उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Tuesday, January 7, 2014

काणु कल्यो बंटद , स्याळि -स्याळु हथ खुज्यांद

 चुगनेर,चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती 


(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )

चीफ एज्युकेशन सेक्रेटरी रावत अर प्राइवेट सेक्रेटरी माणावाल जी रावत जी की कैबिन मा विचार विमर्श मा  व्यस्त  छा। शिक्षा मंत्री अबि ऑफिस नि ऐ छा।
माणवाल - सर राज्य चीफ सेकेट्री  अन्य प्रशासनिक अधिकार्युं रिकमेंडेशन  मा हि पचास शिक्षकुं लिस्ट  पुरुष्कार  लैक ह्वे गे। 
रावत जी तैं जब बी मौक़ा मिलद वो माणावाल जी तै याद दिलान्द नि बिसरदन कि माणावाल जी अलाइड या प्रोविंसियल कैडर का ऑफिसर छन। 
रावत -तुम अलाइड या प्रॉविन्सल सर्विस वाळ बि ना ! जल्दीबाजि भौत करदा।  प्रशासन माने वेट ऐंड वाच। 
माणावाल - बट सर ! पुरुष्कार संख्या पचास च अर प्रशासनिक अधिकार्युं रिकमंडेसन ही पचास च तो राजनैतिक लोगुं क्या  ह्वाल ?
रावत - पैल स्टेट चीफ सेक्रेटरी , कैबिनेट सेक्रेटरी, फिनेंस सेक्रेटरी , ह्यूमन रिसोर्स सेक्रेटरी  परसनल विभाग सेक्रटरी , आदि छै सेक्रेटर्युं रिकमंडेसन छांट किलैकि युंक रिकमेंडेशन त मानण ही पोड़ल ?
माणावाल - जी छै शिक्षकों नाम यी छन टॉप मा। 
रावत - अब थोकदार ड्राइवर अर भ्युंयाळ ड्राइवर की रिकमेंडेशन ऐड कारो। 
माणावाल - हां यि ड्राइवर हम तैं कै विभाग मा क्या हूणु च की सूचना दीणा रौंदन त यूंक रिकमेंडेसन बि मनण ही पोड़ल।  तो आठ शिक्षक ह्वे गेन। 
रावत -  मुख्यमंत्री कार्यालय का एक  अर एक फिनेंस डिपार्टमेंट का  अपण ख़ास कलर्कु रिकमेंडेशन ऐड कारो। 
माणावाल -ये हिसाब से कुल दस शिक्षक पुरुष्कार लैक ह्वे गेन। 
रावत - एक म्यार कै ख़ास जाण पछ्याण वाळक रिमेन्डेसन च तो वै शिक्षक तैं ऐड कौर। 
माणावाल -सर एक मीम बि रिकमेंडेशन अईं च बल यु शिक्षक पुरुष्कार लैक बहुत ही योग्य च 
रावत - याने बारह शिक्षकों लिस्ट त पक्की ह्वे गे। 
माणावाल - ये ल्यावो।  म्यार कम्प्यूटर मा बारा शिक्षकों लिस्ट तैयार ह्वे गे।  मि प्रिंट दे द्युं ?
रावत - नो हरी ! अबि हम मिनिस्टर साब से अप्रूवल ले लींदा। 
चपड़ासी - सर मंत्री जी ऐ गेन बुलाणा छन। 
रावत - चलो माणावाल जी . तुम चुप ही रैन हाँ !
(द्वी मंत्री जीक कैबिन मा जान्दन )
द्वी एकदगड़ी - गुड मॉर्निंग मिनिस्टर साब !
घ्याळ दा - गुड मॉर्निंग। बैठो। 
घ्याळ दा -  इन लगणु च शिक्षक पुरुष्कार संबंधी प्रेस रिलीज अखबारूं फ्रंट पेज पर छपी होलि। 
रावत - सर ! मतबल ?
घ्याळ दा - आठ बजे बिटेन फोन आण लगि गेन कि कै शिक्षक तैं पुरुष्कार  मिलण चयेंद अर कै तैं नि मिलण चयेंद। 
रावत - सर यु हर साल हूंद। 
घ्याळ दा - विरोधी दल कु नेता कु एक सहायक रंगीलालन त धमकी ही दे कि यदि यूँ यूँ शिक्षकों तैं पुरुष्कार मीलल तो विधान सभा ही नि चलण द्याल
