उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, July 15, 2012

वीरेन्द्र पंवार का कुछ गढ़वळि दोहा

यखुली रैगिन गाणि - स्याणि बूड बुड्या लाचार
गौं से इत्गा इ रिश्ता रै गे छंचर अर ऐतवार
***
मयाळदु ऐ छौ शहर जनै मंख्यात का संग
चार दिनों का मेल मा रंगगे शहर का रंग
**
सिकासौर्यून फौंस्यूंमा उलटा ह्व़ेगेनि काम
भाषा बूड़ी दादी सि कूणा मा ह्यराम
**
गबदू दादा सोचणु च होणु छ तैयार
परधानी को मौक़ा मिलु ह्वेजा नया पार

Copyright@  Virendra Ppanwar , Pauri