उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, January 6, 2014

पर्यटक स्थल विकास प्रबंधन में सूचना , अन्वेषण व विश्लेषण का महत्व

Information , Research and Analysis in Tourism  Destination Management

(Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series--32) 
                                          उत्तराखंड में पर्यटन  आतिथ्य विपणन प्रबंधन -भाग32   
                                                       लेखक : भीष्म कुकरेती     
                        
                                          (
विपणन  विक्री प्रबंधन विशेषज्ञ )

  पर्यटन स्थल विकास प्रबंधन में सूचनाओं, विभिन्न अन्वेषणों व विश्लेषणों की निरंतर  आवश्यकता पड़ती रहती है। 
 के उत्तर पर्यटन स्थल विकास के लिए आवश्यक हैं -
पर्यटन स्थल के विकास के लिए विकास विधि के बारे में खोज व निर्णय लेने के लिए बुनियादी सूचनाओं का इकट्ठा करना। 
योजना निर्धारण के लिए किन किन सूचनाओं की जरूरत होगी ?
आपके पास कौन सी सूचनाएं उपलब्ध हैं ?
अन्य व्यक्तियों या संस्थानो से कौन सी सूचना उपलब्ध होगी और कैसे ?
क्या ये सभी सूचनाएं आज औचित्यपूर्ण हैं ?
क्या ये सूचनाएं निर्णय के लिए काफी हैं ?
यदि  कुछ सूचनाएं उपलब्ध न हों तो उन सूचनाओं की प्राप्ति विधि क्या है ?
इन सूचनाओं की प्राप्ति की क्या कीमत है ?
किस तरह इन सूचनाओं को प्राप्त करना है ?

           स्थान के बारे में सूचनाएं 

पर्यटन स्थल के बारे में अभी कितनी सूचनाएं उपलब्ध हैं ?
पर्यटक स्थल विकास में प्रकृति का स्थान कितना है ?
पर्यटक स्थल विकास के लिए मनुस्य कृत किन किन भौतिक सुविधाओं की आवश्यकता पड़ेगी ?
पर्यटक स्थल के आस पास के समाज , संस्कृति व इतिहास से पर्यटन विकास में कितना सहयोग मिलेगा ?
पर्यटक स्थल के वासियों के विकास की क्या क्या भूमिकाएं निश्चित करनी हैं ?
पर्यावरण संबंधी किन किन सूचनाओं की आवश्यकता पड़ेगी ? पर्यटन स्थल विकास के लिए पर्यावरण सकारात्मक पक्ष है या व्यवधान ?
स्थल के प्रयोग हेतु सरकारी नियम, कायदे क्या क्या हैं ?
किन किन लाइसेंसों की आवश्यकता पड़ेगी ?
आपके व्यापार की शुरवात करने के लिए कौन कौन सी विधियां  आवश्यक हैं ? 
इन विधियों के प्राप्ति साधन क्या क्या हैं और लागत कितनी है ?
          
              लोगों के बारे में सूचनाएं 
 पर्यटक स्थल से कौन कौन से लोग जुड़े हैं ?
पर्यटक स्थल से भविष्य में कौन कौन से लोग /समाज जुड़ेंगे ?
स्थल से जुड़े लोगों का इतिहास क्या है ? विशेषकर व्यापार वृद्धि में 
 क्या स्थानीय समाज के पास पर्यटन संबंधी   दूरदृष्टि है ?
क्या स्थानीय समाज के पास पर्यटन संबंधी उदेस्य हैं ?
क्या आपके पास ब्रैंड है ?
             पर्यटकों के बारे में सूचनाएं 
आपके ग्राहक कौन हैं ?
इन ग्राहकों की मानसिकता, आय - खरीदी शक्ति , आयु विवरण , दृष्टि के बारे में क्या क्या सूचनाएं उपलब्ध हैं ?
ये पर्यटक कहाँ से आते हैं और कहाँ से आयेंगे ?
पर्यटक इस स्थल पर क्यों आते हैं या क्यों आयेंगे ?याने पर्यटकों का मुख्य उदेस्य क्या है ? पर्यटकों के आकर्षण विन्दु क्या हैं ?
पर्यटकों की रूचि देखकर यह पता लगाना वषयक है कि आपकी प्रतियोगिता किन किन से है ?

