उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, October 6, 2014

तैं सफै वळि कुण जोर से ब्वालो -आज से ठीक से सफाई कौर !

भजराम हवलदार ::: भीष्म कुकरेती 
        
मि अर खुशाल सिंग रावत जी तैं उन्ना देसुं (विदेशों ) मा अछेकि सफै कु आनंददायक अनुभव च।  हम द्वी अपण बिल्डिंग मा बि सफै सुपिन दिखद छा।  पर पर शरमाक मारा , मुखमुलज मा , क्वी नराज नि ह्वे जावो का डौरन कै मा नि बुल्दा छा कि बिल्डिंग मा हर समौ सफै  हूण चयेंद।  परसि ( 1 / 10 / 2014  )नरेंद्र मोदी जीक आवाहन से हमर डौर खतम ह्वे अर ब्याळि गांधी जयंती कुण हम द्वी बिल्डिंगौ वरिष्ठ नागरिक की उम्रक सेक्रेटरी मा पौंछा कि चलो आज बिल्डिंग मा सफै अभियान चलाये जये जाओ । घौर घौर जै जैक लोगुं तैं चितळ  करे जाओ अर बिल्डिंग मा भविष्य का वास्ता रस्ता तयार करे जावो !
सेक्रेटरी - अरे बुबौं ! म्यार त घुण्डुं मा तागत नी , सरैल मा सक्यात नी त कैन चढण -उतरण सि सीढ़ी। यी काम त नई छिंवाळै च , नई साखीक च , नई जनरेसनौ च। 
खुशाल - तो अपण द्वी नौनुं तैं भेजी द्यावा। 
स्क्रेटरी - सुणो ! पता च मीन अर मेरी वाइफ़न अपण द्वी नौन  गंगा जी मा जौ का तरां पळिन।  त क्या वु  द्वी ये सफाई जनचेतना जैसो निमखणि (निष्कृष्ट ) कामौकुण तुमर दगड़ आल ? जावो ! जावो ! जु बि चेतना -ऊतना फैलाणै तुम अफिक फैलाओ ।  
हम अति वरिष्ठ नागरिक जु हमर बिल्डिंगौ प्रेजिडेंट छन , वूं मा गेवां। वूं तैं सब बात समझाई। 
प्रेजिडेंट - भै मि त ये काम तैं कर नि सकुद।  हाँ मि चौकीदार तैं अदा -एक घंटा कुण तुमर दगड़ भेजी द्युंदू।  
हम कैशियर म गेवां अर वु बि वरिष्ठ नागरिक ही छन। 
कैशियर - तुमम  अकल  नाम की क्वी चीज च कि ना ? अरे बिल्डिंग का इन काम सेक्रटरी , प्रेजिडेंट अर कार्यकारिणी का सदस्य करदन।  कैशियर को काम सफाई करवाणो थुका च।  बिल्डिंग का बाई लॉज तो पढ़ा कारो। 
खुशाल जी अर हम समिज गेवां कि हमी तैं घौर -घौर जैक सफाई अभियान का अलख जगाण पोड़ल। अर हम एकैक कौरिक चालीस फ्लैटों मा गेवां। 
एक सदस्य - ये भीषम ! तू त बुल्दु छौ की तू कैं बि पार्टी मा नि छे तो फिर झाड़ू , अर कचरा थैला लेक फिरणु छे ? भाजपा मा भर्ती ह्वे गे क्या ?
 खुशाल सिंग - साफ़ रौण , स्वछ रौण , चैन से रौणम क्यांक भाजपा अर क्यांक कॉंग्रेस ?
सदस्य - अरे मि तैं तुम बेवकूफ समजदवां क्या ? मि नि जाणदु बल महारष्ट्र विधान सभा क चुनाव समिण छन।  मतबल तुम भाजपा का एजेंट ह्वे गेवां।  ओ चुनाव मा कंळदार तुम कमैल्या ,   बैंक बैलेंस तुमर बढ़ल  अर बिल्डिंगौ सालों जमा कूड़ा, कड़कट , कचरा हम सदस्य साफ़ करला हैं ? जावो इख बिटेन।  हौर  लोग ऐ जाल तुमर भकलौण मा , बहकावा मा किन्तु मीन  कैबि पार्टी कुण काम नि करण चाहे उ म्यार अपण  इ पूठ पुंजणो काम किलै नि ह्वावो धौं !
एक जनानी - मि त सफाई मामला मा क्वी कम्प्रोमाइज नि करद हाँ !अपर भितरौ एक एक टींड बि मि त कचरा वळि तैं दींदु।  इन लगणु च  आज कचरा साफ करण वळि  नि आणि वाळ च ? भलो ह्वे तुम ऐ गेवां  निथर मि तैं कचरा फिंकणो  तौळ बिल्डिंगौ पैथर जाण पोड़ण छौ।  ल्या म्यार कचरा थैला तौळ डाळि देन।  भलो ह्वे जु बिल्डिंग पैथर हमर जगा च।  निथर इन समय पर हौर बिल्डिंग वळु  तरां हमतैं दूर जाण पड़न छौ या द्वी तीन दिन कचरा अपरी ड्यार धरण पड़न छौ। म्यार पपू का बुबाजी बड़ा सफाई पसंद छन  जरा बि अपर ड्यार कचरा दिख्यावु ना तो वूं  तैं बड़ो क्रोध आई जांद जांद।  अर सूणो ! बिल्डिंगों पैथर बहुत कूड़ा ह्वे गे।  भौत  गंद आंद।  उनाक   बारा मा सुचदि उलटी आण लग जांदन। 
मि - हाँ पर , वा जगा कचरा फिंकणो बान थुका च।  वा जगा तो बगीचा बान छे। 
वा जनानी - बकि वा जगा बगीचा बान छे ! अरे जब सफाई वळि  कचरा उठाणो नि आदि त हमन कचरा कख फिंकण।  ड्यारम  कचरा जमा थोड़ा करे जांद ?
एक अन्य सदस्य - हूँ तो तुम नरेंद्र मोदी का बांदर छंवां ? जरा अपण हनुमान तैं त पूछो कि अल्लुक  भाव कम किलै नि हूणा छन ? बड़ो अयाँ छन सफाई वळा !  जावो पैल वै मोदी से मंहगाई कम करवाओ तब सफै करणो आवो।  मीन तुम तैं एक मुट्ठ बि कचरा नि दीण।  म्यार इक कचरा  थुपड़ा  लग जैन  तब बि मीन नरेंद्र मोदीक नि सुणन। 
मि - भैजि ! हम कचरा उठाणो नि अयाँ छंवां।  हम त जनचेतना बाबत अयाँ छंवां।       
वु सदस्य - जावो जावो ! नरेंद्र मोदीक कै बि काम मा मीन शामिल नि हूण। 
हैंकि जनानी डी  - यु भलो ह्वे जु तुमन अब बिल्डिन्गौ सफाई का जिम्मेबारी लिआल।  स्यु बुड्या सेक्रेटरी त मेरी सुणद इ नी च।  मि बड़ो धार्मिक छौं।   रोज मि कवौं तैं खलाणो बान घी -रुटि  टुकड़ा अपण खिड़की मा धरदु अर कव्वा हि ह्वाइ कुछ टुकड़ा तौळ क मौकी बालकोनी मा  पड़ 
 जांदन।  एक साल बिटेन हम सेक्रटरी कुण बोलि बोलिक थकी गेवां पर मजाल च कि सेक्रेटरी क कान माँ  जूं बि रींगन धौं।  अबि तक बालकोनी साफ़ नि  ह्वे।  मुंबई मा रौणो बाद बि हमर सेक्रेटरी सफाई का महत्व ही नि  समजद त इन सेक्रेटरीक अचार डालण ?  हम त यीं गंधन मरि गेवां। अब दूरौ रिस्तेदार बि च त सेक्रेटरी दगड झगड़ा बि नि कौर सकदां।  अब तुम दुयुंन सफाईक जुम्मेदारी लियाल त आजी वीं बालकोनी साफ़ करै द्यावो।  खिड़की खुल्दी भभकाण आदि।  
इनि चालीस फ्लैटों मा लोग  सबी बिल्डिंगै गंदगी से परेशान छया अर रुणा छा कि बिल्डिंग वाळ कुछ नि करणा  छन। 
 आज सुबेर बिटेन लोगुं फोन आण लग गेन। जन कि -
एक फोन - यी क्या भै म्यार ड्वारक समिण कचरा हूणु च अर तुम घौरम सियां छंवां ? जल्दी कचरा साफ़ करावो।
जनानी डी - हैं मीन त  समज कि तू  सेक्रेटरी तरां अणबुल्या नि  ह्वेली पर तू बि उनि छे अबि तक हमर तौळ वाळक बालकोनी साफ़ नि ह्वे।  कब तलक हम यीं  दुर्गन्ध सुंगला ? आज वा बालकोनी साफ़ हूण  चयेंद हाँ !
नरेंद्र मोदी विरोधी - तुम भाजपा वळा  क्या बुन्या क्या कन्या वाळ छंवां।  आज बि  बिल्डिंग मा उनि गंदगी च। 
सेक्रेटरी - हे भै ! जब तुमसे जुम्मेबारी नि निभाये जांद त किलै फुन्द्यानाथ बणदा ? सुबेर बिटेन सबि लोगुं फोन ऐन कि बिल्डिंगौ सफै दिखण तुमर बसौ बात नी च। 
प्रेजिडेंटक फोन आई - तुम नई जनरेसन वाळ क्वै बि जुम्मेबारी तैं  गंभीरता से नि लींदा।  सफाई एक गंभीर विषय च तो ए काम तैं सीरियसली ल्यावो अर वीं सफाई कर्मचारी तैं  जोर से डाँटो अर बिल्डिंगै सफै  इम्प्रूव कारो।  अर सूणो चूँकि तुमन यु काम अफिक ले तो  बिल्डिंग से बजट की उम्मीद नि कर्याँ हाँ !



