उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, July 15, 2012

प्रसिद्ध गढवाली कवि नेत्र सिंह असवाल कि कुछ गढवाली गजल

मुखै ऐथर सौ चरेतर करदीं लोग
पीठ पीछ सर्र , भूलि जैन्दि लोग I
**
गाळि दियांला , नुँना कि म्वरदा
फिर भी रोज नई, गाळि दिंदि लोग I
***
ऊंस चट्याँन , तीस नि जांदी
तीस बढ़ाणौ , ऊंस पिंदी लोग
**
म्वरणु भजुणु अब आम बात छ
बस गीत मुंड हलैअ , मिसांड रंदी लोग I
**
उज्याड़ बाड़ खांद , चुप द्यखदा रंदी लोग
निगुसें का ढांगा थैं , कच्यांद रंदी लोग
**
सर्वाधिकार नेत्र सिंह असवाल, नई दिल्ली