               कौशल प्रशिक्षण की सूचनाएं 
आपके लिए आवश्यक सूचनाएं कौन उपलब्ध कराएंगे ?
मानव संसाधन के लिए कौन कौन से साधन उपलब्ध हैं ?
प्रबंधक , कर्मिक, अन्य सहयोगी व सप्लायर्स कहाँ से मिलेंगे ?
कर्मिकों के प्रशिक्षण हेतु क्या सुविधाएं उपलब्ध हैं ?
            भागीदारों की सूचनाएं 
सभी तरह के भागीदारों की सूचनाएं कहाँ और किस विधि मिलेगी ?
इन अलग अलग भागीदारों की भागीदारी कितनी व किस तरह है ?
                   टूरिज्म प्रोडक्ट की सूचनाएं 
अभी पर्यटकों को क्या प्रोडक्ट मिल रहे हैं ?
आपके पास क्या विशेष प्रोडक्ट हैं ?
आपके प्रोडक्ट क्या ग्राहकों को संतुष्ट करने के लिए प्रयाप्त हैं ?
आपको क्या क्या प्रोडक्ट जोड़ने जरुरी हैं ?
आप कैसे प्रतियोगिता में खरे उतरेंगे ?

           निधि की आवश्यकता 
निकट भविष्य या दूरगामी भविष्य के लिए आप धन का इंतजाम कैसे करेंगे ?
वे कौन से संस्थान या भागीदार हैं जो आपके लिए आवश्यक धन व संसाधन जुटाएंगे ?
             विपणन रणनीति 
 विपणन नीति बनाने के लिए किन किन सूचनाओं की आवश्यकता है ?
सूचनाओं का स्रोत्र कहाँ है और लागत कितनी है ?
ब्रैंडिंग के माध्यम कौन कौन से हैं ?
 लाभ -हानि का अंदाजा लगाना भी आवश्यक है । यदि  व्यापार खोला जा रहा है तो कितने साल बाद संस्थान लाभ कमाने केई स्थिति में आयेगा का आकलन भी आवश्यक है।  

सूचनाओं को एकत्रित करने के कई माध्यम होते हैं और पर्यटक व्यापारी को इन सब की जानकारी लेनी आवश्यक है।








Copyright @ Bhishma Kukreti 6 /1/2014 
Contact ID bckukreti@gmail.com 
Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series to be continued ...
उत्तराखंड में पर्यटन  आतिथ्य विपणन प्रबंधन श्रृंखला जारी 

                                   
 References

1 -
भीष्म कुकरेती, 2006  -2007  , उत्तरांचल में  पर्यटन विपणन परिकल्पना ,शैलवाणी (150  अंकों में ) कोटद्वार गढ़वाल 


Information , Research and Analysis in Tourist Destination Management for Uttarakhand Tourism Development;Information , Research and Analysis in Tourist Destination Management for Pithoragarh Uttarakhand Tourism Development; Information , Research and Analysis in Tourist Destination Management for Nainital Uttarakhand Tourism Development; Information , Research and Analysis in Tourist Destination Management for Almora Uttarakhand Tourism Development; Information , Research and Analysis in Tourist Destination Management for Champawat Uttarakhand Tourism Development; Information , Research and Analysis in Tourist Destination Management for Bageshwar Uttarakhand Tourism Development;Information , Research and Analysis in Tourist Destination Management for Udham Singh Nagar Uttarakhand Tourism Development; Information , Research and Analysis in Tourist Destination Management for Pauri Garhwal Uttarakhand Tourism Development;Information , Research and Analysis in Tourist Destination Management for Uttarkashi Garhwal Uttarakhand Tourism Development; Information , Research and Analysis in Tourist Destination Management for Tehri Garhwal Uttarakhand Tourism Development;Information , Research and Analysis in Tourist Destination Management for Chamoli Garhwal Uttarakhand Tourism Development; Information , Research and Analysis in Tourist Destination Management for Rudraprayag Garhwal Uttarakhand Tourism Development; Information , Research and Analysis in Tourist Destination Management for Dehradun Garhwal Uttarakhand Tourism Development; Information , Research and Analysis in Tourist Destination Management for Haridwar, Garhwal Uttarakhand Tourism Development;