उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, April 27, 2014

नरेंद्र मोदी बड़ा चबोड़्या (मजक्या ) इ नी च बल्कण मा जनता तैं बेवकूफ बि समजद

हंसोड्या , चुनगेर ,चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती        

(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )

                    हालांकि, क्वी क्या माँ -बेटा -बहिन यानी कॉंग्रेस बि मेरि बात से सहमत नि ह्वाल कि चुनाव पूर हूण से पैलि ही भाजपा का ह्वे गे प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी भौत बड़ो मजाकिया च, चर्चरो  चबोड़्या च , बरबरो  चखन्यौर्या च। नरेंद्र मोदी से बड़ो धृष्ट मजाकिया आज हिन्दुस्तान मा नि मील सकद . उन नेताओं तैं सिखाये बि जांद कि स्पीच मा कुछ ह्यूमर , कुछ व्यंग्य लाओ।  किन्तु मोदीन अपण  सख्शियत को प्रचार ही इन कार कि ह्यूमर , हंसी नरेंद्र मोदीक आसपास बि नि आंद।  इख तलक कि शहजादा , इटली का पिज्जा , माँ बेटा आदि ह्यूमर का शब्द असल मा जहर या प्वॉइजनास ह्वे जांदन।  अर लालू प्रसादन या कपिल सिब्बलन मि  तैं कोर्ट मा लीजाण कि भीष्म कुकरेती बुलणु च बल नरेंद्र मोदी एक मजाकिया , चबोड़्या , चखन्यौर्या व्यक्ति बि च।  पर मि सही बुलणु छौं कि नरेंद्र मोदी मजाक करदो , हंसी उड़ान्द। 
         फिर बैल गौड़ीक  ऐण /पांस देखिक गौड़ीक बौड़ ह्वाल कि बछरी होलि जन भविष्यवाणी करण वाळ भाजपा नेताओंन मि तैं राष्ट्रद्रोही घोषित कर दीण , भाजपा नेता गिरिराज सिंगन त मी तैं पाकिस्तान पौंछे दीण जब यूँ भजापियों तै पता चौलल कि भीष्म कुकरेती खुलेआम हिमालय की चोटी से ढोल बजैक धै लगाणु छौं कि  भारत की जनता तैं मूर्ख समजण अर हिन्दुस्तान्यूं तै बेवकूफ बणाण वाळ फैक्टर्युं मालिक सोनिया गांधी अर राहुल गांधी का एकमेव गुरु नरेंद्र मोदी च।  जी हाँ मि लेखकीय संविधान की कसम खैक बुलणु छौं कि नरेंद्र मोदी राहुल गांधी  अर सोनिया गांधीक गुरु च।
                           नरेंद्र मोदीक सबसे बड़ो मजाक उत्तराखंड अर अमृतसर पर्यटन विकास हेतु केंद्र तैं जुम्मेवार ठहराण 
                       ब्याळि नरेंद्र मोदी अमृतसर मा मजाक करणु छौ, ब्याळि २५/ ४/२०१४ दिन एक चुनावी सभा मा नरेंद्र मोदी एक भद्दा , गंदा , डर्टी जोक सुणानु छौ कि केंद्रीय नीतियों याने माँ -बेटा -बहिन का कारण अमृतसर एक संसार प्रसिद्द शहर नि बौण सकणु च।  नरेंद्र मोदिन फिर एक  हैंक बीभत्स मजाक कार कि अमृतसर मा गंदगी , मलमूत्र इना ऊना बगद च अर अमृतसर की गंदगी की सारि जुमेवारी केंद्रीय सरकार की च। 
इनि मजाक नरेंद्र मोदीन देहरादून मा बि कार कि उत्तराखंड संसार प्रसिद्ध  पर्यटन स्थल बौण सकद अर उत्तराखंड की बेबसी (प्रसिद्ध पर्यटक स्थल नि बणनु च ) का ठीकरा नरेंद्र मोदीन कॉंग्रेसी सरकार का माथा पर फोड़ी दे कि यदि केंद्र मा भाजपा सरकार हूंद तो उत्तराखंड स्विट्जरलैंड से बि अधिक प्रसिद्ध टूरिस्ट डेस्टिनेसन ह्वे जांद।
