उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, April 14, 2014

राहुल गांधी अर साकेत बहुगुणा की आपसम छ्वीं बत्था

हंसोड्या , चुनगेर ,चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती        

(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )   
अब जब टिहरी क्षेत्र से कॉंग्रेसौ टिकेट हेमवती नंदन राज्य कु राजकुमार तैं मील गे तो अवश्य ही कॉंग्रेसौ महाराजा राहुल गांधी की हेमवती नंदन राज्य कु राजकुमार साकेत बहुगुणा से अवश्य ह्वेइ होलि।  मीन अंथाज लगाइ कि महाराजा राहुल अर राजकुमार साकेत का मध्य क्या छ्वीं लग होलि। 
राहुल गांधी -हेलो राजकुमार साकेत ! क्या हाल छन ?
साकेत बहुगुणा -महाराजा , चक्रवर्ती सम्राट की जय हो ! सब आपकी मेहरबानी सरकार। आपकी मेहरबानी से बाबा जी , बुआ जी  सब आनंद मा छन , रंगत मा छन।
राहुल गांधी -राजकुमार साकेत ! मी चुनाव की बात करणु छौं।
साकेत बहुगुणा -हाँ , सम्राट !  अब टिहरी जाणो तयारी करणु छौं। 
राहुल गांधी -हेमवती नंदन धरोहर का  प्रिंस ! त्यार विरुद्ध नरेंद्र मोदीन कैतै खड़ु कार ? 
साकेत बहुगुणा -सरकार इख बिटेन टिहरी रियासत का महाराजा, टिहरी का भूतपूर्व सांसद मानवेन्द्र शाह की पौत्र पत्नी ,  महारानी राज्य लक्ष्मी शाह नरेंद्र मोदी की पार्टी से खड़ी च।
राहुल गांधी -विजय पुत्र ! या महारानी नरेंद्र मोदी की च्वाइस च या भाजपा की च्वाइस ?
साकेत बहुगुणा -महाराज ! या जिताऊ कंडिडेट की च्वाइस च। 
राहुल गांधी -अच्छा , नरेंद्र मोदी त बुल्द कि परिवार वाद बुरु च। फिर टिहरी रियासत 
साकेत बहुगुणा -युवर मेजेस्टी ! ये नरेंद्र मोदीक बात नि  कारो।  अभियोग लगाण त वैक काम च।
राहुल गांधी -राजकुमार !  कुछ चुनावी रणनीति बि बणाइ कि ना ? 
साकेत बहुगुणा -हे सम्राट ! हरेक भाषण मा मि बारा दैं नरेंद्र मोदी तैं गाळी द्योलु , आठ   दैं मुस्लिम मतदाताओं तैं डरौलु अर आठ  दैं राहुल गांधी की जय हो , युवा नेता राहुल गांधी बुलल।
राहुल गांधी -प्रिंस ! इन नि लगणु च कि मुस्लिम मतदाताओं तैं डराणै बात कम हूणि च ? 
साकेत बहुगुणा -हे गांधी परिवार का सूर्य ! इख मुस्लिम मतदाता छैंइ नीन। 
राहुल गांधी -पर फिर बि कॉंग्रेस नीति अनुसार भाषणु मा नरेंद्र मोदी तैं गाळी अर मुस्लिम मतदाताओं तैं भयभीत कराण मा अनुपात बराबर हूण चयेंद। 
साकेत बहुगुणा -सम्राट ! ठीक च मि दस दैं नरेंद्र मोदी तैं गाळी द्योलु , दस दैं मुसलमानुं तैं डरौंलु अर बारा दैं राहुल गांधी जी प्रशंसा गीत गौलु। 
राहुल गांधी -राजकुमार ! अब अनुपात ठीक बैठणु च। 
साकेत बहुगुणा -सलाह का वास्ता धन्यवाद महाराज !
राहुल गांधी -अच्छा , सूचना का अधिकार की बात ?
साकेत बहुगुणा -युवर मैजेस्टी ! उत्तराखंड मा सूचना का अधिकार स्लोगन चुनावुं मा  नि बिकुद ।
राहुल गांधी -महान हेमवती नंदन के महान पौत्र ! उत्तराखंड मा सूचना अधिकार कु झुनझुना किलै नि  बजद ?
साकेत बहुगुणा -हरेकाक रिस्तेदार सचिवालय मा छन तो तकरीबन सब सूचना लोगुं तक पौंछ हि जांद।
राहुल गांधी -प्रिंस ! अच्छा मनरेगा की खिल्वणि त बजैल कि ना ? 
साकेत बहुगुणा -चक्रवर्ती सम्राट ! मनरेगा की खिल्वणि अब पुरण पोड़ गे। 
राहुल गांधी -अच्छा तो फ़ूड सेक्युरिटी बिल की बात कारो 