Copyright@  Bhishma Kukreti   3 / 10 / 2014       
*लेख में  घटनाएँ ,  स्थान व नाम काल्पनिक हैं ।
 लेख  की कथाएँ , चरित्र व्यंग्य रचने  हेतु सर्वथा काल्पनिक है 
 
Garhwali Humor in Garhwali Language, Himalayan Satire in Garhwali Language , Uttarakhandi Wit in Garhwali Language , North Indian Spoof in Garhwali Language , Regional Language Lampoon in Garhwali Language , Ridicule in Garhwali Language  , Mockery in Garhwali Language, Send-up in Garhwali Language, Disdain in Garhwali Language, Hilarity in Garhwali Language, Cheerfulness in Garhwali Language; Garhwali Humor in Garhwali Language from Pauri Garhwal; Himalayan Satire in Garhwali Language from Rudraprayag Garhwal; Uttarakhandi Wit in Garhwali Language from Chamoli Garhwal; North Indian Spoof in Garhwali Language from Tehri Garhwal; , Regional Language Lampoon in Garhwali Language from Uttarkashi Garhwal; Ridicule in Garhwali Language from Bhabhar Garhwal; Mockery  in Garhwali Language from Lansdowne Garhwal; Hilarity in Garhwali Language from Kotdwara Garhwal; Cheerfulness in Garhwali Language from Haridwar;