  नरेंद्र मोदी का बयान कि केंद्रीय सरकार की अदूरदृष्टि से अमृतसर पर्यटक स्थल नि बौण अर भारत मा गंदगी च जासे विदेशी पर्यटक भारत नि  आंदन या उत्तराखंड विश्व ख्याति पर्यटक स्थल बौण सकुद जन व्याख्यान से साफ़ पता चलद कि नरेंद्र मोदी एक तरफ माँ -बेटा -बहिन का बहाना से भारतीयुं से मजाक करद अर तुर्रा या च कि या तो नरेंद्र मोदी भारतीयों तैं महामूर्ख समजद या नरेंद्र मोदी इन भाषणो से हिन्दुस्तान्यूं तैं बेवकूफ बणाणो कोशिस करणु च। 
 हे भै नरेंद्र ! जरा इन बतादि कि अमृतसर , देहरादून , रिलीफ रोड अहमदाबाद , जुवापुर अहमदाबाद ; स्टेसन रोड अर  जेल रोड इंदौर , देहरादून का मोतीबजार मा गू - मूताक नदी बगणा छन तो  यीं गंदगी की जम्मेवारी क्या केंद्रीय सरकार की च ? अमृतसर , अहमदबाद , इंदौर या देहरादून (जख  भाजपा सरकार छे )  मा क्या साफ़ सफाई करवाणो वास्ता मनमोहन सिंगन केंद्रीय दस्ता भिजण ? सफाई को काम सर्वथा राज्य सरकार कु  च तो मिस्टर वेटिंग इन  प्राइम मनिस्टर नरेंद्र मोदी ! कृपया इन तो बताओ कि अमृतसर की खस्ता हालत का वास्ता प्रकाश सिंग बादल जुमेवार च कि ना ? प्रधान मंत्री की कुर्सी दौड़ मा सबसे अग्वाड़ी खड़ हुयुं श्रीमान नरेंद्र मोदी जरा जबाब तो द्याओ कि इंदौर की गंदगी का वास्ता शिवराज चौहान जुमेवार होलु कि राहुल गांधी ?
भये मोदी अपण भाजपा का पूठक गू कृपया राहुल गांधी पूठ पर नि लपोड़ भाइ याने केंद्रीय सरकार पर बेकार का लांछन नि लगावो।  जनता सब जानती है कि सफाई की जुम्मेवारी राज्य सरकार की च।  तो नरेंद्र भाई बंद करो ये भ्रम की दूकान , अपण जीब सील दो कि साफ़ सफाई केंद्र की जम्मेदारी च। 
   फिर अमृतसर या उत्तराखंड एक विश्व प्रसिद्ध पर्यटक स्थल नि बौण साक तो वांक उत्तरदायित्व केंद्रीय सरकार से ज्यादा राज्य सरकार की हूंद।  
 जनता तैं भाषणो घुट्टी पिलैक बेहोस करण वाळ गुज्जु भाई ! जरा प्रकाश सिंह बादल से ही पूछ लींदा कि अकाली -भाजपा सरकारन अमृतसर तैं खूबसूरत पर्यटक स्थल बणानो बान क्या क्या योजना बणैन अर माँ -बेटा -बहिनन यूँ योजनाओ तैं रुकणो बान क्या रोड़ा अटकैन ? कमजोरी अकाली -भाजपा सरकारी की और नरेंद्र भाई तुम तो लांछन माँ -बेटा-बहिन  पर लगाणा छंवां।  पर्यटन का भयंकर पुजारी नरेंद मोदी ! क्या यु जनता तैं मूर्ख बणाणो काम नी  च ? 
उत्तराखंड मा यदि पर्यटन उथगा नि फूल फल जथगा कि ह्वे सकुद छौ तो सबसे भाजपा सरकार ही सबसे बड़ी गुनहगार च।  नारयण दत्त तिवारीन एक भौत ही बढ़िया टूरिज्म रोड मैप तयार कौर छौ किन्तु निशंक या बीसी खंडूरी तैं पूछो कि उत्तराखंड एक विश्व प्रसिद्ध पर्यटक क्षेत्र किलै नि बौण ? जु जबाब निशंक अर खंडूरी तैं दीण चयाणु छौ वो प्रश्न नरेंद्र मोदी माँ -बेटा -बहिन से पुछणु च कि उत्तराखंड टूरिज्म को  इथगा विकास किलै नि ह्वै।  नरेंद्र मोदी ! पंजाब अर उत्तराखंड का मनिख बि अन्न ही खांदन अर जनता  तुम सरीखा अर माँ -बेटा -बहिन का बेवकूफ बणानो टुटब्यागों , आंटी -खाटीयूं तैं समजदी च।    कृपया अब तो आप लोग समझदार बणो।  अर फिर यदि तुम होशियार छंवां तो यांक मतबल यु कतै नी च कि समिण वाळ चतुर नि होलु।
