उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Tuesday, January 21, 2014

पटवारी याने घीयक घंटी से लेकि लिकर की कंटरी कु प्रार्थी

चुनगेर ,चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती        


(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )
                    पटवारी पद की रचना कैन कार इ त नई पता पर इ पता च कि पटवारी पद जनता कु फायदा बान नि बणये गे छौ।  ना ही पटवारी पद रचणो पैथर अपराध कम करणो क्वी मनसा छे।  पटवारी  पद की रचना राजकीय अपराधी पकडणो बान ह्वे छौ ना आपराध बिहीन समाज वास्ता। इलै शुरुवात से ही माने गे बल पटवारी माने खौफनाक सरकारी पद। पटवारी पद जब सरकारी अपराध्युं तैं पकड़नो अर जमीनों हिसाब किताब करणो बान रचे गे तो घूसखोरी पटवारी दगड़ स्वत: ही जुड़ गे  छे। सरकारी स्तर का अपराध कम  करणो असली मतबल च घूसखोरी।  भारत कु संविधान गवाह च कि संसद जथगा बि नियम बणान्दि गुनाहों मा उथगा ही तेजी से बढ़ोतरी हूंद।  संवैधानिक नियम याने  साइड एफेक्ट मा घूसखोरी।  राजनीतिज्ञ , अन्ना हजारे आदि  बिल की दुहाई दींदन कि यांसे भ्रस्टाचार पर लगाम लगलि अर मि कंटर बजैक , जंगढ़ ठोकिक , ढोल बजैक बुलणु छौं कि अब घूसखोरी मा नया नया तरीका इजाद ह्वाल अर फिर कुछ समय बाद लोकपाल विभाग मा भ्रस्टाचार रुकणो बान संसद मा एक नयो अधिनियम आलो।  सैत च राजनीति मा तब एक नयो कजीरवाल पैदा ह्वाल। 
              गढ़वाल मा आज बि आपका क्षेत्र मा पटवारी ऐ जावो तो आप कै ना कै हिसाब से वैक दगड़ रिस्ता निकाळ ही लींदा।  परार हमर पट्टी मा मथि मुल्को एक ल्वार पटवारी जी  ऐ गे तो हमर गां वाळुक वु पटवारी जी भणजु निकळ गे।  जी हाँ बामणु भणजु ल्वार जातिक पटवारी ! ह्वाइ क्या च कि हमर गांवक ल्वार बाडान रिस्ता कु रिस्ता से गणत कार त पाइ कि पटवारी जी रिस्ता मा ऊंक भणजु  च तो वु पटवारी सरा गौंका भणजु ह्वे ग्यायि।  अब भणजु तैं रिसवत या घूस कबि नि दिए जांद अर ना ही भणजु मामाकोट्युं से रिसवत ले सकुद ।  माना कि मीन अपण चचाक वाड सरकाणाइ त मि पटवारी जी तैं याने भणजु तैं घूस त दे नि सकुद अर ना ही रिस्ता को भणजो रिस्ता को ममाजी से घूस ले सकुद पण एक मामा अपण दूरो भणजु तैं वाड सरकाणो खुसी मा पिठै  त लगै सकुद च कि ना ? बस मि भणजो तैं पिठै लगांदु  अर भणजु खुसी खुसी मा पिठै स्वीकार कर लींदो। इलै कुछ  शब्द गढ़वाल मा सामान्य शब्द छन जन  कि पटवारी जी तैं पाणि पिठै लगै याल कि ना या  अजकाल पिठैक रेट क्या चलणा छन आदि आदि।
           गढ़वाल मा ब्रिटिश काल से ही पटवारी तैं घूस कबि नि दिए गे।  घूस दीण अर घूस लीण गढ़वाली समाज मा आज बि एक सामाजिक पाप च।  हम पटवारी जी तैं पिठै लगौंदा अर पटवारी जी कबि बि घूस नि लींद अपितु रिस्तेदारी हिसाब से पिठै स्वीकार करद।  कजीरवाल कथगा बि स्टिंग ऑपरेसन करी ल्यावो वो सिद्ध नि कौर सकुद कि गढ़वाल मा पटवारी घूस लींद।  पिठै लगाण अर पिठै स्वीकार करण भारतीय संस्कृति की एक परम्परा च अर इख मा हिन्दू -मुसलमान कु भेद बि नी च।
           ब्रिटिश काल से ही गढ़वाली लोग अपण पटवारी जी तैं अपण सरकारी काम करवाणो खुसी मा रिस्तेदार समजिक समयानुसार रेट कु हिसाबसे पिठै लगांदु अर दगड़म कुछ भेंट बि दींदु। पैल जब क्वी अपण बेटि या फूफूक इक जांदो छौ या बरखी -तिरैं -ब्यौ काज या सप्ताह मा जांदु छौ त एक घीयक घंटी अवश्य लिजांदु छौ।  इनी पटवारी तैं गढ़वाली समाज बैण -भणजु मानिक घीयक घंटी पिठैक  दगड़ दींदु छौ।  अब चूँकि औषधि विज्ञानन सिद्ध करि  याल कि घी स्वास्थ्य का वास्ता घातक च तो होशियार अर स्वास्थ्य चेतना से ओत प्रोत गढ़वाली समाजन कंट्री लिकर की कंटरी पटवारी जी तैं भेंट दीण शुरू कार।  किन्तु फिर योगी गुरुओंन ज्ञान दे बल कंट्री लिकर से मनुष्य ठीक से ध्यान मा नि जै सकुद तो हमर सभ्य समाजन अब बैण -भणजो सामान पटवारी जी तैं फॉरेन लिकर पिठैक दगड़  दीण शुरू करी आल।  समय का अनुसार पिठै की कीमत अर भेंट का रूप बदल्याणा ही रौंदन।   

  
Copyright@ Bhishma Kukreti  21 /1/2014 



[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक  से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  द्वारा  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वालेद्वारा   पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले द्वारा   भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले द्वारा   धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले द्वारा  वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  द्वारा  पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक द्वारा  विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक द्वारा  पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक द्वारा  सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखकद्वारा  सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक द्वारा  राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनीति में परिवार वाद -वंशवाद   पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ग्रामीण सिंचाई   विषयक  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, विज्ञान की अवहेलना संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य  ; ढोंगी धर्म निरपरेक्ष राजनेताओं पर आक्षेप , व्यंग्य , अन्धविश्वास  पर चोट करते गढ़वाली हास्य व्यंग्य    श्रृंखला जारी  ]