रावत - मिस्टर माणावाल ! तुम अपर डिवीजन क्लर्क मिसेज मुर्खलवाल  कुण ब्वालो कि मिस्टर रंगीलाल से ऊं शिक्षकों लिस्ट ले ल्यावो जौं तैं ऊंक हिसाबन पुरुष्कार नि दीण। हम ऊं शिक्षकों नाम लिस्ट से काटि दींदा। 
घ्याळ दा - ह्यां पण यां से त लायक शिक्षकों तैं हम पुरुष्कार से बंचित करणा छंवां 
(इथगा मा मिसेज मुर्खलवाल आंदी )
मिसेज मुर्खलवाल - गुड मॉर्निंग टु एवरी बॉडी 
रावत - मिसेज मुर्खलवाल ! तुम विरोधी पार्टी का बड़ा बड़ा नेताओं सहायकों से फोन पर पूछो कि कौं कौं शिक्षकों तैं पुरुष्कार नि मिलण चयेंद। 
मिसेज मुर्खलवाल - सर सुबेर बिटेन फोन आण शुरू ह्वे गे छा।  अर मीन वा लिस्ट तयार बि कौर याल। 
रावत - कुल कथगा शिक्षक छन जौंक विरोध हूणु च ?
मिसेज मुर्खलवाल -एक सौ पैंतीस शिक्षक छन जौंक भयंकर रूप से विरोध हूणु च। 
रावत (लिस्ट लींद लींद ) - वेल डन मिसेज मुर्खलवाल . आप जै सकदन। 
मिसेज मुर्खलवाल - थैंक्स टु यू  आल 
घ्याळ दा - ह्यां यि विरोधी पार्टी वाळूं तैं कनकै पता चौल कि कैक नाम रिकमंड हुयुं च। 
रावत - सर पिछ्ला छै मैना से या प्रक्रिया चलणी रौंद अर गांऊं अर जिला स्तर पर पता चौल ही जांद। 
घ्याळ दा -पण इन मा तो हम लायक शिक्षकों तैं ऊंक हक्क से बंचित करणा छंवां। 
रावत - नो सर।  असल मा विरोधी पार्टी ऊँ शिक्षकोंक विरोध करणी होलि जौन आपकी पार्टी तैं जिताण मा सबसे अधिक सहयोग दे होलु।  ल्या  यीं मिसेज मुर्खलवाल की  लिस्ट मा आप अपण क्षेत्र का शिक्षकों नाम से आप तैं पता चौल जाल कि विरोधी पार्टी ख़ास शिक्षकों विरोध किलै करणि च। 
घ्याळ दा लिस्ट दिखदन। 
घ्याळ दा - हाँ म्यार क्षेत्र से तीन अध्यापकों विरोध हूणु च अर तिन्यून मे तैं जिताणम भौत बड़ी भूमिका निभाइ।  
रावत - सर दैट इज  इट। 
घ्याळ दा - अब एक सौ पैंसठ शिक्षकों मादे पचास शिक्षकों चुनाव करण भौत इ मुश्किल काम च। 
रावत -येस सर ! नॉट ऐट ऑल सर !
घ्याळ दा -मतबल ?
रावत - सर हमर डीप  क्या रिग्रेस सर्वे का मुताबिक़ बारह इन शिक्षक छन जो टॉप मा छन वूं तैं त पुरुष्कार मिलण ही चयेंद। 
घ्याळ - बाकि अड़तीस शिक्षक ?
रावत - मिस्टर माणावाल काल मिसेज मुर्खलवाल अगेन। 
घ्याळ - क्या मिसेज मुर्खलवालन लिस्ट बणयीं च ?
रावत - नो सर ! येस सर !
मिसेज मुर्खलवाल - येस सर ! आपन बुलाइ ?
रावत - सिट फॉर ये मोमेंट प्लीज। 
मिसेज मुर्खलवाल - थैंक्स 
रावत - वो पुरुष्कार हेतु मुख्यमंत्री जीक ऑफिस बिटेन क्वी रिकमेंडेशन ?
मिसेज मुर्खलवाल -मुख्यमंत्री जीन द्वी टीचरूं अनुमोदन दे। 
रावत - अर विरोधी दल का नेता जी से क्वी अनुमोदन ?
मिसेज मुर्खलवाल - जी द्वी 
रावत -सरकारी दल का विधयाकों अनुमोदन ?
मिसेज मुर्खलवाल - सर तीस विधयकों का एक सौ बीस रिकमेंडेशन ऐ छे।  पण अंत मा हरेकन एक ही  अनुमोदन दे।  याने तीस अनुमोदन। विधान सभा अधयक्ष कु अनुमोदन मिलैक इकतीस अनुमोदन। 
