उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Thursday, January 16, 2014

जनता दरबार मा मुख्यमंत्री डाळ मा

 चुनगेर ,चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती        


(s =आधी अ  = अ , क , का , की ,  आदि )
                   राजनीति अर मार्केटिंग इकसनि सि हूंदन।  किलैकि राजनीति बि पॉलिटिकल मार्केटिंग ही च। राजनीति मा  मार्केटिंग मा कुछ करण उथगा महत्वपूर्ण नि होंद जथगा कि लोगुं तैं दिखेण कि क्या होणु च।  राजनीति अर मार्केटिंग मा काम दिखेण बड़ी बात च अर हूण नि हूण उथगा महत्वपूर्ण नी  च। ये तैं मार्केटिंग मा न्यूज बणन बुले जांद।  विज्ञापन जथगा जादा न्यूज बणो उथगा ही विज्ञापन सफल माने जांद।  राजनीति मा बि न्यूज बणन जादा महत्वपूर्ण च।  
                      एक दैं लालू प्रसाद की हरेक बात न्यूज बणी जांद छे।  लालू यादव आज एक हरिजन बच्चा का बाळ काटणा छन अर गांऊं मा  साफ़ सफाई आंदोलन चलाणा छन , लालू यादव छट पूजा कन करणा छन आदि हिंदी लैंड का वास्ता राष्ट्रीय न्यूज हूंदी छे। टीवी चैनेल इक तलक दिखांद छा कि लालू यादव माछुं तैं कै तरां से चारा दींदन। 
     कुछ दिन पैल नरेंद्र मोदी का विषय समाचार आकर्षण छौ अचकाल आम आदमी पार्टी की न्यूज पत्रकारुं चेहता समाचार विषय  च । 
 केजरीवाल ऐंड कम्पनी न ब्वाल बल हम इनक्लूजिव पॉलिटिक्स मा विश्वास करदवां याने जनता फस्ट अर जनता का वास्ता काम बाद मा ।अर केजरीवाल की पार्टी क्या करणी च वो महत्वपूर्ण नी च महत्वपूर्ण च कि संवाददाता अर लोग सुचणा छन कि जनता दरबार आम आदमी पार्टी न ख्वाज, जन बुल्यां जनता दरबार की इजाद केजरीवालन करी हो । 
इनी मार्केटिंग मा कथगा दै ह्वे।  भौत साल पैल गोदरेज न विज्ञापन दे कि हमर फ्रिज मा पफ नामक एक वस्तु च जो फ्रिज मा ठंडी लांद। गोदरेजन पफ कु इथगा विज्ञापन कार कि ग्राहक दुकानदारों से पुछद छा कि हौर फ्रिज याने केल्विनेटर अर ऑलविन, वोल्टाज  या जेनिथ मा पफ छह कि ना ? दुकानदार ग्राहकुं  तैं दिखांद दिखांद , समजान्द समजान्द थकी जांद छौ कि पफ सब्युं मा च पण ग्राहकुं तैं भरवस नि हूंद छौ कि केल्विनेटर अर ऑलविन या जेनिथ फ्रिजुं मा बि  पफ हूंद। पफ विज्ञापन का चक्कर मा गोदरेज की  विक्री केल्विनेटर फ्रिज से भौत अधिक बढ़ी गए।  अंत मा ऑल्विन फ्रिज तैं विज्ञापन करण पोड़ कि हमर फ्रिज मा पफ त तबी बिटेन च जब बिटेन ऑलविन कु जन्म ह्वे।  वोल्टाज तैं बि बताण पोड़ कि पफ माने इन्सुलेटर।  वास्तव मा पफ एक इन्सुलेटिंग  वस्तु कु नाम च जु रेफ्रिजिरेसन मा हर जगा लगद अर रेफ्रिजिरसन प्रक्रिया का वास्ता आवश्यक मटीरियल च।  पफ का बगैर इन्सुलेशन ह्वे इ नि सकद।  पण गोदरेजन इन विज्ञापन अर इथगा जोर से विज्ञापन कार कि लोगुं तैं लग कि गोदरेजन ही पफ की खोज कार अर पफ केवल गोदरेज फ्रिजुं मा ही लगाये जांद।  याने आप तैं न्यूज क्रिएट करण पड़द। 
इनी तब माइक्रोवन नयो नयो अयाँ द्वी तीन साल ह्वे छौ।  केनस्टार अर BPL ही मुख्य माइक्रोवेवओवन ब्रैंड छा।  जब कोरियन ब्रैंड LG भारत मा माइक्रोवेव ओवन लेक आयी तो LGन जोरों से बिज्ञापन कार कि हमर माइक्रोवेव ओवन मा हेल्थ वेव च।  असल मा माइक्रोवेव ओवन मा खाणो पकाणो बान तेल या घी माध्यम की जरूरत ही नि पड़द तो वै हिसाब से LGन विज्ञापनो मा दावा कार कि ऊंक माइक्रोवेव ओवन मा हेल्थ वेव च। विज्ञापन इथगा प्रभावकारी छा कि केनस्टार का पुराणा ग्राहक बि केनस्टार वाळूं से पुछदा छा कि हमर माइक्रोवेव ओवन माँ बि हेल्थ वेव लगावो।  केनस्टार वाळ सब्युं तैं बतांद बतांद थक जांद छा कि दुनिया मा अलग से क्वी हेल्थ वेव नि हूंद पण ग्राहकूं तैं भरवस नि हूंद छौ कि अलग से हेल्थ वेव नि हूंद।  
