उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, July 15, 2012

प्रजातंत्र का रागस :गढवाली -हास्य व्यंग्य साहित्य

गढवाली -हास्य व्यंग्य साहित्य
                                   प्रजातंत्र का रागस
 
                                     भीष्म कुकरेती
[गढवाली व्यंग्य, गढ़वाली हास्य साहित्य, गढवाली गद्य, गढ़वाली साहित्य, गढ़वाली भाषा, गढ़वाली रचनाये, लेखमाला]
कुज्याण ! कुज्याण ! रावण राज तै किलै दानव राज बुले जांद धौं . कुज्याण ! कुज्याण ! दुर्योधनो कुणि रागस किलै बुल्दन धौं !
रावण न त सीता क अपहरण बि इलै कार बल लक्ष्मण न वैकी बैणि क नाक काटी. महाभारत मा दुर्योधन पर पांडव विरोधी हूणो भौत सा भगार छन पण कखि बि दुर्योधन तै इन नि बताये गे बल दुर्योधन (पांड छोड़िक ) लोक न्याय विरोधी रै या वैन जनता कु नुकसान करी. जु वाल्मिकी या व्यास जी आज रामायण या महाभारत रचदा त रावण अर दुर्योधन दिवतौं श्रेणी मा आंदा.
अब प्रजातंत्र का खुले आम मखौल त द्याखो - जाय ललिता , लालू प्रसाद यादव जन नेता भ्रष्टाचार विरोधी अभियान का रथी सारथी बण्या छन. काणा बस ड्राइवर बण्या छन.
जु अभियोग का कारण जेल मा छया वो उत्तर प्रदेश का जेल मंत्री बण्या छन अर जेल मा क्या क्या सुविधा हूण चएंद पर जन अभियान चलाणा छन.
जौं तै गढवाल कुमाऊं क भूगोल अर संस्कृति कु आता पता मालूम नि छयो वो उत्तराखंड का मुख्यमंत्री बण्या छन अर अफु तै बंगाली बथाणा छन. बाप कमाई खाणा छन.
जु राजभवन मा कुकर्मो वजै से भैर ह्वेन वो मुख्यमंत्री तै आशीर्वाद दीणा छन . जौन मुख लुकाण छौ वो पधान बण्या छन
जौं तै राज धर्म की रक्षा करण छे वो प्रधान मंत्री कुर्शी पाणो धमध्याट करणा छन. स्याळ बाग चिनखौं जग्वाळि बखान करणा छन.
ममता बनर्जी सरीखा नेत्याण बंगाल विकास को रूण रोणा छन अर आधुनिक विकास स्रोत्र पर कुलाड़ी चलाणि छन . जै फौंटि मा बैठया छन वै इ फौंटि काटणा छन.
भारत का महान अंतर राष्ट्रीय प्रसिद्ध अर्थ शास्त्री गरीबो कुण बुलणा छन छबीस रूप्या ध्याड़ी से काम चलाओ अर अफु सरकारी खर्च पर छतीस लाखौ बाथरूम बणाणा छन. ये भाई त्यार बांठ आल बासी तिबासी सुक्यूँ एक रुटळ , अर म्यार बांठ आला म्वाटो म्वाटो घीयो भर्याँ स्वाळ.
जु कबि वकालत करद दै झूट तै सच अर सच तै झूट सिद्ध करी दीन्दा छा वु अब मानव संसाधन का पधान बौणि मानवीय आचरण सुदानो बान नियम बणाणा छन. चचराट को गोल्ड मेडलिस्ट , सींद दै बि बड़बड़ाट करण वाळ मौनव्रत सिखाणो स्कूलौ हेड मास्टर बण्यु च .
अच्काल नेता भ्रष्टाचार मा पकड्यान्दन, थ्वड़ा देरौ कुण जेलौ हवा खान्दन अर जब जेल बिटेन ड़्यार औंदन त यूंक स्वागत इन होंद जन बुल्यां यूंन वर्ल्ड कप जीति ह्वाओ या मगल ग्रह मा भारतौ तिरंगा फैराइ ह्वालो. यांकी बुल्दन बल बेशरमौ जीब काटो त जीब हाथेक हौर बढ़ी जांदि .
जौंन इस्कूलम मास्टरों तै पीट वूंक आज कथगा इ कॉलेज खुल्यां छन. अजाण सिलेबस बणाणा छन
बीड़ी- सिगरेट बणाण वळा कैन्सर बचाओ आन्दोलन का धड्वे बण्या छन. डा बि मि द्योलू अर अस्पताल बि मि इ ख़ुलुलु .
जौंन धनुष बाण नि देखी वो आर्चरी फेड्रेसन का महंत बण्या छन. बैरा व्योईस डिटेक्टिव (अवाज पछ्यण) संस्थान का अध्यक्ष बण्या छन.
जौन राजनीति क खेल छोड़िक जिन्दगी मा गुल्लि डंडा बि नि खेल वो इंटरनेशनल क्रिकेट बोर्ड का मुखिया बण्या छन. अर कपिल देव , वेंगसरकर जन लोग ऊंका हुक्का भरणा छन.
जौं तै कौम वेल्थ गेम मा भ्रष्टाचार का गुनाह मा जेल मा हूण चयेणु छौ. लन्दन औलेम्पिक मा वूंको स्वागत की तैयारी चलणि च. यी लोक त प्रजातंत्र अर पूजनीय न्यापालिका तै चुसणा दिखाणा छन
मी अबि बि नि समजी सौकू कि यूँ प्रजातंतरौ रागसूं कुण राम कख ह्र्ची गे. या इन त नी च बल नंग देखिक भगवान बि डरद. या कळजुग मा राम जनम ल़ीण से डरणा छन ?
या राम न जनम त ले ले होलु पण क्वी विश्वामित्र पैदा नि ह्व़े होलु !
 
Copyright@ Bhishma Kukreti 14/7/2012
 
गढवाली व्यंग्य, गढ़वाली हास्य साहित्य, गढवाली गद्य, गढ़वाली साहित्य, गढ़वाली भाषा, गढ़वाली रचनाये, लेखमाला जारी ....