एक दुसर तैं लमडाणो तयार बैठ्याँ छन।   स्प्रिट पेक टीम स्प्रिट तोड्याणि च                    
वा  ( फोन मा  )  -टीम मा विचार विमर्श  हूंद कि प्लान 'A ' नि चौलल तो प्लान 'B' क्या होलु अर प्लान 'C' क्या होलु ।
वु (मन ही मन मा )- टीम मा एक दुसर तैं भतकाणो बान प्लान 'A' बणद , एक हैंक तैं पछाड़नो बान प्लान 'B' बणद अर एक हैंक की मौ उजाड़नो बान प्लान 'C' बणद ।
वा (फोन मा  )-ऑपज़िट टीम तैं हराणो बान रणनीति बणाए जांद। 
वु (मन ही मन मा )- अपरी टीम तैं हराणो रणनीति बणनि छन। 
वा (फोन मा  )-सबि रणनीति का हिसाब से खिलणा छन। 
वु (मन ही मन मा ) -   सबि रणनीति का उल्टा  करणा छन ।
वा (फोन मा  ) - अबै दैं सेमीफाइनल जितणम  बि कठिनाई नि ह्वे 
वु (मन ही मन मा )-     राजस्थान , मध्य परदेश कु सेमीफाइनल त हम हारी गेवां।  
वा (फोन मा  )-सट्टा बजार मा हमर जितणा चांस पर ही सट्टा लगणु च। 
वु (मन ही मन मा )- सट्टा बजार मा हमर हरण पर ही सट्टा लगणु च।
वा (फोन मा  )-सटोरिया सबसे सटीक फोरकास्ट करदन याने भविष्यवाणी करदन 
वु (मन ही मन मा )- हाँ अर सटोरियोंन भविष्यवाणी कौर याल कि कौंग्रेसौ सुफड़ा साफ़  हूणु च।                 
वा  (फोन  मा )  -फ़ाइनल जितण तो  डेड स्योर च।  अच्छा मि फोन धरद। 
वु - तू फोन मा क्यांक छ्वीं लगाणी छे ?
वा -T 20 वर्ल्ड कप की छ्वीं लगाणु छौ। 
वु - मीन समज कि तू कॉंग्रेस की बात करणी छे।
वा -सुणो ! अब्याक अबि कॉंग्रेस का टिकट वापस करिक ऐ जावो। 
वु- ह्याँ पण अब त नामांकन वापस लीणो तारीख बि चली गे।                      
वा  -नै तुम अबि राजनाथ सिंह जी से बात कारो अर राजयसभा सीट का ऐवज मा कॉंग्रेस छोड़ी द्यावो। 
वु -   नैतिक दृष्टि से क्या यु ठीक रालो ?                      
वा   -कनो आज नैतिकता याद आणि च ? अर पांच साल पैल जब भाजपा छोड़िक कॉंग्रेस मा भर्ती ह्वे छा तब नैतिकता कख जयीं छे। 
वु - ठीक च मी राजनाथ सिंह जीक दगड़ निगोशिएट करद ! 

       
           

                      
वा(फोन  ) -Copyright@ C Bhishma Kukreti  5  /4/2014 

*कथा , स्थान व नाम काल्पनिक हैं।  
[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक  से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  द्वारा  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वालेद्वारा   पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले द्वारा   भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले द्वारा   धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले द्वारा  वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  द्वारा  पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक द्वारा  विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक द्वारा  पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक द्वारा  सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखकद्वारा  सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक द्वारा  राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनीति में परिवार वाद -वंशवाद   पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ग्रामीण सिंचाई   विषयक  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, विज्ञान की अवहेलना संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य  ; ढोंगी धर्म निरपरेक्ष राजनेताओं पर आक्षेप , व्यंग्य , अन्धविश्वास  पर चोट करते गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनेताओं द्वारा अभद्र गाली पर हास्य -व्यंग्य    श्रृंखला जारी  ]