रावत - टोटल ह्वाइ दो और दो चार और इकतीस याने कुल पैंतीस।  ऐम आइ राइट मिसेज मुर्खलवाल ?
मिसेज मुर्खलवाल - एस सर !
रावत - थैंक्स मिसेज मूर्खलवाल।  आप थोड़ा देरो कुण भैर बैठो।  मिनिस्टर साब फिर बुलाला। 
(मिसेज मुर्खलवाल भैर जांद )
रावत - सर बारह तो एब्सोल्यूटली इलिजिबल कंडीडेट्स ह्वाइ , अर यी ह्वे पैंतीस याने कुल सैंतालीस  शिक्षक . सर तीन आप अनुमोदन कारो।  वी लीव ऑन यू। 
घ्याळ दा -मीन तो जौं तैं दीण छौ ऊंक विरोध ह्वे गे।  जगमोहनन तीन शिक्षकों नाम दियां छन ऊंक नाम , स्कूल कु नाम यीं पर्ची मा च।  (पर्ची माणावाल लींद )
रावत - याने पचास शिक्षकों पर हमर स्वीकृति ह्वे गे। माणावाल जी आप लिस्ट मिसेज मुर्खलवाल तैं द्यावो अर जैक बि हस्ताक्षर की आवश्यकता हवावो करावो अर अंत मा मिनिस्टर साब का हस्ताक्षर कराइ द्यावो ऐंड क्लोज दिस चेप्टर।  
(माणावाल भैर जांद )
घ्याळ दा - जौं शिक्षकों पुरुष्कार का वास्ता  विरोध हूंद ऊंक क्या हूंद ?
रावत - सर ऊंकुण मुख्यमंत्री पुरुष्कार च।  ऊखमा विरोधी दल वाळ विरोध नि करदन। 
 (कुछ देर चुपी रौंद )
रावत - सर आज हमन एक बहुत बड़ो निर्णय लेक काम समय पर ख़तम कौरि। दैट्स ऐन अचीवमेंट ! 
घ्याळ दा - रावत जी ! आप  तैं नि लगद कि शिक्षक पुरुष्कार दीण केवल एक नाटक च ? एक स्वांग च ?
चीफ ऐज्युकेसन सेक्रेटरी - येस सर ! नो सर !


Copyright@ Bhishma Kukreti  7 /1/2014 



[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक  से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  के  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वाले के  पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले के  भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले के  धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले के वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  के पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक के विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक के पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक के सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखक का सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक के राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य;सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनीति में परिवार वाद -वंशवाद   पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ग्रामीण सिंचाई   विषयक  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, विज्ञान की अवहेलना संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य  ; ढोंगी धर्म निरपरेक्ष राजनेताओं पर आक्षेप , व्यंग्य , अन्धविश्वास  पर चोट करते गढ़वाली हास्य व्यंग्य    श्रृंखला जारी  ]