उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Wednesday, July 25, 2012

कैच देम यंग

गढवाली हास्य व्यंग्य साहित्य
                          कैच देम यंग
                      चबोड्या- भीष्म कुकरेती
[हास्य व्यंग्य साहित्य;गढ़वाली हास्य व्यंग्य साहित्य; उत्तराखंडी भाषौ हास्य व्यंग्य साहित्य; मध्य हिमालयी क्षेत्रीय भाषौ हास्य व्यंग्य साहित्य; हिमालयी भाषौ हास्य व्यंग्य साहित्य; उत्तर भारतीय भाषौ हास्य व्यंग्य साहित्य; भारतीयभाषौ हास्य व्यंग्य साहित्य; दक्षिण एशियाई भाषौ हास्य व्यंग्य साहित्य; एशियाई भाषौ हास्य व्यंग्य साहित्य]
(स्टाफ रिपोर्टर, इंडिया ) एक दस सालौ नौनु भारत तै बडी परेशानी झेलण पोडींन . बिचारा क ब्व़े बाबु सरकारी नौकरी मा छया कि द्वी घूस लींद पकडे गेन . खैर छै मैना परांत दुयुंक फिर से नौकरी बहाल ह्व़े ग्याई पण अब भारत का ब्व़े बाब नी चांदन कि भविष्य मा उंको नौनु बि बेवकूफी मा घूस लींद पकडे जावो. घूस लेण जरुरी च पण पकड्याण महाबेव्कूफी च. त भारत का ब्व़े बाबुं न अब वै तै क्रुकेडनेस डेवलपमेंट कोचिंग क्लास मा भेजी दे. अब भारत अपण ब्व़े बाबु तै सिखांद कि कनकैक घूस लीण चएंद
अर घूस लींद दै क्या क्या सावधानी बरतण चएंदन .
          भारती क बुबा जी पी.डब्ल्यू डी. को एक ठेकेदार च . वै दिन ठेकेदार जीक बणयूँ एक पुळ बण्यु द्वी दिन नि ह्व़े छौ कि भम से , भाचाक से पुळ भ्युं पोड़ी गे. भारती क बुबा तै बडी परेशानी दिखण पोड़ीन , भारती क बुबा नि चांदो कि भविष्य की ठेकेदारिण भारती इन बेकार का मामला मा फंसी जा. अब भारती क ब्व़े बुबा तै क्वी चिंता नी च . भारती क्रुकेड नेस डेवलपमेंट कोचिंग क्लास मा क्रुकेड नेस की ट्रेनिंग लीणि च. क्रुकेड नेस डेवलपमेंट कोचिंग क्लास का फाउण्डर डाइरेक्टर पंडित विष्णु शर्मा बुल्दन बल जु बच्चों तै बेईमानी, गलतबयानी बाळपन मा इ सिखाये जाओ त जु दुर्दिन भारत अर भारती क ब्व़े बाबु न देखिन वो नवाड़ी साख (नई जनरेसन ) तै नि दिख ण पोड़ल . भारत अर भारती क ब्व़े बाब पंडित विष्णु शर्मा क बातु से सहमत छन बल बच्चो तै धुर्या बणाण त वूं तै समौ रैक इ ट्रेनिंग मिलण चएंद अर पंडित विष्णु शर्मा क सोच की बडी बडै हूण चएंद कि ऊन हिन्दुस्तान की समस्याओं निदानौ बान क्रुकेड नेस डेवलपमेंट कोचिंग क्लास खोलि.
 