इनि कथगा इ मजाक ब्याळि 25/4/2014 का दिन अमृतसर मा नरेंद्र मोदीन कार।  पंजाब मा नशाखोरी च अर पाकिस्तान से भारी मात्रा मा नशीला पदार्थ अांद।  यांक चिंता नरेंद्र मोदीन कार।  तो जनाब मोदी साहेब ! पंजाब मा नशीला पदार्थ नि आवन का वास्ता पंजाब सरकार की क्या जुम्मेवारी च ?क्या यांक वास्ता बि केवल अर केवल माँ -बेटा -बहिन ही जुम्मेवार छन ? क्या  पंजाब मा नशीला पदार्थों खुलेआम सुलभ्यता का वास्ता अकाली दल का बाप -बेटा उत्तरदायी नि छन ?
नरेंद्र भाई !  जनता तैं बेवकूफ बणाण बंद कारो।  जनता गूंगी ह्वे सकद किन्तु बेवकूफ नी च जनता सब जानती है कि पंजाब मा नशीला पदार्थों कारोबार अर गुजरात मा द्वी नंबर की शराब का कारोबार बगैर मुख्यमंत्री की जानकारी का ह्वैइ नि सकद।  अर यदि पंजाब का मुख्यमंत्री तैं पता नी च कि पंजाब मा नशा का कारोबार कनकै चलणु च अर गुजरात को विकास पुरुष तैं नी पता कि गुजरात मा शराब की होम डेलिवरी कै तरह से हूंद तो इन मुख्यमंत्र्युं तै इस्तीफा दे दीण चयेंद इन अज्ञान्यूं तैं  एक सेकंड का वास्ता बि मुख्यमंत्री की कुर्सी परबैठणो क्वी अधिकार नी च। 
पाठको आप ही फैसला कारो क्या नरेंद्र मोदी भद्दा मजाक नही कर रहे हैं ? क्या विकास पुरुष हमें माँ -बेटा -बहिन के बहाने बेवकूफ नहीं बना रहे हैं ?

Copyright@  Bhishma Kukreti  26/4/2014 

*कथा , स्थान व नाम काल्पनिक हैं।  
[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक  से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  द्वारा  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वालेद्वारा   पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले द्वारा   भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले द्वारा   धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले द्वारा  वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  द्वारा  पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक द्वारा  विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक द्वारा  पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक द्वारा  सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखकद्वारा  सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक द्वारा  राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनीति में परिवार वाद -वंशवाद   पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ग्रामीण सिंचाई   विषयक  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, विज्ञान की अवहेलना संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य  ; ढोंगी धर्म निरपरेक्ष राजनेताओं पर आक्षेप , व्यंग्य , अन्धविश्वास  पर चोट करते गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनेताओं द्वारा अभद्र गाली पर हास्य -व्यंग्य    श्रृंखला जारी