उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Wednesday, July 18, 2012

उत्तराखंड इको टूरिज्म


उत्तराखंड  कु  नौ सदनी बीटेक  अपर ऐतिहासिक ,अध्यात्मिक  आर नैसर्गिक  सुन्दरता कुन पहचानू  जान्द ! दूर देशों से लोग यख  पर्यटन वास्ता आन्द छन !

उत्तराखंड  मा  हिमालय कु अखंड सुन्दरता न जाने कतका लोगों ते अपर तरफ खिचदू  रांदी ! हमर देवतावों अर संतो कु तपोभूमि पौराणिक काल बीटेक केदारखंड अर मानसखंड कु नौ से जानियु  जान्द ! साहसिक  पर्यटन लोगो ते अपर तरफ  खिचदू च जैक भितर पर्वतारोहण  ,जलखेल ,अर हिम खेल छन ! राज्य सरकार  ते अपर यू क्षत्रों कु विकास करन चएंद किल्य्की विदेशियों  कु सबसे अधिक हमर उत्तराखंड ही भल्लू  लगद !हमर गढ़ राज्य  धार्मिक अर रोमांचिक देवभूमि च जैकी मुकुट मा न जाने कटका देवी -देवतावों का मंदिर छन ! सरकार ते न केवल करोड़ो  श्रद्धालुवो कु ध्यान रखनी चएंद च दगडी मा वख तक पहुचन कुन मोटर मार्ग कु सुरक्षित ,सुगम्य अर मनोहारी बनान वास्ता कार्य करन व्हाल !जैबर तक सरकार सैलानियों वास्ता नि सोचिली तैबर तक ऊँ लोगो का क्या व्हाल जौंक मन झुर्दा च यखकू सुप्न्ये हिम शैल शिखरों का दर्शन करन कुन ! हिमल्य कु बिग्रेली छवि त अपर आंखियु मा अर कैमरा मा कैद कनके ली जाल !सरकार ते भी अपर राजस्व   भी  बढान वास्ता यूँ बातो पर ध्यान दीनी चएंद ताकि विदेशों मा हमर ख्याति व्हाह ! पण कुजेनी  वू कु लोग /सरकार व्हेली जू एं दिशा मा सोचली !हरेक सरकार ते अपर पुटुकी भरन कु चिंता सतौन्दी च अर आम आदमी त  युंक मकसद पूर करन वास्ता ढेबर छन ! पर्यटन  व् पर्यटक  कु  प्रति हमते भी जागरूक  हूनी पड़ल ! उत्तराखंड कु हर क्षेत्र कु अपर अद्भुत सुन्दरता च ! हम सभियुं ते अपर -अपर क्षेत्रों की जानकारी  सभियुं तक पहुंचान  वास्ता कार्य करन पड़ल !अपर लेखो ,वार्ताओ अर गीतों मा अपर देवभूमि कु हरेक प्रदेशों कु महिमा गै कन अर उनक विकास कु खातिर हरेक उत्तराखंडी कु जुवान पर हरेक प्रदेश कु सरा ज्ञान हूनी चेयंदी !दुनिया भर की जानकारी त हम खूब रखदो ,पण यदि कैते पूछ लिए जावा  की सत्य्कुंड / पाताल भैरव गुफा कख च ..त  १० मा कुई दयुई - तीन सही बता पाल ! अब एकी  वास्ता हमर शिक्षा नीती त दोषी च  दागद मा हम सभी भी जू केवल अपर दायरा मा ही कुछ सोचदा -करदो छा !

धन्य व्हाह  इस इन्टरनेट युग कु जै मा कम से कम लोगो ते अपर उत्तराखंड कु नौ कु चार चाँद लगान्याई छन !कतका लोग अपर समूह मा अपर देवभूमि बोली मा ही लिखदा छन !कतका पन्ना उत्तराखंड कु समृद्धि त दर्शाना अर पूर विश्व मा पहचाना छन !ईन धारा मा मेरा पहाड़ , मी उत्तराखंडी छौ, रन्त रैबार,शेर ,हिमालय लोग ,लोकरंग ,उत्तराखंड पीपल इत्यादि अग्रणीय  छन ! बहुत ख़ुशी हुन्द की चलो नै  युवा पीढ़ी हैंक राज्यों  से  नजर हटाय कं अपर देवभूमि वास्ता काम करना छन अर वेंक संस्कृति ते समझिक्न अपनौनी  छन !इको टास्क फोर्स भी अपर कर्तव्य बखूबी निभौनिया छन !हम सभियुं कु मकसद तभी सफल व्हेह सकदी जब हमते यन सरकार मीलली जैक पूर ध्यान इको टूरिज्म  मा रूचिलेली अर अपर धार्मिक देवभूमि कु विकास कें एक गौ पण ध्यान न डेकन पूर उत्तराखंड कु विकास करन खातिर पहली मोटर मार्ग ते व्यवस्तित वनी करली जन की हिमांचल मा देख्येंदी च ! पर्यटक कु सुरक्षा कु यदि पूर इंतजाम व्हाल त हमर राज्य मा पर्यटन कु विकास व्हाल !कुछ क्षेत्रों पर ही अभी लोगो का ध्यान च अर उत्तराखंड मा टूरिज्म रूचि अभी भी पिछिड्यु   छ ! आव़ा इको टूरिज्म मा अप्रि रूचि दिखावा |

BY: SUNITA LAKHERA