इनी हाल आज राजनीतिक पार्ट्यूं च।  केजरीवाल कम्पनी अर टीवी चैनेलुंन इन प्रचारित कार कि जन बुल्यां स्टिंग ओप्रेसन से भ्रस्टाचार्युं तैं पकडणो शुरुवात आम आदमी पार्टीन करी हो।  इन लगणु च जन बुल्यां शिकायत फोन लाइन आम पार्टी आदमी पार्टिन इजाद कार हो। भारत मा हरेक जिला मा भ्रस्टाचार निरोधक सेवा च जो आपक शिकायत से भ्रष्ट कर्मचारी तैं पकड़नो बान जाळ बिछन्दी।  
इनी मुख्य मंत्री को जनता दरबार बि च।  सबसे प्रभावशाली जनता दरबार नरेंद्र मोदी को माने जांद जो तकनीकी अर प्रशाशनिक मामला मा अत्याधिक सफल जनता दरबार च।  नरेंद्र मोदी क जनता दरबार 2003 से चलणु च। भारत का अधिकतर मुख्यमंत्री जनता दरबार लगांदन।  मुख्यमंत्री या क्वी बि नेता दरबार अपण फायदा बान बि लगांद कि जांसे वु जनता कि नब्ज बि टटोळना रावन।  इंदिरा गांधी जनता दरबार लगांदी छे और त छ्वाड़ो उत्तराखंड का आयातित मुख्यमंत्री बि जनता दरबार लगांदन। 
लेकिन केजरीवाल ऐंड कम्पनी   तैं जनसम्पर्क विधि का मामला मा  सौ मादे द्वी सौ अंक मिलण चएंदन अर मीडिया तैं जु न्यूज नी च वै तैं ब्रेकिंग न्यूज बणै दीन्दन वै मीडिया तैं सौ मादे माइनस सौ नंबर मिलण चएंदन। 
अब त पुराणा मुख्यमंत्र्युं तैं जनता दरबार इन लगाण पोड़ल कि मुख्यमंत्री डाळ मा ह्वावो अर जनता तौळ जांसे या न्यूज ब्रेकिंग न्यूज बणी जावो।  पुराणा मुख्यमंत्र्युं तैं अब इन टुटब्याग खुज्याण पोड़ल कि जनता दरबार जनता का वास्ता ना अपितु टीवी चैनेलुं टीआरपी बढ़ाणो बान ब्रेकिंग न्यूज बणी जावो।  



Copyright@ Bhishma Kukreti  14 /1/2014 



[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक  से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी  के  जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वाले के  पृथक वादी  मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण  वाले के  भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले के  धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले के वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी  के पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक के विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक के पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक के सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखक का सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक के राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय  भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक  बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों   पर  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनीति में परिवार वाद -वंशवाद   पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ग्रामीण सिंचाई   विषयक  गढ़वाली हास्य व्यंग्य, विज्ञान की अवहेलना संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य  ; ढोंगी धर्म निरपरेक्ष राजनेताओं पर आक्षेप , व्यंग्य , अन्धविश्वास  पर चोट करते गढ़वाली हास्य व्यंग्य    श्रृंखला जारी  ]