साकेत बहुगुणा -हिज हाइनेस ! लोग फ़ूड सेक्युरिटी का अर्थ नया नया खाद्यान भंडार चिणन   समझणा छन।
राहुल गांधी -राजकुमार ! तो जनता तैं बिंगावो की फ़ूड बिल क्या च ?
साकेत बहुगुणा - क्षमा कीजिये महाराज ! जब मेरी समज मा नि आणु च कि यु फूड बिल क्या बला च त मि लोगुं तैं क्या समझाऊं ?
राहुल गांधी -समज मा त मेरि बि नि आयि कि यु फ़ूड सेक्युरिटी बिल क्यांक दवा च पर फिर बि मि बौंळ बिटैक भाषण दींदु  छौं कि ना की हम तुम्हारे लिए फ़ूड बिल लाये है ?
साकेत बहुगुणा -ठीक च सरकार ! मि फ़ूड सेक्युरिटी बिल की बात ऊनि करुल जन दादा जी इलाहाबाद मा गरीबी हटाओ की बात करदा छा। 
राहुल गांधी -दैट्स कॉंग्रेसी स्पिरिट ! 
साकेत बहुगुणा -थैंक यू हिज हाइनेस !
राहुल गांधी - हे विजय पुत्र ! तो फिर तुम जनता तैं कनकै बौगैल्या (झांसा से शांत ) ?
साकेत बहुगुणा -युवर मैजेस्टी ! बिजीं जनता याने जागृत जनता तै बौगाये जांद। सियीं जनता तैं बौगाणे जरूरत ही नी च। 
राहुल गांधी - टिहरी मा सियीं जनता ?
साकेत बहुगुणा - यस ! हिज हाइनेस ! जब जनता भूतपूर्व महाराजा तैं हर बार संसद मा भिजदी , जब जनता गढ़वाल से बेपरवाह विजय बहुगुणा तैं संसद मा भिजदी , गढ़वाल का दुःख सुख से अनजान राज्य लक्ष्मी तैं संसद मा भिजदी तो अवश्य ही या जनता सियीं जनता च। 
राहुल गांधी - अच्छा जितणो चांस छन  की ना ?
साकेत बहुगुणा - हिज हाइनेस ! ये बगत ना सै तो 2019 मा जितलु , निथर 2024 मा त जितुल ही। 
राहुल गांधी - दैट्स वेरी गुड स्पिरिट।  मी बि 2024 मा प्रधान मंत्री बणणो तैयारी करणु छौं।
**यदि मिस्टेक से उपरोक्त वार्तालाप सही हो तो उसमे मेरी कोई मिस्टेक ना मानी जाय। 

Copyright@  Bhishma Kukreti  11 /4/2014 

*कथा , स्थान व नाम काल्पनिक हैं।  
[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक  से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  द्वारा  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वालेद्वारा   पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले द्वारा   भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले द्वारा   धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले द्वारा  वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  द्वारा  पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक द्वारा  विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक द्वारा  पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक द्वारा  सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखकद्वारा  सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक द्वारा  राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनीति में परिवार वाद -वंशवाद   पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ग्रामीण सिंचाई   विषयक  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, विज्ञान की अवहेलना संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य  ; ढोंगी धर्म निरपरेक्ष राजनेताओं पर आक्षेप , व्यंग्य , अन्धविश्वास  पर चोट करते गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनेताओं द्वारा अभद्र गाली पर हास्य -व्यंग्य    श्रृंखला जारी  ]