उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, April 27, 2014

ट्रैवल एजेंसियों के लिए कुछ अनिवार्य लाइसेंस आवश्यकताएं

ट्रैवल एजेंसी व्यापार कैसे शुरू किया जाता है - भाग -4 


                               How to Start Travel Agency in context Uttarakhand Tourism and Hospitality Development Part -4  



                         (Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series--57  
                                                      
उत्तराखंड में पर्यटन  आतिथ्यविपणन प्रबंधन -भाग 57    


ट्रैवल एजेंसी व्यापारी को निम्न लाइसेंसों की आवश्यकता पड़ती। है 
  १-नगरपालिका या ग्राम पंचायत के आवश्यक रजिस्ट्रेसन लाइसेंस
 २-शॉप ऐंड इस्टैब्लिशमेंट जैसे लाइसेंस 
३- वैट टैक्स रजिस्ट्रेसन  राज्य व केंद्रीय टैक्स संबंधी रजिस्ट्रेसन 
४-IATA व ASATA की सदस्यता 
 ५-साइन बोर्ड लगाने का लाइसेंस अथवा रोड साइड नियमों का पालन हेतु आवश्यक फॉर्मुलिटी 
६- म्युनिसिपैलिटी , जिला या राज्य सरकार के गुमास्ता या कर्मिक भर्ती नियमो के लिए आवश्यक शर्तों का पालन 
७- यदि संस्थान बड़ा है तो प्रोविडेंट फंड , फेमिली पेंसन , ESIC , कर्मिकों के जीवन बीमा , कार्यालय बीमा आदि यदि आवश्यक हों तो लाइसेंस या अन्य सरकारी रजिस्ट्रेसन 
८- इनकम टैक्स , सेल्स टैक्स , सर्विस टैक्स आदि के लाइसेंस/रजिस्ट्रेसन  आदि 
८- करेंसी एक्सचेंज के लिए आवश्यक रजिस्ट्रेसन , लाइसेंस आदि 
उपरोक्त नियमों व अन्य जरूरी सरकारी अथवा गैरसरकारी लाइसेंस /रिजिस्ट्रेसन का प्रबंध होना चाहिए 


Copyright @ Bhishma Kukreti  27/4/2014 

Contact ID bckukreti@gmail.com
Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series to be continued ...

उत्तराखंड में पर्यटन  आतिथ्य विपणन प्रबंधन श्रृंखला जारी 

                                   
 References

1 -
भीष्म कुकरेती, 2006  -2007  , उत्तरांचल में  पर्यटन विपणन परिकल्पना ,शैलवाणी (150  अंकों में ) कोटद्वार गढ़वाल