           पंडित विष्णु शर्मा क दगड चाणक्य, विदुर, जेवियर जन भागीदार बि छन . जेवियर न बिस्तार से हमर खबर्या तै बताई बल अच्काल ब्व़े बाबु मा अपण बच्चों तै अनाचार, ब्यभिचार की शिक्षा दीणौ समौ नि मिलद त परेंट्स अपण नई साखि तै घूसखोरी, झूट बुलणो सही तरीका, झूट तै सच साबित करणो कूवत/सक्यात, चोर का चर चर बचन, जन जरुरी गुण नि सिखै सकणा छन. त जु यू गैप आयुं च वैकी भरपै जरूरी च. क्रुकेड नेस डेवलपमेंट कोचिंग क्लास ईं रिक्तता तै भरण मा हिंदुस्तान तै मदद दीणो च. फिर जौं ब्व़े बाबू मा टैम बि च त वो वैज्ञानिक ढंग से सरल शब्दों मा अपण बच्चो तै धुर्या पन, चोरी जारी नि सिखै सकणा छन. जेवियर न लाइब डेमो से बताई कि कै तरां से क्रुकेड नेस डेवलपमेंट कोचिंग क्लास का विशेषग्य बच्चों तै दुस्टाचरण. कुरीति, आचारहीनता सिखान्दन.
जख तक कोचिंग कलासु कोर्स कु सवाल च क्लास का डाइरेक्टर चाणक्य न बताए बल बड़ा बढिया छन. इखमा प्रशाशन मा कै कै तरां से भ्रष्टाचार करण चएंद, फिर को को सावधानी जरूरी छन जु भविष्य मा काम ऐ सकदन; राजनीति मा कु कु मुख्य टुटब्याग छन अर कु कु बाटू छन जां से कि नेता हर समय शाशन मा इ राओ, भाई भतीजा बाद, बकळि जिकुड़ी, शरम बेचिक खाण , पद लोलुपता तै कन कैक अग्वाड़ी लाण, प्रशासन मा इमानदार कारिंदों तै कनै भ्रष्ट बणाण अर दुन्या का सबसे बुरा कर्म कौरिक बि बेदाग़ छवि कन कैक रखण इत्यादि विषयूँ ट्रेनिंग दिए जांदी. चाणक्य न संदेस्टी बताई बल यांक बान कोचिंग संस्थान मा भूतपूर्व दागी मंत्री अर खुन्कार अपराध्युं (जु कबि बि पुलिस की पकड़ मा नि ऐन ) की सेवा लियाणि च जाण से कि बच्चों तै व्यवहारिक शिक्षा मील सको.
कोचिंग संस्थान समौ समौ पर परीक्षा बि लींद जां से कि बच्चा दुष्टता, अरंचपन(असंतोषी) , उतड्यू(अशिष्ट) , छकटणु (ठग) मा पारंगत ह्व़े जावन.पंडित विष्णु शर्मा न परीक्षा पत्र कि एक कापी बि दिखाई जो वास्तव मा दुनया मा अपणो आप मा एक अभिनव परीक्षा पत्र च.
                किताबु क विषय सब विशेग्यो की सहायता से लिखे गेन . या सूचना क्रुकेडनेस डेवलपमेंट कोचिंग क्लास का किताबुं लिख्वार वेद व्यासन दे. वेद व्यास महाभारत का अनुवाद दस बारा भाषाओं करणो बान प्रसिद्ध छन.
विष्णु शर्मा न बताए बल हम चाँदवां बल हमर कोचिंग क्लास कि बदौलत बच्चा नौकरी लगण या व्यापार मा आण से पैलि प्रवीण ह्व़े जाओ. यांक वास्ता क्रुकेडनेस डेवलपमेंट कोचिंग क्लास वळा बच्चो तै जेल, पोलिस स्टेसन, वैस्यालय, भ्रष्ट नेताओं, बेईमान अधिकार्युं क ड्यार जन जगा लीजान्दन.
                     जख तलक इन क्लासों मांग को सवाल च इन क्लासों माग भौत च. क्रुकेडनेस डेवलपमेंट कोचिंग क्लास क इख द्वी साल की वेटिंग चलणि च.
हमारो दुसर खबर्या न रैबार दे कि हरेक शहर इ ना गांवु मा बि क्रुकेडनेस डेवलपमेंट कोचिंग क्लास जन क्लासुं बड़ी मांग च अर भौत सा लालची , बेईमान व्यापारी ये बिजिनेस मा आणो तैयारी मा छन.
Copyright@ Bhishma Kukreti , 25/7/2012
हास्य व्यंग्य साहित्य;गढ़वाली हास्य व्यंग्य साहित्य; उत्तराखंडी भाषौ हास्य व्यंग्य साहित्य; मध्य हिमालयी क्षेत्रीय भाषौ हास्य व्यंग्य साहित्य; हिमालयी भाषौ हास्य व्यंग्य साहित्य; उत्तर भारतीय भाषौ हास्य व्यंग्य साहित्य; भारतीयभाषौ हास्य व्यंग्य साहित्य; दक्षिण एशियाई भाषौ हास्य व्यंग्य साहित्य; एशियाई भाषौ हास्य व्यंग्य साहित्य जारी.....